Mkmm79
Mkmm79 Mar 1, 2021

Jain Jai Jinendra Good Morning एक जैसे दोस्त सारे नही होते, कुछ हमारे होकर भी हमारे नहीं होते, आपसे दोस्ती करने के बाद महसूस हुआ, कौन कहता है ‘तारे ज़मीं पर’ नहीं होते. सुप्रभात सुप्रभातम् नमस्ते दोस्तों🙏🏻 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

Jain
Jai Jinendra
Good
Morning
एक जैसे दोस्त सारे नही होते,
 कुछ हमारे होकर भी हमारे नहीं होते,
 आपसे दोस्ती करने के बाद महसूस हुआ,
 कौन कहता है ‘तारे ज़मीं पर’ नहीं होते.
सुप्रभात सुप्रभातम् नमस्ते दोस्तों🙏🏻
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
🌹bk preeti 🌹 Apr 12, 2021

ओम शांति।। *यदि "महाभारत" को पढ़ने का समय न हो तो भी इसके नौ सार- सूत्र हमारे जीवन में उपयोगी सिद्ध हो सकते है....!!* *1.संतानों की गलत माँग और हठ पर समय रहते अंकुश नहीं लगाया गया, तो अंत में आप असहाय हो जायेंगे-* *कौरव* *2.आप भले ही कितने बलवान हो लेकिन अधर्म के साथ हो तो, आपकी विद्या, अस्त्र-शस्त्र शक्ति और वरदान सब निष्फल हो जायेगा -* *कर्ण* *3.संतानों को इतना महत्वाकांक्षी मत बना दो कि विद्या का दुरुपयोग कर स्वयंनाश कर सर्वनाश को आमंत्रित करे-* *अश्वत्थामा* *4.कभी किसी को ऐसा वचन मत दो कि आपको अधर्मियों के आगे समर्पण करना पड़े -* *भीष्म पितामह* *5.संपत्ति, शक्ति व सत्ता का दुरुपयोग और दुराचारियों का साथ अंत में स्वयंनाश का दर्शन कराता है -* *दुर्योधन* *6.अंध व्यक्ति- अर्थात मुद्रा, मदिरा, अज्ञान, मोह और काम ( मृदुला) अंध व्यक्ति के हाथ में सत्ता भी विनाश की ओर ले जाती है -* *धृतराष्ट्र* *7.यदि व्यक्ति के पास विद्या, विवेक से बँधी हो तो विजय अवश्य मिलती है -* *अर्जुन* *8.हर कार्य में छल, कपट, व प्रपंच रच कर आप हमेशा सफल नहीं हो सकते -* *शकुनि* *9.यदि आप नीति, धर्म, व कर्म का सफलता पूर्वक पालन करेंगे, तो विश्व की कोई भी शक्ति आपको पराजित नहीं कर सकती -* *युधिष्ठिर* *यदि इन नौ सूत्रों से सबक लेना सम्भव नहीं होता है तो जीवन मे महाभारत संभव हो जाता है।* नित याद करो मन से शिव को 🙏

+458 प्रतिक्रिया 112 कॉमेंट्स • 581 शेयर
🌹bk preeti 🌹 Apr 12, 2021

Har har mahadev j🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌹🌹🙏🙏🙏✍️ श्मशान में जब महर्षि दधीचि के मांसपिंड का दाह संस्कार हो रहा था तो उनकी पत्नी अपने पति का वियोग सहन नहीं कर पायीं और पास में ही स्थित विशाल पीपल वृक्ष के कोटर में 3 वर्ष के बालक को रख स्वयम् चिता में बैठकर सती हो गयीं। इस प्रकार महर्षि दधीचि और उनकी पत्नी का बलिदान हो गया किन्तु पीपल के कोटर में रखा बालक भूख प्यास से तड़प तड़प कर चिल्लाने लगा।जब कोई वस्तु नहीं मिली तो कोटर में गिरे पीपल के गोदों(फल) को खाकर बड़ा होने लगा। कालान्तर में पीपल के पत्तों और फलों को खाकर बालक का जीवन येन केन प्रकारेण सुरक्षित रहा। एक दिन देवर्षि नारद वहाँ से गुजरे। नारद ने पीपल के कोटर में बालक को देखकर उसका परिचय पूंछा-नारद- बालक तुम कौन हो ?बालक- यही तो मैं भी जानना चाहता हूँ ।नारद- तुम्हारे जनक कौन हैं ?बालक- यही तो मैं जानना चाहता हूँ ।तब नारद ने ध्यान धर देखा।नारद ने आश्चर्यचकित हो बताया कि हे बालक ! तुम महान दानी महर्षि दधीचि के पुत्र हो। तुम्हारे पिता की अस्थियों का वज्र बनाकर ही देवताओं ने असुरों पर विजय पायी थी। नारद ने बताया कि तुम्हारे पिता दधीचि की मृत्यु मात्र 31 वर्ष की वय में ही हो गयी थी।बालक- मेरे पिता की अकाल मृत्यु का कारण क्या था ?नारद- तुम्हारे पिता पर शनिदेव की महादशा थी।बालक- मेरे ऊपर आयी विपत्ति का कारण क्या था ?नारद- शनिदेव की महादशा। इतना बताकर देवर्षि नारद ने पीपल के पत्तों और गोदों को खाकर जीने वाले बालक का नाम पिप्पलाद रखा और उसे दीक्षित किया।नारद के जाने के बाद बालक पिप्पलाद ने नारद के बताए अनुसार ब्रह्मा जी की घोर तपस्या कर उन्हें प्रसन्न किया। ब्रह्मा जी ने जब बालक पिप्पलाद से वर मांगने को कहा तो पिप्पलाद ने अपनी दृष्टि मात्र से किसी भी वस्तु को जलाने की शक्ति माँगी।ब्रह्मा जी से वरदान मिलने पर सर्वप्रथम पिप्पलाद ने शनि देव का आह्वाहन कर अपने सम्मुख प्रस्तुत किया और सामने पाकर आँखे खोलकर भष्म करना शुरू कर दिया।शनिदेव सशरीर जलने लगे। ब्रह्मांड में कोलाहल मच गया। सूर्यपुत्र शनि की रक्षा में सारे देव विफल हो गए। सूर्य भी अपनी आंखों के सामने अपने पुत्र को जलता हुआ देखकर ब्रह्मा जी से बचाने हेतु विनय करने लगे।अन्ततः ब्रह्मा जी स्वयम् पिप्पलाद के सम्मुख पधारे और शनिदेव को छोड़ने की बात कही किन्तु पिप्पलाद तैयार नहीं हुए।ब्रह्मा जी ने एक के बदले दो वरदान माँगने की बात कही। तब पिप्पलाद ने खुश होकर निम्नवत दो वरदान मांगे-1- जन्म से 5 वर्ष तक किसी भी बालक की कुंडली में शनि का स्थान नहीं होगा।जिससे कोई और बालक मेरे जैसा अनाथ न हो।2- मुझ अनाथ को शरण पीपल वृक्ष ने दी है। अतः जो भी व्यक्ति सूर्योदय के पूर्व पीपल वृक्ष पर जल चढ़ाएगा उसपर शनि की महादशा का असर नहीं होगा। ब्रह्मा जी ने तथास्तु कह वरदान दिया।तब पिप्पलाद ने जलते हुए शनि को अपने ब्रह्मदण्ड से उनके पैरों पर आघात करके उन्हें मुक्त कर दिया । जिससे शनिदेव के पैर क्षतिग्रस्त हो गए और वे पहले जैसी तेजी से चलने लायक नहीं रहे।अतः तभी से शनि "शनै:चरति य: शनैश्चर:" अर्थात जो धीरे चलता है वही शनैश्चर है, कहलाये और शनि आग में जलने के कारण काली काया वाले अंग भंग रूप में हो गए।सम्प्रति शनि की काली मूर्ति और पीपल वृक्ष की पूजा का यही धार्मिक हेतु है।आगे चलकर पिप्पलाद ने प्रश्न उपनिषद की रचना की,जो आज भी ज्ञान का वृहद भंडार है !! !!! 🙏🙏 !!! संकलित

+259 प्रतिक्रिया 55 कॉमेंट्स • 214 शेयर
🌹bk preeti 🌹 Apr 11, 2021

🌹प्रभू की दुकान 🌹 एक दिन में सड़क से जा रहा था । रास्ते में एक जगह बोर्ड लगा था 🙏🏻ईश्वरीय किरायाने की ⚖️दुकान मेरी जिज्ञासा बढ़ गई क्यों ना इस दुकान पर जाकर देखो इसमें बिकता क्या है? जैसे ही यह ख्याल आया🪟 दरवाजा अपने आप खुल गया । मैंने खुद को दुकान के अंदर पाया। जरा सी जिज्ञासा रखते हैं द्वार अपने आप खुल जाते हैं। खोलने नहीं पड़ते। मैंने दुकान के अंदर देखा जगह-जगह देवदूत खड़े थे एक देवदूत ने । मुझे टोकरी देते हुए कहा ,मेरे बच्चे ध्यान से खरीदारी करो वहा वह सब कुछ था जो एक इंसान को चाहिए होता है। देवदूत ने कहा एक बार में टोकरी भर कर ना ले जा सको, तो दोबारा आ जाना फिर दोबारा टोकरी भर लेना। अब मैंने सारी चीजें देखी ।सबसे पहले धीरज खरीदा फिर प्रेम भी ले लिया, फिर समझ भी ले ली। फिर एक दो डिब्बे विवेक भी ले लिया। आगे जाकर विश्वास के दो तीन डिब्बे उठा लिए ।मेरी टोकरी भरती गई । आगे गया पवित्रता मिली सोचा इसको कैसे छोड़ सकता हूं , फिर शक्ति का बोर्ड आया शक्ति भी ले ली। हिम्मतभी ले ली सोचा हिम्मत के बिना तो जीवन में काम ही नहीं चलता। आगे सहनशीलता ली फिर मुक्ति का डिब्बा भी ले लिया । मैंने वह सब चीजें खरीद ली जो मेरे मालिक खुदा को पसंद है। फिर जिज्ञासु की नजर प्रार्थना पर पड़ी मैंने उसका भी एक डिब्बा उठा लिया। कि सब गुण होते हुए भी अगर मुझसे कभी कोई भूल हो जाए तो मैं प्रभु 🙏🏻से प्रार्थना कर लूंगा कि मुझे भगवान माफ 🙏🏻कर देना आनंद शांति गीतों से मैंने basket 🛒को भर लिया। फिर मैं काउंटर🚶🏻‍♂️ पर गया और देवदूत से पूछा सर -मुझे इन सब समान का कितना बिल चुकाना है देवदूत बोला मेरे बच्चे यहां के bill को चुकाने का ढंग भी ईश्ववरीय है। अब तुम जहां भी जाना इन चीजों को भरपूर बांटना और लुटाना। इन चीजों का बिल इसी तरह चुकाया जाता है । कोई- कोई विरला इस दुकान पर प्रवेश करता है। जो प्रवेश कर लेता है वह मालो- माल हो जाता है। वह इन गुणों को खूब भोगता भी है ,और लुटाता भी है। प्रभू की यह दुकान शिव सतगुरु के सत्संग की दुकान है। शिव सतगुरु की शरण🧘🏻‍♂️ में आकर, उसके वचनों से प्रीत करते हैं तो सब गुणों के खजाने हमको मिल जाते हैं फिर कभी खाली हो भी जाए फिर सत्संग में आ कर बास्केट भर लेना 🙏🙏🙏 🌹तू ही तू 🌹

+586 प्रतिक्रिया 140 कॉमेंट्स • 769 शेयर
🌹bk preeti 🌹 Apr 10, 2021

**( भगवान् क्यो आते हैं )** .ram ram ji ✍️✍️🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🙏🙏🙏 . एक बार अकबर ने बीरबल से पूछाः तुम्हारे भगवान और हमारे खुदा में बहुत फर्क है। . हमारा खुदा तो अपना पैगम्बर भेजता है जबकि तुम्हारा भगवान बार- बार आता है। यह क्या बात है ? . बीरबलः जहाँपनाह ! इस बात का कभी व्यवहारिक तौर पर अनुभव करवा दूँगा। आप जरा थोड़े दिनों की मोहलत दीजिए। . चार-पाँच दिन बीत गये। बीरबल ने एक आयोजन किया। . अकबर को यमुनाजी में नौका विहार कराने ले गये। कुछ नावों की व्यवस्था पहले से ही करवा दी थी। . उस समय यमुनाजी छिछली न थीं। उनमें अथाह जल था। . बीरबल ने एक युक्ति की कि जिस नाव में अकबर बैठा था, उसी नाव में एक दासी को अकबर के नवजात शिशु के साथ बैठा दिया गया। . सचमुच में वह नवजात शिशु नहीं था। मोम का बालक पुतला बनाकर उसे राजसी वस्त्र पहनाये गये थे ताकि वह अकबर का बेटा लगे। . दासी को सब कुछ सिखा दिया गया था। नाव जब बीच मझधार में पहुँची और हिलने लगी तब 'अरे.... रे... रे.... ओ.... ओ.....' कहकर दासी ने स्त्री चरित्र करके बच्चे को पानी में गिरा दिया और रोने बिलखने लगी। . अपने बालक को बचाने-खोजने के लिए अकबर धड़ाम से यमुना में कूद पड़ा। . खूब इधर-उधर गोते मारकर, बड़ी मुश्किल से उसने बच्चे को पानी में से निकाला। . वह बच्चा तो क्या था मोम का पुतला था। . अकबर कहने लगाः बीरबल ! यह सारी शरारत तुम्हारी है। तुमने मेरी बेइज्जती करवाने के लिए ही ऐसा किया। . बीरबलः जहाँपनाह ! आपकी बेइज्जती के लिए नहीं, बल्कि आपके प्रश्न का उत्तर देने के लिए ऐसा ही किया गया था। . आप इसे अपना शिशु समझकर नदी में कूद पड़े। उस समय आपको पता तो था ही इन सब नावों में कई तैराक बैठे थे, नाविक भी बैठे थे और हम भी तो थे ! . आपने हमको आदेश क्यों नहीं दिया ? हम कूदकर आपके बेटे की रक्षा करते ! . अकबरः बीरबल ! यदि अपना बेटा डूबता हो तो अपने मंत्रियों को या तैराकों को कहने की फुरसत कहाँ रहती है ? . खुद ही कूदा जाता है। . बीरबलः जैसे अपने बेटे की रक्षा के लिए आप खुद कूद पड़े, ऐसे ही हमारे भगवान जब अपने बालकों को संसार एवं संसार की मुसीबतों में डूबता हुआ देखते हैं तो वे पैगम्बर-वैगम्बर को नहीं भेजते, वरन् खुद ही प्रगट होते हैं। . वे अपने बेटों की रक्षा के लिए आप ही अवतार ग्रहण करते है और संसार को आनंद तथा प्रेम के प्रसाद से धन्य करते हैं।

+530 प्रतिक्रिया 156 कॉमेंट्स • 820 शेयर

+336 प्रतिक्रिया 64 कॉमेंट्स • 611 शेयर
Neeta Trivedi Apr 12, 2021

+153 प्रतिक्रिया 35 कॉमेंट्स • 78 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB