jai shri krishna
jai shri krishna Jun 16, 2018

मोहिनी अवतार..🔯🔯

मोहिनी अवतार..🔯🔯

मोहिनी अवतार..तीन बार
श्रीहरि यानी भगवान विष्णु ने एकमात्र स्त्री रूप लिया है, और वो है मोहिनी अवतार। यह अवतार उन्होंने कई बार लिया। लेकिन धर्मग्रंथों से मिली प्रमाणिक जानकारी को मानें तो उन्होंने तीन बार मोहिनी अवतार लिया था।
सर्वप्रथम श्रीहरि ने मोहिनी अवतार समुद्रमंथन के दौरान लिया। तब मोहिनी के रूप में दैत्य इतने मोहित हो गए कि वह अमृत के पीछे न भागते हुए मोहिनी के हाथों अमृत पीने की इच्छा जाहिर करने लगे। लेकिन मोहिनी अवतार में श्रीहरि ने देवों को अमृत और दानवों को सामान्य जल पिलाया।
दूसरा प्रामाणिक उदाहरण भस्मासुर का मिलता है। जब भस्मासुर को भगवान शिव ने वरदान दिया कि वह किसी पर भी हाथ रखे वो भस्म हो जाएगा। तब कुछ दिनों बाद वह देवी पार्वती पर ही मोहित हो गया। और भगवान शिव पर हाथ रखने की कोशिश करने लगा।
तब श्रीहरि ने मोहिनी अवतार लिया और भस्मासुर के समक्ष नृत्य करने की शर्त रखी और इस तरह नृत्य करते समय ही उसका हाथ उसी के सिर पर रखवा दिया। इस तरह भस्मासुर का अंत हुआ।
श्रीहरि ने मोहिनी रूप में तीसरा अवतार द्वापरयुग में लिया। हुआ यूं कि अर्जुन के बेटे इरावन ने अपने पिता की जीत के लिए खुद की बलि देने का मन बनाया। बलि देने से पहले उसकी अंतिम इच्छा थी कि वह मरने से पहले शादी करना चाहता था। मगर इस शादी के लिए कोई भी लड़की तैयार नहीं थी क्योंकि शादी के तुरंत बाद उसके पति को मर जाना था।
तब भगवान कृष्ण ने मोहिनी का रूप लिया और इरावन से न केवल शादी की बल्कि एक पत्नी की तरह उसे विदा करते हुए बहुत रोए।

+16 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 31 शेयर

कामेंट्स

jagdish Prasad Jun 16, 2018
jai shri Krishna 🌺🌺🌺🌻🌻🌻🌻🌳🌳🌳

Pravinchandra Chande Jun 16, 2018
नमस्ते जयश्री कृष्ण जयजयश्री राधे 🌹

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB