SAPNA SHARMA
SAPNA SHARMA Jun 11, 2018

🌷🌹om nmha shivay 🌹🌷

+13 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 15 शेयर
Ravi Art May 16, 2021

*अपनी मृत्यु...अपनों की मृत्यु डरावनी लगती है। बाकी तो मौत का उत्सव मनाता है मनुष्य, मौत के स्वाद के चटखारे लेता है मनुष्य।* थोड़ा कड़वा लिखा है पर मन का लिखा है...... *मौत से प्यार नहीं, मौत तो हमारा स्वाद है।* बकरे का, पाए का, तीतर का, मुर्गे का, हलाल का, बिना हलाल का, ताजा बच्चे का, भुना हुआ, छोटी मछली, बड़ी मछली, हल्की आंच पर सिका हुआ। न जाने कितने बल्कि अनगिनत स्वाद हैं मौत के। क्योंकि मौत किसी और की, ओर स्वाद हमारा। स्वाद से कारोबार बन गई मौत। मुर्गी पालन, मछली पालन, बकरी पालन, पोल्ट्री फार्म्स। नाम "पालन" और मक़सद "हत्या"। स्लाटर हाउस तक खोल दिये, वो भी ऑफिशियल। गली गली में खुले नाॅन वेज रेस्टॉरेंट मौत का कारोबार नहीं तो और क्या हैं? *मौत से प्यार और उसका कारोबार इसलिए क्योंकि मौत हमारी नहीं है।* जो हमारी तरह बोल नहीं सकते, अभिव्यक्त नही कर सकते, अपनी सुरक्षा स्वयं करने में समर्थ नहीं हैं, उनकी असहायता को हमने अपना बल कैसे मान लिया ? कैसे मान लिया कि उनमें भावनाएं नहीं होतीं ? या उनकी आहें नहीं निकलतीं ? *डाइनिंग टेबल पर हड्डियां नोचते बाप बच्चों को सीख देते है, बेटा कभी किसी का दिल नहीं दुखाना ! किसी की आहें मत लेना ! किसी की आंख में तुम्हारी वजह से आंसू नहीं आना चाहिए !* बच्चों में झुठे संस्कार डालते बाप को, अपने हाथ में वो हड्डी दिखाई नहीं देती, जो इससे पहले एक शरीर थी, जिसके अंदर इससे पहले एक आत्मा थी, उसकी भी एक मां थी ...?? जिसे काटा गया होगा ? जो कराहा होगा ? जो तड़पा होगा ? जिसकी आहें निकली होंगी ? जिसने बद्दुआ भी दी होगी ? कैसे मान लिया कि जब जब धरती पर अत्याचार बढ़ेंगे तो *भगवान सिर्फ तुम इंसानों की रक्षा के लिए अवतार लेंगे ?* क्या मूक जानवर उस परमपिता परमेश्वर की संतान नहीं हैं ? क्या उस इश्वर को उनकी रक्षा की चिंता नहीं है ? आज कोरोना वायरस उन जानवरों के लिए, ईश्वर के अवतार से कम नहीं है। *जब से इस वायरस का कहर बरपा है, जानवर स्वच्छंद घूम रहे है। पक्षी चहचहा रहे हैं।* *उन्हें पहली बार इस धरती पर अपना भी कुछ अधिकार सा नज़र आया है। पेड़ पौधे ऐसे लहलहा रहे हैं, जैसे उन्हें नई जिंदगी मिली हो। धरती को भी जैसे सांस लेना आसान हो गया हो।* सृष्टि के निर्माता द्वारा रचित करोड़ों-करोड़ योनियों में से एक कोरोना ने हमें हमारी ओकात बता दी। घर में घुस के मारा है और मार रहा है। ओर उसका हम सब कुछ नहीं बिगाड़ सकते। अब घंटियां बजा रहे हो, इबादत कर रहे हो, प्रेयर कर रहे हो और भीख मांग रहे हो उससे कि हमें बचा ले। धर्म की आड़ में उस परमपिता के नाम पर अपने स्वाद के लिए कभी ईद पर बकरे काटते हो, कभी दुर्गा मां या भैरव बाबा के सामने बकरे की बली चढ़ाते हो। कहीं तुम अपने स्वाद के लिए मछली का भोग लगाते हो। कभी सोचा.....!!! क्या ईश्वर का स्वाद होता है ? ....क्या है उनका भोजन ? किसे ठग रहे हो ? भगवान को या खुद को ? मंगलवार को नाॅनवेज नहीं खाता ...!!! आज शनिवार है इसलिए नहीं...!!! अभी रोज़े चल रहे हैं ....!!! नवरात्रि में तो सवाल ही नहीं उठता....!!! झूठ पर झूठ.... झूठ पर झूठ.... झूठ पर झूठ...!! फिर कुतर्क सुनो.... फल सब्जियों में भी तो जान होती है !! .....तो सुनो फल सब्जियाँ संसर्ग नहीं करतीं, ना ही वो किसी प्राण को जन्मती हैं। इसीलिए उनका भोजन उचित है। *ईश्वर ने बुद्धि सिर्फ तुम्हें दी। ताकि तमाम योनियों में भटकने के बाद मानव योनि में तुम जन्म-मृत्यु के चक्र से निकलने का रास्ता ढूँढ सको। लेकिन तुमने इस मानव योनि को पाते ही स्वयं को भगवान समझ लिया।* आज कोरोना के रूप में मौत हमारे सामने खड़ी है। *तुम्ही कहते थे कि हम जो प्रकृति को देंगे, वही प्रकृति हमे लौटायेगी। मौते दीं हैं प्रकृति को तो मौतें ही लौट रही हैं।* *बढ़ो...!! आलिंगन करो मौत का....!!!* यह संकेत है ईश्वर का। प्रकृति के साथ रहो। प्रकृति के होकर रहो।* वर्ना..... ईश्वर अपनी ही बनाई कई योनियों को धरती से हमेशा के लिए विलुप्त कर चुके हैं। उन्हें एक क्षण भी नही लगेगा। 🙏 *प्रकृति की ओर चलो* 🙏 🌳🌲🎄jai johar🎄🌲🌳

+62 प्रतिक्रिया 14 कॉमेंट्स • 149 शेयर
G.SHARMA May 16, 2021

+144 प्रतिक्रिया 23 कॉमेंट्स • 67 शेयर
Anita Sharma May 14, 2021

एक बार नामदेव जी अपनी कुटिया के बाहर सोये हुए थे तभी अचानक उनकी कुटिया में आग लग गयी। नामदेव जी ने सोचा आज तो ठाकुर जी अग्नि के रूप में आये हैं तो उन्होंने जो भी सामान बाहर रखा हुआ था वो भी आग में ही डाल दिया,तब लोगों ने देखा और जैसे तैसे आग बुझा दी और चले गये। ठाकुर जी ने सोचा इसने तो मुझे सब कुछ अर्पण कर दिया है ठाकुर जी ने उनके लिए बहुत ही सुन्दर कुटिया बना दी,सुबह लोगों ने देखा कि वहाँ तो बहुत सुंदर कुटिया बनी हुई है ! उन्होंने नामदेव जी को कहा रात को तो आपकी कुटिया में आग लग गयी थी फिर ये इतनी सुंदर कुटिया कैसे बन गयी?हमे भी इसका तरीका बता दीजिए। नामदेव जी ने कहा सबसे पहले तो अपनी कुटिया में आग लगाओ फिर जो भी सामान बचा हो वो भी उसमे डाल दो। लोगो ने उन्हें ऊपर से नीचे तक देखा और कहा अजीब पागल है। नामदेव जी ने कहा :-वो ठाकुर तो पागलों के ही घर बनाता है।

+124 प्रतिक्रिया 20 कॉमेंट्स • 81 शेयर

+29 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 32 शेयर

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 33 शेयर
uma sood May 16, 2021

0 कॉमेंट्स • 4 शेयर
Soni Mishra May 14, 2021

+17 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 62 शेयर
Garima Gahlot Rajput May 15, 2021

+7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 19 शेयर

*माँ कभी वापिस नहीं आती...!* *उम्र - दो साल* -- मम्मा कहाँ है ? मम्मा को दिखा दो, मम्मा को देख लूँ, मम्मा कहाँ गयी ?... *उम्र - चार साल* -- मम्मी कहाँ हो ? मैं स्कूल जाऊँ ? अच्छा bye मुझे आपकी याद आती है स्कूल में... *उम्र - आठ साल* -- मम्मा, लव यू, आज टिफिन में क्या भेजोगी ? मम्मा स्कूल में बहुत होम वर्क मिला है... *उम्र - बारह साल* -- पापा, मम्मा कहाँ है ? स्कूल से आते ही मम्मी नहीं दिखती, तो अच्छा नहीं लगता... *उम्र - चौदह साल* -- मम्मी आप पास बैठो ना, खूब सारी बातें करनी है आपसे... *उम्र - अठारह साल* -- ओफ्फो मम्मी समझो ना, आप पापा से कह दो ना, आज पार्टी में जाने दें... *उम्र - बाईस साल* -- क्या माँ ? ज़माना बदल रहा है, आपको कुछ नहीं पता, समझते ही नहीं हो... *उम्र - पच्चीस साल* -- माँ, माँ जब देखो नसीहतें देती रहती हो, मैं दुध पीता बच्चा नहीं... *उम्र - अठाईस साल* -- माँ, वो मेरी पत्नी है, आप समझा करो ना, आप अपनी मानसिकता बदलो... *उम्र - तीस साल* -- माँ, वो भी माँ है, उसे आता हैं बच्चों को सम्भालना, हर बात में दखलंदाजी नहीं किया करो... *और उस के बाद, माँ को कभी पूछा ही नहीं। माँ कब बूढ़ी हो गयी, पता ही नहीं उसे। माँ तो आज भी वो ही हैं, बस उम्र के साथ बच्चों के अंदाज़ बदल जाते हैं...* *उम्र - पचास साल* -- फ़िर एक दिन माँ, माँ चुप क्यों हो ? बोलो ना, पर माँ नहीं बोलती, खामोश हो गयी... *माँ, दो साल से पचास साल के, इस परिवर्तन को समझ ही नहीं पायी, क्योंकि माँ के लिये तो पचास साल का भी प्रौढ़ भी, बच्चा ही हैं, वो बेचारी तो अंत तक, बेटे की छोटी सी बीमारी पर, वैसे ही तड़प जाती, जैसे उस के बचपन में तडपती थी।* *और बेटा, माँ के जाने पर ही जान पाता है, कि उसने क्या अनमोल खजाना खो दिया...?* *ज़िन्दगी बीत जाती है, कुछ अनकही और अनसुनी बातें बताने कहने के लिए, माँ का सदा आदर सत्कार करें, उन्हें भी समझें और कुछ अनमोल वक्त उनके साथ भी बिताएं, क्योंकि वक्त गुज़र जाता है, लेकिन माँ कभी वापिस नहीं मिलती...!!* ** *हर बच्चे तक पहुंचा कर उसे एहसास करवाइए माँ का प्यार क्या होता है।* *Dedicated to all Mothers...!* 💐🙏💐

+16 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 33 शेयर
uma sood May 16, 2021

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB