Team mymandir
Team mymandir Oct 26, 2017

छठ पूजा की पौराणिक कथा।

छठ पूजा की पौराणिक कथा।

Sindoor Water Like +174 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 160 शेयर

कामेंट्स

राजू सिंह भूमिहार जी Oct 27, 2017
महापर्व छठ पूजा के अवसर पर आपको एवं आपके पूरे परिवार को हार्दिक शुभकामनाएँ । छठ माता आप सभी को मनोकामना पूर्ण करें ।

S. Sharan Sharma Oct 27, 2017
ऊँ नमः।, महाशय आपका सादर अभार छठ पर्व की इस कथा को बताने के लिए। इसके अलावे महाभारत मे वनवास के दौरान माता कुन्ती द्वारा अपने पुत्रो की सलामती एवं समस्त सुखों की प्राप्ति के लिए यह पर्व किया गया था।

Like Pranam Flower +18 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 98 शेयर
Jayshree Shah Aug 20, 2018

एक जैन मंदिर की बगल मे एक नाई की दुकान थी।
जहां वह रहता भी था।

जैन मंदिर पुजारी और नाई दोनों मित्र बन गये थे |
नाई हमेशा ही जैन मंदिर पुजारी से कहता,

ईश्वर ऐसा क्यों करता है,
वैसा क्यों करता है ?
यहाँ बाढ़ आ गई,
वहाँ सूखा हो गया,
यहाँ एक्सीडेंट...

(पूरा पढ़ें)
Dhoop Pranam Like +183 प्रतिक्रिया 28 कॉमेंट्स • 450 शेयर
Rumi Maheshwari Aug 20, 2018

बहुत समय पहले की बात है वृन्दावन में
श्रीबांके
बिहारी जी के मंदिर में रोज
पुजारी जी बड़े भाव से सेवा
करते थे। वे रोज बिहारी जी की
आरती करते , भोग
लगाते और उन्हें शयन कराते और रोज चार लड्डू
भगवान के बिस्तर के पास रख देते थे। उनका यह भाव
था कि बिहारी...

(पूरा पढ़ें)
Like Pranam Flower +94 प्रतिक्रिया 17 कॉमेंट्स • 75 शेयर
pooja kumari Aug 20, 2018

😊😊😊मन की शांति😊😊😊
एक किसान था एक बार एक किसान की घड़ी कहीं खो गयी. वैसे तो घडी कीमती नहीं थी पर किसान उससे भावनात्मक रूप से जुड़ा हुआ था और किसी भी तरह उसे वापस पाना चाहता था ।
उसने खुद भी घडी खोजने का बहुत प्रयास किया, कभी कमरे में खोजता तो...

(पूरा पढ़ें)
Like Pranam Flower +130 प्रतिक्रिया 88 कॉमेंट्स • 418 शेयर

🌱 ... *जगत की रीत* ...🌱

एक बार एक गाँव में पंचायत लगी थी | वहीं थोड़ी दूरी पर एक संत ने अपना बसेरा किया हुआ था| जब पंचायत किसी निर्णय पर नहीं पहुंच सकी तो किसी ने कहा कि क्यों न हम महात्मा जी के पास अपनी समस्या को लेकर चलें अतः सभी संत के पास ...

(पूरा पढ़ें)
Jyot Pranam Sindoor +17 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 40 शेयर

शिव पुराण के इस लघु अन्श से प्रेरणा व सीख मिलती है।👏👏👏
___________________

भगवान शंकर को पति के रूप में पाने हेतु माता-पार्वती कठोर तपस्या कर रही थी। उनकी तपस्या पूर्णता की ओर थी। एक समय वह भगवान त्रके चिंतन में ध्यान मग्न बैठी थी। उसी समय उन...

(पूरा पढ़ें)
Sindoor Dhoop Belpatra +23 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 4 शेयर

सृष्टि के प्रारंभ में जब ब्रह्माजी द्वारा रची गई मानसिक सृष्टि विस्तार न पा सकी, तब ब्रह्माजी को बहुत दुःख हुआ। उसी समय आकाशवाणी हुई ब्रह्मन्! अब मैथुनी सृष्टि करो। आकाशवाणी सुनकर ब्रह्माजी ने मैथुनी सृष्टि रचने का निश्चय तो कर लिया, किंतु उस समय ...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Fruits Flower +25 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 29 शेयर

कृपया सभी #हिन्दू भाइयो को भूले बिना शेयर अवश्य करे।

Pranam Flower Like +12 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 14 शेयर
Komal Chand jain Aug 19, 2018

Pranam Like Flower +23 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 94 शेयर
Narayan Tiwari Aug 19, 2018

🌿🌻🌹🌿🌻🌹🌿🌻🌹🌿🌻🌹🌿🌻🌹🌿
एक व्यक्ति था। उसके तीन मित्र थे। एक मित्र ऐसा था जो सदैव साथ देता था। एक पल, एक क्षण भी बिछुड़ता नहीं था। दूसरा मित्र ऐसा था जो सुबह शाम मिलता। और तीसरा मित्र ऐसा था जो बहुत दिनों में जब तब मिलता !
और कुछ ऐसा हुआ ए...

(पूरा पढ़ें)
Like Belpatra Bell +179 प्रतिक्रिया 26 कॉमेंट्स • 72 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB