हे नाथ नारायण वासुदेवा राधे कृष्णा हे मुरली मनोहर भगवान आप जैसे गोवर्धन पर्वत उठाकर अपने भक्तों की रक्षा किया वैसे ही हमारे भारत भूमि को बचने की कृपा करना तु इतना अरदास है प्रभू जय श्री कृष्ण गोविन्द हरे मुरारी हे नाथ नारायण वासुदेवा राधे राधे

+9 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 20 शेयर

कामेंट्स

Sharma S.S Mar 29, 2020
Om Namo Bhagvatey Vasudeva Namah Jai Shri Radhe Krishna ji

+14 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 29 शेयर
Sharma May 10, 2020

+25 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 14 शेयर
Krishna Kumar May 10, 2020

+23 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 15 शेयर
Savita Vaidwan May 10, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 30 शेयर

+16 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 29 शेयर
Sunita Pawar May 10, 2020

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 14 शेयर
Sunita Pawar May 10, 2020

*“कैसे किया माता-पिता ने अपने पुत्रो का मार्गदर्शन?”* 🙏🏻🚩🌹 👁❗👁 🌹🚩🙏🏻 एक राजा और रानी थे, जिनकी प्रजा बहुत खुश थी, राजा-रानी ने सदैव प्रजा के हीत में कार्य किये | उनके दो पुत्र थे लव एवम कुश | दोनों के विचारों में बहुत मतभेद था जिस कारण वे दोनों सदा ही लड़ते रहते थे, दोनों बहुत बलवान एवम गुणी थे, लेकिन उनकी आपसी लड़ाई, राजा रानी के लिए चिंता का विषय था | दोनों पुत्रो को राज काज सम्भालना था ऐसे में उनके बीच मतभेद उनका ही शत्रु था | एक दिन, राजा-रानी ने दोनों को एक दुसरे के दृष्टिकोण को समझाने की योजना बनाई| लव और कुश को एक बाग़ में बुलवाया गया और उनकी आँख में पट्टी बाँधकर उन्हें बाग़ में बनी एक दीवार के पास ले जाया गया | उस दीवार की एक तरफ सूर्य की किरणे पढ़ने से वह गरम थी और दूसरी तरफ छाया होने से उस ओर ठंडक थी | लव और कुश को दीवार के विपरीत और खड़ा किया गया और पूछा गया कि उन्हें क्या अहसास हैं ठंडक या गरम | दोनों ने विपरीत जवाब दिए| अब उनकी जगह बदल कर उनसे वही सवाल किया गया फिर दोनों ने एक दुसरे के पूर्व दिए जवाब को दौहराया | अब उनकी पट्टी खोल कर उन्हें राजा ने समझाया हर परिस्थिती में हमारी व्यक्तिगत सोच भिन्न होती हैं पर एक दुसरे की स्थति को समझकर और अपने आप को उनकी जगह पर रख कर सोचे तब पता चलता हैं कि सामने वाले का कथन भी अनुचित नहीं था | उस दिन से लव और कुश ने एक दुसरे कि सोच को सम्मान दिया और राज्य के उत्तरदायित्व का सहकुशल वहन किया | मित्रों, कभी-कभी जीवन में सही निर्णय लेने के लिए अपने आपको को दुसरे कि जगह पर रखकर सोचना चाहिये | हमेशा खुद को सच मानना गलत हैं |जीवन एक दृष्टिकोण पर नहीं चलता भिन्न भिन्न परिवेश में भिन्न भिन्न लोगो का समावेश हैं अत: सबके विचारों का सम्मान करना ही सही जीवन हैं | विचार भिन्न होने के कारण शत्रुता बढ़ाना गलत हैं | 🌹🙏🏻🚩 *जय सियाराम* 🚩🙏🏻🌹 🚩🙏🏻 *जय श्री महाकाल* 🙏🏻🚩 🌹🙏🏻 *जय श्री पेड़ा हनुमान* 🙏🏻🌹 🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 6 शेयर
Y.R.Singh May 10, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB