इस प्रकरण में पञ्चाङ्ग पूजा विधि दी गई
है। प्रायः प्रत्येक संस्कार, व्रतोद्यापन, हवन आदि यज्ञ
यज्ञादि में पञ्चाङ्ग पूजन का विधान है। षोडशोपचार या पञ्चोपचार
अर्चन का क्रम सामान्यतः प्रचलित है। अतः तत्सबंधी
मंत्र दे दिये गये हैं। पुरुषसूक्त के षोडश ...

(पूरा पढ़ें)
+30 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 96 शेयर

विभिन्न कार्यों के लिए तिथि, वार, नक्षत्र आदि के आधार
पर जिन मुहूर्तों का चयन किया जाता है, उनमें
अथर्ववेद के अनुसार तिथि, वार, करण, योग, तारा, चंद्रमा
तथा लग्न का फल उत्तरोत्तर हजार गुणा तक बढ़ता
जाता है। परंतु महर्षि गर्ग, नारद और कश्यप मुनि
केवल...

(पूरा पढ़ें)
+11 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 19 शेयर

हिन्दू समय मापन (लघुगणकीय पैमाने पर)
गणित और मापन के बीच घनिष्ट सम्बन्ध है।
इसलिये आश्चर्य नहीं कि भारत में अति
प्राचीन काल से दोनो का साथ-साथ विकास हुआ।
लगभग सभी प्राचीन
भारतीय गणितज्ञों ने अपने ग्रन्थों में मापन, मापन
की इकाइयों एवं मापनयन्त्रों...

(पूरा पढ़ें)
+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 25 शेयर

जीवित्पुत्रिका व्रत
कथा
जीवित्पुत्रिका-व्रत के साथ
जीमूतवाहन की कथा जुड़ी
है। संक्षेप में वह इस प्रकार है –
गन्धर्वों के राजकुमार का नाम जीमूतवाहन था। वे
बड़े उदार और परोपकारी थे।
जीमूतवाहन के पिता ने वृद्धावस्था में वानप्रस्थ
आश्रम में जाते समय इ...

(पूरा पढ़ें)
+14 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 64 शेयर

अखंड भारत का इतिहास लिखने में कई तरह
की बातों को शामिल किया जा सकता है।
सर्व प्रथम तो उसकी निष्पक्षता के
लिए जरूरी है पूर्वाग्रहों से मुक्त होकर
उसके बारे में बगैर किसी भेदभाव के सोचा
जाए, जो प्रत्येक भारतीय का कर्तव्य
हो सकता है और जो किसी
भी जात...

(पूरा पढ़ें)
+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर

यज्ञों के विविध
विधान-कुण्ड विज्ञान


सूक्ष्म प्रकृति में हलचलें उत्पन्न कर, भौतिक
जगत को प्रभावित करने में यज्ञ प्रक्रिया
पूरी तरह समर्थ है। इस सामर्थ्य का
विज्ञान काफी गहरा और विस्तृत है।
प्रयोजन क्या है? इस हेतु चेतना जगत में किस
तरह की तरंगें...

(पूरा पढ़ें)
+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 10 शेयर

महर्षि सुमंतु ने श्राद्ध से होने वाले लाभ के बारे में बताया
है कि 'संसार में श्राद्ध से बढ़कर कोई दूसरा कल्याणप्रद
मार्ग नहीं है। अतः बुद्धिमान मनुष्य को
प्रयत्नपूर्वक श्राद्ध करना चाहिए।
श्राद्ध की आवश्यकता और लाभ पर अनेक
ऋषि-महर्षियों के वचन ग्रं...

(पूरा पढ़ें)
+2 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 13 शेयर