सत्संग की महिमा

🌿सत्संग की महिमा 🌿
मनुष्य के जीवन में अशांति ,परेशानियां तब शुरु हो जाती है जब मनुष्य के जीवन मे सत्संग नही होता.संतो के संग से मिलने वाला आनंद तो बैकुण्ठ मे भी दुर्लभ है.

कबीर जी कहते है की:- राम बुलावा भेजिया , दिया कबीरा रोय ,,, जो सुख साधू संग में , सो बैकुंठ न होय!!

रामचरितमानस मे भी लिखा है की:-तात स्वर्ग अपवर्ग सुख धरि तुला एक अंग। तुल न ताहि सकल मिलि जो सुख लव सतसंग।।

हे तात ! स्वर्ग और मोक्ष के सब सुखों को तराजू के एक पलड़े में रखा जाये ते भी वे सब सुख मिलकर भी दूसरे पलड़े में रखे हुए उस सुख के बराबर नहीं हो सकते, जो क्षण मात्र के सत्संग से मिलता है।’

सत्संग की बहुत महिमा है, सत्संग तो वो दर्पण है जो मनुष्य के चरित्र को दिखाता है ओर साथ साथ चरित्र को सुधारता भी है.

सत्संग से मनुष्य को जीवन जीने का तरीका पता चलता है, सत्संग से ही मनुष्य को अपने वास्तविक कर्तव्य का पता चलता है.

मानस मे लिखा है की:- सतसंगत मुद मंगल मुला,सोई फल सिधि सब साधन फूला…

सत्संग सब मङ्गलो का मूल है,,जैसे फूल से फल ओर फल से बीज ओर बीज से वृक्ष होता है उसी प्रकार सत्संग से विवेक जागृत होता है ओर विवेक जागृत होने के बाद भगवान से प्रेम होता है ओर प्रेम से प्रभु प्राप्ति होती है.

जिन्ह प्रेम किया तिन्ही प्रभु पाया…सत्संग से मनुष्य के करोडो करोडो जन्मो के पाप नष्ट हो जाते है,सत्संग से मनुष्य का मन बुद्धि शुद्ध होती है, सत्संग से ही भक्ति मजबूत होती है..

भक्ति सुतंत्र सकल सुखखानि,,बिनु सत्संग न पावहि प्राणी… भगवान की जब कृपा होती है तब मनुष्य को सत्संग ओर संतो का संग प्राप्त होता है…

सत्संग मे बतायी जाने वाली बातो को जीवन मे धारण करने पर भी आनंद की प्राप्ति ओर प्रभु से प्रीति होती है.
जीवन से सत्संग को अलग नही करना चाहिये।जब सत्संग जीवन मे नही रहेगा तो संसार के प्रति आकर्षण बढेगा
🙏🏻🕉🙏🏻

Water Flower Milk +95 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 73 शेयर

कामेंट्स

Anjesh Mittal Sep 11, 2017
बहुत प्रेरित करने के लिए आपका समर्पण सराहनीय है।

Anjesh Mittal Sep 23, 2017
@gajanand.airen भगवांन की इच्छा से कुछ पंक्तियाँ लिख लेता हूँ मुझे व्यर्थ अभिमान है आपको नमन

Dayanand Sharma Jangid Sh Sep 24, 2017
@anjesh.mittal सब कुछ परमात्मा की कृपा से हि संमभव है सत्य यहि है एक परमात्मा का ध्यान कोई भी दो ढाई अक्षर का नाम राम शिव ओम राधे आदि का सुमरण ही सत्य है जो आप को लक्ष्य तक पंहुचा देगा आध्यात्म को जानने के लिए यथार्थ गीता का अध्यन्न. ओम ओम ओम

Jagdish Prasad.Delhi Aug 19, 2018

अपने डॉक्टर खुद बने
〰️〰️🔸〰️🔸〰️〰️
1= नमक केवल सेन्धा प्रयोग करें।थायराइड, बी पी, पेट ठीक होगा।

2=कुकर स्टील का ही काम में लें। एल्युमिनियम में मिले lead से होने वाले नुकसानों से बचेंगे

3=तेल कोई भी रिफाइंड न खाकर केवल तिल, सरसों, मूंगफली, नारिय...

(पूरा पढ़ें)
Like Pranam Flower +23 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 83 शेयर



विद्यार्थी सेवकः पान्थः क्षुधार्तो भयकातरः।
भाण्डारी च प्रतिहारी सप्तसुप्तान् प्रबोधयेत॥

भावार्थ:

१)विद्यार्थी,
२)सेवक,
३)पथिक,
४)भूख से दुःखी,
५)भयभीत,
६)भण्डारी,
७)द्वारपाल
इन सातों को सोते हुए से जगा देना चाहिए ।...

(पूरा पढ़ें)
Like +1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

सामुद्रिकं वणिजं चोरपूर्व
शलाकधूर्त्त च चिकित्सकं च।
अरिं च मित्रं च कुशीलवं च
नैतान्साक्ष्ये त्वधिकुर्वीतसप्त॥

भावार्थ:

हस्तरेखा व शरीर के लक्षणों के जानकार को ,
चोर व चोरी से व्यापारी बने व्यक्ति को,
जुआरी को,
चिकित्सक को ,
मित्र को तथा
सेवक ...

(पूरा पढ़ें)
Like +1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

मैं रोज़ चमत्कार देखता हूँ और आप?

__________________

हम मनुष्य चमत्कार को नमस्कार करते हैं। जो भी अनोखी चीजें दिखती हैं उसके आगे नतमस्तक हो जाते हैं। चमत्कार करके दिखाने वाले के हम अनुयायी, भक्त या बंदे बन जाते हैं। बाबा, फ़क़ीर, जादूगरों, कलाबाजों...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Like Flower +136 प्रतिक्रिया 57 कॉमेंट्स • 238 शेयर

👉 डेंगू बुखार फैल रहा है। अपने घुटनों से पैर के पंजे तक नारियल का तेल (coconut oil) लगायें। यह एक एंटीबायोटिक परत की तरह सुबह से शाम तक काम करता है। 👍🏻डेंगू का मच्छर घुटनों तक की ऊँचाई से ज्यादा नही उड़ सकता है।

किसी को dengu हुआ हो तो हरी ईलाय...

(पूरा पढ़ें)
Like Pranam +5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 13 शेयर

अपराध या उपकार

एक होते हैं वास्तविक सन्त, एक होते
हैं सन्त वेश धारी। ये वेशधारी एक
सन्त नहीं होते हैं, ये सन्त की ड्रैस
पहनकर वेश बनाते हैं । ठीक वैसे
जैसे एक सामान्य व्यक्ति पुलिस की
वर्दी पहन ले।

यह कहने की
आवश्यकता नहीं कि पुलिस न होते
ह...

(पूरा पढ़ें)
Like Tulsi Pranam +3 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Hasmukhjadav Aug 18, 2018

🥀🌿🌹🌹🍂🌹🌹🌿🥀
अंधे को मंदिर आया देखकर
लोग हंसकर बोले की,
मंदिर में दर्शन के लिए आये तो हो
पर क्या भगवान् को देख पाओगे ?
अंधे ने मुस्कुरा के कहा की,
क्या फर्क पड़ता है, मेरा भगवान्
तो मुझे देख लेगा. 🍂
🌷🌹🌺शुभ रात्रि🌷🌹🌺

Shubh Ratarey....

(पूरा पढ़ें)
Like Pranam Fruits +10 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Prabhakar soni Aug 18, 2018

विज्ञान हमें कहाँ ले आया

*पहले :-* वो कुँए का मैला कुचला पानी पीकर भी 100 वर्ष जी लेते थे
*अब :-* RO का शुद्ध पानी पीकर 40 वर्ष में बुढ़े हो रहे हैं

*पहले :-* वो घाणी का मैला सा तेल खाके बुढ़ापे में भी मेहनत कर लेते थे।
*अब :-* हम डबल-ट्रिपल फ़िल्...

(पूरा पढ़ें)
Like Tulsi Pranam +6 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 39 शेयर
Prakash Preetam Aug 18, 2018

*गुस्सा*
बंद दुकान में कहीं से घूमता फिरता एक सांप घुस गया। दुकान में रखी एक आरी से टकराकर सांप मामूली सा जख्मी हो गया।

घबराहट में सांप ने पलट कर आरी पर पूरी ताक़त से डंक मार दिया जिस कारण उसके मुंह से खून बहना शुरू हो गया।

अब की ब...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Like +3 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 18 शेयर

सौजन्य: ईशा योग सेंटर, सद्गुरु जी।

Pranam Belpatra Water +793 प्रतिक्रिया 66 कॉमेंट्स • 1374 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB