jeetu H.P

https://youtu.be/KYl7jKxgo54

+85 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 189 शेयर

कामेंट्स

Kanta Agarwal May 11, 2018
जय माता दी जय माता दी

pramod kushwah May 31, 2020

+2 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 4 शेयर
Vijaykumar Gupta May 31, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 6 शेयर
AARYAM May 31, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 5 शेयर
HEMANT JOSHI May 30, 2020

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Manju Gupta May 31, 2020

+7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 15 शेयर
HEMANT JOSHI May 30, 2020

#कहीं_ये_भी_साजिश_तो_नहीं ये जितने भी कथावाचक है सबके कन्धों पर भगवा, पीला, लाल, गुलाबी गमछा/उपवस्त्र होने चाहिए थे, लेकिन काले गमछे क्या आईएसआई की योजनानुसार कोई षड्यंत्र तो नहीं चल रहा है? कन्धे पर काले गमछे, मुंह में अल्लाह, मौला, बिस्मिल्लाह आ्दि शब्द तालिबानी मानसिकता का दिखावा करने वाले इन तथाकथित कथावाचकों का हिन्दू समाज बहिष्कार करें। सरकार इनके मुस्लिम संगठनों के साथ सम्बन्धों की जांच करें। एक प्रश्न और--यदि इतनी ही गंगा जमना तहजीब है तो क्या मौलवी यह नहीं सोच सकता कि हिन्दुओं की राम कथा चल रही है, कुछ दिन अजान न करें या सारा ठेका हिन्दुओं ने ही ले रखा है। सनातन धर्मानुसार काला कपड़ा दुख और शोक की निशानी, और भगवा त्याग की परम्परा, लाल उर्जा, सफेद शांति, व पीला गुरूतत्व की बेहतरी के लिए माने गये है। जैसे चांद मियां उर्फ साईं यवनी मुसलमान मांस भक्षी को सनातन धर्म के मंदिरों में घुसा दिया है और अज्ञानी हिंदू पाखंडी बाबाओं को भगवान विष्णु और राम से बड़ा कहने लगे हैं। ये भी जान लीजिये... हमारे कल के पोस्ट को आगे बढ़ाते हैं... रामकथा या भागवत-कथा के नाम जिहाद करने वाले संतवेष में जिहादी😡😡 हिन्दुओ ! इन पाखंडियो से सावधान रहो🙏🏻🙏🏻 ये लोग कथावाचक (रामकथा या कृष्णकथा) का चोला ओढ़कर कभी व्यासपीठ से फिल्मी गाने गाते हैं.... कभी सूफियाना गज़ले.... कभी अली-मौला तो कभी अल्लाह-अल्लाह और कभी या हुसैन की धुनि रमाते हैं.... कोई "रश्के कमर" सुनकर तो कोई "इन्ही लोगो ने ले लीन्हा दुपट्टा मेरा" गाकर जनता को रिझाने का प्रयास करता हैं जिससे लोगो के हृदय में इनका स्थान अविचल रहे.... और हिन्दु समाज की अपने धर्मग्रंथो से दूरी के चलते की अल्पज्ञता का लाभ उठाकर.... अपना आर्थिक व यशप्राप्ति का स्वार्थसिद्ध करते हैं.... उदार-हृदय बनने के नाम पर हिन्दुओ को धर्मयुद्ध में सम्मिलित ना होने देने के लिये उन्हे सर्वधर्म-समभाव जैसे झूठे सिद्धान्तो का पाठ पढ़ाकर नपुँसक बना रहे हैं जिससे वे धर्मयुद्ध में उतरने से पूर्व ही शस्त्र डाल दें...... ऐसे आंतरिक शत्रु तो सामने खड़े सशस्त्र शत्रु से कही अधिक हानिकारक होते हैं । इनके षडयंत्रो से सारे हिन्दु समाज को सचेत करना परम आवश्यक हो चुका हैं । अगर आपको इस पोस्ट के माध्यम से कुछ समंझ आया तो इसे शेयर अवश्य कीजिये 🚩यतो धर्मस्ततो जय:🙏🏻 धर्म को बचाये थर्म हमको बतायेगा 🙏 🙏🚩🇮🇳🏹🔱🐚🕉️

+7 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 8 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB