न माधवसमो मासो न कृतेन युगं समम्। न च वेदसमं शास्त्रं न तीर्थं गङ्गया समम्।। वैशाख के समान कोई मास नहीं है, सतयुग के समान कोई युग नहीं है, वेद के समान कोई शास्त्र नहीं है और गंगाजी के समान कोई तीर्थ नहीं है। इस मास को भगवान विष्णु के नाम 'माधव' से भी जाना जाता है। वैशाख मास को ब्रह्मा जी ने सब मासों में उत्तम सिद्ध किया है। जब सूर्य मीन राशि से मेष राशि में संक्रमण करते हैं तब यह काल मेष–संक्रान्ति कहलाता है और तब से सौर वैशाख मास का प्रारंभ होता है। इसी संक्रान्ति को भगवान् सूर्य उत्तरायण की आधी यात्रा पूर्ण करते हैं। वैशाखी (बिखौती-पर्व) की हार्दिक शुभकामना।

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Ramesh Soni.33 May 4, 2021

+155 प्रतिक्रिया 62 कॉमेंट्स • 14 शेयर
सुनील May 6, 2021

+15 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 0 शेयर
सुनील May 6, 2021

+14 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Vinay Mishra May 6, 2021

+275 प्रतिक्रिया 54 कॉमेंट्स • 134 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB