Dhirendra Kumar
Dhirendra Kumar Dec 27, 2016

Maa Bamleshwari Mandir Dongargarh chhatishgarh

Maa Bamleshwari Mandir Dongargarh chhatishgarh

Maa Bamleshwari Mandir Dongargarh chhatishgarh

+41 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 3 शेयर

कामेंट्स

हरियाणा वासियों के *राम* इस पूरी कायनात के किसी हिस्से में *"राम"* शब्द का सबसे ज्यादा उच्चारण यदि कहीं होता है तो वो है ― हमारा प्यारा हरियाणा हरियाणा वो भूमि है जहाँ पर न सिर्फ स्वागत और अभिवादन के लिए राम-राम बोलते हैं अपितु सारी दुनिया में जहाँ भगवान, ईश्वर इत्यादि शब्द प्रयोग होते हैं वहाँ हरियाणा में राम शब्द का प्रयोग किया जाता है । जैसे दुनिया कहेगी - भगवान देख रहा है, ईश्वर न्याय करेगा, धर्मराज के द्वार जाना है इत्यादि। लेकिन हरियाणा मे कहेंगे ― राम देखै है, राम न्याय करेगा, राम के घर जाना है, राम से डर। हरियाणा की कहावतें भी केवल राम से संबंधित है जैसे ― हिम्मती का राम हिमायती, आंधे की मक्खी राम उड़ावै, राम को राम नहीं कहता, अपने को राम से बड़ा समझना। हरियाणा में आकाश को भी राम कहते है और आराम को भी राम कहते है। जैसे दुनिया कहेगी आराम से चल, आराम कर ले। लेकिन हरियाणा में कहेंगे कि ― राम से चल, राम कर ले। जब कही जाना हो तो गाड़ी मे बैठने के बाद दुनिया वाले कहते हैं कि "चलो" लेकिन हरियाणा मे कहते है कि ― "चालन दे भाई ले कै राम का नाम" हरियाणा में बारिश को भी राम कहते है। जब बरसात होती है तो दुनिया वाले कहते हैं कि बूंदे आई थी, बहुत बारिश हुई, हो रही है इत्यादि । लेकिन हरियाणा में कहते हैं कि राम आया था, बहोत राम बरसा भाई। जब कोई किसी का हाल चाल पूछता है तो बाकी दुनिया मे कहते है कि सब बढिय़ा है इत्यादि लेकिन हरियाणा मे कहते हैं कि ― "राम राजी सै" या "दया है राम की हरियाणा मे गाँव को गाम कहते हैं और हरियाणवी कहावत है कि ― "गाम राम होता है" हरियाणा वाले राम से प्यार करते हैं राम का व्यापार नहीं करते हैं हरियाणा के कण-कण और शब्द-शब्द मे राम बसता है और मुझे गर्व है स्वयं के हरियाणवी होने का | सभी भारत वासियों को मेरी 🙏🏻 *राम-राम*🙏🏻प्यार क्या होता है हम नहीं जानते अपनी ही ज़िंदगी को हम अपना नहीं मानते गम इतना मिला है के अब एहसास नहीं होता प्यार कोई करे हमसे तो हमें विश्वास नहीं होता ।।🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳👏👏👏👏👏🌹🌹🔢ॐ काली-महाकाली कालिके परमेश्वरी ! सर्वानन्दकरी देवी-नारायणी नमोस्तुते !! या देवी-सर्वभूतेषु श्रद्धारूपेण सँस्तिथा: ! नमतस्यै-नमतस्यै-नमतस्यै नमो: नमः !! !!गंगा गीता गायत्री हरिद्वार 🌹🌹🌹🌹सेवक भरत व्यास बांगा हिसार👏👏

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Gulshan batra Aug 6, 2020

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर
shalini Jaiswal Aug 6, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Vandana Singh Aug 6, 2020

+6 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 4 शेयर

🚩🔱🙏🏻जय माँ संतोषी की 🙏🏻🔱🚩 💞💕💕मेरी प्यारी माँ 💕💕💕 🌹गीत बन मेरे होंठों का मैं गुनगुना लू तुझे 🌹 💕अश्क बन मेरी आंखों का मैं बहा लू तुझे ।💞 💚मुस्कुराहट बनो मेरे लबो की खिलखिला लू तुझे 💚 ❣ख्वाब बनो मेरी आंखों में सजा लू तुझे 💞 🌹खुशबू बन मेरी रूह की महका लू तुझे 🌹 💖खो जांऊ मैं तुझमें अपनाले तू मुझे...💖🙏🏼🌹🙏🏼जय माता दी 🙏🏼🌹🙏🏼 मेरी प्यारी माँ ,, मुबारक हो माँ राम की जन्म भूमी का पूजन, तेरे राम का माँ शिवाला बन रहा है | माँ बहुत किया तुमने इन्तज़ार श्रीराम का , समय अब मिलन का निकट आ रहा है | किया था जो वादा रामजी ने माँ तुमसे, बहुत जल्द पूरा करेंगे वो आके सदियों से जो राह देखी तूने त्रिकुटा पर्वत पर , अब मिलने वो जल्द आएंगे माँ वही पर | 🌹🌺💐🌻🍁🏵🌼🌻🌺💐🌹 पर इतना माँ याद रखना रामजी से मिलने के बाद, माँ हमको ना विसार देना मेरी रानिये ...माँ ....तू , हमको ना भूला देना | 🙏🏼🌹🙏🏼जय माँ त्रिकूटा वासिनी की 🙏🏼🌹🙏🏼जगदम्बिका का ब्रह्माजी को कहना - ब्रह्माजी मे तुमसे निश्चित कहती हु यदि मे शक्ति हट जाऊँ तो संसार मे एक भी प्राणी हिल - डुल न सके । मुझ शक्ति के अलग हो जाने पर शंकर दैत्यों को मारने मे सदा असमर्थ है । जब मै मनुष्य के शरीर से कुछ दुर चली जाती हु , तब प्राणी उसे अत्यंत दुर्बल कहता है उसके विषय मे कोई भी ऐसा नही कहते कि यह रुद्रहीन अथवा विष्णुहीन है । कोई भूमि पर पडा हो अपने को सम्भालने मे अयोग्य हो , डर गया हो , ह्रदय मे चिंता की लहर उठती हो अथवा शत्रु के चंगुल में फँस गया हो तो उसे शक्तिहीन ही कहा जाता है । जगत में उनके विषय में कोई नहीं कहता कि यह रुद्र हीन है । इसलिए मुझ शक्ति को ही एकमात्र कारण समझो । जैसे तुम भी तो सृष्टि कार्य के अभिलाषी हो तो जब मे साथ देती हु तभी तुम अखिल जगत की रचना करते हो । वैसे ही विष्णु , शंकर , इन्द्र , अग्नि , चन्द्रमा , सूर्य , यम , त्वष्टा , वरुण ओर पवन - सभी मुझ शक्ति के सहयोग से ही कार्य में सफलता पाते है । (देवी भागवत पुराण) ❤जय माँ आदिशक्ति❤ॐ काली-महाकाली कालिके परमेश्वरी ! सर्वानन्दकरी देवी-नारायणी नमोस्तुते !! या देवी-सर्वभूतेषु श्रद्धारूपेण सँस्तिथा: ! नमतस्यै-नमतस्यै-नमतस्यै नमो: नमः !! !!गंगा गीता गायत्री हरिद्वार 🌹🌹🌹🌹सेवक भरत व्यास बांगा हिसार ब्रहमा घाट हरिद्वार

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Savita Vaidwan Aug 6, 2020

+34 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 15 शेयर
Vandana Singh Aug 6, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Anita Rani Aug 6, 2020

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 15 शेयर
Nagendra Sharma Aug 6, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB