ज्योतिष

जन्म कुंडली के पंचम (विद्या एवं संतान) भाव मे गुरु का संभावित फल 〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️ (संतान व विद्या भाव)👉 इस भाव में गुरु कारकत्व दोष से पीड़ित होता है। इस भाव में गुरु के मिले-जुले फल मिलते हैं। ग्रन्थों के आधार पर जातक नीति विज्ञान में विशारद, समाज में लोकप्रिय, सट्टे-जुए से धन प्राप्त करने वाला, विद्वान व सन्तति वान होता है। ऐसा जातक धर्म-कर्म में बहुत रुचि रखता है। प्रथम संतान पुत्र होती है परन्तु पुत्र क्लेश होता है अर्थात् पुत्र हो और बिगड़ जाये तो भी क्लेश तथा पुत्र न हो तो भी कलेश । मेरे अनुभव में जातक को प्रथम पुत्र की हानि होती है। ऐसा जातक उच्च कोटि के साहित्य में रुचि रखता है परन्तु जातक अर्थात् स्त्री अथवा पुरुष कोई भी हो, एक से अधिक प्रणय सम्बन्ध रखता है। स्त्री वर्ग के तो अपनी आय से अधिक आयु के व्यक्ति से सम्बन्ध बनते हैं। कोई उच्च श्रेणी का विधुर भी हो सकता है। ऐसा जातक अपने वर्ग में प्रिय अधिक होता है। प्रिय होने का उपरोक्त कारण भी हो सकता है। ऐसे जातक यदि कानून के क्षेत्र में जायें तो अधिक सफल होते हैं। ऐसे लोग किसी से न तो प्रेम करते हैं और न ही किसी के सगे होते हैं। यहां तक कि अपने जीवन साथी से भी बात छुपाते हैं। इस भाव के गुरु के प्रभाव से जातक की शिक्षा अधिक नहीं हो पाती है परन्तु मेरे अनुभव में गुरु यदि किसी केन्द्र स्थान का स्वामी हो तो अवश्य ही जातक उच्च शिक्षा प्राप्त करता है। ऐसे व्यक्ति कभी संतान से सुख नहीं ले पाते हैं। उन्हें अपनी संतान का अन्त तक भरण पोषण करना पड़ता है। जातक यदि आरम्भ से ही व्यवसाय करे तो उसमें वह सफल हो जाता है। यहां पर गुरु यदि पुरुष राशि (मेष, मिथुन, सिंह, तुला, धनु व कुंभ) में हो तो जातक शिक्षा के क्षेत्र में ख्याति अर्जित करता है। ऐसे योग वाले जातकों को कभी भी पीलिया अथवा यकृत से सम्बन्धित रोगों को छोटा नहीं समझना चाहिये। क्रमशः.... अगले लेख में हम गुरु के छठे भाव मे होने पर मिलने वाले प्रभावों के विषय मे चर्चा करेंगे। पं देवशर्मा 〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

🌹🌞💐🌻🕉🌷🙏🌺🌸🚩🇮🇳 🌞 ~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ 🌞 ⛅ *दिनांक 09 दिसम्बर 2019* ⛅ *दिन - सोमवार* ⛅ *विक्रम संवत - 2076* ⛅ *शक संवत - 1941* ⛅ *अयन - दक्षिणायन* ⛅ *ऋतु - हेमंत* ⛅ *मास - मार्गशीर्ष* ⛅ *पक्ष - शुक्ल* ⛅ *तिथि - द्वादशी सुबह 09:54 तक तत्पश्चात त्रयोदशी* ⛅ *नक्षत्र - भरणी 10 दिसम्बर प्रातः 05:05 तक तत्पश्चात कृत्तिका* ⛅ *योग - परिघ शाम 05:18 तक तत्पश्चात शिव* ⛅ *राहुकाल - सुबह 08:20 से सुबह 09:40 तक* ⛅ *सूर्योदय - 07:05* ⛅ *सूर्यास्त - 17:56* ⛅ *दिशाशूल - पूर्व दिशा में* ⛅ *व्रत पर्व विवरण - सोमप्रदोष व्रत, अखंड द्वादशी* 💥 *विशेष - द्वादशी को पूतिका(पोई) अथवा त्रयोदशी को बैंगन खाने से पुत्र का नाश होता है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🌷 *पिशाच मोचिनी तिथि (श्राद्ध)* 🌷 ➡ *पिशाचमोचन श्राद्ध तिथिः मार्गशीर्ष शुक्ल चतुर्दशी जो इस वर्ष 10 दिसम्बर 2019 मंगलवार को सुबह 10:45 से 11 दिसम्बर बुधवार को सुबह 10:59 तक मार्गशीर्ष शुक्ल चतुर्दशी है।* 🙏🏻 *इस दिन प्रेत योनि को प्राप्त जीवों (पूर्वजों) के निमित्त तर्पण आदि करने से उनकी सदगति होती है |जिनके घर-परिवार, आस-पडोस या परिचय में किसी की अकाल मृत्यु हुई हो या कोई भूत-प्रेत अथवा पितृबाधा से पीड़ित हो, वे पिशाच मोचिनी तिथि को उनकी सदगति, आत्मशांति और मुक्ति के लिए संकल्प करके श्राद्ध - तर्पण अवश्य करें | भूत-प्रेतादिक से ग्रस्त व्यक्ति इसे अवश्य करें |* ➡ *विधिः प्रातः स्नान के बाद दक्षिणमुख होकर बैठें। तिलक, आचमन आदि के बाद पीतल या ताँबे के थाल अथवा तपेली आदि मे पानी लें। उसमें दूध, दही, घी, शक्कर, शहद, कुम -कुम, अक्षत, तिल, कुश मिलाकर रखें। हाथ में शुद्ध जल लेकर संकल्प करें कि ʹअमुक व्यक्ति (नाम) के प्रेतत्व निवारण हेतु हम आज पिशाचमोचन श्राद्ध तिथि को यह पिशाचमोचन श्राद्ध कर रहे हैं।ʹ हाथ का जल जमीन पर छोड़ दें। फिर थोड़े काले तिल अपने चारों ओर जमीन पर छिड़क दें कि भगवान विष्णु हमारे श्राद्ध की असुरों से रक्षा करें। अब अनामिका उँगली में कुश की अँगूठी पहनकर (ʹૐ अर्यमायै नमःʹ) मंत्र बोलते हुए पितृतीर्थ से 108 तर्पण करें अर्थात् थाल में से दोनों हाथों की अंजली भर-भर के पानी लें एवं दायें हाथ की तर्जनी उँगली व अँगूठे के बीच से गिरे, इस प्रकार उसी पात्र में डालते रहें। ( तर्पण पीतल या ताँबे के थाल अथवा तपेली में बनाकर रखे जल से करना है।)* 🙏🏻 *108 तर्पण हो जाने के बाद दायें हाथ में शुद्ध जल लेकर संकल्प करें कि सर्व प्रेतात्माओं की सदगति के निमित्त किया गया, यह तर्पण कार्य भगवान नारायण के श्रीचरणों में समर्पित है। फिर तनिक शांत होकर भगवद्-शांति में बैठें। बाद में तर्पण के जल को पीपल में चढ़ा दें।* 🙏🏻 *स्रोतः लोक कल्याण सेतु, 11, अंक 125, नवम्बर वर्ष 2007* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🌷 *मार्गशीर्ष मास की शुक्ल मास चतुर्दशी* 🌷 🙏🏻 *मस्त्यपुराण कहता है कि - मार्गशीर्ष मास शुक्ल पक्ष चतुर्दशी तिथि के दिन अगर कोई शिवजी का १७ नामों से पूजन करे या वो १७ मंत्र बोलकर उनको प्रणाम करे | जो शिव है वो गुरु है और जो गुरु है वो शिव है | अपने गुरुदेव का भी स्मरण करते करते करें , तो भी उन तक पहुँच जाता है | और ज्यादा किसी को समस्या है वो विशेष रूप से, १७ नाम मस्त्यपुराण में बताया है | उसी दिन खास महिमा है उसकी, मार्गशीर्ष मास के बारे में जानते होंगे, जो भगवत गीता पाठ करते हैं | तो भगवान ने गीता के १० वे अध्याय में कहाँ है – ‘मासा नाम मार्गशीर्षोंहम’ की जो मार्गशीर्ष मास में भगवान ने अपनी विभूति बताया और उसमे शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी |* 👉🏻 *१७ नाम इस प्रकार* 👈🏻 🌷 १) *ॐ शिवाय नम:* 🌷 २) *ॐ सर्वात्मने नम:* 🌷 ३) *ॐ त्रिनेत्राय नम:* 🌷 ४) *ॐ हराय नम:* 🌷 ५) *ॐ इन्द्र्मुखाय नम:* 🌷 ६) *ॐ श्रीकंठाय नम:* 🌷 ७) *ॐ सत्योजाताय नम:* 🌷 ८) *ॐ वामदेवाय नम:* 🌷 ९) *ॐ अघोरहृदयाय नम:* 🌷 १०) *ॐ तत्पुरुषाय नम:* 🌷 ११) *ॐ ईशानाय नम:* 🌷 १२) *ॐ अनंतधर्माय नम:* 🌷 १३) *ॐ ज्ञानभुताय नम:* 🌷 १४) *ॐ अनंतवैराग्यसिंघाय नम:* 🌷 १५) *ॐ प्रधानाय नम:* 🌷 १६) *ॐ व्योमात्मने नम:* 🌷 १७) *ॐ युक्तकेशात्मरूपाय नम:* 🙏🏻 *तो जिनको जीवन में कष्ट आदि हैं उनको दूर करने में मदद मिलती है | और दो नाम पार्वतीजी के बोलेंगे उसी दिन – ॐ पुष्ट्ये नम: , ॐ तुष्टये नम: माँ पार्वती को नमन करके ये दो मंत्र उस दिन बोले की मैं श्रद्धा और भक्ति से पुष्ट बनूँ क्योंकि पार्वतीजी ‘भवानी शंकरों वन्दे श्रद्धा विश्वास रुपिनों’ आप श्रद्धा की मूर्ति है माँ मैं श्रद्धा से पुष्ट बनूँ मैं गुरुदेव के प्रति विचार रूपी सात्विक श्रद्धा से पुष्ट बनूँ |* 🌷 *शिव गायत्री मंत्र – ॐ तत्पुरुषाय विद्महे | महादेवाय धीमहि, तन्नो रूद्र प्रचोदयात् ।।* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🙏🍀🌷🌻🌺🌸🌹🍁🙏

+2 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 15 शेयर
Rameshanand Guruji Dec 9, 2019

🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *********|| जय श्री राधे ||********* 🌺🙏 *महर्षि पाराशर पंचांग* 🙏🌺 🙏🌺🙏 *अथ पंचांगम्* 🙏🌺🙏 *********ll जय श्री राधे ll********* 🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *दिनाँक -: 09/12/2019,सोमवार* द्वादशी, शुक्ल पक्ष मार्गशीर्ष """""""'""”""""""""""""""""""""""""""(समाप्ति काल) तिथि ---------द्वादशी 09:53:51 तक पक्ष ---------------------------शुक्ल नक्षत्र ----------भरणी 29:00:15 योग परिघ -------------17:03:01 करण बालव --------- 09:53:50 करण ---------कौलव 22:23:11 वार -------------------------सोमवार माह ------------------------मार्गशीर्ष चन्द्र राशि ----------------------मेष सूर्य राशि --------------------वृश्चिक रितु ----------------------------हेमंत आयन -------------------दक्षिणायण संवत्सर ---------------------विकारी संवत्सर (उत्तर) ----------परिधावी विक्रम संवत --------------- 2076 विक्रम संवत (कर्तक) ----2076 शाका संवत ----------------1941 वृन्दावन सूर्योदय -----------------06:59:08 सूर्यास्त -----------------17:23:35 दिन काल ---------------10:24:26 रात्री काल -------------13:36:15 चंद्रोदय -----------------15:32:50 चंद्रास्त -----------------28:53:20 लग्न ----वृश्चिक 22°32' , 232°32' सूर्य नक्षत्र -------------------ज्येष्ठा चन्द्र नक्षत्र -------------------भरणी नक्षत्र पाया --------------------स्वर्ण *🚩💮🚩 पद, चरण 🚩💮🚩* ली ----भरणी 09:55:46 लू ----भरणी 16:19:21 ले ----भरणी 22:40:51 लो ----भरणी 29:00:15 *💮🚩💮 ग्रह गोचर 💮🚩💮* ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद ======================= सूर्य=वृश्चिक 22°32 ' ज्येष्ठा, 2 या चन्द्र = मेष 14°23 ' भरणी ' 1 ली बुध = वृश्चिक 05°10 'अनुराधा' 1 ना शुक्र= धनु 21 ° 55, पू o षा o ' 3 फा मंगल=तुला 19°40 ' स्वाति ' 4 ता गुरु=धनु 06°30 ' मूल , 3 भा शनि=धनु 24°43' पू oषा o ' 4 ढा राहू=मिथुन 16 °20 ' आर्द्रा , 3 ङ केतु=धनु 15 ° 20' पूo षाo, 1 भू *🚩💮🚩शुभा$शुभ मुहूर्त🚩💮🚩* राहू काल 08:17 - 09:35 अशुभ यम घंटा 10:53 - 12:11 अशुभ गुली काल 13:29 - 14:47 अशुभ अभिजित 11:51 -12:32 शुभ दूर मुहूर्त 12:32 - 13:14 अशुभ दूर मुहूर्त 14:37 - 15:19 अशुभ 💮चोघडिया, दिन अमृत 06:59 - 08:17 शुभ काल 08:17 - 09:35 अशुभ शुभ 09:35 - 10:53 शुभ रोग 10:53 - 12:11 अशुभ उद्वेग 12:11 - 13:29 अशुभ चर 13:29 - 14:47 शुभ लाभ 14:47 - 16:06 शुभ अमृत 16:06 - 17:24 शुभ 🚩चोघडिया, रात चर 17:24 - 19:06 शुभ रोग 19:06 - 20:48 अशुभ काल 20:48 - 22:30 अशुभ लाभ 22:30 - 24:12* शुभ उद्वेग 24:12* - 25:54* अशुभ शुभ 25:54* - 27:36* शुभ अमृत 27:36* - 29:18* शुभ चर 29:18* - 30:59* शुभ 💮होरा, दिन चन्द्र 06:59 - 07:51 शनि 07:51 - 08:43 बृहस्पति 08:43 - 09:35 मंगल 09:35 - 10:27 सूर्य 10:27 - 11:19 शुक्र 11:19 - 12:11 बुध 12:11 - 13:03 चन्द्र 13:03 - 13:55 शनि 13:55 - 14:47 बृहस्पति 14:47 - 15:40 मंगल 15:40 - 16:32 सूर्य 16:32 - 17:24 🚩होरा, रात शुक्र 17:24 - 18:32 बुध 18:32 - 19:40 चन्द्र 19:40 - 20:48 शनि 20:48 - 21:56 बृहस्पति 21:56 - 23:04 मंगल 23:04 - 24:12 सूर्य 24:12* - 25:20 शुक्र 25:20* - 26:28 बुध 26:28* - 27:36 चन्द्र 27:36* - 28:44 शनि 28:44* - 29:52 बृहस्पति 29:52* - 30:59 *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार । अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । लाभ में व्यापार करें । रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । अमृत में सभी शुभ कार्य करें । *💮दिशा शूल ज्ञान-------------पूर्व* परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा काजू खाके यात्रा कर सकते है l इस मंत्र का उच्चारण करें-: *शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l* *भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll* *🚩 अग्नि वास ज्ञान -:* *यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,* *चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।* *दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,* *नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।।* *महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्* *नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।* 12 + 2 + 1 = 15 ÷ 4 = 3 शेष मृत्यु लोक पर अग्नि वास हवन के लिए शुभ कारक है l *💮 शिव वास एवं फल -:* 12 + 2 + 5 = 19 ÷ 7 = 5 शेष ज्ञानवेलायां = कष्ट कारक *🚩भद्रा वास एवं फल -:* *स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।* *मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।* *💮🚩 विशेष जानकारी 🚩💮* * प्रदोष व्रत (शिव पूजन) * अनंग त्रयोदशी *💮🚩💮 शुभ विचार 💮🚩💮* वरं वनं व्याघ्रगजेन्द्रसेवितं द्रुमालयं पक्वफलाम्बुसेवनम् । तृणेषु शय्या शतजीर्णबल्कलं न बन्धुमध्ये धनहीनजीवनम् ।। ।।चा o नी o।। यह बेहतर है की आप जंगल में एक झाड के नीचे रहे, जहा बाघ और हाथी रहते है, उस जगह रहकर आप फल खाए और जलपान करे, आप घास पर सोये और पुराने पेड़ो की खाले पहने. लेकिन आप अपने सगे संबंधियों में ना रहे यदि आप निर्धन हो गए है. *🚩💮🚩 सुभाषितानि 🚩💮🚩* गीता -: पुरुषोत्तमयोग अo-15 इति गुह्यतमं शास्त्रमिदमुक्तं मयानघ ।, एतद्‍बुद्ध्वा बुद्धिमान्स्यात्कृतकृत्यश्च भारत ॥, हे निष्पाप अर्जुन! इस प्रकार यह अति रहस्ययुक्त गोपनीय शास्त्र मेरे द्वारा कहा गया, इसको तत्त्व से जानकर मनुष्य ज्ञानवान और कृतार्थ हो जाता है॥,20॥, *💮🚩 दैनिक राशिफल 🚩💮* देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।। 🐏मेष कम प्रयास से काम बनेंगे। धनार्जन होगा। प्रतिष्ठा बढ़ेगी। स्वास्थ्य कमजोर रहेगा। व्यवसाय ठीक चलेगा। स्वास्थ्य का ध्यान रखना होगा। परिवार से संबंध घनिष्ठ होंगे। नए संबंधों के प्रति सतर्क रहें। भूल करने से विरोधी बढ़ेंगे। रुके धन की प्राप्ति में अड़चनें आएंगी। 🐂वृष मेहमानों का आगमन होगा। शुभ समाचार प्राप्त होंगे। आत्मसम्मान बढ़ेगा। वाणी पर नियंत्रण रखें। व्यापार में परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। अपने काम से काम रखें। दूसरों के विश्वास में न आएं। परिवार में तनावपूर्ण माहौल रह सकता है। 👫मिथुन लेन-देन में सावधानी रखें। रोजगार मिलेगा। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। अचानक लाभ होगा। धन संबंधी कार्यों में विलंब से चिंता हो सकती है। लाभदायक समाचार मिलेंगे। कार्य के विस्तार की योजना बनेगी। संत-समागम होगा। 🦀कर्क चोट व रोग से हानि संभव है। कुसंगति से हानि होगी। विवाद न करें। फालतू खर्च बढ़ेंगे। आवास संबंधी समस्या का समाधान संभव है। आवेश में कोई कार्य नहीं करें। सामाजिक एवं राजकीय ख्याति में अभिवृद्धि होगी। व्यापार अच्छा रहेगा। 🐅सिंह शारीरिक कष्ट संभव है। लेन-देन में सावधानी रखें। सुख के साधन जुटेंगे। रुका हुआ धन मिलेगा। अधूरे काम समय पर सफलता से होने पर उत्साह बढ़ेगा। वाहन चलाते समय सावधानी रखें। व्यापार के कार्य से बाहर जाना पड़ सकता है। 🙎कन्या दुष्टजन हानि पहुंचा सकते हैं। नई योजना बनेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। आय बढ़ेगी। भोग-विलास में रुचि बढ़ेगी। जीवनसाथी से संबंधों में प्रगाढ़ता आएगी। स्थायी संपत्ति के मामले उलझेंगे। कार्य में मित्रों की मदद मिलेगी। आर्थिक मनोबल बढ़ेगा। ⚖तुला कोर्ट व कचहरी में अनुकूलता रहेगी। पूजा-पाठ में मन लगेगा। व्यवसाय ठीक चलेगा। थकान रहेगी। परिवार एवं समाज में आपके कामों को महत्व एवं सम्मान प्राप्त हो सकेगा। वाणी पर संयम आवश्यक है। व्यापार-व्यवसाय में लाभ होगा। 🦂वृश्चिक चोरी, चोट व विवाद आदि से हानि संभव है। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। धनार्जन होगा। भागदौड़, बाधाओं व सतर्कता के बाद सफलता मिलेगी। पारिवारिक सुख, संतोष बढ़ेगा। उपहार मिलने के योग हैं। अधिक व्यय न करें। खर्चों में कमी करें। 🏹धनु पुराना रोग उभर सकता है। बेचैनी रहेगी। जीवनसाथी से सहयोग मिलेगा। कानूनी बाधा दूर होगी। रुका धन मिलने से धन संग्रह होगा। कार्य में भागीदार सहयोग करेंगे। विकास की योजनाएं बनेंगी। दांपत्य जीवन में गलतफहमी आ सकती है। 🐊मकर घर-परिवार की चिंता रहेगी। भूमि व भवन संबंधी योजना बनेगी। बेरोजगारी दूर होगी। आपका सामाजिक क्षेत्र बढ़ेगा। लाभदायक सौदे होंगे। विपरीत परिस्थितियों का सफलता से सामना कर सकेंगे। जीवनसाथी से आर्थिक मतभेद हो सकते हैं। 🍯कुंभ शत्रु परास्त होंगे। पार्टी व पिकनिक का आनंद मिलेगा। विद्यार्थी वर्ग सफलता हासिल करेगा। धार्मिक कार्यों में रुचि बढ़ेगी। किसी नए कार्य में भाग लेने के योग हैं। विद्वानों के साथ रहने का अवसर मिलेगा। व्यापार में भागीदार सहयोग करेंगे। 🐟मीन घर-परिवार की चिंता रहेगी। विवाद को बढ़ावा न दें। स्वास्थ्य कमजोर रहेगा। जोखिम न लें। अचानक यात्रा के भी अच्छे फल मिलेंगे। आमदनी में वृद्धि होगी। प्रसिद्धि एवं सम्मान में इजाफा होगा। नौकरी में उन्नति के योग हैं। 🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏 🌺🌺🌺🌺🙏🌺🌺🌺🌺 *आचार्य नीरज पाराशर (वृन्दावन)* (व्याकरण,ज्योतिष,एवं पुराणाचार्य) 09897565893,09412618599

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

🕉श्री हरिहरो विजयतेतराम🕉 🌄सुप्रभातम🌄 🗓आज का पञ्चाङ्ग🗓 🌻सोमवार, ९ दिसंबर २०१९🌻 सूर्योदय: 🌄 ०७:०६ सूर्यास्त: 🌅 ०५:२० चन्द्रोदय: 🌝 १५:२८ चन्द्रास्त: 🌜२८:५४ अयन 🌕 दक्षिणायने (दक्षिणगोलीय) ऋतु: 🌲 हेमंत शक सम्वत: 👉 १९४१ (विकारी) विक्रम सम्वत: 👉 २०७६ (परिधावी) मास 👉 मार्गशीर्ष पक्ष 👉 शुक्ल तिथि: 👉 द्वादशी (०९:५४ तक) नक्षत्र: 👉 भरणी (२९:०२ तक) योग: 👉 परिघ (१७:०५ तक) प्रथम करण: 👉 बालव (०९:५४ तक) द्वितीय करण: 👉 कौलव (२२:२३ तक) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 ॥ गोचर ग्रहा: ॥ 🌖🌗🌖🌗 सूर्य 🌟 वृश्चिक चंद्र 🌟 मेष मंगल 🌟 तुला (उदित, पूर्व) बुध 🌟 वृश्चिक (मार्गी, उदय, पूर्व) गुरु 🌟 धनु (उदित, मार्गी) शुक्र 🌟 धनु (उदित, पश्चिम) शनि 🌟 धनु (उदित, पूर्व, मार्गी) राहु 🌟 मिथुन केतु 🌟 धनु 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभाशुभ मुहूर्त विचार ⏳⏲⏳⏲⏳⏲⏳ 〰〰〰〰〰〰〰 अभिजित मुहूर्त: 👉 ११:४९ से १२:२९ अमृत काल: 👉 २३:५५ से २५:३७ होमाहुति: 👉 शनि (२९:०२ तक) अग्निवास: 👉 पृथ्वी दिशा शूल: 👉 पूर्व नक्षत्र शूल: 👉 ❌❌❌ चन्द्र वास: 👉 पूर्व दुर्मुहूर्त: 👉 १२:२९ से १३:१० राहुकाल: 👉 ०८:२१ से ०९:३७ राहु काल वास: 👉 उत्तर-पश्चिम यमगण्ड: 👉 १०:५३ से १२:०९ 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ☄चौघड़िया विचार☄ 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ॥ दिन का चौघड़िया ॥ १ - अमृत २ - काल ३ - शुभ ४ - रोग ५ - उद्वेग ६ - चर ७ - लाभ ८ - अमृत ॥रात्रि का चौघड़िया॥ १ - चर २ - रोग ३ - काल ४ - लाभ ५ - उद्वेग ६ - शुभ ७ - अमृत ८ - चर नोट-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभ यात्रा दिशा 🚌🚈🚗⛵🛫 उत्तर-पूर्व (दर्पण देखकर अथवा खीर का सेवन कर यात्रा करें) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 तिथि विशेष 🗓📆🗓📆 〰️〰️〰️〰️ सोम प्रदोष व्रत आदि। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज जन्मे शिशुओं का नामकरण 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज २९:०२ तक जन्मे शिशुओ का नाम भरणी नक्षत्र के प्रथम, द्वितीय, तृतीय एवं चतुर्थ चरण अनुसार क्रमशः (ली, लू, ले, लो) तथा इसके बाद जन्मे शिशुओं का नाम कृतिका नक्षत्र के प्रथम चरण अनुसार क्रमशः (अ) नामाक्षर से रखना शास्त्र सम्मत है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 उदय-लग्न मुहूर्त: ०७:०५ - ०७:३८ वृश्चिक ०७:३८ - ०९:४२ धनु ०९:४२ - ११:२३ मकर ११:२३ - १२:४९ कुम्भ १२:४९ - १४:१२ मीन १४:१२ - १५:४६ मेष १५:४६ - १७:४१ वृषभ १७:४१ - १९:५६ मिथुन १९:५६ - २२:१७ कर्क २२:१७ - २४:३६ सिंह २४:३६ - २६:५४ कन्या २६:५४ - २९:१५ तुला २९:१५ - ३१:०६ वृश्चिक 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 पञ्चक रहित मुहूर्त: ०७:०५ - ०७:३८ चोर पञ्चक ०७:३८ - ०९:४२ शुभ मुहूर्त ०९:४२ - ०९:५४ रोग पञ्चक ०९:५४ - ११:२३ शुभ मुहूर्त ११:२३ - १२:४९ मृत्यु पञ्चक १२:४९ - १४:१२ अग्नि पञ्चक १४:१२ - १५:४६ शुभ मुहूर्त १५:४६ - १७:४१ मृत्यु पञ्चक १७:४१ - १९:५६ अग्नि पञ्चक १९:५६ - २२:१७ शुभ मुहूर्त २२:१७ - २४:३६ रज पञ्चक २४:३६ - २६:५४ शुभ मुहूर्त २६:५४ - २९:०२ चोर पञ्चक २९:०२ - २९:१५ शुभ मुहूर्त २९:१५ - ३१:०६ रोग पञ्चक 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज का राशिफल 🐐🐂💏💮🐅👩 〰️〰️〰️〰️〰️〰️ मेष🐐 (चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ) आज का दिन शुभ फलदायक है दिन के आरंभ से ही मन अकारण ही प्रसन्न रहेगा। घर मे किसी विशेष कार्य को लेकर चहल पहल रहेगी। कार्य क्षेत्र पर आज कारोबार संतोषजनक रहेगा आर्थिक रूप से सम्पन्नता आएगी खर्च भी आज अतिरिक्त होंगे लेकिन परिजनों की खुशी के आगे बुरे नही लगेंगे। नौकरी वाले लोग अधिकांश कार्य बाद के लिए टालेंगे। बड़े कार्यो को मध्यान पूर्व ही निपटाने के प्रयास करें इसके बाद कार्य तो चलते रहेंगे लेकिन संतोष कम ही होगा। कार्य क्षेत्र पर सहकर्मियों की कमी खलेगी फिर भी विलम्ब नही होने देंगे। घरेलू वातावरण मध्यान तक ठीक रहेगा इसके बाद किसी गलतफहमी अथवा मांग पूरी ना होने पर अशांति हो सकती है। संध्या के आसपास सेहत में नरमी आएगी किसी भी कार्य मे उत्साह नही रहेगा। वृष🐂 (ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो) आज के दिन परिस्थितियां उलझन में डालने वाली रहेंगी। दिन के आरंभ से ही मन में कोई डर रहेगा आर्थिक उलझने सुलझने की संभावना नही दिखने से मन मे नकारत्मक विचार आएंगे। आप अपनी पूर्व की गलतियों की समीक्षा करेंगे किसी आवश्यक कार्य को लेकर मध्यान तक व्यस्त रहेंगे यात्रा भी हो सकती है। कार्य व्यवसाय में आज स्थिरता नही रहेगी फिर भी काम चलाऊ धनलाभ हो ही जायेगा। मध्यान बाद परिस्थिति में सुधार आने लगेगा। किसी परिचित की सहायता से आर्थिक मसले कुछ हद तक सुलझेंगे। संध्या का समय पिछले कुछ दिनों से बेहतर रहेगा घर में सुख की अनुभूति होगी।मनोरंजन के अवसर मिलने से मानसिक अशांति दूर होगी लेकिन आपके कृपण व्यवहार से कोई नाराज भी हो सकता है। मिथुन👫 (का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, हा) आज के दिन परिस्थिति कुछ एक बातो को छोड़ आपके अनुकूल रहेगी। दिन के आरंभिक भाग में थोड़ी उलझनों का सामना करना पड़ेगा लेकिन इसके बाद अपने कार्यो पर गंभीर होकर ध्यान देंगे। धन लाभ की संभावना दिन भर लगी रहेगी बीच बीच मे पूर्ण होते रहने से मानसिक रूप से संतोष होगा। आज जबरदस्ती किसी के ऊपर कार्य ना थोपे अन्यथा बिगड़ने की संभावना अधिक है। महिलाए घरेलू आवश्यकता में विलंब होने पर नाराज रहेंगी आज मनाना मुश्किल ही रहेगा। सहकर्मी अथवा कोई अन्य आज अंत समय मे अपनी बात से पलटेगा इसलिये परिस्थिति अनुसार पहके से ही तैयार रहें। लंबी यात्रा आज ना करें हानि हो सकती है। कर्क🦀 (ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो) आज दिन के आरंभ से जिस कामना से कार्य करेंगे उसके मध्यान तक पूर्ण होने की संभावना है। कार्य व्यवसाय में आज अन्य दिनों की तुलना में कम परिश्रम से अधिक लाभ कमा सकेंगे। घर के सदस्य अथवा सहकर्मी अपनी बात मनवाने के लिये जिद पर अडंगे पूरी ना होने पर जानबूझकर किसी कार्य मे विलम्ब अथवा बिगाड़ भी सकते है। धन की आमद निश्चित होगी समय से थोड़ा आगे पीछे ही सही। नौकरी वाले लोग आज आलस्य में रहेंगे कार्यो को मजबूरी में सर पर आने पर ही करेंगे। दफ्तर अथवा कार्य क्षेत्र पर व्यवसाय की तुलना में व्यवस्था कम रहेगी जिससे लाभ की मात्रा घटेगी। अपनी कमिया को अनदेखा कर अन्य लोगो मे त्रुटियां निकालेंगे। घर की स्थिति कभी सामान्य कभी उग्र रहेगी। शारीरिक दुर्बलता अनुभव करेंगे। सिंह🦁 (मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे) आज के दिन आपका ध्यान इधर उधर की बातों पर अधिक रहेगा दिन का कोई लक्ष्य निर्धारित ना कोने के कारण लक्ष्य से भटक सकते है। आज अपने कार्यो को छोड़ अन्य लोगो को सलाह देंगे सार्वजनिक क्षेत्र पर अपनी प्रतिभा दिखाने का अवसर मिलेगा लेकिन इसमें आंशिक सफलता मिलेगी। मध्यान बाद मेहनत के अनुपात में अधिक लाभ मिलने के योग है व्यवहारिकता पर अधिक ध्यान दें आपके हिस्से का लाभ कोई अन्य ना ले जाये। धन की आमद आज निश्चित नही रहेगी फिर भी खर्च अनुसार हो जाएगी। धार्मिक कार्यो में रुचि बढ़ेगी लेकिन व्यस्तता के चलते ज्यादा समय नही दे सकेंगे। घर मे मंगल कार्य होंगे परिजन आपका ख्याल रखेंगे लेकिन बदले में कुछ अधिक मांग भी की जा सकती है। कन्या👩 (टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो) आज का दिन उतार-चढ़ाव वाला रहेगा। दिन के आरंभ से ही शारीरिक शिथिलता सभी कार्यो में बाधा डालेगी फिर भी जबरदस्ती करना बाद में महंगा पड़ेगा। शारीरिक रूप से आज कुछ ना कुछ परेशानी लगी रहेगी मन अनर्गल प्रवृतियों में भटकेगा। घर अथवा व्यावसायिक कार्यो के प्रति लापरवाही करेंगे लेकिन फिर भी मनोरंजन की योजना बनायेगें। कार्य व्यवसाय से लाभ निश्चित होगा लेकिन किसी के सहयोग से ही। महिलाये भी आरोग्य में कमी रहने के कारण धीमी गति से कार्य करेंगी घर का वातावरण अस्त-व्यस्त रहेगा। आर्थिक दृष्टिकोण से दिन आशाजनक नही रहेगा फिर भी कर्म की तुलना में अधिक ही होगा। परिवार के सदस्य झुंझलाहट में बेवजह ही एक दूसरे से उलझेंगे। यात्रा टालें। तुला⚖️ (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते) आज दिन की शुरुआत से ही आपके मन मे कुछ विशेष योजना बनेगी इसको साकार रूप देने में मध्यान बाद तक सफल हो जाएंगे। कार्य क्षेत्र पर नए लाभ के अनुबंध मिलेंगे परन्तु आज इनपर कार्यारम्भ ना करें धन की आमद कही ना कही से हो जाएगी इसके लिए ज्यादा माथा पच्ची नही करनी पड़ेगी। दिन भाग्योदय कारक रहेगा व्यवहार के बल पर अन्य लोगो की अपेक्षा ज्यादा फल पाने के हकदार रहेंगे आप हाथ आये काम को किसी भी प्रकार जाने नही देंगे। नौकरी पेशा भी लेदेकर काम पूरा करने के पक्ष में रहेंगे। मध्यान बाद भविष्य के खर्चो को देखते हुए ज्यादा से ज्यादा लाभ कमाने की मानसिकता रहेगी। कामना पूर्ति से महिलाए अधिक उत्साहित रहेंगी। सेहत उत्तम रहेगी। वृश्चिक🦂 (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू) आज का दिन वृद्धिकारक रहेगा। जिस कार्य से कोई आशा नही रहेगी वहां से भी कुछ ना कुछ लाभ ही होगा। अकस्मात लघु यात्रा आने से दैनिक कार्यो में फेरबदल करना पड़ेगा। आलस्य से आज बचें एक बार किसी कार्य मे विलम्ब हुआ तो रात्रि तक यही क्रम जारी रहेगा। मध्यान बाद व्यस्तता बढ़ेगी व्यवसाय में अकस्मात उछाल आएगा लेकिन इसके अनुरूप आपकी तैयारी नही होने पर खासी मशक्कत करनी पडेगी फिर भी धन की आमद एक से अधिक मार्ग से होगी आर्थिक दृष्टिकोण से भविष्य के प्रति आज निश्चिन्त रहेंगे लेकिन घर मे किसी ना किसी से कलह होकर ही रहेगी। स्वास्थ्य मानसिक दुविधा के कारण सर दर्द अथवा अन्य छोटी मोटी परेशानी आ सकती है। धनु🏹 (ये, यो, भा, भी, भू, ध, फा, ढा, भे) आज आप स्वभाव से विवेक का परिचय देंगे इसके विपरीत घर का वातावरण बेवजह के झमेलों में डालेगा जिस कारण बाहर समय बिताना अच्छा लगेगा। दैनिक कार्य आज व्यवस्थित रहेंगे अधिक से अधिक धन कमाने की मानसिकता चैन से बैठने नही देगी। कार्य क्षेत्र पर अन्य दिनों की तुलना में ज्यादा व्यस्त रहेंगे फिर भी इसका लाभ आशाजनक नही मिलेगा। आज आप अनैतिक कार्यो से स्वयं ही दूरी बनाकर रहेंगे फिर भी प्रलोभन से स्वयं को बचाना बड़ी चुनौती रहेगी। धन की आमद अन्य दिनों की अपेक्षा सुधरेगी लेकिन घर मे फरमाइशें की सूची भी लंबी रहने के कारण तुरंत निकल जायेगा। सामाजिक कार्यो के प्रति उदासीनता व्यवहारिक जगत से दूरी बढ़ाएगी। स्वयं अथवा परिजन के स्वास्थ्य के ऊपर भी खर्च करना पड़ेगा। मकर🐊 (भो, जा, जी, खी, खू, खा, खो, गा, गी) आज का दिन अशुभ फलदायी रहेगा। घर एवं बाहर की परिस्थितियां पल पल पर क्रोध दिलाएंगी इसलिये आज आपको अधिक से अधिक मौन रहने की सलाह है। कार्य क्षेत्र पर भी सहकर्मी अथवा किसी बाहरी व्यक्ति से तालमेल बिगड़ेगा आपको उनका एवं उनको आपका व्यवहार उद्दंड लगेगा जिससे कलह बढ़ेगी। गलती करने पर मान लें अन्यथा परेशानी बढ़ सकती है। आर्थिक रूप से भी दिन उतार चढ़ाव वाला रहेगा जिस लाभ के आप अधिकारी है उसे कोई अन्य ले जाएगा अथवा बहुत कम होने पर निराश होंगे। व्यवसायी वर्ग तगादा करते समय विनम्र रहें अन्यथा गरमा गर्मी में धन डूब सकता है। मन आज वर्जित और असंवैधानिक कार्यो में शीघ्र आकर्षित होगा। महिलाए घर का वातावरण जितना सुधारने का प्रयास करेंगी उतना अधिक बिगड़ेगा। सेहत में नई समस्या बनेगी। कुंभ🍯 (गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा) आज का दिन यादगार रहेगा। कई दिनों से मन में चल रही कामना की पूर्ति आज होने से अकस्मात खुशी मिलेगी। कार्य व्यवसाय में भी उन्नति के योग है जिस किसी कार्य को करेंगे उसमें स्वयं के बल पर ही सफलता पा लेंगे भागीदारी के कार्यो में बड़े निर्णय लेने से आज बचें अन्यथा तालमेल की कमी के कारण आपस मे फुट पड़ सकती है। महिलाए भ्रामक खबरों पर यकीन ना करें वरना घर का सुरम्य वातावरण छोटी सी गलतफहमी के कारण लंबे समय के लिये अशान्त बनेगा। धन की आमद सही समय पर होगी फिर भी आज संतोष की कमी रहने पर कुछ ना कुछ अभाव अनुभव करेंगे। व्यवहारिक संबंधों को छोड़ अन्य सभी कार्य में विजय मिलेगी। सेहत उत्तम रहेगी। मीन🐳 (दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची) आज के दिन आपकी मानसिकता शांति से दिन बिताने की रहेगी लेकिन घर एवं बाहर कुछ ऐसी परिस्थितियां बनेंगी जिनसे क्रोध आएगा। घर में सुबह शांति रहेगी लेकिन संध्या के समय कलह होने की आशंका बेचैन रखेगी। कार्य व्यवसाय से मध्यान तक लाभ कमाया जा सकता हैं। मध्यान बाद से कार्य क्षेत्र पर सहयोगियो की कमी रहेगी ज्यादा काम ना बढ़ाये कम में ही संतोष करें अन्यथा बेवजह की मुसीबत बनेगी। धन लाभ भाग दौड़ के बाद खर्च लायक हो जाएगा। सामाजिक कार्यो में भी रुचि लेंगे इसके कारण अपने कार्यो में भी बदलाव करना पड़ेगा। पारिवारिक वातावरण में स्वार्थसिद्धि की भावना अधिक रहेगी। मौसम जनित बीमारी की संभावना है। 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️

+34 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 93 शेयर