ज्योतिषीय_दृष्टिकोण

नमस्कार मित्रों,
कल शुक्र भी राहु के साथ चंद्रमा की कर्क राशि में आ जायेंगे। जिनकी जन्म कुंडली में राहु शुक साथ में युती बना कर है उनके लिए परेशानी हो सकती हैं।
भौतिक सुख ओर पारिवारिक सुख शांति मे खलल पड़ सकता है।
अधिक जानकारी के लिए सशूल्क फोन पर ...

(पूरा पढ़ें)
+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर
Neeraj Dongre Aug 8, 2018

कन्या- ढो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो
राशि स्वरूप- कन्या, राशि स्वामी- बुध।

1. राशि चक्र की छठी कन्या राशि दक्षिण दिशा की द्योतक है। इस राशि का चिह्न हाथ में फूल लिए कन्या है। राशि का स्वामी बुध है। इसके अन्तर्गत उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र के दूसरे,...

(पूरा पढ़ें)
+2 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 3 शेयर
Neeraj Dongre Aug 6, 2018

मेष- चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, आ
राशि स्वरूप: मेंढा जैसा, राशि स्वामी- मंगल।

1. राशि चक्र की सबसे प्रथम राशि मेष है। जिसके स्वामी मंगल है। धातु संज्ञक यह राशि चर (चलित) स्वभाव की होती है। राशि का प्रतीक मेढ़ा संघर्ष का परिचायक है।

2. मेष र...

(पूरा पढ़ें)
+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर

नमस्कार मित्रों,
वैसे तो सभी ग्रह हमें अपनी दशा अन्तर्दशा में जन्म कुंडली में स्थित अवस्था के अनुसार ही फल देने मे सक्षम हैं किन्तु रोग के लिए विशेष रुप से जन्म कुंडली के छठें भाव और उसके स्वामी को देखा जाता है।
षष्ठेश यानी रोगेश का सम्बंध लग्न या...

(पूरा पढ़ें)
+2 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 3 शेयर