"ॐ अञ्जनीसुताय विद्महे वायुपुत्राय धीमहि तन्नो मारुतिः प्रचोदयात्। जय श्री राम जय जय राम जय श्री हनुमान जी नमस्कार 🙏 "सपनो के जहाँ से अब लौट आओ, हुई है सुबह अब जाग जाओ, चाँद तारो को अब कह कर अलविदा, इस नये दिन की खुशियों मे खो जाओ!! कुछ रिश्ते मुनाफ़ा नहीं देते पर ज़िन्दगी को अमीर बना देते हैं । सारा जहाँ उसी का है जो मुस्कुराना जानता है रौशनी भी उसी की है जो शमा जलाना जानता है हर जगह मंदिर हैं लेकिन भगवान तो उसी का है जो सर झुकाना जानता हैं ।" नमस्कार शुभ प्रभात 🌅 👣 वंदन 🚩 जय श्री राम 👏 शुभ शनिवार जय जय रघुवीर समर्थ नमस्कार 🙏 जय श्री शनि देव महाराज 👑 जय श्री हनुमान जी 🙏 जय श्री भोलेनाथ ॐ अञ्जनीसुताय विद्महे वायुपुत्राय धीमहि तन्नो मारुतिः प्रचोदयात् नमस्कार 🙏

+60 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 6 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 8 शेयर