Rahul Kumar Jha
Rahul Kumar Jha Feb 12, 2019

*"ध्यान" क्या हैं ?* *ध्यान है... खेलपूर्ण होना।* ध्यान है... सृजनात्मक होना। *ध्यान है... सजग होना।* ध्यान है.. तुम्हारा स्वभाव। *ध्यान है... कुछ ना करना।* ध्यान है... साक्षी भाव। *ध्यान है... एक छलांग।* ध्यान है... वैग्यानिकता। *ध्यान है... एक प्रयोग।* ध्यान है... मौन। *ध्यान है... स्वर्ग।* ध्यान है... स्मरण। *ध्यान है... परम स्वतंत्रता।* ध्यान है... संवेदनशीलता। *ध्यान है... विकसित होना।* ध्यान है... पलायनवादी न होना। *ध्यान है... एक स्वाभाविक विधि।* ध्यान है... पारदर्शिता। *ध्यान है... खाली होना।* ध्यान है... जानना। *ध्यान है... निर्मल होना।* ध्यान है... फूल की खिलावट। *ध्यान है... होशपूर्ण होना।* ध्यान है... मजाक व एक हास परिहास। *ध्यान है... गहरी समझ।* ध्यान है... आनंद को बांटना। *ध्यान है... तनावरहित होना* ध्यान है... उत्तेजनारहित होना। *ध्यान है... एकात्म होना।* ध्यान है... पुनर्सृजन । *ध्यान है... विश्रामपूर्ण होना।* ध्यान है... मालिक बनना। *ध्यान है... अंतराल में बने रहना।* ध्यान है ...वर्तमान में रहना। *ध्यान है... एक घटना।* ध्यान है... एक रुपान्तरण। *ध्यान है... घर वापस लौटना।* ध्यान है... आनंदपूर्ण होना। *ध्यान है... होश आना।* ध्यान है .... स्व मै स्थापित होना। *ध्यान है... जन्म मरण से मुक्त* *होना।* ध्यान है.... बस होना।

+10 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 3 शेयर

कामेंट्स

🌸🍁 गोपालप्रिया 🍁🌸 Feb 13, 2019
ध्यान चेतना की सर्वोच्च अवस्था होने साथ साथ मन और मष्तिक का पूर्ण रुप से स्थिर और खाली होना है। !!!… गोपालप्रिया का प्रणाम …!!!

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB