छठ पूजा की पौराणिक कथा।

छठ पूजा की पौराणिक कथा।

+174 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 161 शेयर

कामेंट्स

राजू भूमिहार ब्राह्मण जी🙏🙏 Oct 27, 2017
महापर्व छठ पूजा के अवसर पर आपको एवं आपके पूरे परिवार को हार्दिक शुभकामनाएँ । छठ माता आप सभी को मनोकामना पूर्ण करें ।

Neha Sharma, Haryana Nov 23, 2020

🌸🙏*कार्तिक की कहानियाँ*🌸🙏🌸*पोस्ट - 24*🙏🌸 🌸🙏*शनिवार की कथा*🙏🌸 *एक ब्राह्मण था। पाठ करने जा रहा धा। रास्ते में शनिचर महाराज मिले। ब्राह्मण बोला, 'कहाँ जा रहे हो ?' शनिचर बोला, 'राजा के लगने जा रहा हूँ।' ब्राह्मण बोला, 'राजा के लगेगा सारी प्रजा दुखी होगी। मेरे लग जा।' शनिचर बोला कितने समय के लिए तो ब्राह्मण बोला, 'सात साल की ना ओटी जाय, पाँच साल की ना ओटी जाय, ढाई साल की ना ओटी जाय, सवा साल की ना ओटी जाय सवा पहर की ओट ली।' *ब्राह्मण नदी के किनारे जाकर बैठ गया। आसन बिछा के पाठ करने लगा - 'ओम नमो भगवते वासदेवाय नमः' पाँच बार कह के माला फेरने लगा। नदी में दो मतीरे बहे जा रहे थे। उसने निकाल के गोडे के नीचे रख लिए। मतीरे राजा के लड़कों के सिर बन गए। एक आदमी ने देखा ब्राह्मण ने राजा के लड़कों के सिर काट के रखे हैं। तो ब्राह्मण ने कहा, 'किसी से कहिये मत, मुझे शनि की दसा लग रही है।' *उसने एक से कही दो से कही सारी नगरी में फैल गई। राजा ने आदेश दिया, 'ब्राह्मण को सूली पे चढा दो।' *ब्राह्मण को लाया गया सूली पर लटकाया, सूली टूट गयी। सोने की घड़वाई वो भी टूट गई, चाँदी की घड़वाई वो भी टूट गयी। जो भी सूली घडवावें वही टूट जाय। *इतनी देर में सवा पहर पूरा हो गया। राजा के लड़के खेलते-खेलते आ गए। रानी बोली महाराज ब्राह्मण सूली पे चढ़ा दिया होगा। हमारा कैसे पाप उतरेगा। राजा बोला जा के देखो। देखा तो ब्राह्मण पाठ कर रहा है। उससे पूछा, 'विप्रवर ऐसा कैसे हो गया ?' *ब्राह्मण बोला, 'मैं तो पाठ करने जा रहा था। रास्ते में शनिचर महाराज से बोला कहाँ जा रहे हो बोला राजा के लगने जा रहा हूँ। मैं बोला राजा के लगेगा सारी प्रजा दुखी होगी। मेरे लग जा।' शनिचर बोला, 'कितने समय की ?' मैंने कहा, 'सात साल की ना ओटी जाय, पाँच साल की ना ओटी जाय, ढाई साल की न ओटी जाय, सवा साल की न ओटी जाय, सवा पहर की ओट ले।' *राजा बोला, 'सवा पहर में ऐसे रंग दिखाए। इसकी दशा कैसे दशा उतरे।' सोने-चाँदी का दान, ताँबे-लोहे का दान पीतल का दान, राजा तो कर दे गरीब कैसे करे।' ब्राह्मण ने कहा, 'गरीब तेल की पाली, गुड़ की डली डकोत को दे दे। सात बार पीपल में जल चढ़ा दे। कह दे 'शनि देव टोटा कभी न आवे, टोटा शनि की घड़ी-घड़ी ले सत्तर बला टले।' सात बार कह दे। सात बार जल चढ़ा दे। सारी बला टल जावे। ----------:::×:::---------- "जय जय श्री हरि" 🌸🌸🙏🌸🌸 *************************************************

+150 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 16 शेयर
Neha Sharma, Haryana Nov 23, 2020

🌸*कार्तिक की कहानियाँ*🌸🙏🌸*पोस्ट - 22, 23*🌸 🌸🙏*बृहस्पतिवार की कथा और शुक्रवार की कथा*🙏🌸 *दो भाई बहन थे। बहन बृहस्पतिवार के व्रत करती थी। बृहस्पति महाराज आते चार लड्डू चाँदी का कटोरा दे के चले जाते। बहन लड्डू खा लेती कटोरा कोठरी में धर देती। *एक दिन उसकी भाभी ने कोठरी खोल के देखा, कोठरी में जगमग हो रही है। उसने पड़ोसन से कहा, 'मेरी ननद चाँदी का कटोरा कहाँ से लाई, कोठरी जगमग हो रही है।' पड़ोसन बोली, 'अपने आदमी से पूछना।' भाभी बोली, 'मेरा आदमी तो मेरी बात ही नहीं सुनता।' पडोसन बोली, 'बोली दाल का चमचा भात में और भात का चमचा दाल में डाल देना।' *दूसरे दिन भाभी ने दाल का चमचा भात में और भात का चमचा दाल में डाल दिया। लड़की का भाई बोला, 'तू पागल हो गयी है।' भाभी बोली, 'पागल मैं नहीं हो रही, तुम्हारी बहन हो रही है। पता नहीं कहाँ से चाँदी के कटोरे ला-लाकर कोठरी भर रखी है। पूरी कोठरी जगमग कर रही है। इसे घर से निकाल दो।' *भाई जाकर अपनी बहन से बोला, 'जीजी मामा के घर चलें।' बहन जानती थी कैसे मामा के घर ले जा रहा है। बहन बोली, 'भाई जहाँ केले का पेड़ हो और पास में मन्दिर हो वहीं उतार देना।' भाई ने भी हाँ कर दी। *आगे जंगल में एक मन्दिर और केले के पेड़ के पास उसे उतार दिया। बृहस्पतिवार का दिन था लड़की ने केले के पेड़ की पूजा की बृहस्पति की कहानी कही। बृहस्पति महाराज आये चाँदी के कटोरे में चार लड्डू देकर जाने लगे। भाई छिपकर देख रहा था। उसने दौड़कर बृहस्पति के पैर पकड़ लिये। बृहस्पति बोले, 'छोड़ पापी मेरे पैर। यह तो सत् का व्रत करती है चाँदी का कटोरा मैं देकर जाता हूँ, तू इसे कलंक लगा रहा है।' *भाई बहन को लेकर बापस घर आ गया। भाभी दरवाजे पर खड़ी देख रही थी। बोली, 'इसको फिर लेकर आ गया।' भाई बोला, 'इसे कुछ मत कहना, ये बृहस्पति के व्रत करती है, वो ही इसे चाँदी का कटोरा देकर जाते हैं।' *भाभी ने सोचा, 'मैं भी देखूँगी ये कैसे बृहस्पति के व्रत करती है और वे इसे चाँदी का कटोरा देकर जाते हैं।' वो जाकर सारे पड़ोस में सबको बोल आयी, 'सब अपने-अपने बच्चे लेकर आ जाना, मेरी ननद बृहस्पति का व्रत करती है। सबको चार-चार लड्डू और चाँदी का कटोरा मिलेगा।' *बहन ने यह बात सुनी तो वो एक टाँग पर खड़ी होकर बोली, 'हे बृहस्पति महाराज, आज मेरी लाज रखना।' तीन बार ऐसा कहा। बृहस्पति महाराज आये, सबको चार-चार लड्डू और चाँदी का कटोरा देकर चले गये। *हे बृहस्पति महाराज, जैसे उस लड़की की लाज रखी, सबकी रखना। ----------:::×:::---------- "जय जय श्री हरि" 🌸🌸🙏🌸🌸 ************************************************** 🌸🙏*कार्तिक की कहानियाँ*🌸🙏🌸*पोस्ट - 23*🙏🌸 🌸🙏*शुक्रवार की कथा*🙏🌸 *एक सास बहू थीं। बेटा काम धंधा किया करता। महीने दो महीने में आया करता। सास शुक्रवार को मूर्ति सिंहासन पर बैठाकर पूजा करती थी। एक दिन सास बोली, 'मै तीर्थ करने जाऊँ हूँ। तू मेरे शुक्रवार की पूजा कर लेना।' सास चली गई। *बहू ने नहा-धोकर, काम धंधा करके खा-पी लिया। शुक्र महाराज को गुस्सा आ गया। तरह-तरह की विपत्ति आ गई। बच्चे बहुत बीमार हो गए। लड़के का काम छूट गया। बीमारी में सब पैसा खत्म हो गया। घर में झाड़-पोंछकर शुक्र महाराज की मूर्ति को कूड़े में डाल आई। लड़का भी बीमार हो गया। *सास तीर्थ करके आई तो घर देखकर बहुत दुख हुआ। रात को सपने में शुक्रवार महाराज न कहा तेरी बहू ने मेरी पूजा नहीं करी है। सारा धन नष्ट हो गया है। सुबह उठकर देखी तो शुक्र महाराज की मूर्ति नहीं है। बहू से बोली, 'शुक्रवार की मूर्ति कहाँ है।' बहुू बोली' 'मुझे पता नहीं।' *सास सारा घर बुहारकर कूडा फेंकने गई तो वहाँ शुक्रवार की मूर्ति पड़ी मिली। वहाँ से उठाकर, नहलाकर बड़े प्रेम से पूजा की, आरती की, विनती की। *सास, बहू दोनों शुक्रवार के व्रत करने लगीं। लड़के का काम लग गया। बीमारी ठीक हो गई। बेटा बोला हमारी बुद्धि खराब हो गई थी, कूड़े में शुक्रवार की मूर्ति फेंक आए। *सास बोली-हे शुक्रवार महाराज जैसे बेटा बहू से रूठे हो ऐसे किसी ना रूठे। जैसे सास की आई ऐसी सब की आवे। ----------:::×:::---------- "जय जय श्री हरि" 🌸🌸🙏🌸🌸 **************************************************

+104 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 8 शेयर
Neha Sharma, Haryana Nov 23, 2020

🌸*कार्तिक की कहानियाँ*🌸🙏🌸*पोस्ट - 20, 21*🌸 🌸🙏*मंगलवार की कथा और बुधवार की कथा*🙏🌸 *हनुमान जी के मंदिर में एक साहूकारनी रोज जाया करती थी। चूरमा की पिंडी और एक रोटी ले जाती। कहती 'कांधे सोटो लाल लंगोटो हनुमान जी खायो चूरमे और रोटी। मैंने तुम्हें दिया जवानी में तुम मुझे देना बुढ़ापे में।' *पूजा करने के बाद घर आई तो बहू बोली, 'सासुजी तुम चूरमा रोटी लेके कहाँ जाया करो हो।' सासुजी बोली, 'बालाजी के मंदिर में जाया करूँ।' बहू बोली, 'मंदिर में तो नहीं जाओ हो।' सास कुछ भी नहीं बोली, ना खाया।जा के सो गई। *सोते-सोते पाँच दिन हो गए। हनुमान जी सपने में आए बोले, 'तूने तो जवानी में दिया मैं तुझे बुढ़ापे में देऊँ हूँ।' बुढ़िया बोली, 'आज तो तुम दे रहे हो रोज कौन देगा।' हनुमान जी बोले, 'मैं रोज दे दूँगा। *बुढ़िया ने चुरमा खा लिया। बहू के घर कुछ भी ना रहा। सब चीज में घाटा हो गया। बहू ने सोचा, सास को सात दिन हो गए मैंने तो खाने को भी नहीं दिया। जा के देखा तो खूब मोटी हो रही है। बहू बोली, 'सासु जी तुम्हें खाने को भी न दिया तुम क्या खाती हो।' *सासु बोली, 'मुझे तो हनुमानजी मीठी-मीठी चूरमा रोटी देके जावे हैं वो खाऊँ हूँ। बहू सास के पैरों में पड़ गई। बोली, 'हम तो तुम्हारे भाग का खाते हैं। हमारे घर में तो कुछ भी ना रहा। अब आप संभालो।' सास रोज चूरमा रोटी चढ़ाने लग गई। फिर खूब धन हो गया। *जैसे सास को हनुमानजी का आशीर्वाद मिला, बैसा सबको मिले। ----------:::×:::---------- "जय जय बजरंगबली" 🌸🌸🚩🙏🚩🌸🌸 ************************************************** 🌸🙏*कार्तिक की कहानियाँ*🌸🙏🌸*पोस्ट - 21*🙏🌸 🌸🙏*बुधवार की कथा*🙏🌸 *बुधवार के दिन एक साहूकार का लड़का बहू लेने जा रहा था। माँ नै बहुत मना किया लेकिन नहीं माना। ससुराल में पहुँच कर बोला, 'मैं तो आज ही लेकर जाऊँगा।' उसकी सास बोली, 'मैं तो बुधवार को नहीं भेजूँगी।' पर वह नहीं माना। बुधवार को विदा करके ले गया। *रास्ते में बहू को प्यास लगी।, बोली, 'मैं तो पानी पिऊँगी।' वो पानी लेने चला गया। बुधवार उसका रूप धरकर पानी लेकर आ गया। बहू ने पानी पी लिया। बुध उसके पास ही बैठ गया। लड़का पानी लेकर आया बोला, 'तू कौन है ? ये मेरी बहू है।' बुध बोला, 'तेरी बहू है, चल भाग यहाँ से ये मेरी बहू है।' बहू भी बोली, 'मेरा पति ये ही है।' *बात बढ़ गयी। पंचायत में बात पहुँची। उनकी बातें सुनकर पंचों ने बहू से पूछा, 'तेरा पति कौन है ?' *बहू बुध का हाथ पकड़कर बोली, 'ये मेरा पति है।' यह सुनकर उसका पति रोने लगा। *पंचों ने एक करवा मँगवाया और कहा, 'जो मच्छर बनकर इस करवे के मुँह से निकल जावेगा वही इसका पति होगा।' बुध मच्छर बनकर करवे के अन्दर घुस गया। करवे का मुँह बन्द कर दिया गया। *पंच बोले, 'तुमने बुध नहीं माना इसलिए बुध ने यह नाटक किया। *लड़के ने सारे शहर में ढ़िढोरा पिटवा दिया, 'बुधवार को बहन के भाई, सासरे जमाई कोई ना जावे। जैसा बुध ने उसे नाटक दिखाया किसी को ना दिखावे। ----------:::×:::---------- "जय जय श्री हरि" 🌸🌸🙏🌸🌸 *************************************************

+95 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 9 शेयर
Jayshree Shah Nov 23, 2020

કર્મ ફળની સત્ય ઘટના: ઠોકર જેને વાગે તેને લોહી નીકળે, પછી તે રંક હોય કે રાજા હોય.. કોઈ ભેદ નથી પડતો.અંગારાને અડે તેનો હાથ બળે, પછી ભલે તે Peon હોય કે President, કોઈ ફરક નથી પડતો. ભૂલ કરે તેને સજા મળે પછી તે રાવણ હોય કે રામ! કોઈ ફેર નથી પડતો. કર્મના સિધ્ધાંતમાં ને કુદરતના દરબારમાં ન્યાય સરખો જ તોળાય છે. Courtના ચુકાદામાં.. Judgementમાં ને સરકારના કાયદામાં ને નિયમમાં ક્યાંક કોઈકને છાવરાય, પણ કર્મના Computerમાં ક્યાંય છબરડા નથી થતા.રામાયણ ની એક સત્ય ઘટના આપણને સમજાવશે, સજા એ ભૂલનું પરિણામ છે. એક પિતાના વચનને ખાતર 14 વર્ષ વનવાસ સ્વીકારી અયોધ્યાનો રાજમુગટ ને રાજ્યાભિષેક બધુ જ ત્યજીને શ્રીરામ, લક્ષ્મણ ને સીતાજી 14 વર્ષનો વનવાસ પૂરો કરીને જ્યારે અયોધ્યા પાછા આવ્યા ત્યારે અયોધ્યા નગરી અમરાપુરીને ટપી જાય એવી બની ગઈ હતી. એમના સ્વાગત માટે પ્રજા ને રાજા બધાએ મળીને અયોધ્યાના રૂપ-રંગ ને દેદાર દિવ્ય ને દેદીપ્યમાન બનાવી દીધા હતા. આખું’ય નગર હેલે ચઢ્યું હતું. ઘર-ઘર તોરણ ને આંગણે રંગોળી ને ટોડલે-ટોડલે દીવા મુકાયા હતા. રાજા શ્રીરામનો ભવ્ય નગરપ્રવેશ અદ્‌ભૂત અને ઐતિહાસિક હતો. રાજા શ્રીરામને ચારે તરફથી લોકોએ ઘેરી લીધા હતા. આખા રસ્તે ફૂલોની વૃષ્ટિ શ્રીરામ પર થતી જ રહી. બધાને માત્ર હાથ હલાવી કે ચહેરે સ્મિત લાવી આગળ વધતા શ્રીરામને લોકલાગણીની છાલકો ભીંજવતી રહી. બધાને મળતા-મળતા ને અભિવાદન ઝીલતા-ઝીલતા શ્રીરામ રાજદરબારે પહોંચ્યા ને પછી રાજમહેલે પગ દીધો. ને.. ત્યાં જ શ્રીરામને યાદ આવ્યું કે, *ગુરુદેવના ચરણે જવાનું તો વિસરાઈ ગયું. એ એકદમ ગળગળા બની ગયા. ને બધાની વચ્ચેથી એકદમ ઊભા થઈને ચાલવા લાગ્યા. બધા અવાક્‌ બની ગયા. કોઈને કાંઈ સમજણ પડે ને કોઈ કાંઈ પૂછે એ પહેલા તો શ્રીરામ રાજમાર્ગ પર આવી ગયા. પરિવાર બધો જ એમની પાછળ એમને અનુસરતો રહ્યો. શ્રીરામના નયનોમાં ભીનાશ ઉપસી-જામી. એ સીધ્ધા જ વશિષ્ઠ ઋષિના આશ્રમમાં પહોંચ્યા ને ઉતાવળે ગુરુચરણે જઈ ઢળી પડ્યા. એમની કમલસી આંખોમાંથી આંસુઓ ઢળવા માંડ્યા. સાંજ ઢળે એ પહેલા તો એમણે ગુરુચરણે માથુ મૂકીને કહ્યું, ગુરુદેવ, મારા આ અપરાધને ક્ષમા કરો. મારી ગંભીર ભૂલને આપ ઉદારદિલે માફી આપો. ભીડની અંદર હું ભીડભંજન આપને વીસરી ગયો. क्षमस्व माम् ગુરુ તો દયાના સાગર, ક્ષમાના સાગર ને પ્રેમના સાગર હોય છે." શ્રી વશિષ્ઠ ઋષિએ પોતાનો વરદ ને પ્રેમાળ હસ્ત શ્રીરામને મસ્તકે ફેરવ્યો, મૂક્યો ને કહ્યું, રામ તને ક્ષમા છે, શ્રીરામનું હૃદય ભરાઈ ગયું ને એમણે ગુરુચરણે ફરી મસ્તક મૂકી દીધું ને ભીની આંખોએ વંદના કરી. એ વખતે ઋષિ વશિષ્ઠ બોલ્યા, “રામ, હું તો માફ કરી દઉં છું. પણ કુદરત તો એનું કાર્ય કરશે જ. કુદરતના કાયદામાં કોઈ દખલ દાખલ ન કરી શકે. કુદરત પોતાનો દાખલો પોતે જ કરે.” શ્રીરામે હાથ જોડી ફરી ક્ષમા યાચી. ઋષિ વશિષ્ઠ કહે, "अवश्यमेव भोक्तव्यं कृतं कर्म शुभाशुभम् " ને વશિષ્ઠ ઋષિએ શ્રીરામને કહ્યું, શ્રીરામ તારા પશ્ચાતાપથી તારા ઘણાબધા અપરાધો ધોવાઈ ગયા. પણ તારાથી ગુરુની અજાણતા’ય થયેલી ઉપેક્ષા એના ફળ સ્વરુપે કુદરત એનો Part ભજવશે જ. અને હું તને છેલ્લો યાદ આવ્યો એટલે ભવિષ્યમાં લોકો’ય તને છેલ્લે યાદ કરશે. ગુરુને છેલ્લે યાદ કર્યા એટલે કોઈપણ સારા કાર્યમાં તારું નામ નહિ લેવાય. પણ છેલ્લે યાદ કરવામાં આવશે. રામ બોલો ભાઈ રામ, રામ નામ સત્ય હૈ. લગ્નાદિ શુભ કાર્યમાં 'ગણેશાય નમઃ' 'શ્રી કૃષ્ણાય નમઃ' 'નમઃ શિવાય' દુનિયા લખે છે, પણ *'રામાય નમઃ'નથી લખતી. એનું કારણ, ગુરુની અજાણતા’ય થયેલી ઉપેક્ષા પણ જીવનમાં ગુરુની ઉપેક્ષા ક્યારે’ય નહિ કરવી. શ્રીરામ જેવાને જો આટલી મોટી શિક્ષા મળતી હોય તો આપણી જેવાનું તો શું થાય?ગુરુની ઉપેક્ષા નહિ, હોય ઉપાસના, એ જ પ્રભુની આજ્ઞા ને એ જ આરાધના ગુરુને નારાજ કરીને મળતું રાજ અંતે તારાજ કરી જતું હોય છે. પ્રભુ તો દૂર છે, ગુરુ હાજરાહજૂર છે. માટે જ તો ગુરુની જીવનમાં જરૂર છે.

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB