Anju Mishra
Anju Mishra Dec 21, 2017

भीमशंकर ज्योतिर्लिंग की कैसे हुई स्थापना जाने इसका रहस्य।

भीमशंकर ज्योतिर्लिंग की कैसे हुई स्थापना जाने इसका रहस्य।

भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों में भीमाशंकर का स्थान छठा है। यह ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र के पुणे से लगभग 110 किमी दूर सहाद्रि नामक पर्वत पर स्थित है। इस ज्योतिर्लिंग की स्थापना के पीछे। कुंभकर्ण के पुत्र भीम की एक कथा प्रसिद्ध है।

ऐसे हुई थी यहां ज्योतिर्लिंग की स्थापना

कहा जाता है कि कुंभकर्ण के एक पुत्र का नाम भीम था। कुंभकर्ण को कर्कटी नाम की एक महिला पर्वत पर मिली थी। उसे देखकर कुंभकर्ण उस पर मोहित हो गया और उससे विवाह कर लिया। विवाह के बाद कुंभकर्ण लंका लौट आया, लेकिन कर्कटी पर्वत पर ही रही। कुछ समय बाद कर्कटी को भीम नाम का पुत्र हुआ। जब श्रीराम ने कुंभकर्ण का वध कर दिया तो कर्कटी ने अपने पुत्र को देवताओं के छल से दूर रखने का फैसला किया।

बड़े होने पर जब भीम को अपने पिता की मृत्यु का कारण पता चला तो उसने देवताओं से बदला लेने का निश्चय कर लिया। भीम ने ब्रह्मा जी की तपस्या करके उनसे बहुत ताकतवर होने का वरदान प्राप्त कर लिया। कामरूपेश्वप नाम के राजा भगवान शिव के भक्त थे। एक दिन भीम ने राजा को शिवलिंग की पूजा करते हुए देख लिया। भीम ने राजा को भगवान की पूजा छोड़ उसकी पूजा करने को कहा। राजा के बात न मानने पर भीम ने उन्हें बंदी बना लिया। राजा ने कारागार में ही शिवलिंग बना कर उनकी पूजा करने लगा। जब भीम ने यह देखा तो उसने अपनी तलवार से राजा के बनाए शिवलिंग को तोड़ने का प्रयास किया। ऐसा करने पर शिवलिंग में से स्वयं भगवान शिव प्रकट हो गए। भगवान शिव और भीम के बीच घोर युद्ध हुआ, जिसमें भीम की मृत्यु हो गई। फिर देवताओं ने भगवान शिव से हमेशा के लिए उसी स्थान पर रहने की प्रार्थना की। देवताओं के कहने पर शिव लिंग के रूप में उसी स्थान पर स्थापित हो गए। इस स्थान पर भीम से युद्ध करने की वजह से इस ज्योतिर्लिंग का नाम भीमशंकर पड़ गया।

Belpatra Pranam Bell +274 प्रतिक्रिया 20 कॉमेंट्स • 128 शेयर

कामेंट्स

Mani Rana Dec 21, 2017
Om Namah Shivaya ji good afternoon g

Lalchand Saini Dec 21, 2017
हर हर महादेव गुड नाइट

Dhanraj Maurya Oct 16, 2018

Om jai jai Om

Like Pranam Bell +13 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 249 शेयर

Lotus Pranam Like +89 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 836 शेयर
Dhanraj Maurya Oct 16, 2018

Om Jai Jai Om

Like Water Tulsi +7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 134 शेयर

जब भोजन करने बैठो, तो प्रभु को प्रणाम करके उसका धन्यवाद अवश्य करें ! मैं आपका दिव्य प्रसाद ग्रहण कर रहा हूं मुझे इस लायक बनाए रखना कि मैं अपनी कमाई खाऊं,पाप की कमाई घर में ना लाऊं ,उसमें बेगुनाहों का खून ना हो,किसी के बच्चे का हिस्सा ना मारू,जिसस...

(पूरा पढ़ें)
Jyot Pranam Like +226 प्रतिक्रिया 57 कॉमेंट्स • 500 शेयर
Aechana Mishra Oct 16, 2018

Like Pranam Flower +100 प्रतिक्रिया 21 कॉमेंट्स • 371 शेयर
Ashish shukla Oct 16, 2018

Like Bell Jyot +220 प्रतिक्रिया 128 कॉमेंट्स • 816 शेयर

Tulsi Like Belpatra +62 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 366 शेयर
Sushil Dhiman Oct 16, 2018

आठवाँ नवरात्रा'- मां महागौरी माता 🌹
_____________/\/\______________
महागौरी :- माँ दुर्गा का आठवां रूप है महागौरी। देवी पारवती का रंग सावला था और इसी कारन महादेव शिवजी उन्हें कालिके के नाम से पुकारा करते थे। बाद में माता पार्वती ने तपस्या किया जि...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Modak Dhoop +14 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 26 शेयर
harshita malhotra Oct 16, 2018

Like Pranam Jyot +125 प्रतिक्रिया 75 कॉमेंट्स • 557 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB