⛳🙏🕉️🙏🥀🌹जय श्री राधे कृष्णा राधे राधे श्याम जी राधे राधेशुभ रात्रि वंदन जी सभी कोशुभ नमस्कार जीराम राम जी राम राम जय राम जी की इस 🎪🔔माया के मंदिर में मेरी एक सखी जीकी शादी की सालगिरह है उसी के कहने से हम पोस्ट लगा रहे हैंहैप्पी😀😀हैप्पी एनिवर्सरी माय डियर स्वीट फ्रेंड इंग्लिश में मगर लिखा हिंदी मेंआप दोनों की 👫🤝जोड़ी सदैव बनी रहे शुभकामनाएं जी💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐🌷🌷🌷🌷🍨🍫🍭🍬🎂🎁🎁🎆🎇🎈🍱👈🌹🕉️🌹🌷🌷🌷🌷🌷⛳⛳⛳

+192 प्रतिक्रिया 28 कॉमेंट्स • 89 शेयर

कामेंट्स

Renu Singh May 9, 2020
Shubh Ratri Pyari Bahena ji 🙏🌹 Jai Shree Radhe Krishna 🙏 Thakur ji Aapki Har Manokamna Puri Karein Aapka Har pal Shubh V Mangalmay ho Bahena Ji 🙏🌹🙏

Anilkumar Marathe May 9, 2020
🌹जय श्रीकृष्ण नमस्कार स्नेह का सागर आदरणीय प्यारी कुसुमासेन जी !! 👍Happy marriage anniversory to both of them, made for each other 🙏दुनिया की सारी खुशियां आपके कदमोमें हो, हँसी चमकती रहे आपकी निगाह में, तमन्नाओ से भरी हो आपकी ज़िंदगी, ख्वाहिशों से भरा हो आपका हर पल, दामन भी लगने लगे छोटा आपको, इतनी खुशियां लेकर आये आने वाला कल, भगवान आपके सभी संकटो का नाश करे !! 🙏शुभरात्री स्नेह वंदन जी !!

🌹 लड्डू🌹 May 9, 2020
@कुसुम2 🙏🌹🙏 राधे राधे जय श्री कृष्णा शुभ रात्रि मेरी प्यारी सखी जी अति सुंदर जय भोलेनाथ की अपना ध्यान रखना🌹😁🌹🍛🌹🍫🌹🙏

कुसुम।सेन May 9, 2020
@anilkumarmarathe 🙏🕉️🙏राम राम जी आदरणीय भाई श्री जीशुभ रात्रि वंदन जी धन्यवाद जी बहुत सुंदर कमेंट जी आपका हर दिन हर पल शुभहो शुभकामनाएं जी जय राम जी की🙏🌹🕉️🌹⛳⛳⛳

कुसुम।सेन May 9, 2020
@renusingh15 राम-राम मेरी प्यारी स्वीट बहना जी धन्यवाद जी आपका हर दिन हर पल शुभहो शुभकामनाएं जी मेरी प्यारी प्यारी बहना जी💐🌷🙏🌹🕉️🌹⛳⛳⛳

कुसुम।सेन May 9, 2020
@vanitakale राम राम प्यारी बहना जी धन्यवाद जीकोई बात नहीं प्यारी बहना जी जब भी आपका टाइम लगे तभीकमेंट के रिप्लाई कर दिया करो मेरी स्वीट बहना जी आपका हर दिन शुभ हो शुभकामनाएं जी🙏💐🌹🕉️🌹⛳⛳⛳

कुसुम।सेन May 9, 2020
@girishchandrasrivastva 🙏🙏राम राम भाई जी शुभ रात्रि वंदन भाई जी हम ठीक है भाई जी आप कैसे होधन्यवाद भाईजी🙏🌹🕉️🌹

दक्षा किर्ति कुमार वैश्य मुंबई May 9, 2020
ऐ तो दोलत वाले के पिछे पड़ गया हे अमारा पोरबंदर नाते सुदामा मारा गाना रहेवासि नरसी मेहता मांं अपने बचे को एक नजर से देखती हे वैसे-वैसे ईसवर को सब भक्त बचे सेम हे हेपि मधरस डे। नाईट

कुसुम।सेन May 9, 2020
@anjalimishrainमुंबईमहाराष्ट राम राम प्यारी बहना जी शुभ रात्रि वंदन जी आपका हर दिन हर पल शुभहो शुभकामनाएं धन्यवाद मेरी प्यारी प्यारी बहनाजी🙏💐🍨🍦🍧🍫🍛👈💐🌹🕉️🌹🌷⛳⛳⛳

कुसुम।सेन May 9, 2020
@drratansingh🙏🕉️🙏🥀🌹 जय श्री राम राम राम भाई जी शुभ रात्रि वंदन भाई जी आपका हरदिन हर पल शुभ हो।शुभकामनाएं भाई जी धन्यवाद जी🙏🌹🕉️🌹⛳⛳⛳

कुसुम।सेन May 9, 2020
@sushilkumarsharma29 good night bhai ji thank you very Much Jay Shri Radhe Krishna Radhe Radhe Bhai ji aapka Har Din ShubHo,shubhkamnaen bhai ji Jay Shri Ram Jay Ram ji ki bhai ji🙏🔔🎪🌹🕉️🌹⛳⛳⛳

कुसुम।सेन May 9, 2020
@dakshyakvaisya🙏 जय श्री राधे कृष्णा राधे राधे जी राम राम जी आपका हर दिन हर पलशुभ होशुभकामनाएं जी जय राम जी कीधन्यवाद जी🌹🕉️🌹⛳⛳⛳

कुसुम।सेन May 9, 2020
@dakshyakvaisya🙏 जय श्री राधे कृष्णा राधे राधे जी राम राम जी आपका हर दिन हर पलशुभ होशुभकामनाएं जी जय राम जी कीधन्यवाद जी🌹🕉️🌹⛳⛳⛳

कुसुम।सेन May 9, 2020
@लड्डू3 🙏🕉️🙏🥀🌹जय श्री राधे कृष्णा राधे राधे प्यारी सखी जी शुभ रात्रि वंदन जी धन्यवाद जी आपका हर दिन हर पल शुभ होशुभकामनाएं जी हां जी हम अपना ध्यानरख रहे हैंआप भी अपनाध्यान।रखना और लड्डू का भी🤗😀🙋👭ध्यान रखना🍛🍫👈😷😷👈🌹🕉️🌹🎪🔔⛳⛳⛳

कुसुम।सेन May 10, 2020
@दुर्गावाहिनीvhp 🙏🕉️🙏🥀🌹राम राम बेटा जी सुप्रभात वंदन जी आपका हर दिन हर पल शुभ होशुभकामनाएंजी कैसी हो बेटा जीध्यान रखना अपना आपको भी मातृ दिवस की हार्दिक👩‍❤️‍👩👭💌💝💖💞 शुभकामनाएं सदा खुश रहो शुभ आशीर्वाद😀😀🙋🤗 हैप्पी हैप्पी संडे जी हो आपका शुभम इच्छा🍬🍭☕🍫☕👈💐🌷🌷🌹🕉️🌹⛳⛳⛳

कुसुम।सेन May 10, 2020
@sanjayawasthi7धन्यवादजी जय श्री राधे कृष्णा राधे राधेजी सुप्रभात वंदनजीआपकाहर दिन हर पल शुभ हो शुभकामनाएं जीमातृ दिवस की हार्दिक शुभकामनाएंजी💐👈🌹🕉️🌹⛳⛳⛳

Meena Dubey May 9, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 6 शेयर
Deepak Chaudhari May 10, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 20 शेयर
Deepak Chaudhari May 8, 2020

+7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 28 शेयर

*प्राचीनकाल में गोदावरी नदी के किनारे वेदधर्म मुनि का आश्रम था। एक दिन गुरुजी ने अपने शिष्यों से कहा की- शिष्यों! अब मुझे कोढ़ निकलेगा और मैं अंधा भी हो जाऊँगा, इसिलिए काशी में जाकर रहूँगा। है कोई शिष्य जो मेरे साथ रह कर सेवा करने के लिए तैयार हो ? सब चुप हो गये। उनमें संदीपनी ने कहा- गुरुदेव! मैं आपकी सेवा में रहूँगा। गुरुदेव ने कहा इक्कीस वर्ष तक सेवा के लिए रहना होगा। संदीपनी बोले इक्कीस वर्ष तो क्या मेरा पूरा जीवन ही अर्पित है आपको। वेदधर्म मुनि एवं संदीपन काशी में रहने लगे । कुछ दिन बाद गुरु के पूरे शरीर में कोढ़ निकला और अंधत्व भी आ गया । शरीर कुरूप और स्वभाव चिड़चिड़ा हो गया । संदीपनी के मन में लेशमात्र भी क्षोभ नहीं हुआ । वह दिन रात गुरु जी की सेवा में तत्पर रहने लगा । गुरु को नहलाता, कपड़े धोता, भिक्षा माँगकर लाता और गुरुजी को भोजन कराता । गुरुजी डाँटते, तमाचा मार देते... किंतु संदीपनी की गुरुसेवा में तत्परता व गुरु के प्रति भक्तिभाव और प्रगाढ़ होता गया।* *गुरु निष्ठा देख काशी के अधिष्ठाता देव विश्वनाथ संदीपनी के समक्ष प्रकट होकर बोले- तेरी गुरुभक्ति देख कर हम प्रसन्न हैं । कुछ भी वर माँग लो । संदीपनी गुरु से आज्ञा लेने गया और बोला भगवान शिवजी वरदान देना चाहते हैं, आप आज्ञा दें तो आपका रोग एवं अंधेपन ठीक होने का वरदान मांग लूँ ? गुरुजी ने डाँटा,बोले- मैं अच्छा हो जाऊँ और मेरी सेवा से तेरी जान छूटे यही चाहता है तु ? अरे मूर्ख ! मेरा कर्म कभी-न-कभी तो मुझे भोगना ही पड़ेगा । संदीपनी ने भगवान शिवजी को वरदान के लिए मना कर दिया। शिवजी आश्चर्यचकित हो गये और गोलोकधाम पहुंच के श्रीकृष्ण से पूरा वृत्तान्त कहा। श्रीकृष्ण भी संदीपनी के पास वर देने आये। संदीपनी ने कहा- प्रभु! मुझे कुछ नहीं चाहिए। आप मुझे यही वर दें कि गुरुसेवा में मेरी अटल श्रद्धा बनी रहे।* *एक दिन गुरुजी ने संदीपनी को कहा कि- मेरा अंत समय आ गया है। सभी शिष्यों से मिलने की इच्छा है । संदीपनी ने सब शिष्यों को सन्देश भेज दिया। सारे शिष्य उनके दर्शन के लिए आये। गुरुजी ने सभी शिष्यों कुछ न कुछ दिया । किसी को पंचपात्र, किसी को आचमनी , किसी को आसन किसी को माला दे दी । जब संदीपनी का आये तो सभी वस्तुएं समाप्त हो चुकी थी । गुरुजी चुप हो गए,फिर बोले कि मैं तुम्हे क्या दूँ ? तुम्हारी गुरूभक्ति के समान मेरे पास देने के लिए कुछ भी नहीं है । मैं तुम्हें यह वर देता हूँ कि- त्रिलोकी नाथ का अवतार होने वाला है, वह तुम्हारे शिष्य बनेंगे । संदीपनी के लिए इससे बड़ी भेंट और क्या होती । उन्होंने गुरूजी की अंत समय तक सेवा की। जब श्रीकृष्ण अवतार हुआ तो गुरुजी के दिए उस वरदान को फलीभूत करने के लिए स्वयं भगवान श्रीकृष्ण ने दूर उज्जैन में स्थित संदीपनी ऋषि के आश्रम में भ्राता बलराम जी के साथ आए और संदीपनी ऋषि के शिष्य बने... ऐसी है गुरुभक्ति की शक्ति। इसिलिए गुरुभक्ति ही सार है... राधे राधे...संगृहीत कथा*🙏🚩

+129 प्रतिक्रिया 23 कॉमेंट्स • 138 शेयर

+22 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 76 शेयर
Neetu Shukla May 10, 2020

+35 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 4 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB