+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

कर्म का फल



एक बार नारदजी भगवन विष्णु के पास पहुचे और बोले , भगवन धरती पर बहुत पाप बढ़ गया है अच्छे लोगों के साथ बुरा और बुरे लोगों के साथ अच्छा हो रहा है ये देख कर मन क्षुब्ध होजाता है. तो भगवन बोले ऐसा क्या होगया.. अगर कोई घटना याद हो तो बताइय...

(पूरा पढ़ें)
+3 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 3 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर

तेरे द्वार खड़ा भगवान हो,
तेरे द्वार खड़ा भगवान,
भगत भर दे रे झोली।।

तेरा होगा बड़ा एहसान,
कि जुग जुग तेरी रहेगी शान,
भगत भर दे रे झोली,
तेरे द्वारे खड़ा भगवान,
भगत भर दे रे झोली,
ओ भगत भर दे रे झोली।।

डोल उठी है सारी धरती देख रे,
डोला गगन है...

(पूरा पढ़ें)
+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर

#सुप्रभात
शुभ प्रभात"
उदय सूर्य हुआ , नभ मंडल में , सब दुनिया मे उजियारा हो ,
मन भाव उठे , संग शब्द सजे , तब मन का दूर अंधियारा हो .

जब गूँज उठे , शंख मंदिर मे , आह्लाद सा अंदर जाग उठे ,
कलरव हो , कँहि दूर गगन , नव संचार सा तन में भाव उठे ,...

(पूरा पढ़ें)
+6 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 6 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर