*🕉।।जय श्री राम।।🕉* *🕉️।।अथ पंचांगमम्।।🕉️* *🕉️।।सोमवार, २१ अक्टूबर २०१९।।🕉️* सूर्योदय: 🌄 ०६:२९ सूर्यास्त: 🌅 ०५:४३ चन्द्रोदय: 🌝 २३:४६ चन्द्रास्त: 🌜१३:०३ अयन 🌕 दक्षिणायने (दक्षिणगोलीय) ऋतु: 💨 शरद शक सम्वत: 👉 १९४१ (विकारी) विक्रम सम्वत: 👉 २०७६ (परिधावी) मास 👉 कार्तिक पक्ष 👉 कृष्ण तिथि: 👉 सप्तमी (०६:४४ तक) क्षय तिथि: 👉 अष्टमी (२९:२५ तक) नक्षत्र: 👉 पुनर्वसु (१७:३३ तक) योग: 👉 सिद्ध (२२:२८ तक) प्रथम करण: 👉 बव (०६:४४ तक) द्वितीय करण: 👉 बालव (१८:०९ तक) क्षय करण: 👉 कौलव (२९:२५ तक) *॥गोचर ग्रहा:॥* सूर्य 🌟 तुला चंद्र 🌟 कर्क (११:४० से) मंगल 🌟 कन्या (अस्त, पश्चिम) बुध 🌟 तुला (मार्गी, उदित, पूर्व) गुरु 🌟 वृश्चिक (उदित, मार्गी) शुक्र 🌟 तुला (उदित, पश्चिम) शनि 🌟 धनु (उदित, पूर्व, मार्गी) राहु 🌟 मिथुन केतु 🌟 धनु *शुभाशुभ मुहूर्त विचार* अभिजित मुहूर्त: 👉 ११:४३ से १२:२८ अमृत काल: 👉 १५:११ से १६:४६ होमाहुति: 👉 गुरु (१७:३३ तक) अग्निवास: 👉 आकाश (०६:४४ से पृथ्वी) दिशा शूल: 👉 पूर्व चन्द्र वास: 👉 पश्चिम (उत्तर ११:४१ से) दुर्मुहूर्त: 👉 १२:२८ से १३:१३ राहुकाल: 👉 ०७:५३ से ०९:१७ राहु काल वास: 👉 उत्तर-पश्चिम यमगण्ड: 👉 १०:४१ से १२:०६ *चौघड़िया विचार* ॥ दिन का चौघड़िया ॥ १ - अमृत २ - काल ३ - शुभ ४ - रोग ५ - उद्वेग ६ - चर ७ - लाभ ८ - अमृत ॥रात्रि का चौघड़िया॥ १ - चर २ - रोग ३ - काल ४ - लाभ ५ - उद्वेग ६ - शुभ ७ - अमृत ८ - चर नोट-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। *शुभ यात्रा दिशा* उत्तर-पश्चिम (दर्पण देखकर अथवा खीर का सेवन कर यात्रा करें) *तिथि विशेष* सर्वार्थसिद्धि योग ०६:४३ से १७:३१ तक, अहोई अष्टमी व्रत, अष्टमी तिथि क्षय आदि। *आज जन्मे शिशुओं का नामकरण* आज १७:३३ तक जन्मे शिशुओ का नाम पुनर्वसु नक्षत्र के तृतीय, चतुर्थ चरण अनुसार क्रमशः (ह, ही) तथा इसके बाद जन्मे शिशुओं का नाम पुष्य नक्षत्र के प्रथम, द्वितीय, तृतीय चरण अनुसार क्रमशः (हू, है, हो) नामाक्षर से रखना शास्त्र सम्मत है। *उदय-लग्न मुहूर्त:* ०६:२९ - ०८:३३ तुला ०८:३३ - १०:५२ वृश्चिक १०:५२ - १२:५६ धनु १२:५६ - १४:३८ मकर १४:३८ - १६:०५ कुम्भ १६:०५ - १७:३० मीन १७:३० - १९:०६ मेष १९:०६ - २१:०१ वृषभ २१:०१ - २३:१६ मिथुन २३:१६ - २५:३६ कर्क २५:३६ - २७:५३ सिंह २७:५३ - ३०:१० कन्या ३०:१० - ३०:३० तुला *पञ्चक रहित मुहूर्त:* ०६:२९ - ०६:४४ अग्नि पञ्चक ०६:४४ - ०८:३३ शुभ मुहूर्त ०८:३३ - १०:५२ रज पञ्चक १०:५२ - १२:५६ शुभ मुहूर्त १२:५६ - १४:३८ चोर पञ्चक १४:३८ - १६:०५ शुभ मुहूर्त १६:०५ - १७:३० रोग पञ्चक १७:३० - १७:३३ चोर पञ्चक १७:३३ - १९:०६ शुभ मुहूर्त १९:०६ - २१:०१ रोग पञ्चक २१:०१ - २३:१६ शुभ मुहूर्त २३:१६ - २५:३६ मृत्यु पञ्चक २५:३६ - २७:५३ अग्नि पञ्चक २७:५३ - २९:२५ अग्नि पञ्चक २९:२५ - ३०:१० शुभ मुहूर्त ३०:१० - ३०:३० रज पञ्चक *🕉️।।राशिफलम्।।🕉️* 🕉️मेष🐐 (चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ) आज के दिन का अधिकांश भाग आपके लिए कलहकारी रहेगा। आर्थिक स्थिति भी गड़बड़ाने से क्रोध भी अधिक आएगा। संबंधों के प्रति लापरवाह रहेंगे जिससे घर मे अशांति के मामले ज्यादा बढ़ेंगे। पारिवारिक सदस्यो से आज आपके विचार मेल नही खाएंगे। व्यवसायी वर्ग मध्यान बाद तक व्यापार को लेकर परेशान रहेंगे इसके बाद स्थिति में सुधार आएगा परन्तु आपकी छोटि मानसिकता आज औरो को परेशान करेगी। सेहत का भी ध्यान रखें असंयमित दिनचर्या हानि पहुचायेगी। 🕉️वृष🐂 (ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो) आज के दिन परिस्थिति ने सुधार आपके व्यवहार के ऊपर निर्भर करेगा बात बात पर खींज निकालने से पारिवारिक माहौल गर्म हो सकता है। दाम्पत्य जीवन मे तालमेल की कमी रहने से कड़वाहट बढ़ेगी। आर्थिक रूप से भी संध्या बाद ही थोड़ी तसल्ली मिल सकेगी। व्यवसायी वर्ग किसी की सहायता की आस लगाए रहेंगे जिसमे संभवतया निराशा मिलेगी। नौकरी पेशा जातक आज आराम के मूड में अधिक रहने से कार्यो को पूर्ण नही कर सकेंगे। आस-पड़ोसियों से आज विवेकी व्यवहार रखें झड़प हो सकती है। 🕉️मिथुन👫 (का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, हा) आज के दिन आपकी किसी मनोकामना पूर्ति की उम्मीद टूटने से मन दुखी रहेगा। व्यवसायी वर्ग आज पैसो के लेन देन में अत्यंत सावधानी बरतें धन के डूबने अथवा फंसने की सम्भवना है। परिजनों से वैर विरोध की भावना रहने से घर का वातावरण उदासीन रहेगा फिर भी महिलाये शांति बनाने के लिए पहल करेंगी। संध्या बाद का समय थोड़ा राहत प्रदान करेगा धन लाभ के अवसर मिलेंगे लेकिन अहंकार के कारण हाथ से ना निकले इसका ध्यान रखें। 🕉️कर्क🦀 (ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो) आपका आज का दिन मिश्रित फलदायी रहेगा। कार्य क्षेत्र पर लाभ के कई अवसर मिलेंगे परन्तु अन्य कामो में उलझने के कारण इनमे से कुछ एक ही हाथ लग पाएंगे। नौकरी पेशा जातक कामो को जल्दी निपटाने के चक्कर मे कोई बड़ी भूल कर सकते है सतर्क रहें। परिजनों अथवा रिश्तेदारों से आपसी संबंधों में व्यवहारिकता मात्र ही रहेगी स्वार्थवश व्यवहार करेंगे। घर के बड़े लोग आज अकारण ही नाराज हो सकते है। संध्या बाद कोई शुभ समाचार मिलने से मानसिक शांति मिलेगी। धन के लेन देन में स्पष्टता रखें। 🕉️सिंह🦁 (मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे) आज का दिन सामान्य ही रहेगा फिर भी अतिआत्मविश्वास की भावना हानि करा सकती है इसका ध्यान रखे। कार्य क्षेत्र पर थोड़ी तू तू में में होने की सम्भवना है धन को लेकर आज किसी से वैर ना करें भविष्य के लिए हानिकारक रहेगा। आर्थिक उलझने दिन के मध्यान तक परेशान करेंगी इसके बाद आकस्मिक लाभ होने से थोड़ी राहत मिलेगी। परिवार के सदस्यों की फरमाइश पूरी ना होने पर अशांति फैलेगी इसका निराकरण शीघ्र करे। मनोरंजन के अवसर आज मुश्किल से ही मिलेंगे। 🕉️कन्या👩 (टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो) आज के दिन आप किसी इच्छा पूर्ति को लेकर जिद पर अडंगे जिससे परिवार का वातावरण कुछ समय के लिए अशांत बनेगा। व्यवहारिकता स्वभाव में कम रहेगी इसका दुष्परिणाम कार्य क्षेत्र पर देखने को मिलेगा संध्या से पहके सभी आवश्यक कार्यो को पूर्ण कर लें इसके बाद सफलता में संशय रहेगा। विपरीत लिंगीय के प्रति अधिक भावुकता आर्थिक हानि कराएगी दिखावे पर फिजूल खर्च हो सकता है। व्यवसायी एवं नौकरी पेशा जातक मनोरंजन की योजना बनाएंगे। धन का निवेश अथवा उधारी आज ना करें। 🕉️तुला⚖️ (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते) आज के दिन आप लक्ष्य बनाकर कार्य करें अन्यथा मूल उद्देश्य से भटक सकते है दिन लाभदायी है इसका सदउपयोग करें। बेरोजगार लोग थोड़ा अधिक प्रयास करें तो सफलता अवश्य मिलेगी। सरकारी अथवा अन्य महत्त्वपूर्ण कार्य संध्या से पहले पूर्ण करने का प्रयास करें इसके बाद हानि हो होगी। दूर प्रदेश से आज नए संबंध जुड़ेंगे परन्तु इनसे आर्थिक लाभ की आशा ना रखें। समाज के वरिष्ठ व्यक्ति का व्यवहार कुछ देर के लिए परेशानी में डालेगा। मित्र परिचितों के साथ पिकनिक पार्टी की योजना बनेगी। 🕉️वृश्चिक🦂 (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू) आज के दिन कुछ प्रतिकूल परिस्थितियां बनेगी लेकिन धार्मिक प्रवृत्ति एवं पूर्व संचित पूण्य इससे बाहर निकालने में।सहायता करेंगे। दिन के आरंभ में बौद्विक परिश्रम करना पड़ेगा इसका लाभ सम्मान के रूप में अवश्य मिलेगा। आर्थिक रूप से आज का दिन सामान्य रहेगा अधिकांश कार्यो में केवल आश्वासन से ही काम चलाना पड़ेगा। सेहत का भी आज ध्यान रखें पेट खराब होने से अन्य शारीरिक अंगों में शिथिलता आएगी। पारिवारिक वातावरण तालमेल की कमी के कारण बिखर सकता है। 🕉️धनु🏹 (ये, यो, भा, भी, भू, ध, फा, ढा, भे) आपके लिए आज का दिन लाभदायी तो रहेगा परन्तु लाभ कमाने के चक्कर मे आज शरीर की अनदेखी करना आगे भारी पड़ सकता है। कुछ दिनों से जिस वस्तु की कामना कर रहे थे आज उसकी प्राप्ति होने से मन प्रफुल्लित रहेगा। आज धन लाभ के साथ साथ खर्च में भी बढ़ोतरी होगी फिर भी आर्थिक संतुलन बना रहेगा। भाई बंधुओ का साथ मिलने से शत्रुओं पर आसानी से विजय पा लेंगे लेकिन आज घर का ही कोई सदस्य आपके भेदों को सार्वजनिक कर सकता है सतर्क रहें। 🕉️मकर🐊 (भो, जा, जी, खी, खू, खा, खो, गा, गी) आपका आज का दिन मिलाजुला रहेगा दिन का आरंभिक भाग शुभ समाचारो की प्राप्ति कराएगा मध्यान के समय व्यावसायिक अथवा अन्य कार्यो में व्यस्त रहेंगे इसका परिणाम सांध्य के आस-पास ही मिल सकेगा लाभ आज आशा के अनुरूप ही रहेगा। आवश्यक कार्य आज ही पूरा कर लें इसके बाद व्यवधान आने लगेंगे। नौकरी पेशा जातक अधिकारियों से नाराज होंगे। संध्या के समय रमणीक स्थानों की यात्रा की योजना बनेगी। घर मे आज झगड़ा हो सकता है। 🕉️कुंभ🍯 (गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा) आज के दिन आप बड़ी-बड़ी योजनाए बनाएंगे लेकिन इनको साकार रूप देने में असफल रहेंगे फिर भी आर्थिक दृष्टिकोण से आज का दिन आशा के अनुरूप ही रहेगा। धन लाभ रुक-रुक कर परन्तु प्रचुर मात्रा में होगा जिससे अपनी सभी आवश्यकताओं की पूर्ति आसानी से कर सकेंगे। फिजूल के खर्च भी मध्यान के बाद अकस्मात ही बढ़ेंगे इनकी परवाह आज नही करेंगे। परिजन आज आपसे प्रसन्न रहेंगे लेकिन पति-पत्नि ने मामूली नोक-झोंक हो सकती है। संध्या के समय थकान ज्यादा रहेगी। 🕉️मीन🐳 (दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची) आज का दिन आपको अधिकांश कार्यो में सफलता दिलाएगा। लेकिन धन संबंधित कार्य देखभाल कर ही करें। कार्य व्यवसाय से आज कम परिश्रम में ही अधिक लाभ अर्जित कर सकेंगे। प्रतिस्पर्धी स्वतः ही अपनी हार मान लेंगे जिससे लाभ के अवसर बढ़ेंगे। सेहत भी अनुकूल रहने से हर प्रकार की परिस्थितियों में काम कर लेंगे। जो लोग अबतक आपके विपरीत चल रहे थे वो भी आपका सहयोग एवं प्रशंशा करेंगे फिर भी आकस्मिक वाद-विवाद के प्रसंग बनेंगे इससे बच कर रहें। घर मे थोड़ी उग्रता रहने पर भी प्रेम बना रहेगा। *🕉️।।जय माता दी।।🕉️*

+17 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 21 शेयर

*🕉।।जय श्री राम।।🕉* *🕉️।।अथ पंचागम्।।🕉️* *🕉️।।रविवार, २० अक्टूबर २०१९।।🕉️* सूर्योदय: 🌄 ०६:२८ सूर्यास्त: 🌅 ०५:४३ चन्द्रोदय: 🌝 २२:४६ चन्द्रास्त: 🌜१२:०८ अयन 🌕 दक्षिणायने (दक्षिणगोलीय) ऋतु: 💨 शरद शक सम्वत: 👉 १९४१ (विकारी) विक्रम सम्वत: 👉 २०७६ (परिधावी) मास 👉 कार्तिक पक्ष 👉 कृष्ण तिथि: 👉 षष्ठी (०७:३० तक) नक्षत्र: 👉 आर्द्रा (१७:५३ तक) योग: 👉 शिव (२४:३३ तक) प्रथम करण: 👉 वणिज (०७:३० तक) द्वितीय करण: 👉 विष्टि (१९:११ तक) *॥गोचर ग्रहा:॥* सूर्य 🌟 तुला चंद्र 🌟 मिथुन मंगल 🌟 कन्या (अस्त, पश्चिम) बुध 🌟 तुला (मार्गी, उदित, पूर्व) गुरु 🌟 वृश्चिक (उदित, मार्गी) शुक्र 🌟 तुला (उदित, पश्चिम) शनि 🌟 धनु (उदित, पूर्व, मार्गी) राहु 🌟 मिथुन केतु 🌟 धनु *शुभाशुभ मुहूर्त विचार* अभिजित मुहूर्त: 👉 ११:४३ से १२:२८ अमृत काल: 👉 ०७:४८ से ०९:२५ होमाहुति: 👉 गुरु अग्निवास: 👉 पृथ्वी भद्रावास: 👉 स्वर्गलोक ०७:३० से १९:११ दिशा शूल: 👉 पश्चिम चन्द्र वास: 👉 पश्चिम दुर्मुहूर्त: 👉 १६:१३ से १६:५८ राहुकाल: 👉 १६:१९ से १७:४३ राहु काल वास: 👉 उत्तर यमगण्ड: 👉 १२:०६ से १३:३० *चौघड़िया विचार* ॥ दिन का चौघड़िया ॥ १ - उद्वेग २ - चर ३ - लाभ ४ - अमृत ५ - काल ६ - शुभ ७ - रोग ८ - उद्वेग ॥रात्रि का चौघड़िया॥ १ - शुभ २ - अमृत ३ - चर ४ - रोग ५ - काल ६ - लाभ ७ - उद्वेग ८ - शुभ नोट-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। *शुभ यात्रा दिशा* उत्तर-पश्चिम (पान का सेवन कर यात्रा करें) *आज जन्मे शिशुओं का नामकरण* आज १७:५३ तक जन्मे शिशुओ का नाम आर्द्रा नक्षत्र के तृतीय, चतुर्थ चरण अनुसार क्रमशः (ङ, छ) तथा इसके बाद जन्मे शिशुओं का नाम पुनर्वसु नक्षत्र के प्रथम, द्वितीय, तृतीय चरण अनुसार क्रमशः (के, को, ह) नामाक्षर से रखना शास्त्र सम्मत है। *उदय-लग्न मुहूर्त:* ०६:२८ - ०८:३७ तुला ०८:३७ - १०:५६ वृश्चिक १०:५६ - १३:०० धनु १३:०० - १४:४२ मकर १४:४२ - १६:०९ कुम्भ १६:०९ - १७:३४ मीन १७:३४ - १९:०९ मेष १९:०९ - २१:०५ वृषभ २१:०५ - २३:२० मिथुन २३:२० - २५:४० कर्क २५:४० - २७:५७ सिंह २७:५७ - ३०:१४ कन्या ३०:१४ - ३०:२९ तुला *पञ्चक रहित मुहूर्त:* ०६:२८ - ०७:३० रोग पञ्चक ०७:३० - ०८:३७ शुभ मुहूर्त ०८:३७ - १०:५६ मृत्यु पञ्चक १०:५६ - १३:०० अग्नि पञ्चक १३:०० - १४:४२ शुभ मुहूर्त १४:४२ - १६:०९ रज पञ्चक १६:०९ - १७:३४ शुभ मुहूर्त १७:३४ - १७:५३ शुभ मुहूर्त १७:५३ - १९:०९ रज पञ्चक १९:०९ - २१:०५ शुभ मुहूर्त २१:०५ - २३:२० चोर पञ्चक २३:२० - २५:४० शुभ मुहूर्त २५:४० - २७:५७ रोग पञ्चक २७:५७ - ३०:१४ शुभ मुहूर्त ३०:१४ - ३०:२९ मृत्यु पञ्चक *🕉️।।राशिफलम्।।🕉️* 🕉️मेष🐐 (चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ) आज का दिन आपको शुभ फल प्रदान करने वाला रहेगा मध्यान तक किसी भी कार्य अथवा निर्णय लेने से पहले भविष्य में मिलने वाले परिणाम को देखकर ही कार्य करे सफलता की संभावना बढ़ेगी।दोपहर के बाद पूर्व में किये गए परिश्रम एवं प्रयास आज फलीभूत होंगे धन लाभ असमय होने से अधिक सतर्क रहना पड़ेगा। आकस्मिक यात्रा के कारण कार्य व्यवसाय में ठीक से समय नही दे पाएंगे फिर भी सहकर्मी एवं अधीनस्थों के सहयोग से काम चलता रहेगा। अधिकारी वर्ग आज मेहरबान रहेगा। अभीष्ट सिद्धि के योग है अतिआत्मविश्वाश से बचें। भावनाओ में बहकर सामर्थ्य से अधिक खर्च करेंगे बाद में पछताना ना पड़े इसका भी ध्यान रहे। सेहत संध्या बाद थोड़ी प्रतिकूल रहेगी। 🕉️वृष🐂 (ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो) आज का दिन आपको मिला-जुला फल प्रदान करेगा। दिन के आरम्भ में कई लाभ के अवसर आएंगे। परंतु अनिर्णय की स्थिति के कारण इनका समय पर लाभ नहीं ले पाएंगे। नौकरी अथवा स्थान परिवर्तन के भी योग है। आज कोई भी निर्णय जल्दबाजी में ना ले अन्यथा बाद में पछताना पड़ेगा। महिला वर्ग विशेष कर स्थिति को भापकर ही कुछ बोले बेतुकी बातो से आस पास का वातावरण खराब हो सकता है। नौकरी पेशाओ को आज भाग्य में कुछ कमी अनुभव होगी लापरवाही में कार्य करने पर अधिकारियो से बहस होगी। सरकारी कार्यो में विघ्न आएंगे आज ना ही करें। परिजनों का सहयोग केवल स्वार्थी के लिये ही मिलेगा। सेहत में कुछ न कुछ कमी लगी रहेगी। 🕉️मिथुन👫 (का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, हा) आज का दिन आपके लिए कई नए अवसर लाएगा लेकिन भाग्य भरोसे बैठने की स्थिति में परिणाम विपरीत भी हो सकते है मेहनत करने में आज कसर ना छोड़े बेरोजगारों को रोजगार की उम्मीद जगेगी व्यवसायी वर्ग को अतिरिक्त आय होने की संभावना अधिक है। किसी निकटस्थ के सहयोग से भाग्योदय होगा। नौकरी पेशा जातको को परिश्रम का उचित लाभ मिलेगा अधिकारी वर्ग आप के ऊपर विश्वास करेंगे। संध्या बाद उपहार सम्मान का लाभ मिलेगा मित्रों के साथ रमणीक स्थल पर घूमने का अवसर मिलेगा लेकिन आज बाहर की अपेक्षा घर मे थोड़ी खटपट रहने पर भी अधिक सुरक्षित अनुभव करेंगे। फिजूल खर्ची से बचें। 🕉️कर्क🦀 (ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो) आज दिन का आधा भाग आपके लिए विपरीत फलदायक रहेगा। आज मन दुविधा में रहने से निर्णय लेने की क्षमता न्यून रहेगी जिस कार्य को करने का प्रयास करें उसी में विलंब होगा आरम्भ होने के बाद भी सफलता संदिग्ध रहने के कारण उत्साह से काम नही कर पाएंगे। कार्य क्षेत्र एवं घर मे किसी न किसी बात पर तकरार की स्थिति बनेगी कुछ भी बोलने से पहले एक बार विचार अवश्य करें। किसी भी बड़े कार्य को करने से पहले अनुभवियों की सलाह लेना हितकर रहेगा। भावनाओ में बहकर अनुचित कार्य से बचे। मध्यान से बुद्धि विवेक विकसित होगा अपने व्यवहार की ग्लानि होने पर परिजनों से स्नेहपूर्ण सम्बन्ध बनेंगे। आध्यात्म का सहारा लें। 🕉️सिंह🦁 (मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे) आज का दिन आपके लिए मिश्रित फलदायक रहेगा। प्रातःकाल से ही किसी न किसी पारिवारिक अथवा सामाजिक कार्यो में व्यस्त रहने से कार्य क्षेत्र पर कम योगदान दे पाएंगे। नौकरी पेशा जातको को आज परिश्रम का उचित फल पाने के लिये अधिक मेहनत और नाराजगी का सामना करना पड़ेगा लेकिन पूर्व और आज मध्यान तक कि गई मेहनत का फल संध्या बाद से देखने को मिलेगा असंभव कार्य भी सम्भव होते प्रतीत होंगे। धन लाभ होने के साथ ही खर्च भी तुरंत हो जाएगा। मध्यान पश्चात मित्र-परिचितों के साथ मनोरंजन में समय व्यतीत करेंगे। व्यर्थ का धन खर्च अधिक होगा। 🕉️कन्या👩 (टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो) आज का दिन भी आपके लिये शुभ रहेगा। व्यावसायिक क्षेत्र पर आज विविध क्षेत्रों से लाभ के अवसर मिलेंगे लेकिन लापरवाही के चलते सफलता कुछएक में ही मिल पाएगी। सामाजिक व्यवहारों के लिये दिनचार्य में बदलाव करना पड़ेगा मित्र परिचितों के आयोजनों में योगदान देंगे। नौकरी पेशा जातको को आज थोडा अधिक परिश्रम करना पड़ेगा इसका उचित लाभ भी मिलेगा लेकिन इंतजार के बाद ही। पारिवारिक आवश्यकताओ की पूर्ति पर खर्च करेंगे। थोड़ी नौक झोंक के बाद दाम्पत्य जीवन का सुख मिलेगा। छोटी यात्रा के योग भी है जो केवल खर्चीली ही रहेगी। कुछ समय के मानसिक तनाव को छोड़ सेहत ठीक रहेगी। 🕉️तुला⚖️ (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते) आज का दिन आपके लिए मिश्रित फलदायक रहेगा। दिन के पूर्वार्ध में स्वभाव में जल्दबाजी रहने से कोई गलती होने की संभावना है। धैर्य से काम करें अन्यथा बाद में अपनी गलती का गुस्सा किसी और पर उतार कर अशांति फैलाएंगे। कार्य क्षेत्र पर जिस कार्य मे अधिक परिश्रम करेंगे उसकी जगह किसी अन्य मार्ग से धन लाभ होने पर अचंभित होंगे। मध्यान बाद का समय अशांति वाला रहेगा किसी पडोसी अथवा स्वजन से अहम् को लेकर टकराव की स्थिति बनेगी। कार्य स्थल पर भी उधारी वाले परेशान करेंगे किसी का आर्थिक सहयोग मिलने से समस्या कुछ कम होगी। बुजुर्गो का सहयोग मार्गदर्शन मिलेगा। शुभ आयोजनों में सम्मिलित होंगे। 🕉️वृश्चिक🦂 (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू) आज के दिन का पहला हिस्सा आपके लिए उतार चढ़ाव वाला रहेगा। सेहत में थोड़ी नरमी रहेगी। रुके हुए काम पूर्ण करने में अधिक संघर्ष करना पड़ेगा सहयोग की कमी रहने से मामूली कार्य भी पहाड़ जैसा लगेगा फिर भी मेहनत से पीछे ना हटे मध्यान बाद से परिस्थिति अनुकूल बनने लगेगी लेकिन मन मे चंचलता भी आने से निर्णय लेने में परेशानी होगी फिर भी मानसिक रूप से राहत मिलेगी। धन का निवेश आज भूलकर भी ना करें लंबी यात्रा से बचे हानि हो सकती है। स्वभाव में नरमी आने से परिजनों से सम्बन्ध मधुर होंगे लेकिन प्रेम प्रसंगों से मान हानि होगी। उलझनों से स्वयं को दूर रख आज शांति से समय बिताए। 🕉️धनु🏹 (ये, यो, भा, भी, भू, ध, फा, ढा, भे) आज का दिन आपको मिला जुला फल देगा। दिन के आरंभ से मध्यान तक स्वभाव को नरम रखे अन्यथा पूर्व में बनाये व्यवहार खराब हो सकते है। मध्यान तक सार्वजनिक व्यवहारों से लाभ के अवसर मिलेंगे कार्य क्षेत्र पर मेहनत के अनुसार लाभ मिलेगा धन लाभ आवश्यकता अनुसार होने पर भी संतोष नही होगा। दोपहर बाद आपकी आलसी प्रवृति के कारण किसी महत्त्वपूर्ण कार्य अनुबंध के आज हाथ आते आते निकलने की संभावना है। शारीरिक एवं मानसिक विकारों के कारण बेचैनी रहेगी। किसी मित्र का सहयोग मिलने से लाभ होगा। भविष्य के लिये आज निवेश करने से बचें। 🕉️मकर🐊 (भो, जा, जी, खी, खू, खा, खो, गा, गी) आज का दिन आपके लिए लाभदायक रहेगा। पूर्व में किये परिश्रम का आज फल धन लाभ अथवा किसी न किसी रूप में अवश्यके मिलेगा। पुराने धन की उगाही के लिए आज का दिन शुभ है देनदारी को भी तुरंत निपटाने के प्रयास करें अथवा कहा सुनी हो सकती है। व्यवसाय में अतिरिक्त आय होने से आय के मार्ग बनेंगे लेकिन खर्च भी आज अनियंत्रित रहने के कारण बचत नही कर पाएंगे। सरकारी कार्यो में आज विलम्ब होगा इसलिये ज्यादा समय व्यर्थ ना करें। सगे संबंधियों के मांगलिक आयोजन में सम्मिलित होंगे। दिखावे की मानसिकता से बचे बाद में परेशानी होगी। सेहत अधिक थकान होने से नरम होगी। 🕉️कुंभ🍯 (गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा) बीते दिन की तुलना में आज का दिन राहत वाला रहेगा परन्तु स्वभाव में थोड़ी गरमी आज भी बनी रहेगी लोग आपसे बात करने में झिझकेंगे। सेहत के दृष्टिकोण से आज का दिन शुभ रहेगा बीमारियों से निजात मिलेगी लेकिन थोड़ा बहुत आलस्य बना रहेगा। कार्य क्षेत्र पर आज पूरा ध्यान देंगे थोड़े परिश्रम से नए अनुबंध मिल सकते है मध्यान के बाद जहां से उम्मीद नही होगी वहां से आकस्मिक लाभ होगा। महिला मित्र से सम्बन्ध प्रगाढ़ होंगे फिर भी मर्यादा बनाये रखें संध्या के बाद का समय रिश्तेदारी अथवा परिवारिक मांगलिक आयोजन में व्यस्त रहेंगे। वाहन चलाने में सावधानी बरतें चोटादि का भय है। 🕉️मीन🐳 (दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची) आज का दिन आपके लिए विषम फलदायी रहेगा। मध्यान तक का समय किसी कार्य को लेकर असमंजस में खराब होगा लेकिन आज आप जो भी निर्णय लेंगे निकट भविष्य में उसका सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेगा। कार्य क्षेत्र पर लाभ हानि की परवाह किये बिना लेदेकर काम करेंगे। मध्यान बाद परिस्थिति बदलने से कार्यो में विलम्ब एवं असफलता मिलने से मानसिक चिंता के कारण परेशान रहेंगे सेहत में भी बदलाव आने से उत्साह घटेगा। खर्चे यथावत रहने से धन की कमी अनुभव होगी। छोटी यात्रा पर जा सकते है। आकस्मिक दुर्घटना अथवा बीमारी पर खर्च होगा। पारिवारिक वातावरण अशान्त रहेगा। *🕉️।।जय माता दी।।🕉️*

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर

🌳🌳छत्रवन🌳🌳 - जहाँ श्री राधा जी बनी ब्रजेश्वरी मथुरा दिल्ली राजमार्ग पर मथुरा से लगभग 20 मील उत्तर-पश्चिम तथा पयगाँव से चार मील दक्षिण-पश्चिम में अवस्थित है.छत्रवन का वर्तमान नाम 'छाता' है. गाँव के उत्तर-पूर्व कोने में सूर्यकुण्ड, दक्षिण-पश्चिम कोण में चन्द्रकुण्ड स्थित है.चन्द्रकुण्ड के तट पर दाऊजी का मन्दिर विराजमान है. जहाँ सखाओ ने श्री कृष्ण को बनाया ब्रज का छत्रपति यहीं पर श्रीदाम आदि सखाओं ने श्रीकृष्ण को सिंहासन पर बैठाकर ब्रज का छत्रपति महाराजा बनाकर एक अभूतपूर्व लीला अभिनय का कौतुक रचा था. 'श्रीबलरामजी' कृष्ण के बाएं बैठकर मन्त्री का कार्य करने लगे. 'श्रीदाम' ने कृष्ण के सिर के ऊपर छत्र धारण किया, 'अर्जुन' चामर ढुलाने लगे, 'मधुमंगल' सामने बैठकर विदूषक का कार्य करने लगे, 'सुबल' ताम्बूल बीटिका देने लगे, तथा 'सुबाहु' और 'विशाल' आदि कुछ सखा प्रजा का अभिनय करने लगे. छत्रपति महाराज कृष्ण ने मधुमंगल के माध्यम से सर्वत्र घोषणा करवा दी कि-महाराज छत्रपति नन्दकुमार- यहाँ के एकछत्र राजा हैं. यहाँ अन्य किसी का अधिकार नहीं हैं. गोपियाँ प्रतिदिन मेरे इस बाग़ को नष्ट करती हैं, अत: वे सभी दण्डनीय हैं. इस प्रकार श्रीकृष्ण ने सखाओं के साथ यह अभिनय लीला कौतुकी क्रीड़ा की थी.इसलिए इस गाँव का नाम "छत्रवन या छाता" हुआ. जहाँ श्री राधारानी जी बनी ब्रजेश्वरी उमराव - छत्रवन से लगभग चार-पाँच मील पूर्व दिशा में उमराओ गाँव अवस्थित है. श्रीकृष्ण की दुहाई सुनकर सखियों ने ललिता के पास कृष्ण के विरुद्ध शिकायत की. ललिताजी ने क्रोधित होकर कहा - ऐसा कौन है? जो राधिका के राज्य को अपने अधिकार में कर सकता है. हम इसका प्रतिकार करेंगी. ऐसा कहकर राधिकाजी को एक सुन्दर सिंहासन पर पधारकर "उमराव" होने की घोषणा की. उमराओ का तात्पर्य राज्य के "अधिपति" से है. 'चित्रा सखी' ने उनके सिर पर छत्र धारण किया, 'विशाखा' चामर ढुलाने लगी, 'ललिता' जी राधिका के बाँए बैठकर मन्त्री का कार्य करने लगी. कोई सखी उन्हें पान का बीड़ा देने लगी तथा अवशिष्ट सखियाँ प्रजा का अभिनय करने लगीं. राधिकाजी ने सिंहासन पर बैठकर सखियों को आदेश दिया- जाओ, जो मेरे राज्य पर अधिकार करना चाहता है, उसे पराजित कर तथा बाँधकर मेरे सामने उपस्थित करो. उमराव का आदेश पाकर सहस्त्र-सहस्त्र सखियों ने हाथों में पुष्प छड़ी लेकर युद्ध के लिए यात्रा की. अर्जुन, लवंग, भृंग, कोकिल, सुबल और मधुमंगल उन्हें देखकर इधर-उधर भागने लगे, परन्तु किसी चतुर सखी ने मधुमंगल को पकड़ लिया और उसे पुष्प माला द्वारा बाँधकर उमराव के चरणों में उपस्थित किया तथा कुछ गोपियाँ मधुमंगल को दो- चार गंल्चे भी जड़कर बोलीं- हमारे उमराव के राज्य पर अधिकार करने का इतना साहस? अभी हम तुम्हें दण्ड देती हैं. मधुमंगल पराजित सेनापति की भाँति सिर नीचे कर कहने लगा- ठीक है! हम पराजित हैं, किन्तु दण्ड ऐसा दो कि हमारा पेट भरे. ऐसा सुनकर महारानी राधिका हँसकर बोली- यह कोई पेटू ब्राह्मण है, इसे मुक्त कर दो. सखियों ने उसे पेटभर लड्डू खिलाकर छोड़ दिया. मधुमंगल लौटकर छत्रपति महाराजा कृष्ण को अपने बँध जाने का विवरण सुनाकर रोने का अभिनय करने लगा. ऐसा सुनकर कृष्ण ने मधुमंगल और सखाओं को लेकर उमराओ के ऊपर आक्रमण कर दिया. जब राधिका ने अपने प्राण वल्लभ श्रीकृष्ण को देखा तब बड़ी लज्जित होकर अपने उमराव वेश को दूर करने के लिए चेष्टा करने लगीं. सखियाँ हँसती हुई उन्हें ऐसा करने से रोकने लगीं. मधुमंगल ने छत्रपति बने हुए श्रीकृष्ण को उमराव राधिका के दक्षिण में बैठा दिया. दोनों में संधि हुई तथा कृष्ण ने राधिकाजी का आधिपत्य स्वीकार किया. मधुमंगल ने राधिका के प्रति हाथ जोड़कर कहा- कृष्ण का अंगरूपी राज्य अब तुम्हारे अधिकार में हैं. अब जो चाहो इनसे भेंट ग्रहण कर सकती हो. सारी सखियाँ और सखा इस अभिनय क्रीड़ा-विलास को देखकर बड़े आनन्दित हुये. उमराव लीला के कारण इस गाँव का नाम उमराओ है.यह स्थान राधास्थली के रूप में भी प्रसिद्ध है. तत्पश्चात पूर्णमासी जी ने यहाँ पर राधिका को ब्रजेश्वरी के रूप में अभिषिक्त किया. यहाँ किशोरी कुण्ड भी है. श्रीलोकनाथ गोस्वामी यहीं पर भजन करते थे. किशोरी कुण्ड से ही श्रीराधाविनोद-विग्रह प्रकट हुए थे. ये श्रीराधाविनोद जी ही लोकनाथ गोस्वामी जी के आराध्यदेव हैं. अब यह श्रीविग्रह जयपुर में विराजमान हैं. उमराओ गाँव के पास ही धनशिंगा गाँव है. धनशिंगा गाँव- उमराओ गाँव के पास ही धनशिंगा गाँव है, धनशिंगा "धनिष्ठा सखी" का गाँव है, धनिष्ठाजी कृष्णपक्षीय सखी है. ये सदैव यशोदा जी के घर में विविध प्रकार सेवाओं में नियुक्त रहती है. विशेषत: दूती का कार्य करती हुई कृष्ण से राधिका जी को मिलाती है. !! जय जय श्री राधे !!

+43 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 3 शेयर

श्री गणेशाय नमः महाराष्ट्र और हरियाणा के चुनावों का लेखा जोखा पं. रविन्द्र शास्त्री लेख 7701803003 भारत के 2 राज्यों हरियाणा और महाराष्ट्र में अक्टूबर 2019 में विधानसभा चुनावों का आज से खत्म हो चुका है। इलेक्शन कमीशन द्वारा जारी किए गए विवरण के अनुसार महाराष्ट्र और हरियाणा के लोग 21 अक्टूबर को 14 वीं विधानसभा के लिए वोट डालेंगे और उसके 3 दिन बाद अर्थात 24 अक्टूबर 2019 को मत-गणना होगी और शाम तक साफ हो जाएगा कि इन दोनों राज्यों में कौन सी पार्टी सत्ता पर काबिज होगी और किसे हार का मुंह देखना पड़ेगा। मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा के अनुसार 288 सदस्यों वाली महाराष्ट्र विधानसभा का कार्यकाल 9 नवंबर को समाप्त हो रहा है और 90 सदस्यों वाली हरियाणा विधानसभा का कार्यकाल 2 नवंबर को समाप्त होने जा रहा है। ऐसे में दोनों ही राज्यों में चुनाव तय समय पर होंगे। 2014 के महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों में कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा था और भारतीय जनता पार्टी अपने सहयोगी दल शिवसेना के साथ सत्ता में आई थी और भारतीय जनता पार्टी के देवेंद्र फडणवीस मुख्यमंत्री बने। इस वर्ष महाराष्ट्र में कांग्रेस ने शरद पवार के नेतृत्व वाली नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी यानि कि एन सी पी से गठजोड़ किया है। ग़ौरतलब है कि शरद पवार पर ईडी का शिकंजा कसता जा रहा है। यदि हरियाणा की बात की जाए तो वहां भी भारतीय जनता पार्टी ने पिछली बार सरकार बनाई थी और कांग्रेस और ओमप्रकाश चौटाला के नेतृत्व वाली आईएनएलडी को घेरने का पूरा प्रयास किया। वर्तमान समय में बीजेपी के मनोहर लाल खट्टर हरियाणा के मुख्यमंत्री हैं। पंजाब के चुनावों में बीजेपी का साथ देने वाली प्रकाश सिंह बादल की अकाली दल ने अपने दम पर अकेले चुनाव लड़ने का फैसला लिया है। इस बार के विधान सभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी एक प्रबल दावेदार के रूप में तैयार हैं और विपक्ष विभिन्न प्रकार के खेमों में बंटा हुआ नजर आ रहा है। इन चुनावों में अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली आम आदमी पार्टी अपने हाथ आजमाने की बात कह चुकी है। ऐसे में मुकाबला काफी दिलचस्प होगा क्योंकि जहां बीजेपी की साख दाँव पर होगी और वह सभी सीटों को कब्ज़ाने का प्रयास करेगी वहीं विभिन्न भागों में बँटा हुआ विपक्ष क्या एकजुट होकर उसे चुनौती दे पाएगा। इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए हमने यह जानने का प्रयास किया कि आगामी विधानसभा चुनावों में किस पार्टी के सिर जीत का सेहरा सजेगा और किसे हार का मुंह देखना पड़ेगा। इसके लिए हमने वैदिक ज्योतिष का सहारा लिया है और ग्रहों और नक्षत्रों के आधार पर कुछ बातें काफी दिलचस्प तरीके से हमारे सामने आई हैं, जिन्हें हम यहां व्यक्त करने जा रहे हैं: अक्टूबर के महीने में ग्रहों का गोचर 4 अक्टूबर को शुक्र तुला राशि में प्रवेश कर चुका है जोकि इसकी अपनी राशि है और इसके बाद 18 अक्टूबर को सूर्य भी तुला राशि में ही प्रवेश किया है। जोकि नीच में है। बुध महीने की शुरूआत से ही इस राशि में विराजमान रहेगा और 23 अक्टूबर को वृश्चिक राशि में प्रवेश कर जाएगा। इसी राशि में शुक्र का गोचर 28 अक्टूबर को होगा। आइए अब वैदिक ज्योतिष के अनुसार मुख्य पार्टियों भाजपा और कांग्रेस की कुंडलियों का अध्ययन करते हैं और डालते हैं ग्रहों के प्रभाव पर एक नजर: भारतीय जनता पार्टी (6-4-1980: 11:40:00: नई दिल्ली) (बीजेपी की कुंडली) मुख्य बिंदु बीजेपी की लग्न राशि मिथुन है और चंद्र राशि वृश्चिक है। मंगल, बृहस्पति और शनि तीनों मुख्य ग्रह वक्री हैं। कुंडली के तीसरे भाव में अर्थात सिंह राशि में राहु, मंगल, बृहस्पति और शनि की युति है। शनि की साढ़ेसाती अंतिम दौर में चल रही है। लग्नेश बुध और केतु की युति नवम भाव में है। चुनाव के दौरान ग्रह दशा: विधानसभा चुनाव अक्टूबर 2019 के दौरान बीजेपी की कुंडली में: चंद्र-मंगल-चंद्र की दशा 9 अक्टूबर2019 तक रहेगी। इसके बाद चंद्र-राहु - राहु की दशा शुरू होगी जो 1 जनवरी 2020 तक चलेगी। चुनाव के दौरान ग्रहों का गोचर: विधानसभा चुनाव अक्टूबर 2019 के दौरान बीजेपी की कुंडली में: शनि का गोचर जन्मकालीन चंद्र से दूसरे भाव में होगा। गुरु बृहस्पति जन्म कालीन चंद्र राशि में ही स्थित होंगे और दूसरे भाव की ओर अग्रसर होंगे। राहु जन्म कालीन चंद्रमा से अष्टम भाव में होगा। मंगल महाराज चंद्र राशि से ग्यारहवें भाव में विराजमान रहकर अपना प्रभाव देंगे। विधान सभा चुनावों में बीजेपी का प्रदर्शन एवं स्थिति जिस समय महाराष्ट्र और हरियाणा में विधानसभा चुनाव होंगे और उनकी गिनती होगी, उस समय बीजेपी की कुंडली में चंद्रमा की महादशा में राहु की अंतर्दशा चल रही होगी। चंद्रमा ज्येष्ठा नक्षत्र में है जो कि गंड मूल नक्षत्र है लेकिन लग्न का स्वामी बुध है जो नवम भाव में बैठकर राजयोग बना रहा है और चंद्रमा उसी चतुर्थ भाव और लग्न के स्वामी बुध के नक्षत्र में है। राहु मघा नक्षत्र में विराजमान हैं जो कि केतु का नक्षत्र है जो कि पुनः नवम भाव में बैठकर राज योग बना रहा है। हालांकि राहु शनि मंगल और बृहस्पति के साथ बैठकर प्रभावित हो रहा है। ऐसी स्थिति में कहा जा सकता है कि यह चुनाव बीजेपी को सत्ता प्राप्ति में सफलता तो दिला सकते हैं। और उनकी सहयोगी पार्टी शिवसेना जहां एक ओर खुले तौर पर उनका साथ देगी वहीं दूसरी ओर अपनी कुछ ऐसी माँगें भी रख सकती है जिससे बीजेपी को कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। चंद्र राशि से दूसरे भाव में गोचर कर रहा शनि और चंद्र राशि में बैठे गुरु बृहस्पति महाराज ऐसी स्थितियां बना रहे हैं जो सत्ता में वापसी की ओर तो संकेत कर रही हैं लेकिन फिर भी कुछ स्थितियों में सावधान रहने की आवश्यकता होगी। ऐसी संभावना है कि भारतीय जनता पार्टी सहयोगी दलों के साथ मिलकर अपनी सरकार बना ले, लेकिन मतदान प्रतिशत में कमी हो सकती है तथा कुछ सीटें पहले के मुकाबले हाथ से निकल सकती हैं। कांग्रेस (02-01-1978: 11:59:00: नई दिल्ली) (कांग्रेस की कुंडली) मुख्य बिंदु कांग्रेस की लग्न राशि मीन और चंद्र राशि कन्या है। शनि, बृहस्पति और मंगल तीनों मुख्य ग्रह वक्री हैं। शुक्र अस्त होकर दशम भाव में सूर्य के साथ धनु राशि में स्थित है। मंगल कर्क राशि (नीच) में पंचम भाव में है। राहु - चंद्र की युति सप्तम भाव में है। चुनाव के दौरान ग्रह दशा विधानसभा चुनाव अक्टूबर 2019 के दौरान कांग्रेस की कुंडली में: बृहस्पति की महादशा में शनि की अंतर्दशा और शुक्र की प्रत्यंतर दशा चल रही होगी जो कि 1 जनवरी 2020 तक रहेगी। चुनाव के दौरान ग्रहों का गोचर: विधानसभा चुनाव अक्टूबर 2019 के दौरान बीजेपी की कुंडली में: शनि का गोचर जन्मकालीन चंद्रमा से चतुर्थ भाव में होगा और यह गोचर जन्म कालीन सूर्य और शुक्र के ऊपर होगा। गुरु बृहस्पति का गोचर जन्म कालीन चंद्र राशि से तीसरे भाव से होगा और वो चौथे भाव की ओर आगे बढ़ रहे होंगे। राहु जन्म कालीन चंद्रमा से दशम भाव में होगा और जन्म कालीन बृहस्पति के ऊपर का। मंगल महाराज चंद्र राशि के ही भाव में विराजमान रहकर अपना प्रभाव देंगे। विधान सभा चुनावों में कांग्रेस का प्रदर्शन एवं स्थिति महाराष्ट्र और हरियाणा के विधानसभा चुनावों के दौरान कांग्रेस पार्टी बृहस्पति की महादशा, शनि की अंतर्दशा और शुक्र की प्रत्यंतर दशा से गुज़र रही होगी। बृहस्पति कुंडली के लग्न और दशम भाव के स्वामी होकर चतुर्थ भाव में विराजमान हैं और दशम भाव को पूर्ण दृष्टि से देख रहें हैं। शनि देव भी ग्यारहवें और बारहवें भाव के स्वामी होकर छठे भाव में बैठे हैं तथा शुक्र महाराज तीसरे और आठवें भाव के स्वामी होकर दशम भाव में विराजमान हैं। देव गुरु बृहस्पति मंगल के नक्षत्र में है जो कि कुंडली में नवम भाव का स्वामी होकर पंचम भाव में नीच राशि में विराजमान है और शनि महाराज केतु के नक्षत्र में है जो कि लग्न में है तथा शुक्र देव अस्त अवस्था में केतु के ही नक्षत्र में विराजमान हैं। शनि का गोचर जन्म राशि से चतुर्थ भाव में होने के कारण ऐसी संभावना बन रही है कि कांग्रेस अपनी जोड़-तोड़ की नीति का कुछ लाभ उठाने में अवश्य ही सफल हो सकती है, हालांकि सरकार बनाने में उनकी सफलता की संभावना कम ही दिखाई देती है। पार्टी को अंतरकलह का सामना करना पड़ सकता है और अपने ही कुछ नेता पार्टी बदल कर दूसरी पार्टी में शामिल भी हो सकते हैं। जिस प्रकार कांग्रेस ने शरद पवार की एनसीपी से तालमेल बिठाने का प्रयास किया है उससे कुछेक स्थानों पर उन्हें लाभ हो सकता है लेकिन सत्ता प्राप्ति से दूरी रहने की संभावना अधिक दिखाई देती है। क्या कहती है देवेंद्र फडणवीस की कुंडली? महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और बीजेपी-शिव सेना के मुख्य दावेदार देवेंद्र फडणवीस के लिए विधानसभा चुनाव में कई चुनौतियाँ सामने आ सकती हैं। सीटों के बँटवारे के लिए शिवसेना से तालमेल बिठाना इनके लिए सबसे पहली चुनौती होगी। (22-07-1970: 6:00: नागपुर) (देवेंद्र फडणवीस की कुंडली) मुख्य बिंदु इनकी लग्न राशि कर्क और चंद्र राशि कुम्भ है। लग्न में मंगल अपनी नीच राशि में अस्त अवस्था में सूर्य और बुध के साथ बैठा है। शुक्र और केतु की युति द्वितीय भाव में है। देव गुरु बृहस्पति चतुर्थ राशि में विराजमान हैं। राहु और चंद्र की युति अष्टम भाव में है। शनि अपनी नीच राशि मेष में दशम भाव में मौजूद हैं। चुनाव के दौरान ग्रह दशा विधानसभा चुनाव अक्टूबर 2019 के दौरान देवेंद्र फडणवीस की कुंडली में: अक्टूबर के महीने में बुध-बृहस्पति-राहु की दशा चल रही होगी जो 12 अक्टूबर तक चलेगी। इसके बाद बुध-शनि-शनि की दशा प्रारंभ होगी जो 15 मार्च 2020 तक प्रभावी रहेगी। चुनाव के दौरान ग्रहों का गोचर: विधानसभा चुनाव अक्टूबर 2019 के दौरान बीजेपी की कुंडली में: शनि देव जन्मकालीन चंद्र से एकादश भाव में स्थित रहेंगे। गुरु बृहस्पति जन्म कालीन चंद्र राशि से दशम भाव में स्थित होंगे और एकादश भाव की ओर बढ़ेंगे। राहु जन्म कालीन चंद्रमा से पंचम भाव में होगा। मंगल महाराज चंद्र राशि से अष्टम भाव में विराजमान रहेंगे। विधानसभा चुनावों के लिए कुंडली विश्लेषण: श्री देवेंद्र फडणवीस की कुंडली में विधानसभा चुनावों के दौरान और जब चुनाव का परिणाम आएगा उस दौरान बुध की महादशा में शनि की अंतर्दशा शनि की प्रत्यंतर दशा चल रही होगी। इनकी कुंडली में शनि सप्तम और अष्टम भाव का स्वामी होकर दशम भाव में विराजमान है तथा बुध तृतीय और द्वादश भाव का स्वामी होकर लग्न में विराजमान है। जन्म कालीन चंद्र राशि कुंभ से शनि और बृहस्पति का गोचर इन के पक्ष में स्थिति का निर्माण कर रहा है। इन्हें निजी तौर पर अनेक प्रयास करने होंगे और साथ ही साथ अपनी योजनाओं को प्रभावी ढंग से लोगों तक पहुंचाने का प्रयास करना होगा। कुंडली में ग्रहों की दशा के आधार पर कहा जा सकता है कि आने वाली स्थितियां इनके पक्ष में रहेंगी और यह सत्ता बरकरार रख पाने में सफल हो सकते हैं। हालांकि सहयोगी दलों से कुछ समस्याएं बनी रहेंगी और आगामी समय में जब जनवरी में शनि का गोचर बदलेगा तो इनकी साढ़ेसाती की दशा प्रारंभ होगी जो इनके लिए मानसिक तनाव के साथ-साथ विरोधियों को भी जन्म देगी जो संभवत: उनके सहयोगी दलों से संबंधित हो सकते हैं। हरियाणा के वर्तमान मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की जन्म संबंधी पूरी जानकारी ना होने के कारण उनकी कुंडली पर चर्चा कर पाना संभव नहीं है लेकिन नाम के अनुसार सिंह राशि की कुंडली बनती है जिसमें पंचम भाव में शनि देव गोचर कर रहे हैं और चतुर्थ भाव में देव गुरु बृहस्पति। इससे ऐसा ज़रूर प्रतीत होता है कि काफी लोगों उन्हें मुख्यमंत्री के तौर पर नापसंद करते हों, लेकिन केंद्र में बीजेपी की सरकार होने का और केंद्र के निकट का राज्य होने का लाभ उन्हें अवश्य मिलेगा और वे सत्ता में वापस लौट सकते हैं। निष्कर्ष: उपरोक्त व्यक्तियों और पार्टियों की कुंडलियों के अतिरिक्त अन्य कुछ पार्टियों जिनमें आम आदमी पार्टी, महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना, तथा कुछ अन्य प्रमुख पार्टियों और दावेदारों पर ध्यान देते हुए यह निष्कर्ष के तौर पर कहा जा सकता है कि महाराष्ट्र और हरियाणा की वर्तमान सत्तासीन भारतीय जनता पार्टी को विपक्ष के एकजुट ना रहने का अधिक लाभ हो सकता है और वे सत्ता में वापसी कर सकते हैं लेकिन उन्हें कुछ सीटों का नुकसान होने की संभावना रहेगी तथा कुछ परंपरागत सीटें भी उनके हाथ से निकल सकती हैं। उनके वोट प्रतिशत में कमी आने की संभावना हो सकती है हालांकि हरियाणा में विशेष रूप से केंद्र की बीजेपी सरकार का प्रभाव चुनावों में देखने को मिलेगा और हाल ही में भारत की पाकिस्तान के प्रति नीतियों को ध्यान में रखते हुए भी यह कहा जा सकता है कि भारतीय जनता पार्टी सत्ता में वापसी कर सकती है, लेकिन कुछ सीटों का नुकसान उठाना पड़ेगा। कुछ सीटों पर असामान्य रूप से सत्ताधारी पार्टी को हार का सामना करना पड़ सकता है। इसके विपरीत शरद पवार की मुश्किलें अभी और बढ़ सकती हैं तथा कांग्रेस को भी अपनी कमजोर रणनीति की वजह से कोई खास लाभ होता हुआ दिखाई नहीं दे रहा है। पं. रविन्द्र शास्त्री न्यू फ्रेंड्स कालोनी माता का मंदिर न्यू दिल्ली 7701803003 7529934832

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+11 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

*🕉।।जय श्री राम।।🕉* *🕉️।।अथ पंचांगम्।।🕉️* *🕉️।।शनिवार, १९ अक्टूबर २०१९।।🕉️* सूर्योदय: 🌄 ०६:२७ सूर्यास्त: 🌅 ०५:४५ चन्द्रोदय: 🌝 २१:५० चन्द्रास्त: 🌜११:११ अयन 🌕 दक्षिणायने (दक्षिणगोलीय) ऋतु: 💨 शरद शक सम्वत: 👉 १९४१ (विकारी) विक्रम सम्वत: 👉 २०७६ (परिधावी) मास 👉 कार्तिक पक्ष 👉 कृष्ण तिथि: 👉 पञ्चमी (०७:४४ तक) नक्षत्र: 👉 मृगशिरा (१७:४१ तक) योग: 👉 परिघ (२६:११ तक) प्रथम करण: 👉 तैतिल (०७:४४ तक) द्वितीय करण: 👉 गर (१९:४१ तक) *॥गोचर ग्रहा:॥* सूर्य 🌟 तुला चंद्र 🌟 मिथुन मंगल 🌟 कन्या (अस्त, पश्चिम) बुध 🌟 तुला (मार्गी, उदित, पूर्व) गुरु 🌟 वृश्चिक (उदित, मार्गी) शुक्र 🌟 तुला (उदित, पश्चिम) शनि 🌟 धनु (उदित, पूर्व, मार्गी) राहु 🌟 मिथुन केतु 🌟 धनु *शुभाशुभ मुहूर्त विचार* अभिजित मुहूर्त: 👉 ११:४३ से १२:२८ अमृत काल: 👉 ०८:३८ से १०:१७ होमाहुति: 👉 गुरु अग्निवास: 👉 पृथ्वी (०७:४४ तक) दिशा शूल: 👉 पूर्व चन्द्र वास: 👉 पश्चिम दुर्मुहूर्त: 👉 ०६:२८ से ०७:१३ राहुकाल: 👉 ०९:१७ से १०:४१ राहु काल वास: 👉 पूर्व यमगण्ड: 👉 १३:३० से १४:५५ *चौघड़िया विचार* ॥ दिन का चौघड़िया ॥ १ - काल २ - शुभ ३ - रोग ४ - उद्वेग ५ - चर ६ - लाभ ७ - अमृत ८ - काल ॥रात्रि का चौघड़िया॥ १ - लाभ २ - उद्वेग ३ - शुभ ४ - अमृत ५ - चर ६ - रोग ७ - काल ८ - लाभ नोट-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। *शुभ यात्रा दिशा* दक्षिण-पश्चिम (वाय विन्डिंग अथवा तिल मिश्रित चावल का सेवन कर यात्रा करें) *आज जन्मे शिशुओं का नामकरण* आज १७:४१ तक जन्मे शिशुओ का नाम मृगशिरा नक्षत्र के तृतीय, चतुर्थ चरण अनुसार क्रमशः (क, की) तथा इसके बाद जन्मे शिशुओं का नाम आर्द्रा नक्षत्र के प्रथम, द्वितीय, तृतीय चरण अनुसार क्रमशः (कु, घ, ङ) नामाक्षर से रखना शास्त्र सम्मत है। *उदय-लग्न मुहूर्त:* ०६:२८ - ०८:४१ तुला ०८:४१ - ११:०० वृश्चिक ११:०० - १३:०४ धनु १३:०४ - १४:४६ मकर १४:४६ - १६:१३ कुम्भ १६:१३ - १७:३८ मीन १७:३८ - १९:१३ मेष १९:१३ - २१:०९ वृषभ २१:०९ - २३:२४ मिथुन २३:२४ - २५:४४ कर्क २५:४४ - २८:०१ सिंह २८:०१ - ३०:१८ कन्या ३०:१८ - ३०:२८ तुला *पञ्चक रहित मुहूर्त:* ०६:२८ - ०७:४४ शुभ मुहूर्त ०७:४४ - ०८:४१ रज पञ्चक ०८:४१ - ११:०० शुभ मुहूर्त ११:०० - १३:०४ चोर पञ्चक १३:०४ - १४:४६ शुभ मुहूर्त १४:४६ - १६:१३ रोग पञ्चक १६:१३ - १७:३८ शुभ मुहूर्त १७:३८ - १७:४१ शुभ मुहूर्त १७:४१ - १९:१३ रोग पञ्चक १९:१३ - २१:०९ शुभ मुहूर्त २१:०९ - २३:२४ मृत्यु पञ्चक २३:२४ - २५:४४ अग्नि पञ्चक २५:४४ - २८:०१ शुभ मुहूर्त २८:०१ - ३०:१८ रज पञ्चक ३०:१८ - ३०:२८ शुभ मुहूर्त *🕉️।।राशिफलम्।।🕉️* 🕉️मेष🐐 (चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ) आज का दिन भी आपके लिए शुभ बना रहेगा कुछ मामूली उलझनों को छोड़ दैनिक कार्य सामान्य गति से चलते रहेंगे। नौकरी धंधे से अपेक्षित लाभ कमाने के लिए आज किसी के सहयोग की आवश्यकता पड़ेगी लेकिन आपके उदासीन व्यवहार के कारण सहयोग प्राप्त करने में थोड़ा विलंब हो सकता है। व्यवसायी वर्ग दिन के आरंभ में परेशान रहेंगे लेकिन बाद में आर्थिक समस्या का समाधान होने से शांति मिलेगी। पारिवारिक सुख आज सामान्य रहेगा। कुछ समय के लिये शारीरिक स्फूर्ति खत्म जैसी लगेगी दवा लेने पर सामान्य हो सकती है। 🕉️वृष🐂 (ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो) आपका आज का दिन कुछ विशेष नही रहेगा कल की भांति आज अधिक सुविधा नही मिलेगी आज कारोबार अथवा अन्य धन संबंधित कार्य बाधा आने से अटके रहेंगे फिर भी खर्च लायक आमद जोड़ तोड़ करने से हो ही जाएगी। पारिवारिक अथवा अन्य कारणों से यात्रा करनी पड़ेगी। धन खर्च के साथ आकस्मिक दुर्घटना अथवा चोटादि लग्ने का भी भय है सावधानी रखें। स्वभाव में स्वार्थ सिद्धि दिखेगी इस कारण अन्य लोग भी आज आपसे मतलब से ही बात करेंगे। धार्मिक कार्य मे अरुचि रहेगी फिर भी आज के दिन किये गए पूण्य कर्म शीघ्र फलदायी रहेंगे। घर का वातावरण अस्तव्यस्त रहेगा। दिन धैर्य से बिताएं। 🕉️मिथुन👫 (का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, हा) आज का दिन आपके लिए लाभदायी रहेगा लेकिन मन की चंचलता बने बनाये लाभ पर पानी भी फेर सकती है। दिन के आरंभ में कार्यो में सहज सफलता मिलने से अतिआत्मविश्वाश की भावना अन्य कार्यो को बिगाड़ सकती है विवेक से काम लें आज लाभ अवश्य होकर रहेगा। सौंदर्य प्रसाधन अथवा अन्य सुखोपभोग की वस्तुओं पर खर्च करेंगे। विपरीत लिंगीय के प्रति आज आकर्षण अधिक रहने से शीघ्र समर्पण कर देंगे। लघु यात्रा हो सकती है। स्वास्थ्य आज ठीक रहेगा फिर भी चोट आदि से परेशानी हो कि सम्भवना है सतर्क रहें। 🕉️कर्क🦀 (ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो) आज के दिन आप व्यर्थ की बयानबाजी से बचें स्वभाव में भी रूखापन कुछ अधिक ही रहेगा गलती करके भी उद्दंडता दिखाना आज भारी पड़ सकता है। घर एवं बाहर कलह के प्रसंग बनेंगे। आज आप स्वयं तो बेपरवाह रहेंगे परन्तु घर के सदस्य एवं अन्य लोगो को परेशान करेंगे। कार्य क्षेत्र में भी आपकी गलती से आर्थिक नुकसान हो सकता है सहकर्मियों से आज बना कर रहे अन्यथा किसी बड़ी मुश्किल में फंसने की सम्भवना है। आय की अपेक्षा खर्च अधिक होगा। सरकारी एवं अन्य उलझनों वाले कार्य आज टालना ही बेहतर है। 🕉️सिंह🦁 (मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे) आज का दिन आपके अनुकूल रहेगा लेकिन आज आपके बनते कार्यो में कोई ना कोई टांग अवश्य अड़ाएगा इसे अनदेखा कर अपने कार्यो में लगे रहे अगर विरोध किया तो लाभ से वंचित रह जाएंगे। मित्रो खास कर प्रेम प्रसंगों के कारण आज अधिक खर्च होगा फिर भी सुख की प्राप्ति आशानुकूल नही होगी। धन लाभ थोड़े विलम्ब से लेकिन आवश्यकतानुसार हो जाएगा। सार्वजनिक कार्यो में दिखावे के लिए भाग लेंगे फिर भी सम्मान मिलेगा। सेहत में थोड़ा बहुत उतार चढ़ाव रहने पर भी दैनिक कार्य प्रभावित नही होंगे। 🕉️कन्या👩 (टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो) आज आपकी दिनचर्या आडम्बर युक्त अधिक रहेगी। लेकिन आज किसी भी बात को बढ़ा चढ़ा कर पेश करना आपको ही मुश्किल में।डालेगा। सरकार संबंधित कागजी कार्य आज आसानी से पूर्ण हो सकेंगे लेकिन धन खर्च भी होगा। व्यवसाय में ले देकर काम चलाने की प्रवृति शुरू में हानि लेकिन बाद में लाभदायक सिद्ध होगी। आज किसी के मनमाने व्यवहार के कारण तीखी बहस भी हो सकती है जिसमे विजय आपकी ही होगी आपका सामाजिक व्यक्तित्त्व निखरेगा। परिवार के बीच मौन रहने से कई समस्याओं के समाधान स्वतः ही हो जायेगा। प्रतियोगी परीक्षा में सफलता मिलेगी। आरोग्य बना रहेगा। 🕉️तुला⚖️ (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते) आज के दिन आपकी रुचि धर्म-कर्म में अधिक रहेगी फिर भी कोई ना कोई व्यवधान आने से इसके लिए समय कम ही निकाल पाएंगे। आलसी प्रवृति के कारण कार्य क्षेत्र पर आलोचना होगी अधिकारी वर्ग आपकी गलती पकड़ने में लगे रहेंगे सतर्क रहें। आज आपका मन कार्य क्षेत्र पर कम मौज-शौक की ओर ज्यादा भटकेगा। काम वासना भी अधिक रहेगी। व्यर्थ के खर्च भी आज अधिक करेंगे। पारिवारिक वातावरण उथल-पुथल रहने पर भी दिनचर्या सामान्य रूप से चलती रहेगी। तीर्थ यात्रा के प्रसंग बनेंगे। सेहत आज ठीक ठाक ही रहेगी। 🕉️वृश्चिक🦂 (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू) आज के दिन आप किसी कार्य को लेकर कुछ ज्यादा ही मानसिक बोझ लेंगे जिससे सेहत पर बुरा प्रभाव पड़ेगा। सर अथवा शरीर के अन्य अंगों में दर्द की शिकायत रह सकती है। कार्य क्षेत्र पर सामान्य से कम व्यवसाय रहेगा फिर भी बुद्धिबल से कठिन परिस्थिति में भी हार नही मानेंगे धन की आमद आज अकस्मात होने वाली है। सरकारी कार्य आज करने से शीघ्र सफल हो सकते है। घर मे किसी की जिद के कारण माहौल कुछ समय के लिये थोड़ा अस्त व्यस्त बनेगा। बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन मिलेगा। 🕉️धनु🏹 (ये, यो, भा, भी, भू, ध, फा, ढा, भे) आज की परिस्थिति भी आपके लिए अनुकूल बनी रहेगी आज आलस्य ना करें समय का लाभ उठाएं धन लाभ के अच्छे अवसर मिलेंगे। व्यवसाय से अगर चाहे तो मनचाहा लाभ अर्जित किया जा सकता है इसके लिए दृढ़ संकल्प शक्ति की आवश्यकता है। धन लाभ आज हर परिस्थिति में होकर ही रहेगा। शारीरिक रूप से कुछ सुस्ती रहेगी नसों में दुर्बलता रहने से कमजोरी अनुभव करेंगे। पारिवारिक स्थिति में आर्थिक उलझने कम होने से कुछ सुधार आएगा। घर बाहर के लोगो से सम्मान मिलेगा नए संबंध बनेंगे। धर्म मे निष्ठा बढ़ेगी। 🕉️मकर🐊 (भो, जा, जी, खी, खू, खा, खो, गा, गी) आज के दिन आप धन लाभ के साथ ही घरेलू सुख के साधनों में भी वृद्धि कर सकेंगे। भोजन अथवा अन्य खाद्य सामग्री पर खर्च भी करना होगा। मितव्ययता से चलने पर भी कुछ अनावश्यक खर्च परेशान कर सकते है। व्यापार में आज आशा से थोड़ी कम बिक्री रहेगी फिर भी दैनिक खर्च आसानी से निकल जाएंगे। गृहस्थ की जिम्मेदारी में कमी आने से महिलाये राहत में रहेंगी। आज मामूली बात पर क्रोध आएगा इससे बचने का प्रयास करें वार्ना किसी के अपशब्द सुनने पड़ेंगे। मध्यान बाद संताने शुभ समाचार देंगी। 🕉️कुंभ🍯 (गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा) आज के दिन विवेकी व्यवहार अपनाएंगे जिससे व्यर्थ के झगड़ो से बचे रहेंगे। कार्य व्यवसाय में आज कुछ विशेष सफलता नही मिलेगी फिर भी जितना मिले उसी में संतोष का परिचय देंगे। लेकिन परिवार में आज किसी सदस्य की इच्छा पूर्ति ना होने पर वातावरण खराब हो सकता है। नए कार्य की योजना बना रहे है तो अभी रुके वार्ना धन संबंधित उलझनों में फंस सकते है। नौकरी पेशा जातक काम मे ऊबन अनुभव करेंगे। मनोरंजन के अवसर नही मिलने से निराशा बढ़ेगी। संध्या का समय दिन की तुलना में मानसिक रूप से शांति दिलाएगा। सेहत लगभग ठीक ही रहेगी। 🕉️मीन🐳 (दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची) आज का दिन भी आपको प्रतिकूल फल देने वाला है। आज भला करने पर भी बुराई ही मिलेगी गृहस्थ में भी वैर-विरोध अधिक रहने से मानसिक रूप से हताश रहेंगे। कार्य व्यवसाय में आकस्मिक हानि हो सकती है देख परख कर ही कोई कार्य हाथ मे लें। नए अनुबंध और उधारी के व्यवहार से बचें। नौकरी पेशा जातक एवं व्यापारी भी किसी सरकारी उलझन में फंस सकते है। आज लाभ कमाने के लिए स्वभाव में सरलता ही एकमात्र रास्ता है। भाई बंधुओ से कोई मामूली बात निकट भविष्य में गहरा सकती है स्वभाव में अधिक खुलापन आज ठीक नही। फिजूल खर्ची अधिक रहेगी। *🕉️।।जय माता दी।।🕉️*

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 12 शेयर