Jaikumar
Jaikumar Apr 14, 2021

+21 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 185 शेयर

कामेंट्स

Balraj sethi Apr 16, 2021
🙏Satnam Shree Waheguru ji. 🙏🌹🌹🌷🌷🍁

घनश्याम गुप्ता Apr 19, 2021
घनश्याम गुप्ता :शुभ दोपहर ।सुन्दर और प्रशंसनीय रचना। दयालु प्रभु से प्रार्थना, शब्दों का सुन्दर चयन। प्रस्तुत कर्ता की जितनी भी प्रशंसा की जाये, वह भी कम है। समयानुसार, समयानुकूल है। जय श्रीकृष्ण जय श्रीराम ।

Sunil Kumar Saini May 6, 2021

. 🌺ॐ🌺 🍀ॐनमोःभगवते वासुदेवाय नमः🍀 🌴☀️सुप्रभात ☀️🌴 आप सभी का दिन शुभ हो 🙏राधे राधे जी 🙏 07❕05❕2021❕ 🌄🍵प्रभात पुष्प🍵🌄 *✨ कृष्णा बाई की कथा ✨* *एक गांव में कृष्णा बाई नाम की एक वृद्धा महिला रहती थी वह भगवान श्रीकृष्ण की परमभक्त थी। कृष्णा बाई एक झोपड़ी में रहती थी। वैसे तो कृष्णा बाई का वास्तविक नाम सुखिया था पर कृष्ण भक्ति के कारण इनका नाम गांव वालों ने कृष्णा बाई ही रख दिया।* *घर घर में झाड़ू पोछा, बर्तन साफ करना और खाना बनाना ही इनका काम था। कृष्णा बाई प्रतिदिन अपने हाथों से फूलों की माला बनाकर दोनों समय श्री कृष्ण जी को पहनाती थी और घण्टों कान्हा से बाते करती रहती थी। गांव के लोग यहीं सोचते थे कि ये वृद्धा तो पागल है।* *एक रात श्री कृष्ण जी ने अपनी भक्त कृष्णा बाई से स्वप्न में कहा कि कल बहुत बड़ा भूचाल आने वाला है तुम यह गांव छोड़ कर पास के ही दूसरे गांव में चली जाओ।* *अब क्या था मालिक का आदेश था कृष्णा बाई ने अपना सामान इकट्ठा करना शुरू किया और साथ ही सीधी सरल कृष्णा बाई ने गांव वालों को भी बताया कि कल सपने में कान्हा आए थे और मुझे कहा की कल बहुत प्रलय होगी इसलिए तुम पास के गाव में चली जाओ।* *अब लोग कहाँ उस बूढ़ी पागल की बात मानने वाले थे जो सुनता वहीं जोर जोर से ठहाके लगाता। इतने में बाई ने एक बैलगाड़ी मंगाई और अपने कान्हा की प्रतिमा और सामान की एक गठरी बांध कर गाड़ी में बैठ गई। लोग उसकी मूर्खता पर हंसते रहे।* *बाई जाने लगी बिल्कुल अपने गांव की सीमा पार कर अगले गांव में प्रवेश करने ही वाली थी कि उसे कृष्ण की आवाज आई - अरे पगली जा अपनी झोपड़ी में से वह सुई तो ले आ जिससे तू माला बनाकर मुझे पहनाती है।* *यह सुनकर बाई बेचैन हो गई तड़प गई कि मुझसे भारी भूल कैसे हो गई अब मैं कान्हा की माला कैसे बनाऊंगी?* *उसने गाड़ी वाले को वहाँ रोका और बदहवास अपने झोपड़ी की तरफ भागी। गांव वाले उसके पागलपन को देखते और खूब मजाक उडाते।* *बाई ने झोपड़ी में जाकर तिनकों में फंसे सुई को निकाला और फिर पागलो की तरह दौडते हुए गाड़ी के पास आई। गाड़ी वाले ने कहा कि माई तू क्यों परेशान हैं कुछ नही होना। बाई ने कहा अच्छा अब जल्दी अपने गांव की सीमा पार कर दूसरे गाँव मे चलो। गाड़ी वाले ने ठीक ऐसे ही किया।* *लेकिन अरे यह क्या.... ? जैसे ही सीमा पार हुई पूरा गांव ही धरती में समा गया। सब कुछ जलमग्न हो गया।* *गाड़ी वाला भी अटूट कृष्ण भक्त था। येन केन प्रकरेण भगवान ने कृष्णा बाई के साथ उस गाड़ी वाले की रक्षा करने में भी कोई विलम्ब नहीं किया।* *इस कथा का एक महत्वपूर्ण बिंदु देखिए कि भगवान जी जब अपने भक्त की मात्र एक सुई तक की इतनी चिंता करते हैं तो वह भक्त की रक्षा के लिए कितना चिंतित होते होंगे। जब तक उस भक्त की एक सुई उस गांव में थी पूरा गांव बचा था।* *इसीलिए कहा जाता है कि* *भरी बदरिया पाप की बरसन लगे अंगार,* *संत न होते जगत में जल जाता संसार..!!* *🙏🏻🙏🙏🏾जय जय श्री राधे*🙏🏽🙏🏿🙏🏼

+151 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 226 शेयर
devilakshmi May 5, 2021

+31 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 178 शेयर
devilakshmi May 5, 2021

+32 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 186 शेयर

+23 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 142 शेयर
varsha gupta May 5, 2021

+48 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 242 शेयर
Sunil Kumar Saini May 5, 2021

. 🌺ॐ🌺 🌹ॐ गं गंणपतये नमो नमः 🌹 🐚🌴सुप्रभात🌴🐚 🌄🌄🍵🍵🌄🌄 🌸🌸प्रभात पुष्प🌸🌸 🌹 राधे राधे जी 🙏🌹 🙏 *नमक*.... मां ने पड़ोसी के दरवाज़े पे दस्तक दी और उनसे थोड़ा सा नमक मांगा। पास ही बैठा बेटा ये नज़ारा देख रहा था। मां के अंदर आने पर बेटा कहने लगा मां कल ही तो बाजार से नमक लाया मैं, तो फिर अपने पड़ोसी से मांगने की क्या ज़रूरत थी ? मां कहने लगी, बेटा हमारे पड़ोसी ग़रीब हैं, वो कभी कभी हमसे कुछ मांगती रहती है। मुझे मालूम है कि हमारे किचन में नमक रखा है, फिर भी मैंने उनसे नमक इसलिए मांगा, ताकि वो हमसे कुछ मांगते वक़्त कभी भी हिचकिचाहट या शर्मिन्दगी महसूस न करे, बल्कि वो ये समझे कि पड़ोसियों से ज़रूरत की चीज़ें मांगी जा सकती है और ये पड़ोसी का अधिकार है। *धन्य है ऐसे सद्विचारों वाली भारतीय मां, खूबसूरत समाज ऐसी मां के सदविचार से ही बनता है। जो परिवार का ही नहीं, अपितु अपने पड़ोसियों के खान-पान और मान-सम्मान का भी ध्यान रखना जानती है ।* लाकडाउन का समय है, किसी भी ज़रूरतमंद पड़ोसी या रिश्तेदार की सहायता करने में बिल्कुल भी मत हिचकिचाना। 🙏

+265 प्रतिक्रिया 52 कॉमेंट्स • 536 शेयर
varsha gupta May 4, 2021

+57 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 295 शेयर
Gopal Jalan May 5, 2021

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Gopal Jalan May 5, 2021

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB