गायत्री मंदिर

Jamnagar, Gujarat, India

विश्वकर्मा चालीसा :-

दोहा – श्री विश्वकर्म प्रभु वन्दऊँ, चरणकमल धरिध्य़ान ।

श्री, शुभ, बल अरु शिल्पगुण, दीजै दया निधान ।।
जय श्री विश्वकर्म भगवाना । जय विश्वेश्वर कृपा निधाना ।।
शिल्पाचार्य परम उपकारी । भुवना-पुत्र नाम छविकारी ।।
अष्टमबसु प्रभास...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Like +4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

"संतोषी माता के व्रत की पूजन विधि"

-- संतोषी माता के पिता गणेश है एवं माता रिद्धी - सिद्धि हैं, धन, सोना - चाँदी, मोती मूंगा रत्नों से भरा परिवार है | गणपति देव की कमाई, गणपति ने बढाई, सवाई, धन्धे में बरकत, दरिद्रता दूर, कलह क्लेश का नाश, सुख शां...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Like +2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

Pranam Flower Like +3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

Pranam Like +4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

Pranam Bell Like +5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

जयपुर अराध्यदेव " गोविन्द देव जी " आजके मंगला श्रृंगार आरति दर्शन जय श्री राधे गोविन्द शुभ प्रभात

Pranam Bell Like +3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

Pranam Flower Jyot +6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर