+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+2 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर

🌷 *भगवान की सार्थक पूजा* 🌷 🌅महाराष्ट्र में एक बड़े संत हुए है- संत एकनाथ| वह एक तीर्थोटन करते हुए प्रयाग राज पहुँचे| वहाँ उन्होंने अपनी बहंगी कावेरी में रखी त्रिवेणी के पवित्र जल से भरी| सोचा, उसे रामेश्वरम में चढ़ाएँगे| उनके साथ पूरी संतमण्डली थी| यात्रा करते-करते संतो की टोली रामेश्वरम के पास जा पहुँची| लक्ष्य समीप ही था कि संत एकनाथ ने देखा- रामेश्वरम तीर्थ के मुख्य द्वार के समीप रास्ते पर एक गधा पानी की प्यास से व्याकुल तड़प रहा था| लक्षणों में लगता था कि यदि कुछ पलो में उसे पानी न मिला तो वह तड़प-तड़पकर जान दे देगा| संत एकनाथ उसकी दशा देखकर द्रवित हो गए| अपनी बहंगी से उन्होंने कावेरी खोली और उससे पवित्र त्रिवेणी जल लेकर उस प्यासे गधे को पिला दिया| वह गधा स्वस्थ सशक्त होकर घास चरने लगा| संतो की उस मण्डली को संत एकनाथ का यह व्यवहार पसंद नहीं आया| एक बड़बोला साधु बोल उठा- “एकनाथ जी, आप तो बड़े संत समझे जाते हैं, परंतु आप तो महामूर्ख निकले| इतने कष्ट-तपस्या कर प्रयाग राज का पवित्र गंगाजल आप रामेश्वरम के मंदिर पर भेंट चढ़ाने के पुण्य से वंछित रह गए|” संत एकनाथ ने हाथ जोड़कर कहा- “हमारा दयालु भगवान् तो सभी चराचर जीवों में व्याप्त है, सारा संसार ही उसका असली स्वरुप है| मैंने तो एक पीड़ित, दुःखी प्राणी को पानी पिला दिया| उसकी प्राण-रक्षा की| समझो मेरी पूजा तो सार्थक हो गई|” इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है कि किसी के काम आना ही अपने आप में सबसे बड़ी पूजा है| 🌹बहूनां जन्मनामन्ते ज्ञानवान्मां प्रपद्यते । वासुदेवः सर्वमिति स महात्मा सुदुर्लभः ॥🌹 (श्रीमद्भागवत गीता) भावार्थ : *बहुत जन्मों के अंत के जन्म में तत्व ज्ञान को प्राप्त पुरुष, सब कुछ वासुदेव ही हैं- इस प्रकार मुझको भजता है, वह महात्मा अत्यन्त दुर्लभ है॥19॥* 🍁💦🙏Զเधे👣Զเधे🙏🏻💦🍁 *☘🌷!! हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे !!💖* *☘💞हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे !!🌹💐* ÷सदैव जपिए एवँ प्रसन्न रहिए÷

+46 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 5 शेयर