Archana Singh
Archana Singh May 2, 2021

Jai Shree radhe Krishna ji subh ratri vandan ji 🙏🌹🌹🙏🙏🌹🌹🙏🙏🌹🌹🙏🙏🌹🌹🙏

+171 प्रतिक्रिया 30 कॉमेंट्स • 120 शेयर

कामेंट्स

sanjay choudhary May 2, 2021
जय श्री कृष्णा।।।। जय श्री राम ।।।। आपकी रात्रि शुभ रहे।।।🙏🙏

Narendra 🙏🙏🙏 May 2, 2021
good night hare Krishna ji be happy ji apka har pal subh av mangalmay ho ji namaskar ji

Gajendrasingh kaviya May 2, 2021
Radhe Radhe good night sweet dreams my sweet sis 🌹🌷🌷🌷🌷🌷 aap sada khush raho my pyari bena 🙏🌹🌹

Madhuben patel May 2, 2021
Jay Shree Krishna Jiii Good Night Sweet Dreams My Dear Sister Jiii

Nirmala May 2, 2021
Radha Raman Sarkar ki Jay Ho 🙏

prem May 2, 2021
Radhey Radhey Ji 🙏🙏🌹🌹 shubh ratri 🙏🙏

Anilkumar Marathe May 2, 2021
जय श्रीकृष्ण नमस्कार खुशियो की सदाबहार आदरणीय प्यारी अर्चना जी !! 🌹गुलाब खिलते रहे ज़िंदगी की राह् में, हँसी चमकती रहे आप कि निगाह में खुशी कि लहर मिलें हर कदम पर आपको, कभी ना हो कांटों का सामना और कामयाबी के हर सिखर पर आपका नाम हो, भगवान आपकी कोरोना वायरस एवम आनेवाले सभी संकटो से रक्षा करे यही हमारी शुभकामनाएं 🌹आपका हर काम सफल हो, शुभ रात्रि वंदन जी।

Anju Mishra May 2, 2021
राधे राधे बहना शुभ रात्रि 👍🙏

RAJ RATHOD May 2, 2021
🌅🚩🌞ॐ-सूर्यदेवाय-नमः🌞🚩🌅 आप👧👦 तथा आपके परिवार👨‍👩‍👧‍👦👭 को सुर्यदेव 🌞का शुभ दिन रविवार की रात्रि का राम राम 🙏🙏 🌅सुर्यदेव आप सभी 👨‍👩‍👧‍👦 के जीवन को प्रकाशमय 💫 एवं खुशहाल 🏃💃रखे 🌺🌺

Mansing bhai Sumaniya May 2, 2021
शुभ रात्रि बहेन जी🥀 ॐ नमः शिवाय🙏

Khushi sharma May 14, 2021

+11 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 1 शेयर
savi Choudhary May 14, 2021

+174 प्रतिक्रिया 30 कॉमेंट्स • 329 शेयर
Aastha 🌹 May 14, 2021

+30 प्रतिक्रिया 14 कॉमेंट्स • 24 शेयर
Aastha 🌹 May 14, 2021

+32 प्रतिक्रिया 14 कॉमेंट्स • 64 शेयर
Ashwinrchauhan May 13, 2021

+75 प्रतिक्रिया 32 कॉमेंट्स • 34 शेयर
Dolly Rawal May 13, 2021

+16 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 42 शेयर
Shanti pathak May 14, 2021

**जय श्री राधे कृष्णा जी** **शुभरात्रि वंदन** *सदैव सकारात्मक रहें* महाराज दशरथ को जब संतान प्राप्ति नहीं हो रही थी तब वो बड़े दुःखी रहते थे...पर ऐसे समय में उनको एक ही बात से हौंसला मिलता था जो कभी उन्हें आशाहीन नहीं होने देता था... और वह था श्रवण के पिता का श्राप.... दशरथ जब-जब दुःखी होते थे तो उन्हें श्रवण के पिता का दिया श्राप याद आ जाता था... (कालिदास ने रघुवंशम में इसका वर्णन किया है) श्रवण के पिता ने ये श्राप दिया था कि ''जैसे मैं पुत्र वियोग में तड़प-तड़प के मर रहा हूँ वैसे ही तू भी तड़प-तड़प कर मरेगा.....'' दशरथ को पता था कि ये श्राप अवश्य फलीभूत होगा और इसका मतलब है कि मुझे इस जन्म में तो जरूर पुत्र प्राप्त होगा.... (तभी तो उसके शोक में मैं तड़प के मरूँगा) यानि यह श्राप दशरथ के लिए संतान प्राप्ति का सौभाग्य लेकर आया.... ऐसी ही एक घटना सुग्रीव के साथ भी हुई.... वाल्मीकि रामायण में वर्णन है कि सुग्रीव जब माता सीता की खोज में वानर वीरों को पृथ्वी की अलग - अलग दिशाओं में भेज रहे थे.... तो उसके साथ-साथ उन्हें ये भी बता रहे थे कि किस दिशा में तुम्हें कौन सा स्थान या देश मिलेगा और किस दिशा में तुम्हें जाना चाहिए या नहीं जाना चाहिये.... प्रभु श्रीराम सुग्रीव का ये भगौलिक ज्ञान देखकर हतप्रभ थे... तो सुग्रीव ने उनसे कहा कि..."मैं बाली के भय से जब मारा मारा फिर रहा था तब पूरी पृथ्वी पर कहीं शरण न मिली... और इस चक्कर में मैंने पूरी पृथ्वी छान मारी और इसी दौरान मुझे सारे भूगोल का ज्ञान हो गया..." अब अगर सुग्रीव पर ये संकट न आया होता तो उन्हें भूगोल का ज्ञान नहीं होता और माता जानकी को खोजना कितना कठिन हो जाता... इसीलिए किसी ने बड़ा सुंदर कहा है :- "अनुकूलता भोजन है ,प्रतिकूलता विटामिन है और चुनौतियाँ वरदान हैं और जो उनके अनुसार व्यवहार करें ...वही पुरुषार्थी है..." ईश्वर की तरफ से मिलने वाला हर एक पुष्प अगर वरदान है....तो हर एक कांटा भी वरदान ही समझें.... मतलब आज मिले सुख से आप खुश हो तो...कभी अगर कोई दुख,विपदा,अड़चन आ जाये ...तो घबरायें नहीं...क्या पता वो अगले किसी सुख की तैयारी हो....*एक दिन* *एक दिन* सभी न्यूज चैनल पर आप देखेंगे कि आज कोई भी कोरोना का केस पूरे देश में नहीं आया। *एक दिन* आप पढ़ेंगे कि आज कोरोना के कारण कोई नहीं मरा। *एक दिन* हम देखेंगे कि एयरपोर्ट/ रेलवे स्टेशन पर वही लम्बी कतारें। *एक दिन* हम देखेंगे कि हमारे बच्चे फिर से स्कूल बस और वैन से स्कूल जा रहे हैं । *एक दिन* हम फिर देखेंगे सिनेमा हाल पर लगा हाउस फूल का बोर्ड। *एक दिन* हम फिर एक दूसरे से गले लगेंगे और शादियों में समारोहों में नाचेंगे एक साथ। हम सबको बस उसी दिन का इंतजार है। हम सब मानव इतिहास के सबसे मुश्किल समय का सामना कर रहे हैं परंतु यह एक Time Phase है जो गुजर जायेगा। हमें बस अपने आपको प्रेरित करना है कि दूसरों कि मदद हम किस प्रकार करें या पहुंचाये या हम कम से कम कुछ ना भी करें तो गलत या बुरी खबरों को न फैलायें, या किसी भी तरह की कालाबाजारी में संलिप्त न हो। किसी कवि ने क्या खूब कहा है दिल नाउम्मीद नहीं, नाकाम ही तो है , लम्बी है गम की शाम, मगर शाम ही तो है, सदैव साकारात्मक रहें

+222 प्रतिक्रिया 60 कॉमेंट्स • 335 शेयर
Aastha 🌹 May 13, 2021

+65 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 34 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB