नान्हा नान्हा मोतिया...नन्ही मोतियन माल..
नान्हा नान्हा घूँघरा धरे, भैरूजी मुंछाल...
मस्तक मुकुट खूब सोहे, तिलक चमकतो भाळ,
नान्हा रूप में भैरूजी आवे, दर्शन देव कृपाल..!!

◆भक्ति पंक्तियों की नई पहल◆
#चरणसेवक
ॐ ह्रीं श्रीं नाकोडा भैरवायः नमः...

(पूरा पढ़ें)
+10 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर