चंद्रघंटा_नवदुर्गाओं_में_तृतीय*

M.S.Chauhan Sep 30, 2019

☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆ !! शुभ मंगलवार !! ☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆ !! जय श्री हनुमान जी की !! ☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆ !! जय माता चन्द्र घंटा की !!. ☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆ ☆श्री हनुमान जी का शुभ दिन मंगलवार और नवरात्रि के तीसरे दिन माता चंद्र घंटा की पूजा दिवस की हार्दिक शुभकामनाये जी ! ☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆ ☆माँ दुर्गा तीसरा : श्री चंद्रघंटा☆ ☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆ ☆माता दुर्गा की तीसरी शक्ति का नाम चंद्र घंटा है, माता दुर्गा के इस तीसरे रूप की पूजा-अर्चना की जाती है, माँ चंद्र घंटा का यह रूप भक्तों के लिए शान्तिदायक , शक्तिदायक और कल्याणकारी है । ☆ माँ चंद्र घंटा के माथे पर घन्टे के आकार का अर्ध चंद्र होता है इसलिए इनको चंद्र घंटा माता कहा जाता है, इनके दस हाथ हैं, दसों हाथों में खङग बाण इत्यादि शस्त्र धारण किये हुए है, इनका वाहन सिंह है, इनका शरीर स्वर्ण के समान दमकते वाला उज्जवल है, इनकी मुद्रा वीरता के साथ युद्ध के लिए प्रेरित करने वाली है । ☆नवरात्रि के तीसरे दिन इनकी पूजा-अर्चना का बहुत महत्व है, माता के साधक इस दिन इनकी साधना और उपासना करते हैं, माता चंद्र घंटा की कृपा से उनके समस्त दुख पाप और बाधाएं दूर हो जाती है, इनका वाहन सिंह साधकों को निडर और पराक्रमी बनने के लिए प्रेरित करता है, इनके घन्टा की ध्वनि भूत प्रेत और बाधाओं से रक्षा करती है, माता के इस स्वरूप के दर्शन से उपासक को सौम्यता और शान्ति प्रदान करती है । चंद्र घंटा माता का मंत्र :---- या देवी सर्वभूतेषु मां चंद्र घंटा रूपेण संस्थिता ! नमस्तस्यै नमस्तस्यै, नमस्तस्यै नमो नमः !! ☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆

+49 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 93 शेयर