*""!!.शिवमेवम् सकलम् जगत , शिव संकल्प सूक्त हिंदी भावार्थ सहित.!!""* 🌾🍁🏯👏👏🛕👏👏🏯🍁🌾 🚩✊जय हिंदुत्व✊🚩 शिव संकल्पसूक्त हमारे मन में शुभ व पवित्र विचारों की स्थापना हेतु आवाहन करता है। मन हमारी इंद्रियों का स्वामी है।एक तरफ हमारीं इन्द्रियाँ जहाँ भौतिक विषयवस्तु की तथ्यसूचना प्राप्त करने का कार्य करती हैं, वहीं हमारा मन इन इंद्रियों में ज्ञानरुपी प्रकाश बनकर इन तथ्यों का विश्लेषण कर व उनको निर्देश प्रदान कर हमारे विचारों के रुप में हमें यथोचित कर्म करने हेतु उत्प्रेरित करता है । इस प्रकार हमारा मन जितना शुभसंकल्प युक्त है, हमारा जीवन व इसका अभीष्ट कर्म उतना ही शुभ, सुंदर, पवित्र व कल्याणमय होता है। पाठकों की सुविधा हेतु मैंने रुद्राष्टाध्यायी शिवसंकल्प सूक्त के इन छः अद्भुत संस्कृत श्लोकों व इनके हिंदी में अर्थ यहाँ प्रस्तुत किया है- 🕉️ ||| शिवसंकल्प सूक्त ||| 🕉️ यज्जाग्रतो दूरमुदैति दैवं तदु सुप्तस्य तथैवैति । दूरंगमं ज्योतिषां ज्योतिरेकं तन्मे मनः शिवसङ्कल्पमस्तु ॥१॥ वह दिव्य ज्योतिमय शक्ति (मन) जो हमारे जागने की अवस्था में बहुत दूर तक चला जाता है, और हमारी निद्रावस्था में हमारे पास आकर आत्मा में विलीन हो जाता है,वह प्रकाशमान श्रोत जो हमारी इंद्रियों को प्रकाशित करता है, मेरा वह मन शुभसंकल्प युक्त ( सुंदर व पवित्र विचारों से युक्त) हो। येन कर्माण्यपसो मनीषिणो यज्ञे कृण्वन्ति विदथेषु धीराः । यदपूर्वं यक्षमन्तः प्रजानां तन्मे मनः शिवसङ्कल्पमस्तु ॥२॥ जिस मन की सहायता से ज्ञानीजन(ऋषिमुनि इत्यादि)कर्मयोग की साधना में लीन यज्ञ,जप,तप करते हैं,वह(मन) जो सभी जनों के शरीर में विलक्षण रुप से स्थित है, मेरा वह मन शुभसंकल्प युक्त ( सुंदर व पवित्र विचारों से युक्त) हो। यत् प्रज्ञानमुत चेतो धृतिश्च यज्ज्योतिरन्तरमृतं प्रजासु । यस्मान्न ऋते किञ्चन कर्म क्रियते तन्मे मनः शिवसङ्कल्पमस्तु ॥३॥ जो मन ज्ञान, चित्त , व धैर्य स्वरूप , अविनाशी आत्मा से सुक्त इन समस्त प्राणियों के भीतर ज्योति सवरुप विद्यमान है, वह मेरा मन शुभसंकल्प युक्त ( सुंदर व पवित्र विचारों से युक्त) हो। येनेदं भूतं भुवनं भविष्यत्परिगृहीतममृतेन सर्वम् । येन यज्ञस्तायते सप्तहोता तन्मे मनः शिवसङ्कल्पमस्तु ॥४॥ जिस शाश्वत मन द्वारा भूत,भविष्य व वर्तमान काल की सारी वस्तुयें सब ओर से ज्ञात होती हैं,और जिस मन के द्वारा सप्तहोत्रिय यज्ञ(सात ब्राह्मणों द्वारा किया जाने वाला यज्ञ) किया जाता है, मेरा वह मन शुभसंकल्प युक्त ( सुंदर व पवित्र विचारों से युक्त) हो। यस्मिन्नृचः साम यजूंषि यस्मिन् प्रतिष्ठिता रथनाभाविवाराः । यस्मिंश्चित्तं सर्वमोतं प्रजानां तन्मे मनः शिवसङ्कल्पमस्तु ॥५॥ जिस मन में ऋग्वेद की ऋचाये व सामवेद व यजुर्वेद के मंत्र उसी प्रकार स्थापित हैं, जैसे रथ के पहिये की धुरी से तीलियाँ जुड़ी होती हैं, जिसमें सभी प्राणियों का ज्ञान कपड़े के तंतुओं की तरह बुना होता है, मेरा वह मन शुभसंकल्प युक्त ( सुंदर व पवित्र विचारों से युक्त) हो। सुषारथिरश्वानिव यन्मनुष्यान् नेनीयतेऽभीशुभिर्वाजिन इव । हृत्प्रतिष्ठं यदजिरं जविष्ठं तन्मे मनः शिवसङ्कल्पमस्तु ॥६॥ जो मन हर मनुष्य को इंद्रियों का लगाम द्वारा उसी प्रकार घुमाता है, तिस प्रकार एक कुशल सारथी लगाम द्वारा रथ के वेगवान अश्वों को नियंत्रित करता व उन्हें दौड़ाता है, आयुरहित(अजर)तथा अति वेगवान व प्रणियों के हृदय में स्थित मेरा वह मन शुभसंकल्प युक्त ( सुंदर व पवित्र विचारों से युक्त) हो। तन्मे मनः शिवसंकल्पमस्तु। 🚩✊जय हिंदुत्व✊🚩 ☀!! श्री हरि: शरणम् !! ☀ 🍃🎋🍃🎋🕉️🎋🍃🎋🍃 🙏🏾🙏🏾🙏🏾🙏🏾🙏🏾🙏🏾🙏🏾🙏🏾🙏🏾

*""!!.शिवमेवम् सकलम् जगत , शिव संकल्प सूक्त हिंदी भावार्थ सहित.!!""*
🌾🍁🏯👏👏🛕👏👏🏯🍁🌾
  🚩✊जय हिंदुत्व✊🚩

शिव संकल्पसूक्त हमारे मन में शुभ व पवित्र विचारों की स्थापना हेतु आवाहन करता है। मन हमारी इंद्रियों का स्वामी है।एक तरफ हमारीं इन्द्रियाँ जहाँ भौतिक विषयवस्तु की तथ्यसूचना प्राप्त करने का कार्य करती हैं, वहीं हमारा मन इन इंद्रियों में ज्ञानरुपी प्रकाश बनकर इन तथ्यों का विश्लेषण कर व उनको निर्देश प्रदान कर हमारे विचारों के रुप में  हमें यथोचित कर्म करने हेतु उत्प्रेरित करता है । इस प्रकार हमारा मन जितना शुभसंकल्प युक्त है, हमारा जीवन व इसका अभीष्ट कर्म उतना ही शुभ, सुंदर, पवित्र व कल्याणमय होता है।

पाठकों की सुविधा हेतु मैंने रुद्राष्टाध्यायी शिवसंकल्प सूक्त के इन छः अद्भुत संस्कृत श्लोकों व इनके हिंदी में अर्थ यहाँ प्रस्तुत किया है-

    🕉️ |||  शिवसंकल्प सूक्त ||| 🕉️

यज्जाग्रतो दूरमुदैति दैवं तदु सुप्तस्य तथैवैति ।
दूरंगमं ज्योतिषां ज्योतिरेकं तन्मे मनः शिवसङ्कल्पमस्तु ॥१॥

वह दिव्य ज्योतिमय शक्ति (मन) जो हमारे जागने की अवस्था में बहुत दूर तक चला जाता है, और हमारी निद्रावस्था में हमारे पास आकर आत्मा में विलीन हो जाता है,वह प्रकाशमान श्रोत जो हमारी इंद्रियों को प्रकाशित करता है, मेरा वह मन शुभसंकल्प युक्त ( सुंदर व पवित्र विचारों से युक्त) हो।

येन कर्माण्यपसो मनीषिणो यज्ञे कृण्वन्ति विदथेषु धीराः ।
यदपूर्वं यक्षमन्तः प्रजानां तन्मे मनः शिवसङ्कल्पमस्तु  ॥२॥

जिस मन की सहायता से ज्ञानीजन(ऋषिमुनि इत्यादि)कर्मयोग की साधना में लीन यज्ञ,जप,तप करते हैं,वह(मन) जो  सभी जनों के शरीर में विलक्षण रुप से स्थित है, मेरा वह मन शुभसंकल्प युक्त ( सुंदर व पवित्र विचारों से युक्त) हो।

यत् प्रज्ञानमुत चेतो धृतिश्च यज्ज्योतिरन्तरमृतं प्रजासु ।
यस्मान्न ऋते किञ्चन कर्म क्रियते तन्मे मनः शिवसङ्कल्पमस्तु  ॥३॥

जो मन ज्ञान, चित्त , व धैर्य स्वरूप , अविनाशी आत्मा से सुक्त इन समस्त प्राणियों के भीतर ज्योति सवरुप विद्यमान है, वह मेरा मन शुभसंकल्प युक्त ( सुंदर व पवित्र विचारों से युक्त) हो।

येनेदं भूतं भुवनं भविष्यत्परिगृहीतममृतेन सर्वम् ।
येन यज्ञस्तायते सप्तहोता तन्मे मनः शिवसङ्कल्पमस्तु  ॥४॥

जिस शाश्वत मन द्वारा भूत,भविष्य व वर्तमान काल की सारी वस्तुयें सब ओर से ज्ञात होती हैं,और जिस मन के द्वारा सप्तहोत्रिय यज्ञ(सात ब्राह्मणों द्वारा किया जाने वाला यज्ञ) किया जाता है, मेरा वह मन शुभसंकल्प युक्त ( सुंदर व पवित्र विचारों से युक्त) हो।

यस्मिन्नृचः साम यजूंषि यस्मिन् प्रतिष्ठिता रथनाभाविवाराः ।
यस्मिंश्चित्तं सर्वमोतं प्रजानां तन्मे मनः शिवसङ्कल्पमस्तु  ॥५॥

जिस मन में ऋग्वेद की ऋचाये व सामवेद व यजुर्वेद के मंत्र उसी प्रकार स्थापित हैं, जैसे रथ के पहिये की धुरी से तीलियाँ जुड़ी होती हैं, जिसमें सभी प्राणियों का ज्ञान कपड़े के तंतुओं की तरह बुना होता है, मेरा वह मन शुभसंकल्प युक्त ( सुंदर व पवित्र विचारों से युक्त) हो।

सुषारथिरश्वानिव यन्मनुष्यान् नेनीयतेऽभीशुभिर्वाजिन इव ।
हृत्प्रतिष्ठं यदजिरं जविष्ठं तन्मे मनः शिवसङ्कल्पमस्तु  ॥६॥

जो मन हर मनुष्य को इंद्रियों का लगाम द्वारा उसी प्रकार घुमाता है, तिस प्रकार एक कुशल सारथी लगाम द्वारा रथ के वेगवान अश्वों को नियंत्रित करता व उन्हें दौड़ाता है, आयुरहित(अजर)तथा अति वेगवान व प्रणियों के हृदय में स्थित  मेरा वह मन शुभसंकल्प युक्त ( सुंदर व पवित्र विचारों से युक्त) हो।

तन्मे मनः शिवसंकल्पमस्तु। 
  🚩✊जय हिंदुत्व✊🚩
☀!! श्री हरि: शरणम् !! ☀
🍃🎋🍃🎋🕉️🎋🍃🎋🍃
🙏🏾🙏🏾🙏🏾🙏🏾🙏🏾🙏🏾🙏🏾🙏🏾🙏🏾

+128 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 41 शेयर

कामेंट्स

🌹bk preeti 🌹 Mar 3, 2021
*​🌹शुभ प्रभात 🌹​* ​☕आपका दिन शुभ हो☕​ ​💐🦜😊सदा मुस्कुराते रहो 😊🦜💐​🌹🌹🌹✍️🙏🙏 *☕"चाय" हो या "चाह"* *"रंग" एकदम "पक्का" होना चाहिए..* *"फिक्र" हो या "ज़िक्र"* *"रिश्तों" में "अपनापन" होना चाहिए..* *जीवन में 'हीरा' परखने वाले से...* *"पीड़ा" परखने वाला ज्यादा महत्वपूर्ण होता है ।* *◆●स्वयं विचार करें​●◆*श्री गणेशाय नमः 🙏 रिद्धि सिद्धि के दाता गणपति बप्पा का कृपा सदा आप और आप के परिवार पे बना रहे आपका हर पल शुभ एवं मंगलमय हो शुभ प्रभात वंदन जी जय जिनेंद्र 🙏🍵🍵✍️✍️🙏🙏🌹🙋‍♀️✍️

Sagar ji🙏 Mar 3, 2021
जय श्री गणेश जी🙏सुप्रभात वंदन जी🙏🌻

Renu Singh Mar 3, 2021
🙏 Jai Shree Ganesh Ji 🙏🌹 Shubh Prabhat Vandan Bhai Ji Ganpati Bappa Aapki Har Manokamna Puri Karein Aapka Din Mangalmay ho Bhai Ji 🙏🌹

🌹 champalal🌹🌹M🌹 Kadela🌹 Mar 3, 2021
Om Gan Ganpatey Namho JII Riddhi Siddhi ke Shyam Shri Ganesh Ji ka Ashirwad Aap aur Aapke pariwar pr hamesha bana Rahe Jii Aapka Din shubh Avam mangalkari Rahe Jii shubh prabhat Jii

hindusthani mohan sen Mar 3, 2021
🚩जय श्री गणेशाय नमः🚩 सुबह की धूप कुछ यादों के साथ आती है; खिलते फूलों से मीठी खुशबु आती है; हर सुबह आपको नये रास्ते दिखाती है; सूरज की किरणें आपके जीवन को रंगीन बनाती हैं। 🌹सुप्रभात!🌹

arvind sharma Mar 3, 2021
जय श्री राम🐕‍🦺🚩🌊🌊🌊🌊🌊 🍃🍃रामायण से यदि कुछ बाते भी सीखी जाए, तो मानव जीवन सफल माना जा जाता है🍃 ☆आपका दिन सुखद एवं मंगलमय हो☆ 💥जय मंगल नाथ 💥

Shanti pathak Mar 3, 2021
🌷🙏ओम् गं गणपतये नमः 🙏शुभ प्रभात वंदन जी🌷आपका हर पल शुभ एवं मंगलमय हो 🌷ऋद्धि सिद्धि के स्वामी श्री गणेश जी की असीम कृपा आप एवं आपके परिवार पर सदैव बनी रहे 🌷गणपति बप्पा आपकी हर मनोकामना पूरी करें जी🌷🙏🌷

Pinu Dhiman Jai Shiva 🙏 Mar 3, 2021
जय श्री गणेश जी सुप्रभात नमस्कार भाई जी 🙏🌹🙏गणपति जी की कृपा और आशीर्वाद से आपके सारे मनोरथ सिद्ध हो आप की सभी मनोकामनाएं पूरी हो आप हमेशा खुश रहो स्वस्थ रहो सुखी रहो भाई जी 🙏🙌🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹

Brajesh Sharma Mar 3, 2021
जय श्री गणेश जी... गणपति बप्पा मोरिया हर हर महादेव.... ॐ नमः शिवाय जय जय श्री राधे..जय श्री राधे कृष्णा

RAJ RATHOD Mar 3, 2021
🙏जय श्री गणेश 🙏 शुभ बुधवार... शुभ संध्या वंदन 🌷🌷 आपका हर पल शुभ शुभ हो... 💞💞🌻🌻

Deepak Kumar May 8, 2021

+12 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 3 शेयर
Renu Singh May 10, 2021

+508 प्रतिक्रिया 81 कॉमेंट्स • 328 शेयर
Archana Singh May 10, 2021

+207 प्रतिक्रिया 54 कॉमेंट्स • 91 शेयर
Renu Singh May 10, 2021

+981 प्रतिक्रिया 185 कॉमेंट्स • 1308 शेयर

+171 प्रतिक्रिया 38 कॉमेंट्स • 5 शेयर
Sanjeev Adhoya May 10, 2021

+47 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 32 शेयर

+373 प्रतिक्रिया 53 कॉमेंट्स • 353 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB