Jay Mata Di🙏🙏🌹🌹👏👏

Jay Mata Di🙏🙏🌹🌹👏👏

+24 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 14 शेयर

कामेंट्स

🙏Dinesh🙏 Jun 2, 2020

+25 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 7 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 11 शेयर
simran Jun 1, 2020

+239 प्रतिक्रिया 89 कॉमेंट्स • 203 शेयर

🌷 #एकादशी_व्रत के लाभ 🌷 ➡ 01 जून 2020 सोमवार को दोपहर 02:58 से 02 जून मंगलवार को दोपहर 12:04 तक #एकादशी है। 💥 विशेष - 02 जून मंगलवार को एकादशी का व्रत (उपवास) रखें। 🙏🏻 एकादशी व्रत के पुण्य के समान और कोई पुण्य नहीं है। 🙏🏻 जो पुण्य सूर्यग्रहण में दान से होता है, उससे कई गुना अधिक पुण्य एकादशी के व्रत से होता है। 🙏🏻 जो पुण्य गौ-दान सुवर्ण-दान, अश्वमेघ यज्ञ से होता है, उससे अधिक पुण्य एकादशी के व्रत से होता है। 🙏🏻 एकादशी करनेवालों के पितर नीच योनि से मुक्त होते हैं और अपने परिवारवालों पर प्रसन्नता बरसाते हैं।इसलिए यह व्रत करने वालों के घर में सुख-शांति बनी रहती है। 🙏🏻 धन-धान्य, पुत्रादि की वृद्धि होती है। 🙏🏻 कीर्ति बढ़ती है, श्रद्धा-भक्ति बढ़ती है, जिससे जीवन रसमय बनता है। 🙏🏻 परमात्मा की प्रसन्नता प्राप्त होती है।पूर्वकाल में राजा नहुष, अंबरीष, राजा गाधी आदि जिन्होंने भी एकादशी का व्रत किया, उन्हें इस पृथ्वी का समस्त ऐश्वर्य प्राप्त हुआ।भगवान शिवजी ने नारद से कहा है : एकादशी का व्रत करने से मनुष्य के सात जन्मों के पाप नष्ट हो जाते हैं, इसमे कोई संदेह नहीं है। एकादशी के दिन किये हुए व्रत, गौ-दान आदि का अनंत गुना पुण्य होता है। 🌷 एकादशी के दिन करने योग्य 🌷 🙏🏻 एकादशी को दिया जला के विष्णु सहस्त्र नाम पढ़ें .......विष्णु सहस्त्र नाम नहीं हो तो १० माला गुरुमंत्र का जप कर लें। अगर घर में झगडे होते हों, तो झगड़े शांत हों जायें ऐसा संकल्प करके विष्णु सहस्त्र नाम पढ़ें तो घर के झगड़े भी शांत होंगे। 🌷 एकादशी के दिन ये सावधानी रहे 🌷 🙏🏻 महीने में १५-१५ दिन में एकादशी आती है एकादशी का व्रत पाप और रोगों को स्वाहा कर देता है लेकिन वृद्ध, बालक और बीमार व्यक्ति एकादशी न रख सके तभी भी उनको चावल का तो त्याग करना चाहिए। 🌷 व्यतिपात योग 🌷 🙏🏻 व्यतिपात योग की ऐसी महिमा है कि उस समय जप पाठ प्राणायम, माला से जप या मानसिक जप करने से भगवान की और विशेष कर भगवान सूर्यनारायण की प्रसन्नता प्राप्त होती है जप करने वालों को, व्यतिपात योग में जो कुछ भी किया जाता है उसका १ लाख गुना फल मिलता है। 🙏🏻 वाराह पुराण में ये बात आती है व्यतिपात योग की। 🙏🏻 व्यतिपात योग माने क्या कि देवताओं के गुरु बृहस्पति की धर्मपत्नी तारा पर चन्द्र देव की गलत नजर थी जिसके कारण सूर्य देव अप्रसन्न हुऐ नाराज हुऐ, उन्होनें चन्द्रदेव को समझाया पर चन्द्रदेव ने उनकी बात को अनसुना कर दिया तो सूर्य देव को दुःख हुआ कि मैने इनको सही बात बताई फिर भी ध्यान नही दिया और सूर्यदेव को अपने गुरुदेव की याद आई कि कैसा गुरुदेव के लिये आदर प्रेम श्रद्धा होना चाहिये पर इसको इतना नही थोडा भूल रहा है ये, सूर्यदेव को गुरुदेव की याद आई और आँखों से आँसु बहे वो समय व्यतिपात योग कहलाता है। और उस समय किया हुआ जप, सुमिरन, पाठ, प्रायाणाम, गुरुदर्शन की खूब महिमा बताई है वाराह पुराण में। 💥 विशेष ~ व्यतिपात योग - 01 जून 2020 सोमवार को दोपहर 01:19 से 02 जून सुबह 09:53 तक व्यतीपात योग है। 🌐http://www.vkjpandey.in 🙏🍀🌻🌹🌸💐🍁🌷🌺🙏 💁🏻‍♂️ आप जिस सज्जन को हमारे इस धार्मिक एवं ज्ञानवर्धक समूह से जोड़ना चाहते हैं, उन्हें यह लिंक भेजे। 👇🏻 https://chat.whatsapp.com/I0lnC06D3bfGIhcWkRZPBb

+78 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 105 शेयर
Mahesh Bhargava Jun 1, 2020

+103 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 71 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB