श्री श्वेत वराह मंदिर

Etah, Uttar Pradesh, India

“प्रपत्ति-बोधिनी”

‘नमामि भक्तमाल को’

‘अभिलाषा पूर्ण करनेवाले भक्त’

श्रीसोम जी

ये बड़े ही समृद्धिशाली संत थे | इनके यहाँ संत-सेवा, कथा-कीर्तन-सत्संग की धूम मची रहती थी | इनके उत्कर्ष को देखकर इनका ही एक गुरुभाई इनसे अत्यंत द्वेष करता था | उसने ...

(पूरा पढ़ें)
Bell Pranam Fruits +11 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 3 शेयर

Like share and subscribe kijiye Radhe sachidanand Thakur ji channel

https://YouTube.be/N1g1YHLENgk

राधा राधा राधा
सुदंर प्रसंग एक बार अवश्य पढ़े श्री राधे
माखन कटोरी
माखन कटोरी वृक्ष की एक प्रकार की प्रजाति को कहा जाता है। भगवान श्रीकृष्ण से माख...

(पूरा पढ़ें)
Jyot Flower Dhoop +30 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 11 शेयर

🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉

*भक्त के वश में है भगवान*

धन्ना जाट ::-

किसी समय एक गांव में भागवत कथा का आयोजन किया गया, एक पंडित जीभागवत कथा सुनाने आए। पूरे सप्ताह कथा वाचन चला। पूर्णाहुति पर दान दक्षिणा की सामग्री इक्ट्ठा कर घोडे पर बैठकर पंडितजी रवा...

(पूरा पढ़ें)
Tulsi Jyot Flower +35 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 59 शेयर

*दुर्गति से बचो*....

*स्वामी श्री रामसुखदास जी महाराज*

जो स्त्री पर-पुरुषका चिन्तन करती रहती है तथा जिसकी पुरुषमें बहुत ज्यादा आसक्ति होती है, वह मरनेके बाद ‘चुड़ैल’बन जाती है । भूत-प्रेतोंका प्रायः यह नियम रहता है कि पुरुष भूत-प्रेत पुरुषोंको ही...

(पूरा पढ़ें)
Like Jyot Flower +14 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 6 शेयर

प्रेरणादायक कहानी

*सबसे महत्वपूर्ण स्वयं को जानना*

*एक था भिखारी ! रेल सफ़र में भीख़ माँगने के दौरान एक सूट बूट पहने सेठ जी उसे दिखे।* *उसने सोचा कि यह व्यक्ति बहुत अमीर लगता है, इससे भीख़ माँगने पर यह मुझे जरूर अच्छे पैसे देगा। वह उस सेठ से भीख़ ...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Jyot Flower +22 प्रतिक्रिया 22 कॉमेंट्स • 13 शेयर

श्यामा नंद प्रभु जी की कथा का विश्राम 🙏
श्री भक्तमाल
4⃣5⃣

श्री श्यामानन्द प्रभु
भाग 1⃣4⃣

एक दिन हठात अम्बिका कालना से संवाद आया कि श्री हृदय चैतन्य का अंतर्धान हो गया। श्री श्यामानन्द विरह सागर में डूब गए। रसिकानन्द जी को निकट बुलाकर कहा- " मु...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Jyot Dhoop +19 प्रतिक्रिया 21 कॉमेंट्स • 4 शेयर

श्री भक्तमाल
4⃣5⃣

श्री श्यामानन्द प्रभु
भाग 1⃣3⃣

घंटाशिला पहुँचकर श्री श्यामानन्द प्रभु की भेंट श्री रसिकमुरारि जी से हुई जो आगे चलकर उनके प्रमुख शिष्य भी हुए । श्री रसिक मुरारी ,उनकी पुत्री देवकी और पत्नी इच्छादेवी जिसका नाम बाद में श्यामदासी ...

(पूरा पढ़ें)
Belpatra Flower Jyot +24 प्रतिक्रिया 17 कॉमेंट्स • 1 शेयर