दुर्गाष्टमी

Sajjan Singhal Feb 1, 2020

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

*🔥देव्याअथर्व शीर्ष (दुर्गाष्टमी और नवमी) दुर्गा सप्तशती में दिया हुआ है 🌹* *देव्यथर्वशीर्ष के जाप से🌿 पांचों अथर्वशीर्ष 🌱के जाप का फल मिलता है असल में वेदों में हिन्दुओं के पांच प्रमुख देवता माने गये हैं गणेश , दुर्गा , शिव , सुर्य व विष्णु अतः इन पांचों देवताओं के अलग अलग अथर्वशीर्ष बताये गये हैं परन्तु देवी के अथर्वशीर्ष के जाप से इन पांचों का फल प्राप्त होता है।* *इसका सांयकाल में अध्ययन करने से दिन भर किये हुये पापों से मनुष्य मुक्त हो जाता है तथा दिन में अध्ययन करने से रात्रि में किये हुये पापों से मुक्त हो जाता है। 🌴असल में गीता में कहा गया है कि जैसे अग्नि में धुआं रहता है वैसे सभी कर्मों में पाप रहता है🍀 आप सड़क पर चलते हैं तो भी छोटे जीव जन्तु जाने अनजाने में आपसे दबकर मरते रहते हैं नौकरी करते हैं तो भी जाने अनजाने में दुसरों की निन्दा झूठ बोलना आदि कर्म परवश हो जाते हैं इनके कारण संचित हुआ पाप ही सभी दुखों का मूल है जिसके बीज चाहे इस जाप से नष्ट हो जाते हैं यहि इसका तात्पर्य है।* *इसका दस बार जाप करने से मनुष्य इस जन्म के संचित कर्मों से मुक्त हो जाता है तथा 108 बार जाप करने से पिछले सभी जन्मों के संचित बीज जल जाते है।* *👍इसका प्रयोग करने वाले साधक को संस्कृत को सुस्पष्ट रूप से पढना आना चाहिए और उच्चारण भी सुस्पष्ट होना चाहिए अन्यथा गलत उच्चारण से हानि भी हो सकती है /* *☺☺श्री देव्या अथर्व शीर्ष सिद्धि विधान और प्रयोग*🔥🔥  *साधक स्नान करके मुहूर्त के समय देवी की प्रतिमा के सामने शुद्ध घी का दीपक जलाकर , जल का लोटा रखकर आसन पर बैठ जाये / अष्टोत्तरशत गायत्री मंत्र का जाप करे / तदुपरांत देव्यथार्वशीर्ष के १०८ पाठ का संकल्प ले और पाठ शुरू करे / १०८ पाठ से यह स्तोत्र सिद्ध हो जाता है /* *👇👇सिद्धि के बाद महामृत्युंजय जाप की तरह इसका भी प्रयोग विभिन्न प्रकार से किया जाता है* 🎡🎠🎉💗🍰🚩👍 *🌷श्रीदेव्यथर्वशीर्षम्*🌹 *ॐ भद्रं कर्णेभिः शृणुयाम देवा भद्रं पश्येमाक्षभिर्यजत्राः । स्थिरैरङ्गैस्तुष्टुवांसस्तनूभिर्व्यशेम देवहितं यदायुः । स्वस्ति न इन्द्रो वृद्धश्रवाः स्वस्ति नः पूषा विश्ववेदाः । स्वस्ति नस्तार्क्ष्यो अरिष्टनेमिः स्वस्ति नो बृहस्पतिर्दधातु ॥ ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ।* *🔻श्री गणेशाय नमः 🔻* ऊँ सर्वे वै देवा देवीमुपतस्थुः कासि त्वं महादेवीति ॥१॥ साब्रवीत्- अहं ब्रह्मस्वरूपिणी । मत्तः प्रकृतिपुरुषात्मकं जगत् । शून्यं चाशून्यम् च ॥२॥ अहमानन्दानानन्दौ । अहं विज्ञानाविज्ञाने । अहं ब्रह्माब्रह्मणी वेदितव्ये । अहं पञ्चभूतान्यपञ्चभूतानि । अहमखिलं जगत् ॥३॥ वेदोऽहमवेदोऽहम्। विद्याहमविद्याहम्। अजाहमनजाहम् । अधश्चोर्ध्वं च तिर्यक्चाहम् ॥४॥ अहं रुद्रेभिर्वसुभिश्चरामि । अहमादित्यैरुत विश्वदेवैः । अहं मित्रावरुणावुभौ बिभर्मि। अहमिन्द्राग्नी अहमश्विनावुभौ ॥५॥ अहं सोमं त्वष्टारं पूषणं भगं दधामि। अहं विष्णुमुरुक्रमं ब्रह्माणमुत प्रजापतिं दधामि॥६॥ अहं दधामि द्रविणं हविष्मते सुप्राव्ये उ यजमानाय सुन्वते । अहं राष्ट्री सङ्गमनी वसूनां चिकितुषी प्रथमा यज्ञियानाम् । अहं सुवे पितरमस्य मूर्धन्मम योनिरप्स्वन्तः समुद्रे । य एवम् वेद। स देवीं सम्पदमाप्नोति ॥७॥ ते देवा अब्रुवन्- नमो देव्यै महादेव्यै शिवायै सततं नमः । नमः प्रकृत्यै भद्रायै नियताः प्रणताः स्म ताम् ॥८॥ तामग्निवर्णां तपसा ज्वलन्तीं वैरोचनीं कर्मफलेषु जुष्टाम् । दुर्गां देवीं शरणं प्रपद्यामहेऽसुरान्नाशयित्र्यै ते नमः ॥९॥ देवीं वाचमजनयन्त देवास्तां विश्वरूपाः पशवो वदन्ति सा नो मन्द्रेषमूर्जं दुहाना धेनुर्वागस्मानुप सुष्टुतैतु॥१०॥ कालरात्रीं ब्रह्मस्तुतां वैष्णवीं स्कन्दमातरम् । सरस्वतीमदितिं दक्षदुहितरं नमामः पावनां शिवाम् ॥११॥ महालक्ष्म्यै च विद्महे सर्वशक्त्यै च धीमहि । तन्नो देवी प्रचोदयात् ॥१२॥ अदितिर्ह्यजनिष्ट दक्ष या दुहिता तव तां देवा अन्वजायन्त भद्रा अमृतबन्धवः ॥१३॥ कामो योनिः कमला वज्रपाणिर्गुहा हसा मातरिश्वाभ्रमिन्द्रः । पुनर्गुहा सकला मायया च पुरूच्यैषा विश्वमातादिविद्योम् ॥१४॥ एषात्मशक्तिः । एषा विश्वमोहिनी । पाशाङ्कुशधनुर्बाणधरा । एषा श्रीमहाविद्या । य एवं वेद स शोकं तरति ॥१५॥ नमस्ते अस्तु भगवति मातरस्मान् पाहि सर्वतः ॥१६॥ सैषाष्टौ वसवः। सैषैकादशरुद्राः । सैषा द्वादशादित्याः । सैषा विश्वेदेवाः सोमपा असोमपाश्च । सैषा यातुधाना असुरा रक्षांसि पिशाचा यक्षाः सिद्धाः । सैषा सत्त्वरजस्तमांसि । सैषा ब्रह्मविष्णुरुद्ररूपिणी। सैषा प्रजापतीन्द्रमनवः । सैषा ग्रहनक्षत्रज्योतींषि । कला काष्ठादिकालरूपिणी। तामहं प्रणौमि नित्यम् । पापहारिणीं देवीं भुक्तिमुक्तिप्रदायिनीम् । अनन्तां विजयां शुद्धां शरण्यां शिवदां शिवाम्॥१७॥ वियदीकारसंयुक्तं वीतिहोत्रसमन्वितम् । अर्धेन्दुलसितं देव्या बीजं सर्वार्थसाधकम् ॥१८॥ एवमेकाक्षरं ब्रह्म यतयः शुद्धचेतसः ध्यायन्ति परमानन्दमया ज्ञानाम्बुराशयः ॥१९॥ वाङ्माया ब्रह्मसूस्तस्मात् षष्ठं वक्त्रसमन्वितम् सुर्योऽवामश्रोत्रबिन्दुसंयुक्तष्टात्तृतीयकः । नारायणेन संमिश्रो वायुश्चाधरयुक् ततः विच्चे नवार्णकोऽर्णः स्यान्महदानन्ददायकः ॥२०॥ हृत्पुण्डरीकमध्यस्थां प्रातः सूर्यसमप्रभां पाशाङ्कुशधरां सौम्यां वरदाभयहस्तकाम् । त्रिनेत्रां रक्तवसनां भक्तकामदुघां भजे ॥२१॥ नमामि त्वां महादेवींमहाभयविनाशिनीम् । महादुर्गप्रशमनीं महाकारुण्यरूपिणीम् ॥२२॥ यस्याः स्वरूपं ब्रह्मादयो न जानन्ति तस्मादुच्यते अज्ञेया। यस्या अन्तो न लभ्यते तस्मादुच्यते अनन्ता । यस्या लक्ष्यं नोपलक्ष्यते तस्मादुच्यते अलक्ष्या । यस्या जननं नोपलभ्यते तस्मादुच्यते अजा । एकैव सर्वत्र वर्तते तस्मादुच्यते एका । एकैव विश्वरूपिणी तस्मादुच्यते नैका । अत एवोच्यते अज्ञेयानन्तालक्ष्याजैका नैकेति ॥२३॥ मन्त्राणां मातृका देवी शब्दानां ज्ञानरूपिणी । ज्ञानानां चिन्मयातीता शून्यानां शून्यसाक्षिणी । यस्याः परतरं नास्ति सैषा दुर्गा प्रकीर्तिता ॥२४॥ तां दुर्गां दुर्गमां देवीं दुराचारविघातिनीम् । नमामि भवभीतोऽहं संसारार्णवतारिणीम् ॥२५॥ इदमथर्वशीर्षं योऽधीते स पञ्चाथर्वशीर्षजपफलमाप्नोति । इदमथर्वशीर्षमज्ञात्वा योऽर्चां स्थापयति शतलक्षं प्रजप्त्वाऽपि सोऽर्चासिद्धिं न विन्दति । शतमष्टोत्तरं चास्य पुरश्चर्याविधिः स्मृतः । दशवारं पठेद्यस्तु सद्यः पापैः प्रमुच्यते । महादुर्गाणि तरति महादेव्याः प्रसादतः ॥२६॥ सायमधीयानो दिवसकृतं पापं नाशयति।प्रातरधीयानो रात्रिकृतं पापं नाशयति । सायं प्रातः प्रयुञ्जानो अपापो भवति।निशीथे तुरीयसन्ध्यायां जप्त्वा वाक्सिद्धिर्भवति । नूतनायां प्रतिमायां जप्त्वा देवतासान्निध्यं भवति । प्राणप्रतिष्ठायां जप्त्वा प्राणानां प्रतिष्ठा भवति । भौमाश्विन्यां महादेवीसन्निधौ जप्त्वा महामृत्युं तरति । स महामृत्युं तरति य एवं वेद। इत्युपनिषत् ॥२७॥ *🌹इति देव्यथर्वशीर्षं सम्पूर्णम्*🍀 ॐ भद्रं कर्णेभिः शृणुयाम देवा भद्रं पश्येमाक्षभिर्यजत्राः । स्थिरैरङ्गैस्तुष्टुवांसस्तनूभिर्व्यशेम देवहितं यदायुः । स्वस्ति न इन्द्रो वृद्धश्रवाः स्वस्ति नः पूषा विश्ववेदाः । स्वस्ति नस्तार्क्ष्यो अरिष्टनेमिः स्वस्ति नो बृहस्पतिर्दधातु ॥ ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः । 🙏🚩🔥🌷🌟💥🌹🌴🙏 *🔔इसका सायकाल में अध्ययन करने वाला दिनमे किये हुए पापोंका नाश करता है, प्रातः काल में अध्ययन करने वाला रत्रिमे किये हुए पापों का नाश करता है! दोनों समय अध्ययन करने वाला निष्पाप होता है! मध्यरात्रि में “तुरीय” संध्या के समय जप करनेसे वाकसिद्धि प्राप्त होती है! नयी प्रतिमापर जप कर ने से देवतासानिध्य प्राप्त होता है! प्राणप्रतिष्ठा के समय जप करने से प्राणों की प्रतिष्ठा होती है! भौमअश्विनी (अमृतसिद्धि) योग में महादेवी की सान्निधि में जप करने से महामृत्यु से तर जाता है! जो इस प्रकार जानता है, वह मृत्युसे तर जाता है! इस प्रकार यह अविधानाशिनी  ब्रह्मविधा है!*🌻🌿🌱👪🌷💥🌴🔥🚩 *JAI SHREE MAHAKAAL*        *🌹🌞माँ धूमावती दस महाविद्या मंत्र साधना  - 10 June 2019*🌟🔻https://www.mymandir.com/p/GOLGPb?ref=share  माँ धूमावती की जयंती 2019 - LINK👇👇👇https://www.mymandir.com/p/dNnCYb?ref=share *🔥श्रीधूमावतीकवचम्*🔥LINK👇👇👇 https://www.mymandir.com/p/Z9AQkc?ref=share *🌹॥ श्रीधूमावत्यष्टोत्तर शतनामावलिः ॥🌹*LINK👇👇👇https://www.mymandir.com/p/t7B3Y?ref=share *🌱॥ श्रीधूमावतीहृदयम् ॥🌱*LINK👇👇👇 https://www.mymandir.com/p/Kxlgtb?ref=share *🔻श्रीधूमावतीस्तोत्रम्🔻*LINK👇👇👇https://www.mymandir.com/p/0Oi2j?ref=share

+11 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 15 शेयर