संक्षिप्त भविष्य पुराण 〰️〰️🌼🌼🌼〰️〰️ ॐ श्री परमात्मने नमः श्री गणेशाय नमः ॐ नमो भगवते वासुदेवाय ★ब्राह्म पर्व★ (बीसवां दिन) पतिव्रता स्त्रियों के कर्तव्य एवं सदाचार का वर्णन, स्त्रियों के लिए गृहस्थ धर्म के उत्तम व्यवहार की आवश्यक बातें... 〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️ गतांक से आगे... ब्रह्माजी बोले- स्त्रियों के त्रिवर्ग प्राप्ति के दो मुख्य उपाय हैं। प्रथम सब प्रकार से पति को प्रसन्न रखना और द्वितीय आचरण की पवित्रता। पति के चित्त के अनुकूल चलने से जैसी प्रीति पति की स्त्री पर होती है वैसे ही प्रीति रूप से यौवन से और अलंकार आदि आभूषणों से नहीं होती क्योंकि प्रायः यह देखा जाता है कि उत्तम रूप और युवावस्था वाली स्त्रियां भी पति के विपरीत आचरण करने से दुर्भाग्य को प्राप्त करती हैं। और अति कुरूप तथा हीन अवस्था वाली स्त्रियां भी पति के चित्त के अनुकूल चलने से उनकी अत्यंत प्रिय हो जाती हैं। इसलिए पति के चित्त का अभिप्राय भली-भांति समझना और उसके अनुकूल आचरण करना यही स्त्रियों के लिए सब सुखों का हेतु है। तथा यही समस्त श्रेष्ठ योग्यताओं का कारण है इसके बिना तो स्त्री के अन्य सभी गुण बन्ध्त्व को प्राप्त हो जाते हैं अर्थात निष्फल हो जाते हैं और अनर्थ के कारण बन जाते हैं। इसलिए स्त्री को अपनी योग्यता सर्वथा बढ़ाते रहना चाहिए। पति के आने का समय जानकर उनके आने के पूर्व ही वह घर को स्वच्छ कर बैठने के लिए उत्तम आसन बिछा दें तथा पतिदेव के आने पर स्वयं अपने हाथ से उनके चरण धोकर उन्हें आसन पर बिठाए और पंखा हाथ में लेकर धीरे-धीरे धुलाये तथा सावधान होकर उनकी आज्ञा प्राप्त करने की प्रतीक्षा करें। यह सब काम दासी आदि से ना करवाएं। पति के स्नान आहार पान आदि में स्पृहा दिखाएं पति के संकेतों को समझकर सावधानीपूर्वक सभी कार्यों को करें और भोजन आदि निवेदित करें। अपने बंधु बांधव तथा पति के बंधुओं और सपत्नी के साथ स्वागत सत्कार पति के अनुसार करें अर्थात जिस पर पति की रुचि ना देखें उससे अधिक शिष्टाचार ना करें। स्त्रियों के लिए सभी अवस्थाओं में स्वकुल की अपेक्षा पतिकुल ही विशेष पूज्य होता है। क्योंकि कोई भी कुलीन पुरुष अपनी कन्या से उपकार की आशा भी नहीं रखता और जो रखता है वह अनुचित ही है। कन्या का विवाह करने के बाद फिर उससे अपनी आजीविका की इच्छा करना यह महात्मा और कुलीन पुरुषों की रीति नहीं है। अतः स्त्री के संबंधियों को चाहिए कि वह केवल मित्रता के लिए प्रीति के लिए ही संबंध बढ़ाने की इच्छा करें और प्रसंगव यथा शक्ति उसे कुछ देते भी रहे। उससे कोई वस्तु लेने की इच्छा ना रखें। कन्या के मायके वालों को कन्या के स्वामी की रक्षा का प्रयत्न करना चाहिए उनके परस्पर प्रीति संबंध की चर्चा सर्वत्र करनी चाहिए और अपनी मिथ्या प्रशंशा नहीं करनी चाहिए। साधु पुरुषों का व्यवहार अपने संबंधियों के प्रति ऐसा ही होता है। जो स्त्री इस प्रकार के सदवृत को भलीभांति जान कर व्यवहार करती है वह पति और उसके बंधु बांधों को अत्यंत मान्य होती है। पति की प्रिय साधु वृत्त वाली तथा संबंधियों में प्रसिद्धि को प्राप्त होने पर भी स्त्री को लोकोपवाद से सर्वथा डरते रहना चाहिए। क्योंकि सीता आदि उत्तम पतिव्रता ओं को भी लोकापवाद के कारण अनेक कष्ट भोगने पड़े थे। भोग्य होने के कारण गुण दोषों का ठीक-ठीक निर्णय न कर पाने से तथा प्राय: अविनयशीलता के कारण स्त्रियों के व्यवहार को समझना अत्यंत दुष्कर है। ठीक प्रकार से दूसरे की मनोवृत्ति को ना समझने के कारण तथा कपट दृष्टि के कारण एवं स्वच्छंद हो जाने से ऐसी बहुत ही कम स्त्रियां हैं जो कलंकित नहीं हो जाती। दैवयोग अथवा कुयोग से या व्यवहार की अनभिज्ञता से शुद्ध हृदय वाली स्त्री को भी लोकोपवाद को प्राप्त हो जाती है। स्त्रियों का यह दुर्भाग्य ही दुख भोगने का कारण है। इसका कोई प्रतिकार नहीं यदि है तो इसकी औषधि है उत्तम चरित्र का आचरण और लोक व्यवहार को ठीक से समझना। क्रमश••• शेष अगले अंक में 〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️

+12 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 15 शेयर

बरगद (वट) वृक्ष सैकडों रोगों की अचूक दवा भी है। बरगद का पेड़- हिंदू संस्कृति में वट वृक्ष यानी बरगद का पेड़ बहुत महत्त्व रखता है। इस पेड़ को त्रिमूर्ति ब्रह्मा, विष्णु, महेश का प्रतीक माना जाता है। शास्त्रों में वटवृक्ष के बारे में विस्तार से बताया गया है। वट वृक्ष मोक्षप्रद है और इसे जीवन और मृत्यु का प्रतीक माना जाता है। जो व्यक्ति दो वटवृक्षों का विधिवत रोपण करता है वह मृत्यु के बाद शिवलोक को प्राप्त होता है। इस पेड़ को कभी नहीं काटना चाहिए। मान्यता है कि निःसंतान दंपति बरगद के पेड़ की पूजा करें तो उन्हें संतान प्राप्ति हो सकती है। आग से जल जाना – दही के साथ बड़ को पीसकर बने लेप को जले हुए अंग पर लगाने से जलन दूर होती है। जले हुए स्थान पर बरगद की कोपल या कोमल पत्तों को गाय के दही में पीसकर लगाने से जलन कम हो जाती है। बालों के रोग – बरगद के पत्तों की 20 ग्राम राख को 100 मिलीलीटर अलसी के तेल में मिलाकर मालिश करते रहने से सिर के बाल उग आते हैं। बरगद के साफ कोमल पत्तों के रस में, बराबर मात्रा में सरसों के तेल को मिलाकर आग पर पकाकर गर्म कर लें, इस तेल को बालों में लगाने से बालों के सभी रोग दूर हो जाते हैं। 25-25 ग्राम बरगद की जड़ और जटामांसी का चूर्ण, 400 मिलीलीटर तिल का तेल तथा 2 लीटर गिलोय का रस को एकसाथ मिलाकर धूप में रख दें, इसमें से पानी सूख जाने पर तेल को छान लें। इस तेल की मालिश से गंजापन दूर होकर बाल आ जाते हैं और बाल झड़ना बंद हो जाते हैं। बरगद की जटा और काले तिल को बराबर मात्रा में लेकर खूब बारीक पीसकर सिर पर लगायें। इसके आधा घंटे बाद कंघी से बालों को साफ कर ऊपर से भांगरा और नारियल की गिरी दोनों को पीसकर लगाते रहने से बाल कुछ दिन में ही घने और लंबे हो जाते हैं। नाक से खून बहना – 3 ग्राम बरगद की जटा के बारीक पाउडर को दूध की लस्सी के साथ पिलाने से नाक से खून बहना बंद हो जाता है। नाक में बरगद के दूध की 2 बूंदें डालने से नकसीर (नाक से खून बहना) ठीक हो जाती है। नींद का अधिक आना – बरगद के कड़े हरे शुष्क पत्तों के 10 ग्राम दरदरे चूर्ण को 1 लीटर पानी में पकायें, चौथाई बच जाने पर इसमें 1 ग्राम नमक मिलाकर सुबह-शाम पीने से हर समय आलस्य और नींद का आना कम हो जाता है। जुकाम – बरगद के लाल रंग के कोमल पत्तों को छाया में सुखाकर पीसकर रख लें। फिर आधा किलो पानी में इस पाउडर को 1 या आधा चम्मच डालकर पकायें, पकने के बाद थोड़ा सा बचने पर इसमें 3 चम्मच शक्कर मिलाकर सुबह-शाम चाय की तरह पीने से जुकाम और नजला आदि रोग दूर होते हैं और सिर की कमजोरी ठीक हो जाती है। हृदय रोग – 10 ग्राम बरगद के कोमल हरे रंग के पत्तों को 150 मिलीलीटर पानी में खूब पीसकर छानकर उसमें थोड़ी मिश्री मिलाकर सुबह-शाम 15 दिन तक सेवन करने से दिल की घड़कन सामान्य हो जाती है। बरगद के दूध की 4-5 बूंदे बताशे में डालकर लगभग 40 दिन तक सेवन करने से दिल के रोग में लाभ मिलता है। पैरों की बिवाई – बिवाई की फटी हुई दरारों पर बरगद का दूध भरकर मालिश करते रहने से कुछ ही दिनों में वह ठीक हो जाती है। कमर दर्द – कमर दर्द में बरगद़ के दूध की मालिश दिन में 3 बार कुछ दिन करने से कमर दर्द में आराम आता है। बरगद का दूध अलसी के तेल में मिलाकर मालिश करने से कमर दर्द से छुटकरा मिलता है। शक्तिवर्द्धक – बरगद के पेड़ के फल को सुखाकर बारीक पाउडर लेकर मिश्री के बारीक पाउडर मिला लें। रोजाना सुबह इस पाउडर को 6 ग्राम की मात्रा में दूध के साथ सेवन से वीर्य का पतलापन, शीघ्रपतन आदि रोग दूर होते हैं। शीघ्रपतन – सूर्योदय से पहले बरगद़ के पत्ते तोड़कर टपकने वाले दूध को एक बताशे में 3-4 बूंद टपकाकर खा लें। एक बार में ऐसा प्रयोग 2-3 बताशे खाकर पूरा करें। हर हफ्ते 2-2 बूंद की मात्रा बढ़ाते हुए 5-6 हफ्ते तक यह प्रयोग जारी रखें। इसके नियमित सेवन से शीघ्रपतन, वीर्य का पतलापन, स्वप्नदोष, प्रमेह, खूनी बवासीर, रक्त प्रदर आदि रोग ठीक हो जाते हैं और यह प्रयोग बलवीर्य वृद्धि के लिए भी बहुत लाभकारी है। यौनशक्ति बढ़ाने हेतु – बरगद के पके फल को छाया में सुखाकर पीसकर चूर्ण बना लें। इस चूर्ण को बराबर मात्रा की मिश्री के साथ मिलाकर पीस लें। इसे एक चम्मच की मात्रा में सुबह खाली पेट और सोने से पहले एक कप दूध से नियमित रूप से सेवन करते रहने से कुछ हफ्तों में यौन शक्ति में बहुत लाभ मिलता है। नपुंसकता – बताशे में बरगद के दूध की 5-10 बूंदे डालकर रोजाना सुबह-शाम खाने से नपुंसकता दूर होती है। 3-3 ग्राम बरगद के पेड़ की कोंपले (मुलायम पत्तियां) और गूलर के पेड़ की छाल और 6 ग्राम मिश्री को पीसकर लुगदी सी बना लें फिर इसे तीन बार मुंह में रखकर चबा लें और ऊपर से 250 ग्राम दूध पी लें। 40 दिन तक खाने से वीर्य बढ़ता है और संभोग से खत्म हुई शक्ति लौट आती है। प्रमेह – बरगद के दूध की पहले दिन 1 बूंद 1 बतासे डालकर खायें, दूसरे दिन 2 बतासों पर 2 बूंदे, तीसरे दिन 3 बतासों पर 3 बूंद ऐसे 21 दिनों तक बढ़ाते हुए घटाना शुरू करें। इससे प्रमेह और स्वप्न दोष दूर होकर वीर्य बढ़ने लगता है। वीर्य रोग में – बरगद के फल छाया में सुखाकर चूर्ण बना लें। गाय के दूध के साथ यह 1 चम्मच चूर्ण खाने से वीर्य गाढ़ा व बलवान बनता है। 25 ग्राम बरगद की कोपलें (मुलायम पत्तियां) लेकर 250 मिलीलीटर पानी में पकायें। जब एक चौथाई पानी बचे तो इसे छानकर आधा किलो दूध में डालकर पकायें। इसमें 6 ग्राम ईसबगोल की भूसी और 6 ग्राम चीनी मिलाकर सिर्फ 7 दिन तक पीने से वीर्य गाढ़ा हो जाता है। बरगद के दूध की 5-7 बूंदे बताशे में भरकर खाने से वीर्य के शुक्राणु बढ़ते है। उपदंश (सिफलिस) – बरगद की जटा के साथ अर्जुन की छाल, हरड़, लोध्र व हल्दी को समान मात्रा में लेकर पानी में पीसकर लेप लगाने से उपदंश के घाव भर जाते हैं। बरगद का दूध उपदंश के फोड़े पर लगा देने से वह बैठ जाती है। बड़ के पत्तों की भस्म (राख) को पान में डालकर खाने से उपदंश रोग में लाभ होता है। पेशाब की जलन – बरगद के पत्तों से बना काढ़ा 50 मिलीलीटर की मात्रा में 2-3 बार सेवन करने से पेशाब की जलन दूर हो जाती है। यह काढ़ा सिर के भारीपन, नजला, जुकाम आदि में भी फायदा करता है। स्तनों का ढीलापन – बरगद की जटाओं के बारीक रेशों को पीसकर बने लेप को रोजाना सोते समय स्तनों पर मालिश करके लगाते रहने से कुछ हफ्तों में स्तनों का ढीलापन दूर हो जाता है। बरगद की जटा के बारीक अग्रभाग के पीले व लाल तन्तुओं को पीसकर लेप करने से स्तनों के ढीलेपन में फायदा होता है। गर्भपात होने पर – 4 ग्राम बरगद की छाया में सुखाई हुई छाल के चूर्ण को दूध की लस्सी के साथ खाने से गर्भपात नहीं होता है। बरगद की छाल के काढ़े में 3 से 5 ग्राम लोध्र की लुगदी और थोड़ा सा शहद मिलाकर दिन में 2 बार सेवन करने से गर्भपात में जल्द ही लाभ होता है। योनि से रक्त का स्राव यदि अधिक हो तो बरगद की छाल के काढ़ा में छोटे कपड़े को भिगोकर योनि में रखें। इन दोनों प्रयोग से श्वेत प्रदर में भी फायदा होता है। योनि का ढीलापन – बरगद की कोपलों के रस में फोया भिगोकर योनि में रोज 1 से 15 दिन तक रखने से योनि का ढीलापन दूर होकर योनि टाईट हो जाती है। गर्भधारण करने हेतु – पुष्य नक्षत्र और शुक्ल पक्ष में लाये हुए बरगद की कोपलों का चूर्ण 6 ग्राम की मात्रा में मासिक-स्राव काल में प्रात: पानी के साथ 4-6 दिन खाने से स्त्री अवश्य गर्भधारण करती है, या बरगद की कोंपलों को पीसकर बेर के जितनी 21 गोलियां बनाकर 3 गोली रोज घी के साथ खाने से भी गर्भधारण करने में आसानी होती है। गर्भकाल की उल्टी – बड़ की जटा के अंकुर को घोटकर गर्भवती स्त्री को पिलाने से सभी प्रकार की उल्टी बंद हो जाती है। रक्तप्रदर – 20 ग्राम बरगद के कोमल पत्तों को 100 से 200 मिलीलीटर पानी में घोटकर रक्तप्रदर वाली स्त्री को सुबह-शाम पिलाने से लाभ होता है। स्त्री या पुरुष के पेशाब में खून आता हो तो वह भी बंद हो जाता है। भगन्दर – बरगद के पत्ते, सौंठ, पुरानी ईंट के पाउडर, गिलोय तथा पुनर्नवा की जड़ का चूर्ण समान मात्रा में लेकर पानी के साथ पीसकर लेप करने से भगन्दर के रोग में फायदा होता है। बादी बवासीर – 20 ग्राम बरगद की छाल को 400 मिलीलीटर पानी में पकायें, पकने पर आधा पानी रहने पर छानकर उसमें 10-10 ग्राम गाय का घी और चीनी मिलाकर गर्म ही खाने से कुछ ही दिनों में बादी बवासीर में लाभ होता है। खूनी बवासीर – बरगद के 25 ग्राम कोमल पत्तों को 200 मिलीलीटर पानी में घोटकर खूनी बवासीर के रोगी को पिलाने से 2-3 दिन में ही खून का बहना बंद होता है। बवासीर के मस्सों पर बरगद के पीले पत्तों की राख को बराबर मात्रा में सरसों के तेल में मिलाकर लेप करते रहने से कुछ ही समय में बवासीर ठीक हो जाती है। बरगद की सूखी लकड़ी को जलाकर इसके कोयलों को बारीक पीसकर सुबह-शाम 3 ग्राम की मात्रा में ताजे पानी के साथ रोगी को देते रहने से खूनी बवासीर में फायदा होता है। कोयलों के पाउडर को 21 बार धोये हुए मक्खन में मिलाकर मरहम बनाकर बवासीर के मस्सों पर लगाने से मस्से बिना किसी दर्द के दूर हो जाते हैं। खूनी दस्त – दस्त के साथ या पहले खून निकलता है। उसे खूनी दस्त कहते हैं। इसे रोकने के लिए 20 ग्राम बरगद की कोपलें लेकर पीस लें और रात को पानी में भिगोंकर सुबह छान लें फिर इसमें 100 ग्राम घी मिलाकर पकायें, पकने पर घी बचने पर 20-25 ग्राम तक घी में शहद व शक्कर मिलाकर खाने से खूनी दस्त में लाभ होता है। दस्त – बरगद के दूध को नाभि के छेद में भरने और उसके आसपास लगाने से अतिसार (दस्त) में लाभ होता है। 6 ग्राम बरगद की कोंपलों को 100 मिलीलीटर पानी में घोटकर और छानकर उसमें थोड़ी मिश्री मिलाकर रोगी को पिलाने से और ऊपर से मट्ठा पिलाने से दस्त बंद हो जाते हैं। बरगद की छाया मे सुखाई गई 3 ग्राम छाल को लेकर पाउड़र बना लें और दिन मे 3 बार चावलों के पानी के साथ या ताजे पानी के साथ लेने से दस्तों में फायदा मिलता है। बरगद की 8-10 कोंपलों को दही के साथ खाने से दस्त बंद हो जाते हैं। आंव – लगभग 5 ग्राम की मात्रा में बड़ के दूध को सुबह-सुबह पीने से आंव का दस्त समाप्त हो जाता है। मधुमेह – 20 ग्राम बरगद की छाल और इसकी जटा को बारीक पीसकर बनाये गये चूर्ण को आधा किलो पानी में पकायें, पकने पर अष्टमांश से भी कम बचे रहने पर इसे उतारकर ठंडा होने पर छानकर खाने से मधुमेह के रोग में लाभ होता है। लगभग 24 ग्राम बरगद के पेड़ की छाल लेकर जौकूट करें और उसे आधा लीटर पानी के साथ काढ़ा बना लें। जब चौथाई पानी शेष रह जाए तब उसे आग से उतारकर छाने और ठंडा होने पर पीयें। रोजाना 4-5 दिन तक सेवन से मधुमेह रोग कम हो जाता है। इसका प्रयोग सुबह-शाम करें। उल्टी – लगभग 3 ग्राम से 6 ग्राम बरगद की जटा का सेवन करने से उल्टी आने का रोग दूर हो जाता है। मुंह के छाले – 30 ग्राम वट की छाल को 1 लीटर पानी में उबालकर गरारे करने से मुंह के छाले खत्म हो जाते हैं। घाव – घाव में कीड़े हो गये हो, बदबू आती हो तो बरगद की छाल के काढ़े से घाव को रोज धोने से इसके दूध की कुछ बूंदे दिन में 3-4 बार डालने से कीड़े खत्म होकर घाव भर जाते हैं। साधारण घाव पर बरगद के दूध को लगाने से घाव जल्दी अच्छे हो जाते हैं। अगर घाव ऐसा हो जिसमें कि टांके लगाने की जरूरत पड़ जाती है। तो ऐसे में घाव के मुंह को पिचकाकर बरगद के पत्ते गर्म करके घाव पर रखकर ऊपर से कसकर पट्टी बांधे, इससे 3 दिन में घाव भर जायेगा, ध्यान रहे इस पट्टी को 3 दिन तक न खोलें। फोड़े-फुन्सियों पर इसके पत्तों को गर्मकर बांधने से वे शीघ्र ही पककर फूट जाते हैं।। 〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️

+32 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 42 शेयर

अन्न का आदर 〰️〰️🔸〰️〰️ एक रिश्तेदार की शादी की पार्टी में सोनू अपने परिवार के साथ पहुंचा। वहाँ जाकर उसने देखा कि खाना शुरू हाे चुका था। जाते ही उसने एक प्लेट में पनीर की सब्जी, खूब सारे चावल, दही-भल्ले, पापड़, अचार, सलाद अादि सजा लिए।अपनी खाने से लबालब प्लेट काे लेकर सोनू एक साईड में चला गया। खाना शुरू ही किया था कि दाे चम्मच चावल खाते ही सोनू काे लगा कि खाने में नमक ज़्यादा है। सोनू ने साेचा कि मैं ये खाना खाकर पेट क्यों भर रहा हूँ, ये ताे राेज़ घर पर खाता हूँ। ... मुझे ताे रसगुल्ले, गुलाब जामुन, आइसक्रीम, इत्यादि खाने चाहिए। बस फिर क्या था, सोनू खाने से भरी प्लेट चुपचाप रखने की जगह ढूँढने लगा। एक जगह से टैंट खुला हुआ था। सोनू ने नज़रें बचाकर टैंट से बाहर जाकर वह प्लेट रख दी आैर चुपचाप टैंट के अन्दर आ गया।किसी काे कुछ ना पता चलता देख सोनू खुश हो गया आैर गुलाब जामुन लेने चला गया।गुलाब जामुन लेकर सोनू उसी जगह आ गया जहाँ वाे पहले खड़ा हाेकर खाना खा रहा था गुलाब जामुन बड़े आनन्द से खाकर वो खाली प्लेट उसी जगह फेंकने गया जहाँ उसने खाने से भरी प्लेट रखी थी, पर जैसे ही सोनू प्लेट फेंकने गया, वहाँ का दृश्य देख सोनू हैरान हाे गया।सोनू ने देखा कि जाे प्लेट उसने वहाँ रखी थी उसमें रखे खाने काे ऐक बच्चा खा रहा था।सोनू नेे बच्चे काे देखकर कहा, ए बच्चे, ये क्या कर रहे हाे ? बच्चा डर गया आैर सोनू के पाँव में आकर गिर गया और कहने लगा,खाने दाे भैया, मैंने तीन दिन से कुछ नहीं खाया है। मैं आपके पाँव पड़ता हूँ।सोनू की आँखे भर आईं। वह बच्चे के पास बैठा आैर बाेला, बेटा ये खाना ज़मीन पर गिरकर ख़राब हाे गया है आैर देखाे इसमें नमक भी ज़्यादा है। बच्चा राेने लगा बाेला,भैया, आपके लिए ये खाना जैसा भी हाेे, पर मुझे तो इस समय ये मेरी ज़िंदगी लग रहा है, खाने दाे भैया।सोनू के आँसू राेके नहीं रुक रहे थे।सोनू ने उससे कहा,गुलाब जामुन खाआेगे, लाऊँ तुम्हारे लिए ? बच्चा बाेला,नहीं भैया, मेरे लिए तो यही बहुत है। सोनू राेने लगा, उसे रोता देख बच्चा हँसा आैर बाेला,भैया, आप क्यों राेते हाे ? आप जैसे किस्मत वालों काे राेना शाेभा नहीं देता। मैं किस्मत वाला कैसे ? सोनू ने बड़ी हैरानी से पूछा।बच्चा खाना खाते-खाते बाला, भैया, ये सब खाना खाने के, मेरे जैसे ना जाने कितने बच्चे रात काे सपना देखकर राेड पर भूखे साे जाते हैं, आैर एक आप हो जाे एेसे खाने काे फेंक देते हो, ताे हुए ना आप किस्मत वाले ? आप मत रोइये भैया राेना ताे मुझे चाहिए, जिसे आज तो आपका ये झूठा, फेंका हुआ खाना खाने काे मिल गया, पर कल इस समय फिर ये पेट भूखा हाेगा। आैर पता है भैया, तब मैं आज के इस पल काे याद करके भूखा सो जाऊंगा, ये साेचकर कि कल मैं इस समय ये खाना खा रहा था।आप कल इस समय फिर से अच्छा खाना खाएंगे, पर मैं नहीं, मैं फिर भूखा तड़पूंगा। इसलिए राेना ताे मुझे चाहिए, आपकाे नहीं।सोनू राेने लगा आैर अब सोनू काे उस अन्न की महिमा आैर महत्व पता चल गया था जिसे उसने फेंका था। सोनू ने कहा,रुक मैं तेरे लिए गुलाब जामुन लाता हूँ। बच्चे ने जाते सोनू काे राेका आैर कहा,भैया, अगर कृपा करनी ही है ताे मुझे ये खाना घर ले जाने दीजिए। मेरी माँ हमेशा मुझे खिलाकर ही खाती है। साेचिए मैंने तीन दिन से खाना नहीं खाया ताे मेरी माँ भी ताे तीन दिन से ही भूखी हाेगी। क्या मैं ये अपनी माँ के लिए ले जाऊं ?? सोनू गया आैर उसके लिए खूब सारा खाना लाया और उसे दे दिया।वाे बच्चा ताे चला गया पर अब जब भी सोनू खाना खाता आैर उसे उसका स्वाद अच्छा ना लगता, ताे खाने की प्लेट वापस करने से पहले ही उसके आगे वह बच्चा आ जाता जाे उससे कहता, देखाे भैया, हाे ना आप किस्मत वाले, मैं तो आज भी भूखा हूँ आैर आपकाे खाना मिल रहा है ताे आप उसका अादर नहीं कर रहे हो। ये सुनते ही सोनू खाने काे सिर माथे लगाता आैर भगवान का शुक्रिया कर उसे खाता। अन्न को जीवन में व्यर्थ नही जाने देवे,जैसा अन्न खाओगे वैसा ही मन भी होगा।शुद्ध शाहकारी अन्न जीवन में ग्रहण करे। 〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️

+34 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 56 शेयर