Ramit Singh
Ramit Singh Aug 28, 2017

🌷राधाष्टमी पर्व महोत्सव🌷

🌷राधाष्टमी पर्व महोत्सव🌷
🌷राधाष्टमी पर्व महोत्सव🌷

भाद्रपद माह की शुक्ल पक्ष की अष्टमी को राधाष्टमी के नाम से मनाया जाता है. इस वर्ष यह 29 अगस्त 2017, को मनाया जाएगा. राधाष्टमी के दिन श्रद्धालु बरसाना की ऊँची पहाडी़ पर पर स्थित गहवर वन की परिक्रमा करते हैं. इस दिन रात-दिन बरसाना में बहुत रौनक रहती है. विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है. धार्मिक गीतों तथा कीर्तन के साथ उत्सव का आरम्भ होता है.

🌷राधाष्टमी कथा | Radha Ashtami Story🌷
राधाष्टमी कथा, राधा जी के जन्म से संबंधित है. राधाजी, वृषभानु गोप की पुत्री थी. राधाजी की माता का नाम कीर्ति था. पद्मपुराण में राधाजी को राजा वृषभानु की पुत्री बताया गया है. इस ग्रंथ के अनुसार जब राजा यज्ञ के लिए भूमि साफ कर रहे थे तब भूमि कन्या के रुप में इन्हें राधाजी मिली थी. राजा ने इस कन्या को अपनी पुत्री मानकर इसका लालन-पालन किया.

इसके साथ ही यह कथा भी मिलती है कि भगवान विष्णु ने कृष्ण अवतार में जन्म लेते समय अपने परिवार के अन्य सदस्यों से पृथ्वी पर अवतार लेने के लिए कहा था, तब विष्णु जी की पत्नी लक्ष्मी जी, राधा के रुप में पृथ्वी पर आई थी. ब्रह्म वैवर्त पुराण के अनुसार राधाजी, श्रीकृष्ण की सखी थी. लेकिन उनका विवाह रापाण या रायाण नाम के व्यक्ति के साथ सम्पन्न हुआ था. ऎसा कहा जाता है कि राधाजी अपने जन्म के समय ही वयस्क हो गई थी. राधाजी को श्रीकृष्ण की प्रेमिका माना जाता है.

🌷राधाष्टमी पूजन | Radha Ashtami Worship🌷
राधाष्टमी के दिन शुद्ध मन से व्रत का पालन किय अजाता है. राधाजी की मूर्ति को पंचामृत से स्नान कराते हैं स्नान कराने के पश्चात उनका श्रृंगार किया जाता है. राधा जी की सोने या किसी अन्य धातु से बनी हुई सुंदर मूर्ति को विग्रह में स्थापित करते हैं. मध्यान्ह के समय श्रद्धा तथा भक्ति से राधाजी की आराधना कि जाती है. धूप-दीप आदि से आरती करने के बाद अंत में भोग लगाया जाता है. कई ग्रंथों में राधाष्टमी के दिन राधा-कृष्ण की संयुक्त रुप से पूजा की बात कही गई है.

इसके अनुसार सबसे पहले राधाजी को पंचामृत से स्नान कराना चाहिए और उनका विधिवत रुप से श्रृंगार करना चाहिए. इस दिन मंदिरों में 27 पेड़ों की पत्तियों और 27 ही कुंओं का जल इकठ्ठा करना चाहिए. सवा मन दूध, दही, शुद्ध घी तथा बूरा और औषधियों से मूल शांति करानी चाहिए. अंत में कई मन पंचामृत से वैदिक मम्त्रों के साथ “श्यामाश्याम” का अभिषेक किया जाता है. नारद पुराण के अनुसार ‘राधाष्टमी’ का व्रत करनेवाले भक्तगण ब्रज के दुर्लभ रहस्य को जान लेते है. जो व्यक्ति इस व्रत को विधिवत तरीके से करते हैं वह सभी पापों से मुक्ति पाते हैं.

🌷ब्रज और बरसाना में राधाष्टमी | Radha Ashtami in Braj and Barsana🌷
ब्रज और बरसाना में जन्माष्टमी की तरह राधाष्टमी भी एक बड़े त्यौहार के रूप में मनाई जाती है. वृंदावन में भी यह उत्सव बडे़ ही उत्साह के साथ मनाया जाता है. मथुरा, वृन्दावन, बरसाना, रावल और मांट के राधा रानी मंदिरों इस दिन को उत्सव के रुप में मनाया जाता है. वृन्दावन के ‘राधा बल्लभ मंदिर’ में राधा जन्म की खुशी में गोस्वामी समाज के लोग भक्ति में झूम उठते हैं. मंदिर का परिसर “राधा प्यारी ने जन्म लिया है, कुंवर किशोरी ने जन्म लिया है” के सामूहिक स्वरों से गूंज उठता है.

मंदिर में बनी हौदियों में हल्दी मिश्रित दही को इकठ्ठा किया जाता है और इस हल्दी मिली दही को गोस्वामियों पर उड़ेला जाता है. इस पर वह और अधिक झूमने लगते हैं और नृत्य करने लगते हैं.राधाजी के भोग के लिए मंदिर के पट बन्द होने के बाद, बधाई गायन के होता है. इसके बाद दर्शन खुलते ही दधिकाना शुरु हो जाता है. इसका समापन आरती के बाद होता है.

🌷राधाष्टमी महत्व | Importance of Radha Ashtami🌷
वेद तथा पुराणादि में राशाजी का ‘कृष्ण वल्लभा’ कहकर गुणगान किया गया है, वही कृष्णप्रिया हैं. राधाजन्माष्टमी कथा का श्रवण करने से भक्त सुखी, धनी और सर्वगुणसंपन्न बनता है, भक्तिपूर्वक श्री राधाजी का मंत्र जाप एवं स्मरण मोक्ष प्रदान करता है. श्रीमद देवी भागवत श्री राधा जी कि पूजा की अनिवार्यता का निरूपण करते हुए कहा है कि श्री राधा की पूजा न की जाए तो भक्त श्री कृष्ण की पूजा का अधिकार भी नहीं रखता. श्री राधा भगवान श्री कृष्ण के प्राणों की अधिष्ठात्री देवी मानी गई हैं.

Fruits Sindoor Pranam +694 प्रतिक्रिया 43 कॉमेंट्स • 469 शेयर

कामेंट्स

vidya Aug 28, 2017
thnk yu apne yad diya diya ye vart me hr sal rkhtihu

prashant tadwalkar Aug 28, 2017
श्री भगवान श्रीकृष्ण के बहुत कहानिया भक्तगण पढ चुके है।पुज्यनिय राधा जी की विस्तरिय माहिती के लिये सादर प्रणाम।

A K Sarin Aug 29, 2017
जय श्री राधे कृष्ण .

S.B. Yadav Aug 29, 2017
JAI JAI SHRI RADHA MAHARANI JAI JAI MAA

Ramkumar Verma Oct 19, 2018

Good morning to all friend

Flower Bell Pranam +19 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 679 शेयर
Thakur Ajit Singh Oct 19, 2018

Like Pranam Bell +75 प्रतिक्रिया 14 कॉमेंट्स • 48 शेयर

Pranam Flower Tulsi +9 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 30 शेयर
Dr. Janhavi ojha Oct 19, 2018

Pranam Flower Lotus +61 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 25 शेयर
B kr tiwari Oct 19, 2018

Like +1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 6 शेयर
Bajarangi singh Oct 19, 2018

Like Jyot Flower +30 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 14 शेयर
Rajkumar Kedia Oct 19, 2018

Pranam Belpatra +2 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 23 शेयर
santosh gupta Oct 19, 2018

Sri shiv shyam mandir hata ram saas sader lucknow 226001

Jyot Tulsi Like +27 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 13 शेयर
Sunil Jhunjhunwala Oct 19, 2018

हनुमान जी का आशीर्वाद सदैव आप लोगो पर बना रहे : जय श्री राम

Good Morning : Sunil Jhunjhunwala

Dhoop Fruits Bell +18 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 65 शेयर
Samir Pratap Singh Oct 19, 2018

एक बार फिर रावण जल गया।
हमारा मन नहीं भरता, बार बार जलाते हैं।
रावण जलाते हैं, ताकि हम पर सवाल खड़े ना हो जाएं।
रावण जलता है, मन खिन्न और उदास हो जाता है, विद्वता का ऐसा अंत ?
रावण के साथ ज्ञान की परंपरा का भी दहन हो जाता है।
ज्ञान से उपजे वैभव का...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Water Like +37 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 72 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB