पानिपत मध्ये का झाला मराठ्यांचा पराभव

पानिपत मध्ये का झाला मराठ्यांचा पराभव
पानिपत मध्ये का झाला मराठ्यांचा पराभव
पानिपत मध्ये का झाला मराठ्यांचा पराभव
पानिपत मध्ये का झाला मराठ्यांचा पराभव

"पानिपतमध्‍ये मराठ्यांचा का झाला होता दारूण पराभव? ही आहेत महत्त्वाची 10 कारणे


पुणे- 14 जानेवारी 1761 रोजी तिस-या पानिपत युद्धात मुघलांकडून लढणा-या मराठ्यांचा दारुण पराभव झाला होता. त्‍याला 257 वर्षे झालीत. अटकेपार झेंडे रोवणा-या मराठ्यांना एवढा मोठा पराभव का स्‍वीकारावा लागला, या युद्धाच्यानंतर भारतीय राजकारणावर काय परिणाम झाला, याचा divyamarathi.com ने घेतलेला हा धांडोळा...
पानिपतमध्‍ये झाली तीन युद्धे-
पानिपत- भारताच्‍या इतिहासाशी घट्ट नाते असलेले शहर. या शहराच्‍या आसपास इतिहासातील तीन युद्धे झाली. पहिले युद्ध 1526 मध्‍ये दिल्लीचा सुलतान इब्राहिम लोधी आणि बाबर, दुसरे 1556 मध्‍ये हेमू आणि मुघल आणि तिसरे 1761 मध्‍ये अब्‍दाली आणि मराठे यांच्‍यात. तिस-या युद्धात अब्‍दाली हा मुघलांवर चाल करून आला होता. मुघलांच्‍या संरक्षण करारामुळे मराठ्यांना लढावे लागले. यात मराठ्यांचा, मुघलांचा दारुण पराभव झाला होता.
पुढील स्‍लाईड्सवर जाणून घ्‍या, या पराभवाची कारणे...

1. छत्रपती नामधारी, पेशवे चंगळवादी, मुघल बादशाह‍ कठपुतळी

- छत्रपती शिवाजी महाराज आणि संभाजी महाराज यांच्‍यानंतर भोसले घराण्‍यात कर्तबगार छत्रपतीच झाला नाही. महाराणी ताराराणीनंतर छत्रपती केवळ नामधारी राजे बनले होते. त्‍यांचे पंतप्रधान असलेल्‍या पेशव्‍यांकडेच स्‍वराज्‍याची सर्व सूत्रे होती.
- इकडे थोरला बाजीरावांनंतर पेशव्‍यामध्‍येही कुणी कर्तबगार पेशवा झाला नाही. श्रीमंत पेशवे घरण्‍यातील कर्ते पुरुष चंगळवादाकडे झुकले.
- समस्‍त भारतावर आपले राज्‍य असल्‍याचा दावा करणाऱ्या मुघल साम्राज्‍यालाही सम्राट औरंगजेबानंतर उतरळती कळा लागली होती. भारतीय उपखंडावर सत्‍ता गाजवलेल्‍या औरंगजेबानंतरचे मोघल बादशहा केवळ कठपुतळी बनले होते.
- एकूणच प्रजेचे हक्‍क, त्‍यांना मूलभूत सुविधा पुरवणे या भावनेचा दिल्‍लीपासून ते नागपूर-पुण्‍यापर्यंत शिवोत्तर काळात ऱ्हास होत गेला.
- मराठा सरदारांमध्‍येच तेढ निर्माण झाले. ते एकमेकांडे शत्रू म्‍हणून पाहू लागले.
पुढील स्‍लाईडसवर वाचा,मुघलांमध्‍ये फूट, अब्‍दालीला आंमत्रण

2. मुघलांमध्‍ये फूट, रोहिल्‍यांना आंमत्रण

- मुघल मुस्‍लीम असले तरीही त्‍यांनी कधी हिंदूच्‍या धार्मिक अस्मितेवर घाला घातला नाही. बहुसंख्‍य हिंदूची धार्मिक भावना जपली तरच आपण शासक राहू हे त्‍यांना चांगलेच माहिती होते.
- हीच बाबत मुघलांमध्‍ये जिहाद्दी वृत्‍ती असलेल्‍या काहींना खटकत होती. त्‍यातूनच शाह वलीउल्लाह या कट्टरपंथी जिहादी विचारांच्या हाजीने मुघलांविरुद्ध प्रचार करण्‍यास सुरुवात केली.
- भारतातील मुस्लीम शासक हे हिंदूंच्या संगतीने नाकर्ते झालेत. त्‍यामुळे त्‍यांना धडा शिकवण्‍यासाठी या असा निरोप त्‍याने आणि इतर जिहाद्दी वृत्‍तीच्‍या काही मुघल अधिकाऱ्यांनी रोहिल्‍यांना पाठवला. त्‍यात त्‍यांना उच्‍चपदाची लालसाही होती.
- यातूनच पहिल्‍यांदा नादिरशहाने दिल्लीत धडक दिली. हजारो निष्‍पांना त्‍याने ठार केले. यात केवळ हिंदूच होते असे नाही तर मुस्लीमही बहुसंख्‍य होते. सलग 380 वर्षे एकहाती सत्‍ता असलेल्‍या मोघलांची संपत्‍ती नादिरशहाने लुटली. मोगलशाही खिळखिळी झाली.
- येथेच पानिपतच्‍या पराभवाचे बीज रोवले गेले.
पुढील स्‍लाईडवर वाचा,मराठ्यांनी उत्‍तरेत गमावले आपले स्‍थान...

3. मराठ्यांनी उत्‍तरेतील आपले आदराचे स्‍थान गमावले

- शिवकाळात आदराचे स्‍थान असलेल्‍या मराठ्यांनी मोघलांच्‍या या दुबळेपणाचा फायदा घेण्‍यासाठी उत्‍तरेकडे स्‍वाऱ्या वाढवल्‍या.
- मुघल आणि इतर राज्‍यांत धुडगूस घालून त्‍यांना लुटण्‍यावर भर दिला.
- परिणामी, उत्‍तरेकडील लोकांच्‍या मनात मराठ्यांविषयी असलेली अस्‍था कमी होत गेली.
- त्‍यामुळेच पानिपतच्‍या लढाईत एकाकी पडलेल्‍या मराठ्यांना उत्‍तरेतील सरदारांकडून काहीही मदत मिळाली नाही.
पुढील स्‍लाईडवर वाचा,मुघल बादशाहाची बघ्‍याची भूमिका

4. मुघल बादशाहाची बघ्‍याची भूमिका

- मुघलांचे दिल्‍लीचे तख्‍त अबाधित राहावे, यासाठी मराठे लढाईत उतरले होते.
- परंतु, त्यावेळीच्‍या ज्‍या स्वयंघोषित बादशहासाठी त्‍यांनी रक्‍त सांडले त्‍यांनी केवळ बिहारमध्‍ये लपून राहून बघ्‍याची भूमिका घेतली.
- शिवकाळानंतर मराठ्यांनी उत्‍तरेकडील केलेल्‍या लुटमारीमुळे उत्‍तरेकडील एकाही सरदार मदतीला आला नाही.
- त्‍याचा परिणाम युद्धात भोगावा लागला.
पुढील स्‍लाईडवर वाचा,अनुभवी राघोबादादांऐवजी सदाशिव भाऊंवर जबाबदारी

5. अनुभवी राघोबादादांऐवजी सदाशिव भाऊंवर जबाबदारी

- तिसऱ्या पानिपत यापूर्वीही अब्‍दालीने दिल्‍लीवर स्‍वारी केली होती. अगोदरच्‍या युद्धात त्‍याचा पाठलाग करताना राघोबादादा यांच्‍या नेतृत्‍वात होळकर आणि शिंद्यांनी अटकेतील किल्‍ला जिंकला होता.
- एकूणच काय तर राघोबादादांना उत्‍तेरेकडील मोहिमेचा अनुभव होता.
- परंतु, नानासाहेब पेशव्यांनी अनुभवी राघोबादादांऐवजी सदाशिवभाऊंकडे पानिपत युद्धाचे नेतृत्‍व सोपवले.
- विशेष म्‍हणजे भाऊंना यापूर्वी युद्धाचा प्रत्‍यक्ष काहीही अनुभव नव्‍हता.
- नानासाहेबांच्‍या या चुकीच्‍या निर्णयाची खूप मोठी किंमत चुकवावी लागली.
पुढील स्‍लाईडवर वाचा,मराठ्यांत वाढला जातीयवाद, पडली फूट

6. मराठ्यांत वाढला जातीयवाद, पडली फूट

- या काळात मराठा सरदारांमध्‍ये दरी वाढतच होती.
- जातीयवादाला खत-पाणी मिळत होते.
- शिंदे-होळकर हे प्रमुख सरदार एकमेकांकाचे कट्टर शत्रू झाले होते.
- ब्राह्मण-ब्राह्मणेतर वाद येथूनच पेटला.
- 'पेशवे ब्राह्मण असल्‍याने ते धोतरे बडवावयास लावतील', असे 1757 च्या पत्रात मल्हारराव होळकरांनी दत्ताजी शिंदे यांना लिहिले.
- तर पेशव्यांनी अन्यत्र "शुद्र मातला आहे..." असे नमूद केले.
- त्‍यामुळे जातीयवाद वाढतच गेला.
- याचा परिणाम प्रत्‍यक्ष रणभूमित दिसला.
पुढील स्‍लाईडवर वाचा,मराठे लढाईसाठी नव्‍हे तर तीर्थयात्रेच्‍या मोहिमेवर

7. मराठे लढाईसाठी नव्‍हे तर तीर्थयात्रेच्‍या मोहिमेवर

- मराठे हे प्रत्‍यक्षात लढाईपेक्षा तीर्थयात्रेच्‍या भावनेने पानिपतच्‍या मोहिमेवर गेले.
- त्‍यामुळे मराठा सैनिकांची संख्‍या जरी लाखो दिसत असली तरी त्‍यात सैनिक कमी आणि यात्रेकरूच अधिक होते.
- परिणामी, प्रवास संथ गतीने झाला.
- अब्दालीने यापूर्वीही स्‍वारी केली होती आणि तो तत्‍काळ निघून गेला. याही वेळी तसेच होईल, असा अंदाज सदाशिवभाऊंनी बांधला.
- त्‍यामुळे लढाई नाही तर तिर्थयात्रा तरी होईल, असे वाटल्‍याने अनेक जण मोहिमेवर आले.
पुढे वाचा,अन्‍न पाणीच मिळाले नाही

8. अन्‍न पाणीच मिळाले नाही

- सैनिकापेक्षा यात्रेकरूच अधिक असल्‍याने मराठे कमकुवत झाले.
- त्‍यांना उत्‍तरेत काहीही मदत मिळाली नाही.
- जवळची शिदोरी संपली होती.
- अब्‍दानीने त्‍यांच्‍या अन्‍न-पाण्‍याचा पुरवठाही बंद केला.
- त्‍यामुळे लढाई न होताच अन्‍न पाण्‍यावाचून अनेक मराठ्यांचा मृत्‍यू झाला.
पुढे वाचा,तीर्थयात्रेनेच केला घात

9. तीर्थयात्रेनेच केला घात

- कुंजपुऱ्यातून मराठे कुरुक्षेत्राकडे तीर्थयात्रा करायला निघाले.
- ही बातमी अब्‍दालीला कळाली.
- त्‍याने पानिपत जवळ यमुना ओलांडून त्‍यांना घेरले.
- अचानक झालेल्‍या या हल्‍ल्‍यामुळे मराठ्यांना पळता भुई थोडी झाली.
पुढील स्‍लाईडवर वाचा,सदाशिवभाऊंकडे काहीच योजना नव्‍हती..

10.सदाशिवभाऊंकडे काहीच योजना नव्‍हती

- रोहिल्‍यांनी पूर्व नियोजित हल्‍ला केला.
- तो मराठ्यांना अनपेक्षित होता.
- उलट सदाशिवभाऊंकडे कुठलीच योजना नव्‍हती.
- त्‍यामुळे मराठ्यांचा पराभव झाला.
पुढे वाचा,या युद्धाचा भारतावर काय परिणाम झाला ?

11. या युद्धाचा भारतावर काय परिणाम झाला?

- मराठ्यांचे मोठे नुकसान झालेच, पण मोगलाईसुद्धा मोडकळीस आली.
- मोगलांचा भारतातील इतर हिंदू-मुस्‍लीम सरदारांवरील वचक कमी झाला.
- हीच वेळ इंग्रजांनी साधली, आपले पाय मजबूत केले.
- दिल्लीचा तख्त पारतंत्र्य गेला. इंग्रजांची गुलामी स्वीकारायची वेळ भारतावर आली.
- धर्म-जात या विषचे बिजं पेरले गेले.
- मराठेही जातीयवादात फसत गेले. अगोदर केवळ मावळे म्‍हणून लढणारे आता जातीत अडकून पडले होते.
शेअर करा....

+47 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 23 शेयर

कामेंट्स

हम मनुष्यों की एक सामान्य सी आदत है कि दुःख की घड़ी में विचलित हो उठते हैं और परिस्थितियों का कसूरवार भगवान को मान लेते हैं। भगवान को कोसते रहते हैं कि 'हे भगवान हमने आपका क्या बिगाड़ा जो हमें यह दिन देखना पड़ रहा है।' गीता में श्री कृष्ण ने कहा है कि "जीव बार-बार अपने कर्मों के अनुसार अलग-अलग योनी और शरीर प्राप्त करता है। यह सिलसिला तब तक चलता है जब तक जीवात्मा परमात्मा से साक्षात्कार नहीं कर लेता। इसलिए जो कुछ भी संसार में होता है या व्यक्ति के साथ घटित होता है उसका जिम्मेदार जीव खुद होता है।" संसार में कुछ भी अपने आप नहीं होता है, हमें जो कुछ भी प्राप्त होता है वह कर्मों का फल है। ईश्वर तो कमल के फूल के समान है जो संसार में होते हुए भी संसार में लिप्त नहीं होता है। ईश्वर न तो किसी को दुःख देता है और न सुख। इस संदर्भ में एक कथा प्रस्तुत हैः- गौतमी नामक एक शाक्य वृद्धा थी, जिसका एक मात्र सहारा उसका पुत्र था। शक्या अपने पुत्र से अत्यंत स्नेह करती थी, एक दिन एक सर्प ने शक्या के पुत्र को डंस लिया। पुत्र की मृत्यु से शाक्य व्रद्धा व्याकुल होकर विलाप करने लगी। पुत्र को डंसने वाले सांप के ऊपर उसे बहुत क्रोध आ रहा था। सर्प को सजा देने के लिए शक्या ने एक सपेरे को बुलाया। सपेरे ने सांप को पकड़ कर शक्या के सामने लाकर कहा कि इसी सांप ने तुम्हारे पुत्र को डंसा है, इसे मार दो। शक्या ने संपरे से कहा कि इसे मारने से मेरा पुत्र जीवित नहीं होगा, सांप को तुम्ही ले जाओ और जो उचित समझो सो करो। सपेरा सांप को जंगल में ले आया, सांप को मारने के लिए सपेरे ने जैसे ही पत्थर उठाया, सांप ने कहा मुझे क्यों मारते हो, मैंने तो वही किया जो काल ने कहा था। सपेरे ने काल को ढूंढा और बोला तुमने सर्प को शक्या के बच्चे को डंसने के लिए क्यों कहा। काल ने कहा 'शक्या के पुत्र का कर्म फल यही था, मेरा कोई कसूर नहीं है। सपेरा कर्म के पहुंचा और पूछा तुमने ऐसा बुरा कर्म क्यों किया। कर्म ने कहा 'मुझ से क्यों पूछते हो, यह तो मरने वाले से पूछो' मैं तो जड़ हूं। इसके बाद संपेरा शक्या के पुत्र की आत्मा के पास पहुंचा। आत्मा ने कहा सभी ठीक कहते हैं, मैंने ही वह कर्म किया था जिसकी वजह से मुझे सर्प ने डंसा, इसके लिए कोई अन्य दोषी नहीं है। महाभारत के युद्ध में अर्जुन ने भीष्म को बाणों से छलनी कर दिया और भीष्म पितामह को बाणों की शैय्या पर सोना पड़ा। इसके पीछे भी भीष्म पितामह के कर्म का फल ही था। बाणों की शैय्या पर लेटे हुए भीष्म ने जब श्री कृष्ण से पूछा, किस अपराध के कारण मुझे इसे तरह बाणों की शैय्या पर सोना पड़ रहा है। इसके उत्तर में श्री कृष्ण ने कहा था कि, आपने कई जन्म पहले एक सर्प को नागफनी के कांटों पर फेंक दिया था। इसी अपराध के कारण आपको बाणों की शैय्या मिली है। इसलिए हमे कभी भी जाने-अनजाने किसी भी जीव को नहीं सताना चाहिए। हम जैसा कर्म करते हैं उसका फल हमें कभी न कभी जरूर मिलता है।

+11 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 99 शेयर
RAJ RATHOD Mar 5, 2021

+175 प्रतिक्रिया 37 कॉमेंट्स • 153 शेयर

+117 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 62 शेयर

हर साल माता सीता का जन्म फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाया जाता है. इस साल 2021 में यह जानकी जयंती (Janaki Jayanti) 7 मार्च को है. इस दिन मिथिला के राजा जनक और रानी सुनयना की गोद में सीता आईं. अयोध्या के राजा दशरथ के बड़े पुत्र राम से सीता का विवाह हुआ. विवाह के बाद उन्होंने पति राम और देवर लक्ष्मण के साथ 14 साल का वनवास भी भोगा. इतना ही नहीं, इस वनवास के दौरान उनका लंका के राजा रावण ने अपहरण किया. वनवास के बाद भी वह हमेशा के लिए अयोध्या वापस नहीं जा सकीं. अपने पुत्रों के साथ उन्हें आश्रम में ही अपना जीवन व्यतीत करना पड़ा और आखिर में उन्हें अपने सम्मान की रक्षा के लिए धरती में ही समाना पड़ा. अपने जीवन में इतने कष्टों को देखने वाली माता सीता आखिरकार थीं कौन? यहां जानें माता सीता का जन्म कैसे हुआ. कैसे हुआ जन्म? रामायण के अनुसार एक बार मिथिला के राजा जनक यज्ञ के लिए खेत को जोत रहे थे. उसी समय एक क्यारी में दरार हुई और उसमें से एक नन्ही बच्ची प्रकट हुईं. उस वक्त राजा जनक की कोई संतान नहीं थी. इसीलिए इस कन्या को देख वह मोहित हो गए और गोद ले लिया. आपको बता दें हल को मैथिली भाषा में सीता कहा जाता है और यह कन्या हल चलाते हुए ही मिलीं इसीलिए इनका नाम सीता रखा गया. कैसे मनाई जाती है जानकी जयंती? इस दिन माता सीता की पूजा की जाती है, लेकिन पूजा की शुरुआत गणेश जी और अंबिका जी से होती है. इसके बाद माता सीता को पीले फूल, कपड़े और सुहागिन के श्रृंगार का सामान चढ़ाया जाता है. बाद में 108 बार इस मंत्र का जाप किया जाता है. श्री जानकी रामाभ्यां नमः जय श्री सीता राम श्री सीताय नमः मान्यता है कि यह पूजा खासकर विवाहित महिलाओं के लिए लाभकारी होती है. इससे वैवाहिक जीवन की समस्याएं ठीक हो जाती हैं. नमस्कार 🙏 शुभ संध्या वंदन 🌹 👏 🚩 जय श्री राम 🌹 जय श्री लक्ष्मी नारायण 🙏 जय श्री सिता माता की 💐 👏 🚩 🐚 🌹 नमस्कार 🙏 🚩

+30 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 17 शेयर
Anita Sharma Mar 4, 2021

. "गुरु अवज्ञा" एक बार की बात है, एक भक्त के दिल में आया कि गुरु महाराज जी को रात में देखना चाहिए कि क्या वो भी भजन सिमरन करते हैं ? वो रात को गुरु महाराज जी के कमरे की खिड़की के पास खड़ा हो गया। गुरु महाराज जी रात 9:30 तक भोजन और बाकी काम करके अपने कमरे में आ गये। वो भक्त देखता है कि गुरु महाराज जी एक पैर पर खड़े हो कर भजन सिमरन करने लग गये। वो कितनी देर तक देखता रहा और फिर थक कर खिड़की के बाहर ही सो गया। 3 घंटे बाद जब उसकी आँख खुली तो वो देखता है कि गुरु महाराज जी अभी भी एक पैर पर खड़े भजन सिमरन कर रहे हैं, फिर थोड़ी देर बाद गुरु महाराज जी भजन सिमरन से उठ कर थोड़ी देर कमरे में ही इधर उधर घूमें और फिर दोनों पैरो पर खड़े होकर भजन सिमरन करने लगे। वो भक्त देखता रहा और देखते-देखते उसकी आँख लग गई और वो सो गया। जब फिर उसकी आँख खुली तो 4 घंटे बीत चुके थे और अब गुरु महाराज जी बैठ कर भजन सिमरन कर रहे थे। थोड़ी देर में सुबह हो गई और गुरु महाराज जी उठ कर तैयार हुए और सुबह की सैर पर चले गये। वो भक्त भी गुरु महाराज जी के पीछे ही चल गया और रास्ते में गुरु महाराज जी को रोक कर हाथ जोड़ कर बोलता है कि गुरु महाराज जी मैं सारी रात आपको खिड़की से देख रहा था कि आप रात में कितना भजन सिमरन करते हो। गुरु महाराज जी हंस पड़े और बोले:- बेटा देख लिया तुमने फिर ? वो भक्त शर्मिंदा हुआ और बोला कि गुरु महाराज जी देख लिया पर मुझे एक बात समझ नहीं आई कि आप पहले एक पैर पर खड़े होकर भजन सिमरन करते रहे फिर दोनों पैरों पर और आखिर में बैठ कर जैसे कि भजन सिमरन करने को आप बोलते हो, ऐसा क्यूँ ? गुरु महाराज जी बोले बेटा एक पैर पर खड़े होकर मुझे उन सत्संगियो के लिए खुद भजन सिमरन करना पड़ता है जिन्होंने नाम दान लिया है मगर बिलकुल भी भजन सिमरन नहीं करते। दोनों पैरो पर खड़े होकर मैं उन सत्संगियो के लिए भजन सिमरन करता हूँ जो भजन सिमरन में तो बैठते हैं मगर पूरा समय नहीं देते। बेटा जिनको नाम दान मिला है, उनका जवाब सतपुरख को मुझे देना पडता है, क्योंकि मैंने उनकी जिम्मेदारी ली है नाम दान देकर। और आखिर में मैं बैठ कर भजन सिमरन करता हूँ, वो मैं खुद के लिए करता हूँ, क्योंकि मेरे गुरु ने मुझे नाम दान दिया था और मैं नहीं चाहता की उनको मेरी जवाबदारी देनी पड़े। भक्त ये सब सुनकर एक दम सन्न खड़ा रह गया।

+66 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 47 शेयर

+128 प्रतिक्रिया 23 कॉमेंट्स • 50 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 9 शेयर

+20 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 17 शेयर

जानिये ॐ का रहस्य ~~~~~~~~~~~~~ मन पर नियन्त्रण करके शब्दों का उच्चारण करने की क्रिया को मन्त्र कहते है। मन्त्र विज्ञान का सबसे ज्यादा प्रभाव हमारे मन व तन पर पड़ता है। मन्त्र का जाप एक मानसिक क्रिया है। कहा जाता है कि जैसा रहेगा मन वैसा रहेगा तन। यानि यदि हम मानसिक रूप से स्वस्थ्य है तो हमारा शरीर भी स्वस्थ्य रहेगा। मन को स्वस्थ्य रखने के लिए मन्त्र का जाप करना आवश्यक है। ओम् तीन अक्षरों से बना है। अ, उ और म से निर्मित यह शब्द सर्व शक्तिमान है। जीवन जीने की शक्ति और संसार की चुनौतियों का सामना करने का अदम्य साहस देने वाले ओम् के उच्चारण करने मात्र से विभिन्न प्रकार की समस्याओं व व्याधियों का नाश होता है। सृष्टि के आरंभ में एक ध्वनि गूंजी ओम और पूरे ब्रह्माण्ड में इसकी गूंज फैल गयी। पुराणों में ऐसी कथा मिलती है कि इसी शब्द से भगवान शिव, विष्णु और ब्रह्मा प्रकट हुए। इसलिए ओम को सभी मंत्रों का बीज मंत्र और ध्वनियों एवं शब्दों की जननी कहा जाता है। इस मंत्र के विषय में कहा जाता है कि, ओम शब्द के नियमित उच्चारण मात्र से शरीर में मौजूद आत्मा जागृत हो जाती है और रोग एवं तनाव से मुक्ति मिलती है। इसलिए धर्म गुरू ओम का जप करने की सलाह देते हैं। जबकि वास्तुविदों का मानना है कि ओम के प्रयोग से घर में मौजूद वास्तु दोषों को भी दूर किया जा सकता है। ओम मंत्र को ब्रह्माण्ड का स्वरूप माना जाता है। धार्मिक दृष्टि से माना जाता है कि ओम में त्रिदेवों का वास होता है इसलिए सभी मंत्रों से पहले इस मंत्र का उच्चारण किया जाता है जैसे ओम नमो भगवते वासुदेव, ओम नमः शिवाय। आध्यात्मिक दृष्टि से यह माना जाता है कि नियमित ओम मंत्र का जप किया जाए तो व्यक्ति का तन मन शुद्घ रहता है और मानसिक शांति मिलती है। ओम मंत्र के जप से मनुष्य ईश्वर के करीब पहुंचता है और मुक्ति पाने का अधिकारी बन जाता है। : वैदिक साहित्य इस बात पर एकमत है कि ओ३म् ईश्वर का मुख्य नाम है. योग दर्शन में यह स्पष्ट है. यह ओ३म् शब्द तीन अक्षरों से मिलकर बना है- अ, उ, म. प्रत्येक अक्षर ईश्वर के अलग अलग नामों को अपने में समेटे हुए है. जैसे “अ” से व्यापक, सर्वदेशीय, और उपासना करने योग्य है. “उ” से बुद्धिमान, सूक्ष्म, सब अच्छाइयों का मूल, और नियम करने वाला है। “म” से अनंत, अमर, ज्ञानवान, और पालन करने वाला है. ये तो बहुत थोड़े से उदाहरण हैं जो ओ३म् के प्रत्येक अक्षर से समझे जा सकते हैं. वास्तव में अनंत ईश्वर के अनगिनत नाम केवल इस ओ३म् शब्द में ही आ सकते हैं, और किसी में नहीं. १. अनेक बार ओ३म् का उच्चारण करने से पूरा शरीर तनावरहित हो जाता है। २. अगर आपको घबराहट या अधीरता होती है तो ओ३म् के उच्चारण से उत्तम कुछ भी नहीं! ३. यह शरीर के विषैले तत्त्वों को दूर करता है, अर्थात तनाव के कारण पैदा होने वाले द्रव्यों पर नियंत्रण करता है। ४. यह हृदय और खून के प्रवाह को संतुलित रखता है। ५. इससे पाचन शक्ति तेज होती है। ६. इससे शरीर में फिर से युवावस्था वाली स्फूर्ति का संचार होता है। ७. थकान से बचाने के लिए इससे उत्तम उपाय कुछ और नहीं। ८. नींद न आने की समस्या इससे कुछ ही समय में दूर हो जाती है. रात को सोते समय नींद आने तक मन में इसको करने से निश्चित नींद आएगी। ९ कुछ विशेष प्राणायाम के साथ इसे करने से फेफड़ों में मजबूती आती है. इत्यादि! ॐ के उच्चारण का रहस्य? ॐ है एक मात्र मंत्र, यही है आत्मा का संगीत ओम का यह चिन्ह 'ॐ' अद्भुत है। यह संपूर्ण ब्रह्मांड का प्रतीक है। बहुत-सी आकाश गंगाएँ इसी तरह फैली हुई है। ब्रह्म का अर्थ होता है विस्तार, फैलाव और फैलना। ओंकार ध्वनि के 100 से भी अधिक अर्थ दिए गए हैं। यह अनादि और अनंत तथा निर्वाण की अवस्था का प्रतीक है। ॐ को ओम कहा जाता है। उसमें भी बोलते वक्त 'ओ' पर ज्यादा जोर होता है। इसे प्रणव मंत्र भी कहते हैं। यही है √ मंत्र बाकी सभी × है। इस मंत्र का प्रारंभ है अंत नहीं। यह ब्रह्मांड की अनाहत ध्वनि है। अनाहत अर्थात किसी भी प्रकार की टकराहट या दो चीजों या हाथों के संयोग के उत्पन्न ध्वनि नहीं। इसे अनहद भी कहते हैं। संपूर्ण ब्रह्मांड में यह अनवरत जारी है। तपस्वी और ध्यानियों ने जब ध्यान की गहरी अवस्था में सुना की कोई एक ऐसी ध्वनि है जो लगातार सुनाई देती रहती है शरीर के भीतर भी और बाहर भी। हर कहीं, वही ध्वनि निरंतर जारी है और उसे सुनते रहने से मन और आत्मा शांती महसूस करती है तो उन्होंने उस ध्वनि को नाम दिया ओम। साधारण मनुष्य उस ध्वनि को सुन नहीं सकता, लेकिन जो भी ओम का उच्चारण करता रहता है उसके आसपास सकारात्मक ऊर्जा का विकास होने लगता है। फिर भी उस ध्वनि को सुनने के लिए तो पूर्णत: मौन और ध्यान में होना जरूरी है। जो भी उस ध्वनि को सुनने लगता है वह परमात्मा से सीधा जुड़ने लगता है। परमात्मा से जुड़ने का साधारण तरीका है ॐ का उच्चारण करते रहना। *त्रिदेव और त्रेलोक्य का प्रतीक : ॐ शब्द तीन ध्वनियों से बना हुआ है- अ, उ, म इन तीनों ध्वनियों का अर्थ उपनिषद में भी आता है। यह ब्रह्मा, विष्णु और महेश का प्रतीक भी है और यह भू: लोक, भूव: लोक और स्वर्ग लोग का प्रतीक है। *बीमारी दूर भगाएँ : तंत्र योग में एकाक्षर मंत्रों का भी विशेष महत्व है। देवनागरी लिपि के प्रत्येक शब्द में अनुस्वार लगाकर उन्हें मंत्र का स्वरूप दिया गया है। उदाहरण के तौर पर कं, खं, गं, घं आदि। इसी तरह श्रीं, क्लीं, ह्रीं, हूं, फट् आदि भी एकाक्षरी मंत्रों में गिने जाते हैं। सभी मंत्रों का उच्चारण जीभ, होंठ, तालू, दाँत, कंठ और फेफड़ों से निकलने वाली वायु के सम्मिलित प्रभाव से संभव होता है। इससे निकलने वाली ध्वनि शरीर के सभी चक्रों और हारमोन स्राव करने वाली ग्रंथियों से टकराती है। इन ग्रंथिंयों के स्राव को नियंत्रित करके बीमारियों को दूर भगाया जा सकता है। *उच्चारण की विधि : प्रातः उठकर पवित्र होकर ओंकार ध्वनि का उच्चारण करें। ॐ का उच्चारण पद्मासन, अर्धपद्मासन, सुखासन, वज्रासन में बैठकर कर सकते हैं। इसका उच्चारण 5, 7, 10, 21 बार अपने समयानुसार कर सकते हैं। ॐ जोर से बोल सकते हैं, धीरे-धीरे बोल सकते हैं। ॐ जप माला से भी कर सकते हैं। *इसके लाभ : इससे शरीर और मन को एकाग्र करने में मदद मिलेगी। दिल की धड़कन और रक्तसंचार व्यवस्थित होगा। इससे मानसिक बीमारियाँ दूर होती हैं। काम करने की शक्ति बढ़ जाती है। इसका उच्चारण करने वाला और इसे सुनने वाला दोनों ही लाभांवित होते हैं। इसके उच्चारण में पवित्रता का ध्यान रखा जाता है। *शरीर में आवेगों का उतार-चढ़ाव : प्रिय या अप्रिय शब्दों की ध्वनि से श्रोता और वक्ता दोनों हर्ष, विषाद, क्रोध, घृणा, भय तथा कामेच्छा के आवेगों को महसूस करते हैं। अप्रिय शब्दों से निकलने वाली ध्वनि से मस्तिष्क में उत्पन्न काम, क्रोध, मोह, भय लोभ आदि की भावना से दिल की धड़कन तेज हो जाती है जिससे रक्त में 'टॉक्सिक'पदार्थ पैदा होने लगते हैं। इसी तरह प्रिय और मंगलमय शब्दों की ध्वनि मस्तिष्क, हृदय और रक्त पर अमृत की तरहआल्हादकारी रसायन की वर्षा करती है। कम से कम 108 बार ओम् का उच्चारण करने से पूरा शरीर तनाव रहित हो जाता है। कुछ ही दिनों पश्चात शरीर में एक नई उर्जा का संचरण होने लगता है। । ओम् का उच्चारण करने से प्रकृति के साथ बेहतर तालमेल और नियन्त्रण स्थापित होता है। जिसके कारण हमें प्राकृतिक उर्जा मिलती रहती है। ओम् का उच्चारण करने से परिस्थितियों का पूर्वानुमान होने लगता है। ओम् का उच्चारण करने से आपके व्यवहार में शालीनता आयेगी जिससे आपके शत्रु भी मित्र बन जाते है। ओम् का उच्चारण करने से आपके मन में निराशा के भाव उत्पन्न नहीं होते है। आत्म हत्या जैसे विचार भी मन में नहीं आते है। जो बच्चे पढ़ाई में मन नहीं लगाते है या फिर उनकी स्मरण शक्ति कमजोर है। उन्हें यदि नियमित ओम् का उच्चारण कराया जाये तो उनकी स्मरण शक्ति भी अच्छी हो जायेगी और पढ़ाई में मन भी लगने लगेगा। ~~~~~~~~~~~~~~~~

+20 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 54 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB