*सर्वार्थसंभवो देहो जनित: पोषितो यत: ।*
*न तयोर्याति निर्वेशं पित्रोर्मत्र्य: शतायुषा॥*

भावार्थ - *सौ वर्ष की आयु प्राप्त करके भी माता-पिता के ऋण से उऋण नही हुआ जा सकता । वास्तव में जो शरीर धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष की प्राप्ति का प्रमुख साधन है,...

(पूरा पढ़ें)
+15 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 32 शेयर

💕✍
*_🌿जीवन को इतना शानदार बनाइए,की आपको याद करके किसी निराश व्यक्ति की आखों में भी चमक आ जाए..!!🌿_*
✍🏻... *जब तक साँस है,*
*"टकराव" मिलता रहेगा।*
*जब तक रिश्ते हैं,*
*"घाव" मिलता रहेगा।*
...

(पूरा पढ़ें)
+11 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 26 शेयर

बेहतरीन पंक्तिया.....👌👌👌

नित जीवन के संघर्षों से
जब टूट चुका हो अन्तर्मन....

तब सुख के मिले समन्दर का
रह जाता कोई अर्थ नहीं....

जब फसल सूख कर जल के बिन
तिनका -तिनका बन गिर जाये,

फिर होने वाली वाली वर्षा का
रह जाता कोई अर्थ नहीं ।।

सम्बन्ध ...

(पूरा पढ़ें)
+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 37 शेयर

*राम की तारीफ़ करूँ कैसे,*
*मेरे शब्दों मेँ इतना ज़ोर नहीं,*
*सारी दुनिया में जाकर ढूँढ लेना,*
*मेरे राम जैसा कोई और नहीं!!*
*ह्र्दय से राम सुमिरन किया तो*
*आवाज़ हनुमान तक जाएगी,*
*हनुमानजी ने जो सुन ली हमारी,*
*तो हर बिगड़ी ही बन जाएगी!!*...

(पूरा पढ़ें)
+35 प्रतिक्रिया 21 कॉमेंट्स • 151 शेयर

*कर्मों से डरिये ईश्वर से नहीं... ईश्वर माफ कर देता हैं कर्म नहीं ।*
*अटल सत्य है कि जैसे बछड़ा सौ गायों में अपनी मां को ढूंढ लेता है... उसी प्रकार कर्म अपने कर्ता को ढूंढ ही लेता है... आज नहीं तो कल ।।*

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर

+9 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 9 शेयर