हमारे तेइसवे तीर्थंकर पार्श्वनाथ स्वामी क्षमा, समता, दया, सहिस्नुता, धेर्य. जैसे महान गुणों से जिनशाशन पर सूर्य के सामान आलोकित हैं, जहाँ उनका जीवन चरित्र सबके लिए प्रेरणादायी हैं, वही वे जिन्धर्मा की परम्परा प्रवाह के आधार स्तब्ध भी हैं, वर्तमान ...

(पूरा पढ़ें)
+142 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 31 शेयर