Adhikari Molay
Adhikari Molay Aug 6, 2020

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Sanjay Singh Sep 24, 2020

+133 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 118 शेयर
Shuchi Singhal Sep 25, 2020

+24 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 23 शेयर

+9 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 15 शेयर

+9 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 12 शेयर
Adhikari Molay Sep 24, 2020

+3 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 22 शेयर
Adhikari Molay Sep 24, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 14 शेयर

🌻🌹जय " गायत्री " माता🌹🌻🙏 👉 सिद्धि और मोक्षदायी गायत्री मंत्र :- 🌹⚘🌹⚘🌹⚘🌹⚘🌹⚘🌹⚘🌹 ॐ भूर्भुवः स्वः तत्सवितुर्वरेण्यम् । भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात् || 🌹⚘🌹⚘🌹⚘🌹⚘🌹⚘🌹⚘🌹 ⚘ॐ = सबकी रक्षा करने वाला हर कण कण में मौजूद , ⚘भू = सम्पूर्ण जगत के जीवन का आधार और प्राणों से भी प्रिय, ⚘भुवः = सभी दुःखों से रहित, जिसके संग से सभी दुखों का नाश हो जाता है , ⚘स्वः = वो स्वयं:, जो सम्पूर्ण जगत का धारण करते हैं , ⚘तत् = उसी परमात्मा के रूप को हम सभी, ⚘सवितु = जो सम्पूर्ण जगत का उत्पादक है , ⚘र्वरेण्यं = जो स्वीकार करने योग्य अति श्रेष्ठ है , ⚘भर्गो = शुद्ध स्वरूप और पवित्र करने वाला चेतन स्वरूप है , ⚘देवस्य = भगवान स्वरूप जिसकी प्राप्ति सभी करना चाहते हैं , ⚘धीमहि = धारण करें , ⚘धियो = बुद्धि को, ⚘यो = जो देव परमात्मा, ⚘नः = हमारी , ⚘प्रचोदयात् = प्रेरित करें, अर्थात बुरे कर्मों से मुक्त होकर अच्छे कर्मों में लिप्त हों ! 👉🌹 गायत्री मन्त्र का अर्थ – उस प्राणस्वरूप, दुःखनाशक, सुखस्वरूप, श्रेष्ठ, तेजस्वी, पापनाशक, देवस्वरूप परमात्मा को हम अन्तःकरण में धारण करें। वह परमात्मा हमारी बुद्धि को सन्मार्ग में प्रेरित करे। 👉🌹 गायत्री मन्त्र के जाप से जो वायु में कम्पन (vibration) होता है उससे मन में सात्विकता आती है। बुद्धि को ऊर्जा मिलती है। 👉🌹गायत्री मन्त्र के जाप करने के तीन समय बताये गए हैं – 1. सबसे पहला समय है सूर्योदय के पहले, सूर्योदय के पहले मन्त्र का जाप शुरू करें , और सूर्योदय होने तक मन्त्र का जाप करें ! 2 . दूसरा अनुकूल समय है, दोपहर को 3. तीसरा सबसे अच्छा समय है सांय को, सूर्यास्त से पहले गायत्री मन्त्र का उच्चारण आरम्भ करें और सूर्यास्त होने तक करें 👉🌹 गायत्री मन्त्र के फायदे – गायत्री मन्त्र के जाप से मनुष्य के मन को शांति मिलती है तथा गायत्री माँ को मन से याद करने पर सभी कष्टों का नाश भी होता है| 1. जिस दंपत्ति को संतान प्राप्ति का कष्ट है| वह दंपत्ति सुबह श्वेत वस्त्र पहनकर गायत्री मन्त्र का जाप करें| मन में माँ गायत्री के रूप की कल्पना करके मन्त्रों का उच्चारण करने से संतान प्राप्ति अवश्य होती है| 2. किसी शत्रु से खतरा है तो मंगलवार को लाल वस्त्र धारण करके माँ दुर्गा का ध्यान करें और गायत्री मन्त्र का जाप करें इससे सभी कष्ट टल जाते हैं| 3. जिन व्यक्तियों के विवाह में देरी हो रही है ऐसे व्यक्ति सोमवार को पीले वस्त्र धारण करके महा गायत्री मन्त्र का जाप करें| इससे विवाह में होने वाली रुकावटें दूर होती हैं| 4. व्यापार और नौकरी में लाभ चाहते हैं तो शुक्रवार को पीले वस्त्र पहनकर मन में माँ गायत्री के आराध्य रूप का ध्यान करें और गायत्री मन्त्र का जाप करें | इसी प्रकार ये गायत्री मन्त्र अनेकों विकारों को दूर करने वाला है और मन में शांति का वास करने वाला है। अतः सभी लोग दिन में एक बार गायत्री मन्त्र का स्मरण अवश्य करें ! 👉 समस्त धर्म ग्रंथों में गायत्री की महिमा एक स्वर से कही गई। 👉 समस्त ऋषि-मुनि मुक्त कंठ से गायत्री का गुण-गान करते हैं। 👉 शास्त्रों में गायत्री की महिमा के पवित्र वर्णन मिलते हैं। 👉 गायत्री मंत्र तीनों देव, बृह्मा, विष्णु और महेश का सार है। 👉 गीता में भगवान् ने स्वयं कहा है ‘गायत्री छन्दसामहम्’ अर्थात् गायत्री मंत्र मैं स्वयं ही हूं। 🕉⚘🕉⚘🕉⚘🕉⚘🕉⚘🕉⚘🕉

+37 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 24 शेयर
Malti Bansal Sep 24, 2020

+15 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 21 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB