काशी खण्डोक्त श्री अगस्तेश्वर महादेव जी के अभी के लाइव दर्शन @ श्री महाक्षेत्र काशी

+13 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर

+28 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Anilkumar Tailor Oct 29, 2020

+12 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 31 शेयर
Ravi Kumar Taneja Oct 29, 2020

🕉️🕉️🕉️जिनका नाम मात्र लेने से , कट जाए सारी बाधा🕉️🕉️🕉️ वही तो महामंत्र है *श्रीराधा💜🔯 श्रीराधा💜🔯 श्रीराधा💜🔯 हरे कृष्णा🌹🔯 हरे कृष्णा🌹🔯 कृष्णा कृष्णा हरे हरे🌹🔯। हरे राम🌹🔯 हरे राम🌹🔯 राम राम हरे हरे🌹🔯।। ❤️❤️🙏🏻राधे-राधे नमन प्रभु के भक्तों🙏🏻❤️❤️ *💟ढाई अक्षर💟* ढाई अक्षर के ब्रह्मा🍁 और ढाई अक्षर की सृष्टि🍁। ढाई अक्षर के विष्णु☘️ और ढाई अक्षर की लक्ष्मी☘️ ढाई अक्षर के कृष्ण🌷 और ढाई अक्षर की कान्ता🌷।(राधा रानी का दूसरा नाम) ढाई अक्षर की दुर्गा🐾 और ढाई अक्षर की शक्ति🐾 ढाई अक्षर की श्रद्धा🌸 और ढाई अक्षर की भक्ति🌸 ढाई अक्षर का त्याग🥀 और ढाई अक्षर का ध्यान🥀 ढाई अक्षर की तुष्टि🧡 और ढाई अक्षर की इच्छा🧡 ढाई अक्षर का धर्म💐 और ढाई अक्षर का कर्म💐। ढाई अक्षर का भाग्य💫 और ढाई अक्षर की व्यथा💫 ढाई अक्षर का ग्रन्थ🌟 और ढाई अक्षर का सन्त🌟 ढाई अक्षर का शब्द💯 और ढाई अक्षर का अर्थ💯 ढाई अक्षर का सत्य💥 और ढाई अक्षर की मिथ्या💥 ढाई अक्षर की श्रुति🌻 और ढाई अक्षर की ध्वनि🌻 ढाई अक्षर की अग्नि🏵️ और ढाई अक्षर का कुण्ड🏵️ ढाई अक्षर का मन्त्र🌱 और ढाई अक्षर का यन्त्र🌱 ढाई अक्षर की श्वांस🌿 और ढाई अक्षर के प्राण🌿 ढाई अक्षर का जन्म🌴 ढाई अक्षर की मृत्यु🌴 ढाई अक्षर की अस्थि🌀 और ढाई अक्षर की अर्थी🌀 ढाई अक्षर का प्यार💝 और ढाई अक्षर का युद्ध🖤 ढाई अक्षर का मित्र💖 और ढाई अक्षर का शत्रु🖤 ढाई अक्षर का प्रेम💞 और ढाई अक्षर की घृणा🖤 *🔯🔯🔯जन्म से लेकर मृत्यु तक* *हम बंधे हैं ढाई अक्षर में।*🔯🔯🔯 *🌟🌟🌟हैं ढाई अक्षर ही वक़्त में,* *और ढाई अक्षर ही अन्त में।🌟🌟🌟 *🙏🙏🙏समझ न पाया कोई भी* *है रहस्य क्या ढाई अक्षर में।🙏🙏🙏

+89 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 81 शेयर
Asha Shrivastava Oct 29, 2020

+54 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 94 शेयर
Asha Oct 29, 2020

+7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर

🌷 जय श्री हरि विष्णु 🌷 मूकं करोति वाचालं पंगुलंघयतेगिरिम्। यत्कृपा तंहम् वन्दे परमानन्दं माधवम्।। शान्ताकारं भुजगशयनं पद्मनाभं सुरेशं विश्वाधारंम गगनसदृशं मेधवर्णं शुभांगम्। लक्ष्मीकान्तं कमलनयनं योगिभिध्र्यानगम्यं वन्देविष्णुं भवभयहरं सर्वलोकैकनाथम्।। #अपवित्र_होने_के_बाद_भी_ये_पवित्र_मानी_जाती_हैं विष्णु स्मृति के अनुसार हिन्दू धर्म में कुछ अपवित्र चीजों को भी पवित्र माना गया है। जो हमें पशु, पक्षी और कीड़ों के मल, उच्छिष्ट ( उल्टी ) और उनके मरने से मिलती है। जैसे गाय का दूध पहले बझड़ा उसे जूठा कर देता है फिर हमें दूध मिलता है, लेकिन गाय के दूध को पांच अमृतों में एक माना गया है। साथ ही इसका उपयोग देवी-देवताओं के अभिषेक के लिए किया जाता है और दूध से खीर और घी बनाते हैं जिनको नैवेद्य के रुप में भगवान को चढ़ाया जाता है। इसके अलावा और भी चीजें हैं जो अपवित्र होकर मिलती है लेकिन भगवान की पूजा में उन्हें पवित्र माना गया है। श्लोक – उच्छिष्टं शिवनिर्माल्यं वमनं शवकर्पटम् । काकविष्टा ते पञ्चैते पवित्राति मनोहरा॥ उच्छिष्ट, शिव निर्माल्यं, वमनम्, शव कर्पटम्, काकविष्टा, ये पांचो चीजे अपवित्र होते हुए भी पवित्र है। 1. #उच्छिष्ट – गाय का दूध पहले उसका बछड़ा पीकर उच्छिष्ट करता है यानी झूठा करता है। इसके बाद भी वह अपवित्र नहीं माना जाता है। अपवित्र नहीं होने के कारण गाय के दूध को अमृत भी कहा जाता है। 2. #वमनम् – मधुमक्खी जब फूलों का रस ले कर अपने छत्ते पर आती है तब वो अपने मुख से उसे निकालती है यानी उस रस की उल्टी करती है। जिससे शहद बनता है और उसे फिर भी पवित्र माना जाता है। शहद का उपयोग मांगलिक कामों में किया जाता है। पांच अमृतों में शहद को भी एक माना गया है। 3. #शव_कर्पटम् – रेशमी वस्त्र मांगलिक कामों और पूजा-पाठ में होना जरूरी है। रेशमी वस्त्र को भी पवित्र माना गया है, लेकिन रेशम को बनाने के लिये उसको उबलते पानी मे डाला जाता है और इससे उसमें रहने वाला रेशम का कीड़ा मर जाता है। उसके बाद रेशम मिलता है तो इस प्रकार शव कर्पट हुआ लेकिन यह फिर भी पवित्र है। 4. #काक_विष्टा – कौवा पीपल आदि पेड़ों के फल खाता है और उन पेड़ों के बीज अपनी विष्टा यानी मल में इधर उधर छोड़ देता है जिससे पेड़ों की उत्पत्ति होती है। पीपल भी काक विष्ठा यानी कौए के मल में निकले बीजों से उत्पन्न होता है। फिर भी इसको पवित्र माना गया है। पीपल पर देवताओं और पितरों का निवास भी माना गया है। जय श्री हरि विष्णु

+228 प्रतिक्रिया 41 कॉमेंट्स • 162 शेयर
isha Anshwal Oct 29, 2020

+13 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB