जयकारा शेरावाली दा बोल सांचे दरबार की जय

+60 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 124 शेयर

Jai bhole Nath

+33 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 10 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

⛳"बाधाएँ आती हैं आएँ
घिरें प्रलय की घोर घटाएँ,
पावों के नीचे अंगारे,
सिर पर बरसें यदि ज्वालाएँ,
निज हाथों में हँसते-हँसते,
आग लगाकर जलना होगा।
क़दम मिलाकर चलना होगा।

हास्य-रूदन में, तूफ़ानों में,
अगर असंख्यक बलिदानों में,
उद्यानों में, वीरानों मे...

(पूरा पढ़ें)
+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 6 शेयर