🕉श्री हरिहरो विजयतेतराम🕉 🌄सुप्रभातम🌄 🗓आज का पञ्चाङ्ग🗓 🌻शनिवार, ६ मार्च २०२१🌻 सूर्योदय: 🌄 ०६:४८ सूर्यास्त: 🌅 ०६:२१ चन्द्रोदय: 🌝 २६:०४ चन्द्रास्त: 🌜११:३२ अयन 🌕 उत्तराणायने ऋतु: 🌳बसन्त शक सम्वत: 👉 १९४२ (शर्वरी) विक्रम सम्वत: 👉 २०७७ (प्रमादी) मास 👉 फाल्गुन पक्ष 👉 कृष्ण तिथि 👉 अष्टमी (१८:१० तक) नक्षत्र 👉 ज्येष्ठा (२१:३८ तक) योग 👉 वज्र (१८:१० तक) प्रथम करण 👉 बालव (०६:५९ तक) द्वितीय करण 👉 कौलव (१८:१० तक) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️ ॥ गोचर ग्रहा: ॥ 🌖🌗🌖🌗 सूर्य 🌟 कुम्भ चंद्र 🌟 धनु (२१:३७ तक) मंगल 🌟 वृषभ बुध 🌟 मकर गुरु 🌟 मकर शुक्र 🌟 कुम्भ शनि 🌟 मकर राहु 🌟 वृष केतु 🌟 वृश्चिक 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभाशुभ मुहूर्त विचार ⏳⏲⏳⏲⏳⏲⏳ 〰〰〰〰〰〰〰 अभिजित मुहूर्त 👉 १२:०५ से १२:५२ अमृत काल 👉 १३:१२ से १४:४४ विजय मुहूर्त 👉 १४:२५ से १५:१२ गोधूलि मुहूर्त 👉 १८:०७ से १८:३१ निशिता मुहूर्त 👉 २४:०३ से २४:५२ राहुकाल 👉 ०९:३३ से ११:०१ राहुवास 👉 पूर्व यमगण्ड 👉 १३:५६ से १५:२४ होमाहुति 👉 गुरु (२१:३८ तक) दिशाशूल 👉 पूर्व नक्षत्र शूल 👉 पूर्व (२१:३८ तक) अग्निवास 👉 पृथ्वी चन्द्रवास 👉 उत्तर (पूर्व २१:३८ से) 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ☄चौघड़िया विचार☄ 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ॥ दिन का चौघड़िया ॥ १ - काल २ - शुभ ३ - रोग ४ - उद्वेग ५ - चर ६ - लाभ ७ - अमृत ८ - काल ॥रात्रि का चौघड़िया॥ १ - लाभ २ - उद्वेग ३ - शुभ ४ - अमृत ५ - चर ६ - रोग ७ - काल ८ - लाभ नोट-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभ यात्रा दिशा 🚌🚈🚗⛵🛫 पूर्व-उत्तर (वाय विन्डिंग अथवा तिल मिश्रित चावल का सेवन कर यात्रा करें) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 तिथि विशेष 🗓📆🗓📆 〰️〰️〰️〰️ सीताष्टमी व्रत आदि। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज जन्मे शिशुओं का नामकरण 〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️ आज २१:३८ तक जन्मे शिशुओ का नाम ज्येष्ठा नक्षत्र के द्वितीय तृतीय एवं चतुर्थ चरण अनुसार क्रमशः (या, यी, यू) नामाक्षर से तथा इसके बाद जन्मे शिशुओ का नाम मूल नक्षत्र के प्रथम एवं द्वितीय चरण अनुसार क्रमश (ये, यो) नामाक्षर से रखना शास्त्रसम्मत है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 उदय-लग्न मुहूर्त कुम्भ २९:३८ से ०७:०४ मीन - ०७:०४ से ०८:२७ मेष - ०८:२७ से १०:०१ वृषभ - १०:०१ से ११:५६ मिथुन - ११:५६ से १४:११ कर्क - १४:११ से १६:३२ सिंह - १६:३२ से १८:५१ कन्या - १८:५१ से २१:०९ तुला - २१:०९ से २३:३० वृश्चिक - २३:३० से २५:४९ धनु - २५:४९ से २७:५३ मकर - २७:५३ से २९:३४ 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 पञ्चक रहित मुहूर्त शुभ मुहूर्त - ०६:३७ से ०७:०४ चोर पञ्चक - ०७:०४ से ०८:२७ रज पञ्चक - ०८:२७ से १०:०१ शुभ मुहूर्त - १०:०१ से ११:५६ चोर पञ्चक - ११:५६ से १४:११ शुभ मुहूर्त - १४:११ से १६:३२ रोग पञ्चक - १६:३२ से १८:१० शुभ मुहूर्त - १८:१० से १८:५१ मृत्यु पञ्चक - १८:५१ से २१:०९ अग्नि पञ्चक - २१:०९ से २१:३८ शुभ मुहूर्त - २१:३८ से २३:३० रज पञ्चक - २३:३० से २५:४९ शुभ मुहूर्त - २५:४९ से २७:५३ चोर पञ्चक - २७:५३ से २९:३४ शुभ मुहूर्त - २९:३४ से ३०:३६ 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज का राशिफल 🐐🐂💏💮🐅👩 〰️〰️〰️〰️〰️〰️ मेष🐐 (चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ) आज के दिन आपके घर मे किसी महिला का जिद्दी व्यवहार परेशानी में डालेगा अपनी जिद के कारण स्वयं शारीरिक एवं मानसिक कष्ट भोगेंगी साथ मे आपसे भी भागदौड़ करवाएंगी। मध्यान का समय आपकी सेहत में सुधार आने के बाद फिर से गिरावट लाएगा ज्यादा परिश्रम वाले कार्य से बचे अन्यथा अन्य के भरोसे रहना पड़ेगा। व्यावसायिक गतिविधियां आज सुस्त रहेंगी धन की आमद के लिये किसी की खुशामद करनी पड़ेगी जो होगा वह भी तुरंत व्यर्थ के कार्यो में खर्च हो जाएगा। किसी से पूर्व में किया वादा पूर्ण करने में असमर्थ रहेंगे मन मे अपमान का भय भी रहेगा। भाग्य पक्ष कमजोर होने के कारण कोई महत्तवपूर्ण निर्णय अनुभवी की सलाह के बाद ही ले आगे के लिये लाभदायक रहेगा। वृष🐂 (ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो) आज का दिन मिश्रित फलदायी रहेगा प्रयास करने पर की काम बनते नजर आएंगे थोड़ा भी आलस्य पहले की मेहनत पर भी पानी फेर सकता है। माता से आज विशेष बना कर चले आकस्मिक लाभ मिल सकता है। भूमि भवन संबंधित लेन देन अथवा कागजी कार्य आज करना शुभ रहेगा लेकिन निर्माण कार्य ना करें। व्यवसाय में धन की आमद सामान्य से कम रहेगी जो होगी वह भी उधारी अथवा अन्य खर्च के लिये पर्याप्त नही पड़ेगी आज किसी से अकस्मात उधार लेन देन के प्रसंग बनेंगे सम्भव हो तो आज ना ही करें वापसी में परेशानी होगी। संताने किसी धार्मिक पर्यटन की जिद करेंगी खर्च भी करवाएंगी घर मे पति अथवा पत्नी की सेहत अचानक नरम होगी। मिथुन👫 (का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, हा) आज के दिन आप अपनी छवि सुधारने का प्रयास करेंगे दिखावे की मानसिकता रहेगी जिससे व्यक्तित्त्व सुधारने की जगह लोग आपको चापलूस समझेंगे। संतान अथवा अन्य मित्र रिश्तेदार की बीमारी पर खर्च करना पड़ेगा। घर के सदस्यों को प्रसन्न रखने का हर संभव प्रयास करेंगे फिर भी इसमें सफल नही हो पाएंगे। पति अथवा पत्नी में आपसी तालमेल की कमी रहेगी गलतफहमी के कारण कलह भी हो सकती है। कार्य व्यवसाय की स्थिति भी असामान्य रहेगी जिस समय लाभ की आशा रहेगी तभी कोई न कोई टांग अड़ाकर इससे दूर करेगा धन लाभ की जगह खर्च अधिक होगा। शत्रु पक्ष आज प्रबल रहेगा अनैतिक कार्यो से बचे अन्यथा स्वयजनो से कलह कोर्ट कचहरी की नौबत आ सकती है। लंबी यात्रा आज ना करें आर्थिक हानि होगी। कर्क🦀 (ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो) आज के दिन आपके ऊपर आवेश हावी रहेगा। बुद्धि विवेक रहने के बाद भी अपनी बात मनवाने के लिये किसी पर भी अनैतिक दवाब डालेंगे विशेष लाभ आज माता अथवा किसी अन्य स्त्री के सहयोग से होने की संभावना है परंतु इसके लिए व्यवहार में नरमी रखनी पड़ेगी अन्यथा लाभ की जगह आपसी मन मुटाव हो सकता है। कार्य क्षेत्र से गुप्त युक्तियों के बल पर धन कमाएंगे अचल संपत्ति के कार्यो से भी लाभ होगा लेकिन आशा से कम ही। संतान से आज संबंध असमान्य रहेंगे एक दूसरे के प्रति राग द्वेष की भावना रहेगी। शत्रु पक्ष पीठ पीछे हानि पहुचाने का प्रयास करेंगे लेकिन सफल नही हो सकेंगे। यात्रा से लाभ होगा पुराने धन की वसूली होने की संभावना है। जोड़ो के पुराने दर्द अथवा गैस कब्ज की शिकायत से परेशानी होगी। सिंह🦁 (मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे) आज का दिन बीते कल की तुलना में विपरीत फलदायी रहेगा अपने रूखे व्यवहार के कारण जो लोग आपको सम्मान दे रहे थे वे ही मन ही मन कोसेंगे। कार्य क्षेत्र पर स्वतः बन रहे सौदों को नासमझी में बिगाड़ लेंगे। मध्यान के बाद परिस्थिति कुछ अनुकूल बनेगी धन की आमद किसी के सहयोग से हो जाएगी धार्मिक परोपकार के कार्य मे खर्च होगा संचित कोष में कमी आएगी व्यर्थ के कार्यो में खर्च ना हो इसका ध्यान रखें आगे आर्थिक विषमताओं से बचेंगे। संतान का सुख सहयोग मिलेगा लेकिन मन मे स्वार्थ सिद्धि की भावना भी रहेगी। माता से सुखदायक समाचार मिलेगा। स्त्री वर्ग से लाभ की संभावना है। सर्दी जुखाम अथवा त्वचा संबंधित रोग हो सकता है। कन्या👩 (टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो) आज का दिन शुभ फलदायी रहेगा लेकिन आज आपको पूर्व में किसी की सहायता ना कर पाने का अफसोस भी होगा। स्वार्थ सिद्धि की भावना अधिक रहेगी प्रत्येक कार्य मे अपना लाभ देखेंगे सहकर्मी को आपका मतलबी स्वभाव अंदर से खलेगा विचारों में मतभेद रहने के कारण कुछ कार्य अधूरे रह सकते है लेकिन परिस्थिति जैसी भी हो आपका व्यवहार अन्य के प्रति रूढ़ ही रहेगा। कार्य व्यवसाय से अकस्मात धन मिलने की संभावना है लेकीन धन व्यवसाय से मिलकर व्यवसाय में ही लगाना पड़ेगा परिजनो की आवश्यकताओं को अनदेखा करने पर जिद बहस होगी। संकलन नही कर पाएंगे। घर मे भाई बहनों का स्वभाव जिद्दी रहेगा घर की तुलना में बाहर का वातावरण अधिक शांति देगा। तुला⚖️ (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते) आज का दिन सावधानी से बिताए स्वभाव से संतोषी रहने पर भी लोगो को आपकी भले के लिये कही बात भी बुरी लगेगी स्वयं का पराक्रम भी आज कमजोर रहेगा जल्दी से किसी निर्णय लेने में परेशानी आएगी। पूर्व में किया कोई गलत कार्य सामने आने पर माता अथवा अन्य निकटस्थ व्यक्ति से कहा सुनी होने की संभावना है आज अपने विचारों को अपने तक ही सीमित रखें लोग आपकी गलती पकड़ने के प्रयास में रहेंगे। कार्य व्यवसाय की स्थित भी चंचल रहेगी नियमित आय में कमी आएगी आवश्यकता अनुसार लाभ कही न कहींसे हो ही जायेगा संचित कोष में अपनी संकीर्ण प्रवृति से वृद्धि करेंगे संतानों के ऊपर नजर रखें अनैतिक कार्यो में पड़ने की संभावना है। वृश्चिक🦂 (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू) आज के दिन मानसिक रूप से चंचल रहेंगे दिन के आरंभिक भाग में अपने हास्य परिहास से घर का वातावरण खुशनुमा बनाएंगे लेकिन कार्य क्षेत्र पर लापरवाही के चलते अधिकारी वर्ग की फटकार सुन्नी पड़ेगी। मध्यान का समय व्यक्तित्त्व विकास करेगा लोगो से प्रसंशा सुनने को मिलेगी जिससे मन मे अहम का भाव आएगा। व्यवसाय से आज केवल जोड़ तोड़ के बाद ही धन की आमद हो सकेगी वह भी अनर्गल कार्यो में खर्च ना हो इसका ध्यान रखें। पैतृक संबंधी कार्यो अथवा वस्तु की हानि होने की सम्भवना है सतर्क रहने पर भी इससे बच नही पाएंगे। संध्या के समय भाग्य का साथ मिलेगा नए लाभ के संबंध जुड़ेंगे। सेहत में थोड़ी बहुत नरमी भी आएगी। धनु🏹 (ये, यो, भा, भी, भू, ध, फा, ढा, भे) आज का दिन किसी न किसी रूप में हानि देकर जाएगा विशेषकर व्यावसायिक कार्यो में जदबाजी ना करें धोखा होने की संभावना है। सरकारी कार्यो में थोड़ी बहुत राहत मिलेगी लेकिन विवाद के बाद ही। काम धंदा संभावनाओं पर केंद्रीत रहेगा लोग आश्वासन देंगे लेकिन काम के समय अपनी बात से फिर जाएंगे। धन संबंधित नई संमस्या बनेगी धन के डूबने या फंसने के आसार है लेन देन में कहासुनी से बचे बाद में पछताना पड़ेगा। स्वभाव में भावुकता अधिक रहेगी किसी की हास्य की बातों को भी दिल से लगाकर दुखी होंगे। परिवार में उदासीनता रहेगी आपस मे तालमेल की कमी रहेगी। यात्रा अतिआवश्यक होने पर ही करें सेहत खराब होगी धन भी व्यर्थ व्यय होगा। मकर🐊 (भो, जा, जी, खी, खू, खा, खो, गा, गी) आज के दिन आपका व्यवहार अनाड़ियों जैसा रहेगा स्वयं को अन्य लोगो की तुलना में श्रेष्ठ दिखाने के चक्कर मे उल्टे हास्य के पात्र बनेंगे। आज आपका दिमाग धन संचय की जगह जमा पूंजी से शौक पूरे करने पर रहेगा। हृदय के साहस में वृद्धि होगी लेकिन इससे किसी न किसी को परेशान ही करेंगे। कार्य क्षेत्र पर अधिकारों को लेकर किसी से बहस हो सकती है आज अतिरिक्त आय बनाने के चक्कर मे हाथ आये लाभ से भी वंचित रह सकते है जितना मिले उसी में संतोष करे धन लाभ किसी न किसी रूप में अवश्य ही होगा। घर मे किसी परिजन से ईर्ष्या का भाव रहने के कारण वातावरण खराब रहेगा। असंयमित दिनचर्या अधिक थकान बनाएगी। किसी से किया वादा पूरा करने के लिए यात्रा करनी पड़ेगी। कुंभ🍯 (गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा) आज का दिन सफलता दायक है दिन के आरंभ से ही लक्ष्य बनाकर धर्य से कार्य करे जो भी कार्य करेंगे उसमे थोड़ी बहुत परेशानी के बाद सफलता अवश्य मिलेगी। किसी पुरानी योजना से धन की आमद निश्चित होगी कार्य व्यवसाय बेहतर चलेगा लेकिन उधारी के व्यवहार अधिक होने पर आर्थिक लाभ कम ही मिल सकेगा। आज सरल कार्यो की तुलना में जटिल अथवा अनैतिक मार्ग से लाभ की संभावना अधिक है लेकिन सरकार विरोधी गतिविधियों से बचे आगे मान हानि के साथ धन नाश हो सकता है। अपने खर्च में कमी लाकर पैतृक वस्तुओ और प्रतिष्ठा में वृद्धि करेंगे पति/पत्नी में थोड़ी अनबन के बाद भी आवश्यकता के समय सहयोग अवश्य मिलेगा। जोड़ो संबंधित समस्या बनी रहेगी। मीन🐳 (दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची) आज के दिन आपकी दिनचर्या अस्त व्यस्त रहेगी किसी भी कार्य मे बुद्धि विवेक का कम ही इस्तेमाल करेंगे। कार्य व्यवसाय में भी जोखिम लेने से डरेंगे जिसके फलस्वरूप सीमित साधनों से काम चलाना पड़ेगा। आज आप अपने कुतर्कों से आस पास के लोगो को परेशानी में डालेंगे बेतुकी बाते कर स्वयं की भी हंसी कराएंगे। कंजूस वृति के कारण परिजनों के साथ मित्रो से भी मन मुटाव होगा। परिवार में किसी सदस्य के अमर्यादित आचरण के कारण शर्मिंदा होना पड़ेगा। संतानों का मनमाना व्यवहार भी कुछ समय के लिये विचलित करेगा। संध्या से स्थिति अनुकूल बनेगी दुनियादारी की परवाह छोड़ खुद में मगन रहेंगे। शरीर के ऊपर खर्च होगा। 🌹🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏🌹

🕉श्री हरिहरो विजयतेतराम🕉  
🌄सुप्रभातम🌄
🗓आज का पञ्चाङ्ग🗓
🌻शनिवार, ६ मार्च २०२१🌻

सूर्योदय: 🌄 ०६:४८
सूर्यास्त: 🌅 ०६:२१
चन्द्रोदय: 🌝 २६:०४
चन्द्रास्त: 🌜११:३२
अयन 🌕 उत्तराणायने 
ऋतु: 🌳बसन्त
शक सम्वत: 👉 १९४२ (शर्वरी)
विक्रम सम्वत: 👉 २०७७ (प्रमादी)
मास 👉 फाल्गुन
पक्ष 👉 कृष्ण
तिथि 👉 अष्टमी (१८:१० तक)
नक्षत्र 👉 ज्येष्ठा (२१:३८ तक)
योग 👉 वज्र (१८:१० तक)
प्रथम करण 👉 बालव (०६:५९ तक)
द्वितीय करण 👉 कौलव (१८:१० तक)
〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️
॥ गोचर ग्रहा: ॥ 
🌖🌗🌖🌗
सूर्य   🌟 कुम्भ
चंद्र    🌟 धनु (२१:३७ तक)
मंगल 🌟 वृषभ 
बुध   🌟 मकर 
गुरु   🌟 मकर 
शुक्र  🌟 कुम्भ 
शनि  🌟 मकर 
राहु   🌟 वृष
केतु   🌟 वृश्चिक
〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰
शुभाशुभ मुहूर्त विचार
⏳⏲⏳⏲⏳⏲⏳
〰〰〰〰〰〰〰
अभिजित मुहूर्त 👉 १२:०५ से १२:५२
अमृत काल 👉 १३:१२ से १४:४४
विजय मुहूर्त 👉 १४:२५ से १५:१२
गोधूलि मुहूर्त 👉 १८:०७ से १८:३१
निशिता मुहूर्त 👉 २४:०३ से २४:५२
राहुकाल 👉 ०९:३३ से ११:०१
राहुवास 👉 पूर्व
यमगण्ड 👉 १३:५६ से १५:२४
होमाहुति 👉 गुरु (२१:३८ तक)
दिशाशूल 👉 पूर्व
नक्षत्र शूल 👉 पूर्व (२१:३८ तक)
अग्निवास 👉 पृथ्वी
चन्द्रवास 👉 उत्तर (पूर्व २१:३८ से)
〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️
☄चौघड़िया विचार☄
〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️
॥ दिन का चौघड़िया ॥ 
१ - काल      २ - शुभ
३ - रोग        ४ - उद्वेग
५ - चर        ६ - लाभ
७ - अमृत     ८ - काल
॥रात्रि का चौघड़िया॥ 
१ - लाभ       २ - उद्वेग
३ - शुभ        ४ - अमृत
५ - चर         ६ - रोग
७ - काल       ८ - लाभ
नोट-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। 
〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰
शुभ यात्रा दिशा
🚌🚈🚗⛵🛫
पूर्व-उत्तर (वाय विन्डिंग अथवा तिल मिश्रित चावल का सेवन कर यात्रा करें)
〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰
तिथि विशेष
🗓📆🗓📆
〰️〰️〰️〰️
सीताष्टमी व्रत आदि।
〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰
आज जन्मे शिशुओं का नामकरण 
〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️
आज २१:३८ तक जन्मे शिशुओ का नाम  
ज्येष्ठा नक्षत्र के द्वितीय  तृतीय एवं
चतुर्थ चरण अनुसार क्रमशः (या, यी, यू) नामाक्षर से तथा इसके बाद जन्मे शिशुओ का नाम मूल नक्षत्र के प्रथम एवं द्वितीय चरण अनुसार क्रमश (ये, यो) नामाक्षर से रखना शास्त्रसम्मत है।
〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰
उदय-लग्न मुहूर्त
कुम्भ २९:३८ से ०७:०४
मीन - ०७:०४ से ०८:२७
मेष - ०८:२७ से १०:०१
वृषभ - १०:०१ से ११:५६
मिथुन - ११:५६ से १४:११
कर्क - १४:११ से १६:३२
सिंह - १६:३२ से १८:५१
कन्या - १८:५१ से २१:०९
तुला - २१:०९ से २३:३०
वृश्चिक - २३:३० से २५:४९
धनु - २५:४९ से २७:५३
मकर - २७:५३ से २९:३४
〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰
पञ्चक रहित मुहूर्त
शुभ मुहूर्त - ०६:३७ से ०७:०४
चोर पञ्चक - ०७:०४ से ०८:२७
रज पञ्चक - ०८:२७ से १०:०१
शुभ मुहूर्त - १०:०१ से ११:५६
चोर पञ्चक - ११:५६ से १४:११
शुभ मुहूर्त - १४:११ से १६:३२
रोग पञ्चक - १६:३२ से १८:१०
शुभ मुहूर्त - १८:१० से १८:५१
मृत्यु पञ्चक - १८:५१ से २१:०९
अग्नि पञ्चक - २१:०९ से २१:३८
शुभ मुहूर्त - २१:३८ से २३:३०
रज पञ्चक - २३:३० से २५:४९
शुभ मुहूर्त - २५:४९ से २७:५३
चोर पञ्चक - २७:५३ से २९:३४
शुभ मुहूर्त - २९:३४ से ३०:३६
〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰
आज का राशिफल
🐐🐂💏💮🐅👩
〰️〰️〰️〰️〰️〰️
मेष🐐 (चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ)
आज के दिन आपके घर मे किसी महिला का जिद्दी व्यवहार परेशानी में डालेगा अपनी जिद के कारण स्वयं शारीरिक एवं मानसिक कष्ट भोगेंगी साथ मे आपसे भी भागदौड़ करवाएंगी। मध्यान का समय आपकी सेहत में सुधार आने के बाद फिर से गिरावट लाएगा ज्यादा परिश्रम वाले कार्य से बचे अन्यथा अन्य के भरोसे रहना पड़ेगा। व्यावसायिक गतिविधियां आज सुस्त रहेंगी धन की आमद के लिये किसी की खुशामद करनी पड़ेगी जो होगा वह भी तुरंत व्यर्थ के कार्यो में खर्च हो जाएगा। किसी से पूर्व में किया वादा पूर्ण करने में असमर्थ रहेंगे मन मे अपमान का भय भी रहेगा। भाग्य पक्ष कमजोर होने के कारण कोई महत्तवपूर्ण निर्णय अनुभवी की सलाह के बाद ही ले आगे के लिये लाभदायक रहेगा। 

वृष🐂 (ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो)
आज का दिन मिश्रित फलदायी रहेगा प्रयास करने पर की काम बनते नजर आएंगे थोड़ा भी आलस्य पहले की मेहनत पर भी पानी फेर सकता है। माता से आज विशेष बना कर चले आकस्मिक लाभ मिल सकता है। भूमि भवन संबंधित लेन देन अथवा कागजी कार्य आज करना शुभ रहेगा लेकिन निर्माण कार्य ना करें। व्यवसाय में धन की आमद सामान्य से कम रहेगी जो होगी वह भी उधारी अथवा अन्य खर्च के लिये पर्याप्त नही पड़ेगी आज किसी से अकस्मात उधार लेन देन के प्रसंग बनेंगे सम्भव हो तो आज ना ही करें वापसी में परेशानी होगी। संताने किसी धार्मिक पर्यटन की जिद करेंगी खर्च भी करवाएंगी घर मे पति अथवा पत्नी की सेहत अचानक नरम होगी।

मिथुन👫 (का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, हा)
आज के दिन आप अपनी छवि सुधारने का प्रयास करेंगे दिखावे की मानसिकता रहेगी जिससे व्यक्तित्त्व सुधारने की जगह लोग आपको चापलूस समझेंगे। संतान अथवा अन्य मित्र रिश्तेदार की बीमारी पर खर्च करना पड़ेगा। घर के सदस्यों को प्रसन्न रखने का हर संभव प्रयास करेंगे फिर भी इसमें सफल नही हो पाएंगे। पति अथवा पत्नी में आपसी तालमेल की कमी रहेगी गलतफहमी के कारण कलह भी हो सकती है। कार्य व्यवसाय की स्थिति भी असामान्य रहेगी जिस समय लाभ की आशा रहेगी तभी कोई न कोई टांग अड़ाकर इससे दूर करेगा धन लाभ की जगह खर्च अधिक होगा। शत्रु पक्ष आज प्रबल रहेगा अनैतिक कार्यो से बचे अन्यथा  स्वयजनो से कलह कोर्ट कचहरी की नौबत आ सकती है। लंबी यात्रा आज ना करें आर्थिक हानि होगी।

कर्क🦀 (ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो)
आज के दिन आपके ऊपर आवेश हावी रहेगा। बुद्धि विवेक रहने के बाद भी अपनी बात मनवाने के लिये किसी पर भी अनैतिक दवाब डालेंगे विशेष लाभ आज माता अथवा किसी अन्य स्त्री के सहयोग से होने की संभावना है परंतु इसके लिए व्यवहार में नरमी रखनी पड़ेगी अन्यथा लाभ की जगह आपसी मन मुटाव हो सकता है। कार्य क्षेत्र से गुप्त युक्तियों के बल पर धन कमाएंगे अचल संपत्ति के कार्यो से भी लाभ होगा लेकिन आशा से कम ही। संतान से आज संबंध असमान्य रहेंगे एक दूसरे के प्रति राग द्वेष की भावना रहेगी। शत्रु पक्ष पीठ पीछे हानि पहुचाने का प्रयास करेंगे लेकिन सफल नही हो सकेंगे। यात्रा से लाभ होगा पुराने धन की वसूली होने की संभावना है। जोड़ो के पुराने दर्द अथवा गैस कब्ज की शिकायत से परेशानी होगी।

सिंह🦁 (मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे)
आज का दिन बीते कल की तुलना में विपरीत फलदायी रहेगा अपने रूखे व्यवहार के कारण जो लोग आपको सम्मान दे रहे थे वे ही मन ही मन कोसेंगे। कार्य क्षेत्र पर स्वतः बन रहे सौदों को नासमझी में बिगाड़ लेंगे। मध्यान के बाद परिस्थिति कुछ अनुकूल बनेगी धन की आमद किसी के सहयोग से हो जाएगी धार्मिक परोपकार के कार्य मे खर्च होगा संचित कोष में कमी आएगी व्यर्थ के कार्यो में खर्च ना हो इसका ध्यान रखें आगे आर्थिक विषमताओं से बचेंगे। संतान का सुख सहयोग मिलेगा लेकिन मन मे स्वार्थ सिद्धि की भावना भी रहेगी। माता से सुखदायक समाचार मिलेगा। स्त्री वर्ग से लाभ की संभावना है। सर्दी जुखाम अथवा त्वचा संबंधित रोग हो सकता है।

कन्या👩 (टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो)
आज का दिन शुभ फलदायी रहेगा लेकिन आज आपको पूर्व में किसी की सहायता ना कर पाने का अफसोस भी होगा। स्वार्थ सिद्धि की भावना अधिक रहेगी प्रत्येक कार्य मे अपना लाभ देखेंगे सहकर्मी को आपका मतलबी स्वभाव अंदर से खलेगा विचारों में मतभेद रहने के कारण कुछ कार्य अधूरे रह सकते है लेकिन परिस्थिति जैसी भी हो आपका व्यवहार अन्य के प्रति रूढ़ ही रहेगा। कार्य व्यवसाय से अकस्मात धन मिलने की संभावना है लेकीन धन व्यवसाय से मिलकर व्यवसाय में ही लगाना पड़ेगा परिजनो की आवश्यकताओं को अनदेखा करने पर जिद बहस होगी। संकलन नही कर पाएंगे। घर मे भाई बहनों  का स्वभाव जिद्दी रहेगा घर की तुलना में बाहर का वातावरण अधिक शांति देगा।

तुला⚖️ (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते)
आज का दिन सावधानी से बिताए स्वभाव से संतोषी रहने पर भी लोगो को आपकी भले के लिये कही बात भी बुरी लगेगी स्वयं का पराक्रम भी आज कमजोर रहेगा जल्दी से किसी निर्णय लेने में परेशानी आएगी। पूर्व में किया कोई गलत कार्य सामने आने पर माता अथवा अन्य निकटस्थ व्यक्ति से कहा सुनी होने की संभावना है आज अपने विचारों को अपने तक ही सीमित रखें लोग आपकी गलती पकड़ने के प्रयास में रहेंगे। कार्य व्यवसाय की स्थित भी चंचल रहेगी नियमित आय में कमी आएगी आवश्यकता अनुसार लाभ कही न कहींसे हो ही जायेगा संचित कोष में अपनी संकीर्ण प्रवृति से वृद्धि करेंगे संतानों के ऊपर नजर रखें अनैतिक कार्यो में पड़ने की संभावना है।

वृश्चिक🦂 (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू)
आज के दिन मानसिक रूप से चंचल रहेंगे दिन के आरंभिक भाग में अपने हास्य परिहास से घर का वातावरण खुशनुमा बनाएंगे लेकिन कार्य क्षेत्र पर लापरवाही के चलते अधिकारी वर्ग की फटकार सुन्नी पड़ेगी। मध्यान का समय व्यक्तित्त्व विकास करेगा लोगो से प्रसंशा सुनने को मिलेगी जिससे मन मे अहम का भाव आएगा। व्यवसाय से आज केवल जोड़ तोड़ के बाद ही धन की आमद हो सकेगी वह भी अनर्गल कार्यो में खर्च ना हो इसका ध्यान रखें। पैतृक संबंधी कार्यो अथवा वस्तु की हानि होने की सम्भवना है सतर्क रहने पर भी इससे बच नही पाएंगे। संध्या के समय भाग्य का साथ मिलेगा नए लाभ के संबंध जुड़ेंगे। सेहत में थोड़ी बहुत नरमी भी आएगी।

धनु🏹 (ये, यो, भा, भी, भू, ध, फा, ढा, भे)
आज का दिन किसी न किसी रूप में हानि देकर जाएगा विशेषकर व्यावसायिक कार्यो में जदबाजी ना करें धोखा होने की संभावना है। सरकारी कार्यो में थोड़ी बहुत राहत मिलेगी लेकिन विवाद के बाद ही। काम धंदा संभावनाओं पर केंद्रीत रहेगा लोग आश्वासन देंगे लेकिन काम के समय अपनी बात से फिर जाएंगे। धन संबंधित नई संमस्या बनेगी धन के डूबने या फंसने के आसार है लेन देन में कहासुनी से बचे बाद में पछताना पड़ेगा। स्वभाव में भावुकता अधिक रहेगी किसी की हास्य की बातों को भी दिल से लगाकर दुखी होंगे। परिवार में उदासीनता रहेगी आपस मे तालमेल की कमी रहेगी। यात्रा अतिआवश्यक होने पर ही करें सेहत खराब होगी धन भी व्यर्थ व्यय होगा।
  
मकर🐊 (भो, जा, जी, खी, खू, खा, खो, गा, गी)
आज के दिन आपका व्यवहार अनाड़ियों जैसा रहेगा स्वयं को अन्य लोगो की तुलना में श्रेष्ठ दिखाने के चक्कर मे उल्टे हास्य के पात्र बनेंगे। आज आपका दिमाग धन संचय की जगह जमा पूंजी से शौक पूरे करने पर रहेगा। हृदय के साहस में वृद्धि होगी लेकिन इससे किसी न किसी को परेशान ही करेंगे। कार्य क्षेत्र पर अधिकारों को लेकर किसी से बहस हो सकती है आज अतिरिक्त आय बनाने के चक्कर मे हाथ आये लाभ से भी वंचित रह सकते है जितना मिले उसी में संतोष करे धन लाभ किसी न किसी रूप में अवश्य ही होगा। घर मे किसी परिजन से ईर्ष्या का भाव रहने के कारण वातावरण खराब रहेगा। असंयमित दिनचर्या अधिक थकान बनाएगी। किसी से किया वादा पूरा करने के लिए यात्रा करनी पड़ेगी।

कुंभ🍯 (गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा)
आज का दिन सफलता दायक है दिन के आरंभ से ही लक्ष्य बनाकर धर्य से कार्य करे जो भी कार्य करेंगे उसमे थोड़ी बहुत परेशानी के बाद सफलता अवश्य मिलेगी। किसी पुरानी योजना से धन की आमद निश्चित होगी कार्य व्यवसाय बेहतर चलेगा लेकिन उधारी के व्यवहार अधिक होने पर आर्थिक लाभ कम ही मिल सकेगा। आज सरल कार्यो की तुलना में जटिल अथवा अनैतिक मार्ग से लाभ की संभावना अधिक है लेकिन सरकार विरोधी गतिविधियों से बचे आगे मान हानि के साथ धन नाश हो सकता है। अपने खर्च में कमी लाकर पैतृक वस्तुओ और प्रतिष्ठा में वृद्धि करेंगे पति/पत्नी में थोड़ी अनबन के बाद भी आवश्यकता के समय सहयोग अवश्य मिलेगा। जोड़ो संबंधित समस्या बनी रहेगी।

मीन🐳 (दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची)
आज के दिन आपकी दिनचर्या अस्त व्यस्त रहेगी किसी भी कार्य मे बुद्धि विवेक का कम ही इस्तेमाल करेंगे। कार्य व्यवसाय में भी जोखिम लेने से डरेंगे जिसके फलस्वरूप सीमित साधनों से काम चलाना पड़ेगा। आज आप अपने कुतर्कों से आस पास के लोगो को परेशानी में डालेंगे बेतुकी बाते कर स्वयं की भी हंसी कराएंगे। कंजूस वृति के कारण परिजनों के साथ मित्रो से भी मन मुटाव होगा। परिवार में किसी सदस्य के अमर्यादित आचरण के कारण शर्मिंदा होना पड़ेगा। संतानों का मनमाना व्यवहार भी कुछ समय के लिये विचलित करेगा। संध्या से स्थिति अनुकूल बनेगी दुनियादारी की परवाह छोड़ खुद में मगन रहेंगे। शरीर के ऊपर खर्च होगा।
🌹🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏🌹

+2 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर

कामेंट्स

🕉श्री हरिहरो विजयतेतराम🕉 🌄सुप्रभातम🌄 🗓आज का पञ्चाङ्ग🗓 🌻बुधवार, १२ मई २०२१🌻 सूर्योदय: 🌄 ०५:३७ सूर्यास्त: 🌅 ०६:५४ चन्द्रोदय: 🌝 ०५:४३ चन्द्रास्त: 🌜१९:३७ अयन 🌕 उत्तराणायने (उत्तरगोलीय) ऋतु: 🍁 ग्रीष्म शक सम्वत: 👉 १९४३ (प्लव) विक्रम सम्वत: 👉 २०७८ (राक्षस) मास 👉 वैशाख पक्ष 👉 शुक्ल तिथि 👉 प्रतिपदा (२७:०५ तक) नक्षत्र 👉 कृत्तिका (२६:४० तक) योग 👉 शोभन (२३:४८ तक) प्रथम करण 👉 किंस्तुघ्न (१३:४७ तक) द्वितीय करण 👉 बव (२७:०५ तक) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️ ॥ गोचर ग्रहा: ॥ 🌖🌗🌖🌗 सूर्य 🌟 मेष चंद्र 🌟 वृष (०६:१७ से) मंगल 🌟 मिथुन (उदित, पूर्व, मार्गी) बुध 🌟 वृष (उदित, पूर्व, मार्गी) गुरु 🌟 कुम्भ (उदय, पूर्व, मार्गी) शुक्र 🌟 वृष (उदय, पश्चिम, मार्गी) शनि 🌟 मकर (उदय, पूर्व, मार्गी) राहु 🌟 वृष केतु 🌟 वृश्चिक 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभाशुभ मुहूर्त विचार ⏳⏲⏳⏲⏳⏲⏳ 〰〰〰〰〰〰〰 अभिजित मुहूर्त 👉 ❌❌❌ अमृत काल 👉 २३:५७ से २५:४६ सर्वार्थसिद्धि योग 👉 ❌❌❌ विजय मुहूर्त 👉 १४:२९ से १५:२४ गोधूलि मुहूर्त 👉 १८:४८ से १९:१२ निशिता मुहूर्त 👉 २३:५२ से २४:३४ राहुकाल 👉 १२:१३ से १३:५५ राहुवास 👉 दक्षिण-पश्चिम यमगण्ड 👉 ०७:०७ से ०८:४९ होमाहुति 👉 सूर्य दिशाशूल 👉 उत्तर नक्षत्रशूल 👉 पश्चिम (२६:४० से) अग्निवास 👉 पाताल (२७:०५ पृथ्वी) चन्द्रवास 👉 पूर्व (दक्षिण ०६:१९ से) 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ☄चौघड़िया विचार☄ 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ॥ दिन का चौघड़िया ॥ १ - लाभ २ - अमृत ३ - काल ४ - शुभ ५ - रोग ६ - उद्वेग ७ - चर ८ - लाभ ॥रात्रि का चौघड़िया॥ १ - उद्वेग २ - शुभ ३ - अमृत ४ - चर ५ - रोग ६ - काल ७ - लाभ ८ - उद्वेग नोट-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभ यात्रा दिशा 🚌🚈🚗⛵🛫 दक्षिण-पूर्व (गुड़ अथवा दूध का सेवन कर यात्रा करें) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️〰️〰️〰️ तिथि विशेष 🗓📆🗓📆 〰️〰️〰️〰️ वैशाख शुक्लपक्ष आरम्भ, पाराशर ऋषि जन्मोत्सव, गृहप्रवेश मुहूर्त प्रातः १०:४३ से १२:२३ तक आदि। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज जन्मे शिशुओं का नामकरण 〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️ आज २६:४० तक जन्मे शिशुओ का नाम कृतिका नक्षत्र के द्वितीय, तृतीय एवं चतुर्थ चरण अनुसार क्रमशः (ई, उ, ए) नामाक्षर से तथा इसके बाद जन्मे शिशुओ का नाम रोहिणी नक्षत्र के प्रथम चरण अनुसार क्रमश (ओ) नामाक्षर से रखना शास्त्रसम्मत है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 पञ्चक रहित मुहूर्त शुभ मुहूर्त - ०५:२५ से ०५:३८ मृत्यु पञ्चक - ०५:३८ से ०७:३२ अग्नि पञ्चक - ०७:३२ से ०९:४७ शुभ मुहूर्त - ०९:४७ से १२:०९ रज पञ्चक - १२:०९ से १४:२८ शुभ मुहूर्त - १४:२८ से १६:४६ चोर पञ्चक - १६:४६ से १९:०७ शुभ मुहूर्त - १९:०७ से २१:२६ रोग पञ्चक - २१:२६ से २३:२९ शुभ मुहूर्त - २३:२९ से २५:११ मृत्यु पञ्चक - २५:११ से २६:३६ अग्नि पञ्चक - २६:३६ से २६:४० शुभ मुहूर्त - २६:४० से २७:०५ रज पञ्चक - २७:०५ से २८:०० अग्नि पञ्चक - २८:०० से २९:२५ 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 उदय-लग्न मुहूर्त मेष - २८:०४ बजे से ०५:३८ वृषभ - ०५:३८ से ०७:३२ मिथुन - ०७:३२ से ०९:४७ कर्क - ०९:४७ से १२:०९ सिंह - १२:०९ से १४:२८ कन्या - १४:२८ से १६:४६ तुला - १६:४६ से १९:०७ वृश्चिक - १९:०७ से २१:२६ धनु - २१:२६ से २३:२९ मकर - २३:२९ से २५:११ कुम्भ - २५:११ से २६:३६ मीन - २६:३६ से २८:०० 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज का राशिफल 🐐🐂💏💮🐅👩 〰️〰️〰️〰️〰️〰️ मेष🐐 (चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ) आज आप पूर्व में की गलतियों की समीक्षा करेंगे भविष्य को लेकर थोड़ी चिंता भी रहेगी। कार्य व्यवसाय में आज कही से भी लाभ की उम्मीद नजर नही आएगी फिर भी मानसिक रूप से संतोषी ही नजर आएंगे। धन को लेकर जोड़ तोड़ की नीति अपनाने की जगह शांति से परिस्थिति अनुकूल बनने की प्रतीक्षा में रहेंगे। मन की इच्छाओं की तुलना में आज कर्म कम ही करेंगे भागदौड़ से बच बैठकर लाभ कमाने के चक्कर मे रहना अभाव को जन्म देगा। शारीरिक रूप से भी थोड़ा कष्ट रहेगा। परिजनों की बनी बनाई योजना पर लचीले व्यवहार के कारण पानी फेर देंगे। वृष🐂 (ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो) आज का दिन बीते समय की तुलना में बेहतर बीतेगा। दिन के आरंभ में अधिकांश कार्य हानि होने के डर से करने से कतराएंगे मध्यान तक मन पर चंचलता हावी रहेगी अनिर्णय की स्थिति अव्यवस्था बढ़ाएगी। किसी अनुभवी की सलाह मिलने पर हिम्मत आएगी कार्य व्यवसाय से आज लाभ की उम्मीद कम ही रखें निवेश करने से ना डरें भविष्य के लाभ के लिए आवश्यक है। धन लाभ की कामना संध्या तक पूर्ण होगी लेकिन कुछ कमी के साथ। वर्जित कार्यो में रुचि रहेगी जो सम्मान के साथ धन हानि का कारण बन सकती है इससे दूर रहें। खासी जुखाम से पीड़ा की संभावना है। मिथुन👫 (का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, हा) आज के दिन से आप काफी उम्मीद लगाए रहेंगे लेकिन दिन निराश करने वाल रहेगा। आवश्यक कार्य मनमौजी प्रवृति के कारण अधूरे रहेंगे। जिस कार्य से लाभ की आशा रहेगी उसमे किसी का हस्तक्षेप पड़ने से हानि होगीं। भागीदारी के कार्य मे स्पष्टता रखें गलतफहमी संबंद तोड़ सकती है। धन लाभ की संभावनाए ही बनेगी लेकिन पूर्ण नही हो सकेगी। लोग आपका सहयोग करने की जगह त्रुटियां निकालेंगे। रमणीय पयर्टक स्थल की यात्रा होगी खर्च में नियंत्रण रखने पर भी अकस्मात होने से कोष में कमी आएगी। शारीरिक रूप से कुछ ना कुछ कमी बनी रहेगी। जोखिम वाले कार्यो से आज डोर रहना ही बेहतर रहेगा। कर्क🦀 (ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो) आज के दिन भगदौड़ भरी जिंदगी में शांति की तलाश में रहेंगे मन में आज कुछ ना कुछ उठापटक लगी रहेगी। दिन के आरंभ में जो भी योजना बनाएंगे अन्य कार्य आने से इनमे फेरबदल करना पड़ेगा। कार्य व्यवसाय की जगह आज सार्वजनिक क्षेत्र से उम्मीद अधिक रहेगी। व्यवसायी वर्ग सही दिशा में जा रहे कार्यो के प्रति आशंकित रहेंगे लाभ के नजदीक पहुच कर निर्णय बदलने पर होने वाले लाभ में कमी आएगी। सरकारी कार्य धीमी गति से आगे बढ़ेंगे। मित्र परिचितों से संबंधो में मधुरता बढ़ेगी फिर भी छोटी-छोटी बातों को अनदेखा करना ही बेहतर रहेगा। परिवार में बीमारियों के कारण उदासीनता रहेगी। सिंह🦁 (मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे) आज दिन का आरंभ शांति से व्यतीत होगा लेकिन इसके बाद व्यर्थ के प्रपंचो में पड़कर मानसिक शांति खो देंगे। करने योग्य कार्य छोड़ अनर्गल प्रवृतियों में समय और धन नष्ट करेंगे। सरकारी क्षेत्र से आशाजनक समाचार मिलेंगे लेकिन सफलता आज संदिग्ध ही रहेगी। कार्य व्यवसाय में बड़ा निर्णय लेने का विचार बनाएंगे यह भविष्य के लिये लाभदायक रहेगा। धन की आमद सोच से थोड़ी कम रहेगी पुराने कार्यो से लाभ होगा लेकिन ज्यादा देर टिकेगा नही। व्यापार विस्तार की योजना भी बनाएंगे जिसमे सफलता निश्चित रहेगी। घर में किसी खुशखबरी के मिलने से आनंद का वातावरण बनेगा। सेहत सामान्य रहेगी। कन्या👩 (टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो) आज दिन के पूर्वार्ध की संतोषी प्रवृति मध्यान तक बेचैनी में बदल जाएगी। धन को लेकर आज कोई जोखिम नही लेंगे लेकिन लाभ पाने के लिये किसी भी प्रकार से कसर भी नही छोड़ेंगे दिन भर के कार्य कलापो से असंतोष होगा परन्तु आकस्मिक लाभ होने पर थोड़ी राहत मिलेगी आज आप जिस लाभ के अधिकारी है उसमें किसी का गलत मार्गदर्शन कमी लाएगा फिर भी खर्चो की पूर्ति आसानी से हो जाएगी। नौकरी वाले लोग धन लाभ की आशा में रहेंगे पर आज निराश ही होना पड़ेगा। परिवार के सदस्य अन्य की कमिया बता स्वय की गलती पर पर्दा डालेंगे थोड़े मतभेद के बाद भी शांति रहेगी। तुला⚖️ (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते) आज दिन के पहले भाग को छोड़ शेष समय शारीरिक एवं मानसिक समस्या का सामना करना पड़ेगा प्रातः काल से ही स्वास्थ्य में नरमी आने लगेगी लेकिन इसके प्रति लापरवाही करेंगे परिणाम स्वरूप मध्यान बाद स्थिति खराब होने लगेगी लेकिन ज्यादा गंभीर भी नही होगी। लेदेकर अपने नियमित कार्यो को किसी के सहयोग से पूरा कर लेंगे। धन की आमद आज आशाजनक नही रहेगी। सरकारी अथवा अन्य महत्त्वपूर्ण कार्यो को आज टालना ही बेहतर रहेगा। धन खर्च करने पर भी अधिकतर कार्य अधूरे ही रहेंगे। परिजनों के साथ संबंधो में रुखापन आएगा मतलब से बात करेंगे। वृश्चिक🦂 (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू) आज का दिन सभी कार्य मे सफलता दिलाएगा। पूर्व में किये गए परिश्रम का फल आज अवश्य ही धन लाभ के रूप में मिलेगा लेकिन ध्यान रहे व्यवहारिकता से ही लाभ में वृद्धि हो सकती है लोभ अथवा अहम में रहे तो लाभ सीमित रह जायेगा। कार्य व्यवसाय में बिना किसी सहयोग के उन्नति होगी भविष्य की योजनाओं पर खर्च के साथ बचत भी करेंगे। सरकारी कार्य भी थोड़े बौद्धिक श्रम से धन खर्च कर बना लेंगे। दिमागी रूप से शांत रहने के कारण परिजनों के साथ संबंधों में निकटता आएगी। वृद्धजन का आशीर्वाद मिलेगा परोपकार की भावना आज कम ही रहेगी। धनु🏹 (ये, यो, भा, भी, भू, ध, फा, ढा, भे) आज दिन के आरंभिक भाग को छोड़ शेष सामान्य रहेगा। प्रातः काल सेहत में नरमी रहेगी लेकिन पहले की अपेक्षा सुधार भी आएगा आलस्य के कारण कार्य के प्रति टालमटोल करेंगे मध्यान बाद मानसिक रूप से स्थिरता आएगी कार्यो के प्रति गंभीरता बढ़ेगी लेकिन मजबूरी में ही करेंगे। धार्मिक कार्यो में आस्था मजबूत होगी। कार्य व्यवसाय से आज ज्यादा आशा नही रहेगी फिर भी दौड़ धूप का सकारात्मक परिणाम भविष्य में लाभ की आशा बनाए रखेगा। परिजन आपकी गतिविधयों पर नजर रखेंगे किसी भी अनैतिक कार्य से बचें अन्यथा सुख शांति बिगड़ सकती है। धन लाभ से खर्च ज्यादा रहेगा। मकर🐊 (भो, जा, जी, खी, खू, खा, खो, गा, गी) आज के दिन बुद्धि विवेक में विकास होगा लेकिन इससे मनिच्छित सफलता नही मिल सकेगी दिन के पहले भाग में घर मे पुरानी बात के कारण मतभेद रहेंगे शांत रहने का प्रयास करें अन्यथा दिन भर मानसिक अशांति रहेगी। कार्य क्षेत्र पर नए तरीके से काम करने का प्रयास करेंगे इससे अन्य लोगो मे आपकी बुद्धि कौशल का प्रचार होगा पर धन लाभ के लिये तरसना पड़ेगा परिश्रम करने पर भी अल्प लाभ से संतोष करना पड़ेगा। लोग केवल मीठा बोलकर अपना हित साधेंगे सहयोग कोई नही करेगा। सेहत में उतार-चढ़ाव बना रहेगा। परिवार की आवश्यकता पूर्ती करने में असमर्थ रहेंगे। कुंभ🍯 (गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा) आज दिन के आरंभ में किसी गुप्त कारण से चिंतित रहेंगे स्वयं अथवा किसी परिजन की गलती के कारण घर मे कलह होने की आशंका से मन व्याकुल रहेगा परिजनों के आगे सोच समझकर ही बात करें डर के कारण उलजुलूल बयानों से खुद ही शक पैदा करेंगे। कार्य क्षेत्र पर भी शांति की कमी रहेगी धन अथवा किसी वस्तु को लेकर गरमा गरमी होने की संभावना है। लाभ की संभावनाए बनते बनते बिगड़ेंगी। सामाजिक एवं पारिवारिक व्यवहारों की जगह मौज-शौक पर खर्च करेंगे। सहयोगियों से आज कम ही बनेगी। मानसिक दबाव के कारण सर दर्द रहेगा। मीन🐳 (दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची) आज के दिन पूर्वार्ध में पहले मिली सफलता के कारण निश्चिन्त रहेंगे महत्त्वपूर्ण कार्यो में लापरवाही करेंगे लेकिन मध्यान के बाद ही स्थिति को भाँप कर मेहनत के लिये प्रेरित होंगे। आज किये परिश्रम का फल निकट भविष्य में कुछ ना कुछ आर्थिक अथवा अन्य प्रकार से वृद्धि कराएगा। घर मे सुखोपभोग के साधन की खरीद की योजना बनेगी परन्तु आज बजट की कमी के कारण टालना भी पड़ सकता है। धन लाभ आशाजनक लेकिन भाग दौड़ के बाद ही होगा खर्च साथ लगे रहने से परिजनों की इच्छापूर्ति करने में विलंब होगा फिर भी आपसी तालमेल बना रहेगा स्वास्थ्य को लेकर आशंकित रहेंगे। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️

+210 प्रतिक्रिया 25 कॉमेंट्स • 241 शेयर
Ajay Awasthi May 11, 2021

🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *********|| जय श्री राधे ||********* 🌺🙏 *महर्षि पाराशर पंचांग* 🙏🌺 🙏🌺🙏 *अथ पंचांगम्* 🙏🌺🙏 *********ll जय श्री राधे ll********* 🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *दिनाँक -: 12/05/2021,बुधवार* प्रतिपदा, शुक्ल पक्ष वैशाख """""""""""""""""""""""""""""(समाप्ति काल) तिथि---------- प्रतिपदा 27:05:29 तक पक्ष-------------------------- शुक्ल नक्षत्र---------- कृत्तिका 26:38:51 योग----------- शोभन 23:45:44 करण--------- किन्स्तुघ्न 13:47:11 करण---------------- बव 27:05:29 वार------------------------- बुधवार माह--------------------------वैशाख चन्द्र राशि------------ मेष 06:17:14 चन्द्र राशि----------------------वृषभ सूर्य राशि-------------------- मेष रितु---------------------------वसंत आयन-------------------- उत्तरायण संवत्सर----------------------- प्लव संवत्सर (उत्तर)--------- आनंद विक्रम संवत---------------- 2078 विक्रम संवत (कर्तक) -----2077 शाका संवत----------------- 1943 वृन्दावन सूर्योदय--------------- 05:33:25 सूर्यास्त------------------ 18:58:02 दिन काल------------- 13:24:36 रात्री काल-------------- 10:34:47 चंद्रोदय---------------- 05:52:37 चंद्रास्त----------------- 19:34:12 लग्न---- मेष 27°21' , 27°21' सूर्य नक्षत्र----------------- कृत्तिका चन्द्र नक्षत्र------------------ कृत्तिका नक्षत्र पाया---------------------लोहा *🚩💮🚩 पद, चरण 🚩💮🚩* अ---- कृत्तिका 06:17:14 ई---- कृत्तिका 13:04:29 उ---- कृत्तिका 19:51:44 ए---- कृत्तिका 26:38:51 *💮🚩💮 ग्रह गोचर 💮🚩💮* ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद ========================== सूर्य= मेष 27°52 ' कृतिका , 1 अ चन्द्र = मेष 29°23 ' कृतिका , 1 अ बुध = वृषभ 18°57' रोहिणी' 3 वी शुक्र= वृषभ 09°55, कृतिका ' 4 ए मंगल=मिथुन 17°30 ' आर्द्रा ' 4 छ गुरु=कुम्भ 04°22 ' धनिष्ठा , 4 गे शनि=मकर 19°43 ' श्रवण ' 3 खे राहू=(व)वृषभ 17°48 'मृगशिरा , 3 वि केतु=(व)वृश्चिक 17°48 ज्येष्ठा , 1 नो *🚩💮🚩शुभा$शुभ मुहूर्त🚩💮🚩* राहू काल 12:16 - 13:56 अशुभ यम घंटा 07:14 - 08:55 अशुभ गुली काल 10:35 - 12:16 अशुभ अभिजित 11:49 -12:43 अशुभ दूर मुहूर्त 11:49 - 12:43 अशुभ 💮चोघडिया, दिन लाभ 05:33 - 07:14 शुभ अमृत 07:14 - 08:55 शुभ काल 08:55 - 10:35 अशुभ शुभ 10:35 - 12:16 शुभ रोग 12:16 - 13:56 अशुभ उद्वेग 13:56 - 15:37 अशुभ चर 15:37 - 17:17 शुभ लाभ 17:17 - 18:58 शुभ 🚩चोघडिया, रात उद्वेग 18:58 - 20:17 अशुभ शुभ 20:17 - 21:37 शुभ अमृत 21:37 - 22:56 शुभ चर 22:56 - 24:15* शुभ रोग 24:15* - 25:35* अशुभ काल 25:35* - 26:54* अशुभ लाभ 26:54* - 28:13* शुभ उद्वेग 28:13* - 29:33* अशुभ 💮होरा, दिन बुध 05:33 - 06:40 चन्द्र 06:40 - 07:48 शनि 07:48 - 08:55 बृहस्पति 08:55 - 10:02 मंगल 10:02 - 11:09 सूर्य 11:09 - 12:16 शुक्र 12:16 - 13:23 बुध 13:23 - 14:30 चन्द्र 14:30 - 15:37 शनि 15:37 - 16:44 बृहस्पति 16:44 - 17:51 मंगल 17:51 - 18:58 🚩होरा, रात सूर्य 18:58 - 19:51 शुक्र 19:51 - 20:44 बुध 20:44 - 21:37 चन्द्र 21:37 - 22:30 शनि 22:30 - 23:23 बृहस्पति 23:23 - 24:15 मंगल 24:15* - 25:08 सूर्य 25:08* - 26:01 शुक्र 26:01* - 26:54 बुध 26:54* - 27:47 चन्द्र 27:47* - 28:40 शनि 28:40* - 29:33 *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार । अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । लाभ में व्यापार करें । रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । अमृत में सभी शुभ कार्य करें । *💮दिशा शूल ज्ञान---------------------उत्तर* परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो पान अथवा पिस्ता खाके यात्रा कर सकते है l इस मंत्र का उच्चारण करें-: *शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l* *भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll* *🚩 अग्नि वास ज्ञान -:* *यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,* *चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।* *दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,* *नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।।* *महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्* *नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।* 1 + 4 + 1 = 6 ÷ 4 = 2 शेष आकाश लोक पर अग्नि वास हवन के लिए अशुभ कारक है l *💮 शिव वास एवं फल -:* 1 + 1 + 5 = 7 ÷ 7 = 0 शेष शमशान वास = मृत्यु कारक *🚩भद्रा वास एवं फल -:* *स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।* *मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।* *💮🚩 विशेष जानकारी 🚩💮* * महर्षि पाराशर जयन्ती * सर्वार्थसिद्धि योग अहोरात्र *देवदामोदर तिथि (आसाम) *💮🚩💮 शुभ विचार 💮🚩💮* कुग्रामवासः कुलहीनसेवा । कुभोजनं क्रोधमुखी च भार्या ।। पुत्रश्च मूर्खो विधवा च कन्या । विनाग्निमेते प्रदहन्ति कायम् ।। ।।चा o नी o।। निम्नलिखित बाते व्यक्ति को बिना आग के ही जलाती है... १. एक छोटे गाव में बसना जहा रहने की सुविधाए उपलब्ध नहीं. २. एक ऐसे व्यक्ति के यहाँ नौकरी करना जो नीच कुल में पैदा हुआ है. ३. अस्वास्थय्वर्धक भोजन का सेवन करना. ४. जिसकी पत्नी हरदम गुस्से में होती है. ५. जिसको मुर्ख पुत्र है. ६. जिसकी पुत्री विधवा हो गयी है. *🚩💮🚩 सुभाषितानि 🚩💮🚩* गीता -: ज्ञानकर्म सन्यासयोग अo-4 यज्ञशिष्टामृतभुजो यान्ति ब्रह्म सनातनम्‌ ।, नायं लोकोऽस्त्ययज्ञस्य कुतोऽन्यः कुरुसत्तम ॥, हे कुरुश्रेष्ठ अर्जुन! यज्ञ से बचे हुए अमृत का अनुभव करने वाले योगीजन सनातन परब्रह्म परमात्मा को प्राप्त होते हैं।, और यज्ञ न करने वाले पुरुष के लिए तो यह मनुष्यलोक भी सुखदायक नहीं है, फिर परलोक कैसे सुखदायक हो सकता है?॥,31॥, *💮🚩 दैनिक राशिफल 🚩💮* देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।। 🐏मेष व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। बेचैनी रहेगी। प्रयास सफल रहेंगे। धनलाभ के अवसर हाथ आएंगे। सामाजिक कार्य करने में रुचि रहेगी। मान-सम्मान मिलेगा। निवेश शुभ रहेगा। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। पार्टनरों का सहयोग मिलेगा। कार्यसिद्धि होगी। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। 🐂वृष यात्रा मनोरंजक रहेगी। स्वादिष्ट भोजन का आनंद प्राप्त होगा। विद्यार्थी वर्ग सफलता प्राप्त करेगा। कारोबार में वृद्धि के योग हैं। व्यस्तता के चलते स्वास्‍थ्य प्रभावित होगा। धन प्राप्ति सुगम होगी। मित्रों का सहयोग समय पर प्राप्त होगा। रुके कार्यों में गति आएगी। प्रसन्नता रहेगी। जोखिम न उठाएं। 👫मिथुन जल्दबाजी से चोट लग सकती है। दूर से शोक समाचार मिल सकता है। वाणी पर नियंत्रण रखें। किसी अपने ही व्यक्ति से कहासुनी हो सकती है। थकान व कमजोरी रह सकती है। स्वास्थ्य पर खर्च होगा। चिंता तथा तनाव रहेंगे। नौकरी में कार्यभार रहेगा। भागदौड़ रहेगी। आय होगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। 🦀कर्क कानूनी अड़चन दूर होकर लाभ की स्थिति बनेगी। थकान व कमजोरी रह सकती है। जीवनसाथी से सहयोग प्राप्त होगा। व्यापार-व्यवसाय लाभप्रद रहेगा। निवेश में जल्दबाजी न करें। नौकरी में शांति रहेगी। धन प्राप्ति सुगम होगी। मित्रों का सहयोग रहेगा। कार्य समय पर पूर्ण होंगे। 🐅सिंह पुराना रोग उभर सकता है। दूर से दु:खद समाचार मिल सकता है। व्यर्थ भागदौड़ रहेगी। किसी व्यक्ति के व्यवहार से अप्रसन्नता रहेगी। अपेक्षित कार्य विलंब से होंगे। प्रयास अधिक करना पड़ेंगे। किसी व्यक्ति विशेष की नाराजी झेलना पड़ेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। 🙍‍♀️कन्या जल्दबाजी न करें। कोई समस्या खड़ी हो सकती है। शरीर शिथिल हो सकता है। लेन-देन में जल्दबाजी न करें। भूमि व भवन इत्यादि की खरीद-फरोख्त की योजना बनेगी। नौकरी में प्रभाव बढ़ेगा। आय में वृद्धि होगी। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेगे। प्रमाद न करें। ⚖️तुला धनहानि संभव है, सावधानी रखें। किसी व्यक्ति के व्यवहार से स्वाभिमान को ठेस पहुंच सकती है। जीवनसाथी के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। विवाद से बचें। शत्रु शांत रहेंगे। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। यात्रा लाभदायक रहेगी। व्यापार मनोनुकूल चलेगा। नौकरी में चैन रहेगा। 🦂वृश्चिक अप्रत्याशित खर्च सामने आएंगे। वाणी में हल्के शब्दों के प्रयोग से बचें। बात बढ़ सकती है। परिवार के किसी सदस्य के स्वास्‍थ्य की चिंता रहेगी। तनाव रहेगा। पुराना रोग उभर सकता है। लेन-देन में सावधानी रखें। किसी भी व्यक्ति की बातों में न आएं। महत्वपूर्ण निर्णय सोच-समझकर करें, लाभ होगा। 🏹धनु शत्रु सक्रिय रहेंगे। शारीरिक कष्‍ट संभव है। दूसरों के कार्य में हस्तक्षेप न करें। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। अप्रत्याशित लाभ हो सकता है। व्यापार-व्यवसाय लाभप्रद रहेगा। निवेश मनोनुकूल लाभ देगा। परीक्षा व साक्षात्कार आदि में सफलता प्राप्त होगी। भाग्य का साथ मिलेगा। प्रसन्नता रहेगी। 🐊मकर धन प्राप्ति सुगम तरीके से होगी। नई योजना बनेगी। तत्काल लाभ नहीं होगा। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। सामाजिक कार्य करने में रुझान रहेगा। मान-सम्मान मिलेगा। शेयर मार्केट व म्युचुअल फंड इत्यादि से मनोनुकूल लाभ होगा। कष्ट, तनाव व चिंता का वातावरण बन सकता है। शत्रु पस्त होंगे। 🍯कुंभ पूजा-पाठ में मन लगेगा। किसी साधु-संत का आशीवार्द मिल सकता है। कोर्ट व कचहरी के कार्य मनोनुकूल रहेंगे। व्यापार-व्यवसाय लाभप्रद रहेंगे। नौकरी में प्रभाव वृद्धि होगी। मातहतों का सहयोग प्राप्त होगा। लंबित कार्य पूर्ण होंगे। प्रमाद न करें। 🐟मीन घर में अतिथियों का आगमन होगा। व्यय होगा। दूर से शुभ समाचार प्राप्त होंगे। व्यापार-व्यवसाय ठीक चलेगा। नौकरी में संतोष रहेगा। निवेश शुभ रहेगा। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। विरोध होगा। विवाद से क्लेश होगा, इससे बचें। पुराना रोग उभर सकता है। परिवार की चिंता रहेगी। जल्दबाजी न करें। 🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏 🌺🌺🌺🌺🙏🌺🌺🌺🌺

+33 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 67 शेयर

🕉श्री हरिहरो विजयतेतराम🕉 🌄सुप्रभातम🌄 🗓आज का पञ्चाङ्ग🗓 🌻बुधवार, १२ मई २०२१🌻 सूर्योदय: 🌄 ०५:३७ सूर्यास्त: 🌅 ०६:५४ चन्द्रोदय: 🌝 ०५:४३ चन्द्रास्त: 🌜१९:३७ अयन 🌕 उत्तराणायने (उत्तरगोलीय) ऋतु: 🍁 ग्रीष्म शक सम्वत: 👉 १९४३ (प्लव) विक्रम सम्वत: 👉 २०७८ (राक्षस) मास 👉 वैशाख पक्ष 👉 शुक्ल तिथि 👉 प्रतिपदा (२७:०५ तक) नक्षत्र 👉 कृत्तिका (२६:४० तक) योग 👉 शोभन (२३:४८ तक) प्रथम करण 👉 किंस्तुघ्न (१३:४७ तक) द्वितीय करण 👉 बव (२७:०५ तक) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️ ॥ गोचर ग्रहा: ॥ 🌖🌗🌖🌗 सूर्य 🌟 मेष चंद्र 🌟 वृष (०६:१७ से) मंगल 🌟 मिथुन (उदित, पूर्व, मार्गी) बुध 🌟 वृष (उदित, पूर्व, मार्गी) गुरु 🌟 कुम्भ (उदय, पूर्व, मार्गी) शुक्र 🌟 वृष (उदय, पश्चिम, मार्गी) शनि 🌟 मकर (उदय, पूर्व, मार्गी) राहु 🌟 वृष केतु 🌟 वृश्चिक 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभाशुभ मुहूर्त विचार ⏳⏲⏳⏲⏳⏲⏳ 〰〰〰〰〰〰〰 अभिजित मुहूर्त 👉 ❌❌❌ अमृत काल 👉 २३:५७ से २५:४६ सर्वार्थसिद्धि योग 👉 ❌❌❌ विजय मुहूर्त 👉 १४:२९ से १५:२४ गोधूलि मुहूर्त 👉 १८:४८ से १९:१२ निशिता मुहूर्त 👉 २३:५२ से २४:३४ राहुकाल 👉 १२:१३ से १३:५५ राहुवास 👉 दक्षिण-पश्चिम यमगण्ड 👉 ०७:०७ से ०८:४९ होमाहुति 👉 सूर्य दिशाशूल 👉 उत्तर नक्षत्रशूल 👉 पश्चिम (२६:४० से) अग्निवास 👉 पाताल (२७:०५ पृथ्वी) चन्द्रवास 👉 पूर्व (दक्षिण ०६:१९ से) 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ☄चौघड़िया विचार☄ 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ॥ दिन का चौघड़िया ॥ १ - लाभ २ - अमृत ३ - काल ४ - शुभ ५ - रोग ६ - उद्वेग ७ - चर ८ - लाभ ॥रात्रि का चौघड़िया॥ १ - उद्वेग २ - शुभ ३ - अमृत ४ - चर ५ - रोग ६ - काल ७ - लाभ ८ - उद्वेग नोट-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभ यात्रा दिशा 🚌🚈🚗⛵🛫 दक्षिण-पूर्व (गुड़ अथवा दूध का सेवन कर यात्रा करें) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️〰️〰️〰️ तिथि विशेष 🗓📆🗓📆 〰️〰️〰️〰️ वैशाख शुक्लपक्ष आरम्भ, पाराशर ऋषि जन्मोत्सव, गृहप्रवेश मुहूर्त प्रातः १०:४३ से १२:२३ तक आदि। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज जन्मे शिशुओं का नामकरण 〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️ आज २६:४० तक जन्मे शिशुओ का नाम कृतिका नक्षत्र के द्वितीय, तृतीय एवं चतुर्थ चरण अनुसार क्रमशः (ई, उ, ए) नामाक्षर से तथा इसके बाद जन्मे शिशुओ का नाम रोहिणी नक्षत्र के प्रथम चरण अनुसार क्रमश (ओ) नामाक्षर से रखना शास्त्रसम्मत है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 पञ्चक रहित मुहूर्त शुभ मुहूर्त - ०५:२५ से ०५:३८ मृत्यु पञ्चक - ०५:३८ से ०७:३२ अग्नि पञ्चक - ०७:३२ से ०९:४७ शुभ मुहूर्त - ०९:४७ से १२:०९ रज पञ्चक - १२:०९ से १४:२८ शुभ मुहूर्त - १४:२८ से १६:४६ चोर पञ्चक - १६:४६ से १९:०७ शुभ मुहूर्त - १९:०७ से २१:२६ रोग पञ्चक - २१:२६ से २३:२९ शुभ मुहूर्त - २३:२९ से २५:११ मृत्यु पञ्चक - २५:११ से २६:३६ अग्नि पञ्चक - २६:३६ से २६:४० शुभ मुहूर्त - २६:४० से २७:०५ रज पञ्चक - २७:०५ से २८:०० अग्नि पञ्चक - २८:०० से २९:२५ 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 उदय-लग्न मुहूर्त मेष - २८:०४ बजे से ०५:३८ वृषभ - ०५:३८ से ०७:३२ मिथुन - ०७:३२ से ०९:४७ कर्क - ०९:४७ से १२:०९ सिंह - १२:०९ से १४:२८ कन्या - १४:२८ से १६:४६ तुला - १६:४६ से १९:०७ वृश्चिक - १९:०७ से २१:२६ धनु - २१:२६ से २३:२९ मकर - २३:२९ से २५:११ कुम्भ - २५:११ से २६:३६ मीन - २६:३६ से २८:०० 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज का राशिफल 🐐🐂💏💮🐅👩 〰️〰️〰️〰️〰️〰️ मेष🐐 (चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ) आज आप पूर्व में की गलतियों की समीक्षा करेंगे भविष्य को लेकर थोड़ी चिंता भी रहेगी। कार्य व्यवसाय में आज कही से भी लाभ की उम्मीद नजर नही आएगी फिर भी मानसिक रूप से संतोषी ही नजर आएंगे। धन को लेकर जोड़ तोड़ की नीति अपनाने की जगह शांति से परिस्थिति अनुकूल बनने की प्रतीक्षा में रहेंगे। मन की इच्छाओं की तुलना में आज कर्म कम ही करेंगे भागदौड़ से बच बैठकर लाभ कमाने के चक्कर मे रहना अभाव को जन्म देगा। शारीरिक रूप से भी थोड़ा कष्ट रहेगा। परिजनों की बनी बनाई योजना पर लचीले व्यवहार के कारण पानी फेर देंगे। वृष🐂 (ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो) आज का दिन बीते समय की तुलना में बेहतर बीतेगा। दिन के आरंभ में अधिकांश कार्य हानि होने के डर से करने से कतराएंगे मध्यान तक मन पर चंचलता हावी रहेगी अनिर्णय की स्थिति अव्यवस्था बढ़ाएगी। किसी अनुभवी की सलाह मिलने पर हिम्मत आएगी कार्य व्यवसाय से आज लाभ की उम्मीद कम ही रखें निवेश करने से ना डरें भविष्य के लाभ के लिए आवश्यक है। धन लाभ की कामना संध्या तक पूर्ण होगी लेकिन कुछ कमी के साथ। वर्जित कार्यो में रुचि रहेगी जो सम्मान के साथ धन हानि का कारण बन सकती है इससे दूर रहें। खासी जुखाम से पीड़ा की संभावना है। मिथुन👫 (का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, हा) आज के दिन से आप काफी उम्मीद लगाए रहेंगे लेकिन दिन निराश करने वाल रहेगा। आवश्यक कार्य मनमौजी प्रवृति के कारण अधूरे रहेंगे। जिस कार्य से लाभ की आशा रहेगी उसमे किसी का हस्तक्षेप पड़ने से हानि होगीं। भागीदारी के कार्य मे स्पष्टता रखें गलतफहमी संबंद तोड़ सकती है। धन लाभ की संभावनाए ही बनेगी लेकिन पूर्ण नही हो सकेगी। लोग आपका सहयोग करने की जगह त्रुटियां निकालेंगे। रमणीय पयर्टक स्थल की यात्रा होगी खर्च में नियंत्रण रखने पर भी अकस्मात होने से कोष में कमी आएगी। शारीरिक रूप से कुछ ना कुछ कमी बनी रहेगी। जोखिम वाले कार्यो से आज डोर रहना ही बेहतर रहेगा। कर्क🦀 (ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो) आज के दिन भगदौड़ भरी जिंदगी में शांति की तलाश में रहेंगे मन में आज कुछ ना कुछ उठापटक लगी रहेगी। दिन के आरंभ में जो भी योजना बनाएंगे अन्य कार्य आने से इनमे फेरबदल करना पड़ेगा। कार्य व्यवसाय की जगह आज सार्वजनिक क्षेत्र से उम्मीद अधिक रहेगी। व्यवसायी वर्ग सही दिशा में जा रहे कार्यो के प्रति आशंकित रहेंगे लाभ के नजदीक पहुच कर निर्णय बदलने पर होने वाले लाभ में कमी आएगी। सरकारी कार्य धीमी गति से आगे बढ़ेंगे। मित्र परिचितों से संबंधो में मधुरता बढ़ेगी फिर भी छोटी-छोटी बातों को अनदेखा करना ही बेहतर रहेगा। परिवार में बीमारियों के कारण उदासीनता रहेगी। सिंह🦁 (मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे) आज दिन का आरंभ शांति से व्यतीत होगा लेकिन इसके बाद व्यर्थ के प्रपंचो में पड़कर मानसिक शांति खो देंगे। करने योग्य कार्य छोड़ अनर्गल प्रवृतियों में समय और धन नष्ट करेंगे। सरकारी क्षेत्र से आशाजनक समाचार मिलेंगे लेकिन सफलता आज संदिग्ध ही रहेगी। कार्य व्यवसाय में बड़ा निर्णय लेने का विचार बनाएंगे यह भविष्य के लिये लाभदायक रहेगा। धन की आमद सोच से थोड़ी कम रहेगी पुराने कार्यो से लाभ होगा लेकिन ज्यादा देर टिकेगा नही। व्यापार विस्तार की योजना भी बनाएंगे जिसमे सफलता निश्चित रहेगी। घर में किसी खुशखबरी के मिलने से आनंद का वातावरण बनेगा। सेहत सामान्य रहेगी। कन्या👩 (टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो) आज दिन के पूर्वार्ध की संतोषी प्रवृति मध्यान तक बेचैनी में बदल जाएगी। धन को लेकर आज कोई जोखिम नही लेंगे लेकिन लाभ पाने के लिये किसी भी प्रकार से कसर भी नही छोड़ेंगे दिन भर के कार्य कलापो से असंतोष होगा परन्तु आकस्मिक लाभ होने पर थोड़ी राहत मिलेगी आज आप जिस लाभ के अधिकारी है उसमें किसी का गलत मार्गदर्शन कमी लाएगा फिर भी खर्चो की पूर्ति आसानी से हो जाएगी। नौकरी वाले लोग धन लाभ की आशा में रहेंगे पर आज निराश ही होना पड़ेगा। परिवार के सदस्य अन्य की कमिया बता स्वय की गलती पर पर्दा डालेंगे थोड़े मतभेद के बाद भी शांति रहेगी। तुला⚖️ (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते) आज दिन के पहले भाग को छोड़ शेष समय शारीरिक एवं मानसिक समस्या का सामना करना पड़ेगा प्रातः काल से ही स्वास्थ्य में नरमी आने लगेगी लेकिन इसके प्रति लापरवाही करेंगे परिणाम स्वरूप मध्यान बाद स्थिति खराब होने लगेगी लेकिन ज्यादा गंभीर भी नही होगी। लेदेकर अपने नियमित कार्यो को किसी के सहयोग से पूरा कर लेंगे। धन की आमद आज आशाजनक नही रहेगी। सरकारी अथवा अन्य महत्त्वपूर्ण कार्यो को आज टालना ही बेहतर रहेगा। धन खर्च करने पर भी अधिकतर कार्य अधूरे ही रहेंगे। परिजनों के साथ संबंधो में रुखापन आएगा मतलब से बात करेंगे। वृश्चिक🦂 (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू) आज का दिन सभी कार्य मे सफलता दिलाएगा। पूर्व में किये गए परिश्रम का फल आज अवश्य ही धन लाभ के रूप में मिलेगा लेकिन ध्यान रहे व्यवहारिकता से ही लाभ में वृद्धि हो सकती है लोभ अथवा अहम में रहे तो लाभ सीमित रह जायेगा। कार्य व्यवसाय में बिना किसी सहयोग के उन्नति होगी भविष्य की योजनाओं पर खर्च के साथ बचत भी करेंगे। सरकारी कार्य भी थोड़े बौद्धिक श्रम से धन खर्च कर बना लेंगे। दिमागी रूप से शांत रहने के कारण परिजनों के साथ संबंधों में निकटता आएगी। वृद्धजन का आशीर्वाद मिलेगा परोपकार की भावना आज कम ही रहेगी। धनु🏹 (ये, यो, भा, भी, भू, ध, फा, ढा, भे) आज दिन के आरंभिक भाग को छोड़ शेष सामान्य रहेगा। प्रातः काल सेहत में नरमी रहेगी लेकिन पहले की अपेक्षा सुधार भी आएगा आलस्य के कारण कार्य के प्रति टालमटोल करेंगे मध्यान बाद मानसिक रूप से स्थिरता आएगी कार्यो के प्रति गंभीरता बढ़ेगी लेकिन मजबूरी में ही करेंगे। धार्मिक कार्यो में आस्था मजबूत होगी। कार्य व्यवसाय से आज ज्यादा आशा नही रहेगी फिर भी दौड़ धूप का सकारात्मक परिणाम भविष्य में लाभ की आशा बनाए रखेगा। परिजन आपकी गतिविधयों पर नजर रखेंगे किसी भी अनैतिक कार्य से बचें अन्यथा सुख शांति बिगड़ सकती है। धन लाभ से खर्च ज्यादा रहेगा। मकर🐊 (भो, जा, जी, खी, खू, खा, खो, गा, गी) आज के दिन बुद्धि विवेक में विकास होगा लेकिन इससे मनिच्छित सफलता नही मिल सकेगी दिन के पहले भाग में घर मे पुरानी बात के कारण मतभेद रहेंगे शांत रहने का प्रयास करें अन्यथा दिन भर मानसिक अशांति रहेगी। कार्य क्षेत्र पर नए तरीके से काम करने का प्रयास करेंगे इससे अन्य लोगो मे आपकी बुद्धि कौशल का प्रचार होगा पर धन लाभ के लिये तरसना पड़ेगा परिश्रम करने पर भी अल्प लाभ से संतोष करना पड़ेगा। लोग केवल मीठा बोलकर अपना हित साधेंगे सहयोग कोई नही करेगा। सेहत में उतार-चढ़ाव बना रहेगा। परिवार की आवश्यकता पूर्ती करने में असमर्थ रहेंगे। कुंभ🍯 (गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा) आज दिन के आरंभ में किसी गुप्त कारण से चिंतित रहेंगे स्वयं अथवा किसी परिजन की गलती के कारण घर मे कलह होने की आशंका से मन व्याकुल रहेगा परिजनों के आगे सोच समझकर ही बात करें डर के कारण उलजुलूल बयानों से खुद ही शक पैदा करेंगे। कार्य क्षेत्र पर भी शांति की कमी रहेगी धन अथवा किसी वस्तु को लेकर गरमा गरमी होने की संभावना है। लाभ की संभावनाए बनते बनते बिगड़ेंगी। सामाजिक एवं पारिवारिक व्यवहारों की जगह मौज-शौक पर खर्च करेंगे। सहयोगियों से आज कम ही बनेगी। मानसिक दबाव के कारण सर दर्द रहेगा। मीन🐳 (दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची) आज के दिन पूर्वार्ध में पहले मिली सफलता के कारण निश्चिन्त रहेंगे महत्त्वपूर्ण कार्यो में लापरवाही करेंगे लेकिन मध्यान के बाद ही स्थिति को भाँप कर मेहनत के लिये प्रेरित होंगे। आज किये परिश्रम का फल निकट भविष्य में कुछ ना कुछ आर्थिक अथवा अन्य प्रकार से वृद्धि कराएगा। घर मे सुखोपभोग के साधन की खरीद की योजना बनेगी परन्तु आज बजट की कमी के कारण टालना भी पड़ सकता है। धन लाभ आशाजनक लेकिन भाग दौड़ के बाद ही होगा खर्च साथ लगे रहने से परिजनों की इच्छापूर्ति करने में विलंब होगा फिर भी आपसी तालमेल बना रहेगा स्वास्थ्य को लेकर आशंकित रहेंगे। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️

+25 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 52 शेयर
Ajay Awasthi May 11, 2021

🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *********|| जय श्री राधे ||********* 🌺🙏 *महर्षि पाराशर पंचांग* 🙏🌺 🙏🌺🙏 *अथ पंचांगम्* 🙏🌺🙏 *********ll जय श्री राधे ll********* 🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *दिनाँक-: 11/05/2021,मंगलवार* अमावस्या, कृष्ण पक्ष वैशाख """"""""""""""""""""""""""""""(समाप्ति काल) तिथि------- अमावस्या 24:28:44 तक पक्ष-------------------------- कृष्ण नक्षत्र---------- भरणी 23:30:04 योग----------- सौभाग्य 22:40:17 करण----------- चतुष्पद 11:11:00 करण------------ नाग 24:28:44 वार----------------------- मंगलवार माह--------------------------वैशाख चन्द्र राशि---------------------- मेष सूर्य राशि---------------------- मेष रितु----------------------------वसंत आयन-------------------- उत्तरायण संवत्सर----------------------- प्लव संवत्सर (उत्तर)--------- आनंद विक्रम संवत-----------------2078 विक्रम संवत (कर्तक)---- 2077 शाका संवत----------------- 1943 वृन्दावन सूर्योदय----------------- 05:34:02 सूर्यास्त------------------ 18:57:27 दिन काल--------------- 13:23:24 रात्री काल--------------- 10:35:57 चंद्रोदय------------------ 05:53:14 चंद्रास्त------------------ 18:40:20 लग्न---- मेष 26°23' , 26°23' सूर्य नक्षत्र--------------------- भरणी चन्द्र नक्षत्र-------------------- भरणी नक्षत्र पाया---------------------स्वर्ण *🚩💮🚩 पद, चरण 🚩💮🚩* लू---- भरणी 09:56:23 ले---- भरणी 16:43:05 लो---- भरणी 23:30:04 *💮🚩💮 ग्रह गोचर 💮🚩💮* ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद ========================== सूर्य= मेष 26°52 ' भरणी , 4 लो चन्द्र = मेष 16°23 ' भरणी , 2 लू बुध = वृषभ 16°57' रोहिणी' 3 वी शुक्र= वृषभ 08°55, कृतिका ' 4 ए मंगल=मिथुन 15°30 ' आर्द्रा ' 3 ङ गुरु=कुम्भ 04°22 ' धनिष्ठा , 4 गे शनि=मकर 19°43 ' श्रवण ' 3 खे राहू=(व)वृषभ 17°48 'मृगशिरा , 3 वि केतु=(व)वृश्चिक 17°48 ज्येष्ठा , 1 नो *🚩💮🚩शुभा$शुभ मुहूर्त🚩💮🚩* राहू काल 15:37 - 17:17 अशुभ यम घंटा 08:55 - 10:35 अशुभ गुली काल 12:16 - 13:56 अशुभ अभिजित 11:49 -12:43 शुभ दूर मुहूर्त 08:15 - 09:08 अशुभ दूर मुहूर्त 23:12 - 24:06* अशुभ 💮चोघडिया, दिन रोग 05:34 - 07:14 अशुभ उद्वेग 07:14 - 08:55 अशुभ चर 08:55 - 10:35 शुभ लाभ 10:35 - 12:16 शुभ अमृत 12:16 - 13:56 शुभ काल 13:56 - 15:37 अशुभ शुभ 15:37 - 17:17 शुभ रोग 17:17 - 18:57 अशुभ 🚩चोघडिया, रात काल 18:57 - 20:17 अशुभ लाभ 20:17 - 21:36 शुभ उद्वेग 21:36 - 22:56 अशुभ शुभ 22:56 - 24:15* शुभ अमृत 24:15* - 25:35* शुभ चर 25:35* - 26:54* शुभ रोग 26:54* - 28:14* अशुभ काल 28:14* - 29:33* अशुभ 💮होरा, दिन मंगल 05:34 - 06:41 सूर्य 06:41 - 07:48 शुक्र 07:48 - 08:55 बुध 08:55 - 10:02 चन्द्र 10:02 - 11:09 शनि 11:09 - 12:16 बृहस्पति 12:16 - 13:23 मंगल 13:23 - 14:30 सूर्य 14:30 - 15:37 शुक्र 15:37 - 16:44 बुध 16:44 - 17:51 चन्द्र 17:51 - 18:57 🚩होरा, रात शनि 18:57 - 19:50 बृहस्पति 19:50 - 20:43 मंगल 20:43 - 21:36 सूर्य 21:36 - 22:29 शुक्र 22:29 - 23:22 बुध 23:22 - 24:15 चन्द्र 24:15* - 25:08 शनि 25:08* - 26:01 बृहस्पति 26:01* - 26:54 मंगल 26:54* - 27:47 सूर्य 27:47* - 28:40 शुक्र 28:40* - 29:33 *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार । अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । लाभ में व्यापार करें । रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । अमृत में सभी शुभ कार्य करें । *💮दिशा शूल ज्ञान---------------------उत्तर* परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा गुड़ खाके यात्रा कर सकते है l इस मंत्र का उच्चारण करें-: *शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l* *भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll* *🚩 अग्नि वास ज्ञान -:* *यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,* *चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।* *दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,* *नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।।* *महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्* *नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।* 15 + 15 + 3 + 1 = 34 ÷ 4 = 2 शेष आकाश लोक पर अग्नि वास हवन के लिए अशुभ कारक है l *💮 शिव वास एवं फल -:* 30 + 30 + 5 = 65 ÷ 7 = 2 शेष गौरि सन्निधौ = शुभ कारक *🚩भद्रा वास एवं फल -:* *स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।* *मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।* *💮🚩 विशेष जानकारी 🚩💮* * भौमवती अमवस्या * देवपितृकार्य अमावस्या *श्री शुकदेव जयन्ती * सर्वार्थसिद्धि योग 23:30 से *💮🚩💮 शुभ विचार 💮🚩💮* मूर्खश्चिरायुर्जातोऽपि तस्माज्जातमृतो वरः । मृतः स चाऽल्पदुःखाय यावज्जीवं जडोदहेत् ।। ।।चा o नी o।। एक ऐसा बालक जो जन्मते वक़्त मृत था, एक मुर्ख दीर्घायु बालक से बेहतर है. पहला बालक तो एक क्षण के लिए दुःख देता है, दूसरा बालक उसके माँ बाप को जिंदगी भर दुःख की अग्नि में जलाता है. *🚩💮🚩 सुभाषितानि 🚩💮🚩* गीता -: ज्ञानकर्म सन्यासयोग अo-4 अपाने जुह्वति प्राणं प्राणेऽपानं तथापरे ।, प्राणापानगती रुद्ध्वा प्राणायामपरायणाः ॥, अपरे नियताहाराः प्राणान्प्राणेषु जुह्वति ।, सर्वेऽप्येते यज्ञविदो यज्ञक्षपितकल्मषाः ॥, दूसरे कितने ही योगीजन अपान वायु में प्राणवायु को हवन करते हैं, वैसे ही अन्य योगीजन प्राणवायु में अपान वायु को हवन करते हैं तथा अन्य कितने ही नियमित आहार (गीता अध्याय 6 श्लोक 17 में देखना चाहिए।,) करने वाले प्राणायाम परायण पुरुष प्राण और अपान की गति को रोककर प्राणों को प्राणों में ही हवन किया करते हैं।, ये सभी साधक यज्ञों द्वारा पापों का नाश कर देने वाले और यज्ञों को जानने वाले हैं॥,29-30॥, *💮🚩 दैनिक राशिफल 🚩💮* देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।। 🐂मेष नई योजना बनेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। सामजिक कार्य करने की इच्छा जागृत होगी। प्रतिष्ठा वृद्धि होगी। सुख के साधन जुटेंगे। नौकरी में वर्चस्व स्थापित होगा। आय के स्रोत बढ़ सकते हैं। व्यवसाय लाभप्रद रहेगा। निवेश शुभ रहेगा। घर-बाहर सहयोग व प्रसन्नता में वृद्धि होगी। 🐏वृष यात्रा सफल रहेगी। नेत्र पीड़ा हो सकती है। लेन-देन में सावधानी रखें। बगैर मांगे किसी को सलाह न दें। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। व्यावसायिक यात्रा मनोनुकूल रहेगी। धनार्जन होगा। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। अज्ञात भय व चिंता रहेंगे। 👫मिथुन अप्रत्याशित खर्च सामने आएंगे। व्यवस्था नहीं होने से परेशानी रहेगी। व्यवसाय में कमी होगी। नौकरी में नोकझोंक हो सकती है। पार्टनरों से मतभेद हो सकते हैं। थकान महसूस होगी। अपेक्षित कार्यों में विघ्न आएंगे। चिंता तथा तनाव रहेंगे। आय में निश्चितता रहेगी। 🦀कर्क जीवनसाथी से सहयोग मिलेगा। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। अप्रत्याशित लाभ के योग हैं। भाग्य का साथ मिलेगा। व्यवसाय ठीक चलेगा। नौकरी में अधिकार बढ़ सकते हैं। जुए, सट्टे व लॉटरी के चक्कर में न पड़ें। निवेश शुभ रहेगा। प्रमाद न करें। उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। 🐅सिंह पूजा-पाठ व सत्संग में मन लगेगा। आत्मशांति रहेगी। कोर्ट व कचहरी के कार्य अनुकूल रहेंगे। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। प्रसन्नता का वातावरण रहेगा। मातहतों का सहयोग मिलेगा। किसी सामाजिक कार्यक्रम में भाग लेने का अवसर प्राप्त हो सकता है। दूसरे के काम में दखल न दें। 🙍‍♀️कन्या स्थायी संपत्ति की खरीद-फरोख्त से बड़ा लाभ हो सकता है। प्रतिद्वंद्विता रहेगी। पार्टनरों का सहयोग समय पर मिलने से प्रसन्नता रहेगी। नौकरी में मातहतों का सहयोग मिलेगा। व्यवसाय ठीक-ठीक चलेगा। आय में वृद्धि होगी। चोट व रोग से बाधा संभव है। दूसरों के काम में दखलंदाजी न करें। ⚖️तुला मन की चंचलता पर नियंत्रण रखें। कानूनी अड़चन दूर होकर स्थिति अनुकूल रहेगी। जीवनसाथी पर आपसी मेहरबानी रहेगी। जल्दबाजी में धनहानि हो सकती है। व्यवसाय में वृद्धि होगी। नौकरी में सुकून रहेगा। निवेश लाभप्रद रहेगा। कार्य बनेंगे। घर-बाहर सुख-शांति बने रहेंगे। 🦂वृश्चिक क्रोध व उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। विवाद को बढ़ावा न दें। पुराना रोग बाधा का कारण रहेगा। स्वास्थ्य पर खर्च होगा। वाहन व मशीनरी के प्रयोग में लापरवाही न करें। छोटी सी गलती से समस्या बढ़ सकती है। व्यवसाय ठीक चलेगा। मित्र व संबंधी सहायता करेंगे। आय बनी रहेगी। जोखिम न लें। 🏹धनु पार्टी व पिकनिक की योजना बनेगी। मित्रों के साथ समय अच्‍छा व्यतीत होगा। स्वादिष्ट भोजन का आनंद मिलेगा। बौद्धिक कार्य सफल रहेंगे। किसी प्रबुद्ध व्यक्ति का मार्गदर्शन प्राप्त होगा। नौकरी में अनुकूलता रहेगी। वाणी पर नियंत्रण रखें। शत्रु सक्रिय रहेंगे। जीवनसाथी के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। 🐊मकर घर-बाहर अशांति रहेगी। कार्य में रुकावट होगी। आय में कमी तथा नौकरी में कार्यभार रहेगा। बेवजह लोगों से कहासुनी हो सकती है। दु:खद समाचार मिलने से नकारात्मकता बढ़ेगी। व्यवसाय से संतुष्टि नहीं रहेगी। पार्टनरों से मतभेद हो सकते हैं। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। जल्दबाज न करें। 🍯कुंभ दूर से शुभ समाचार प्राप्त होंगे। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। नौकरी में सहकर्मी साथ देंगे। व्यवसाय में जल्दबाजी से काम न करें। चोट व दुर्घटना से बचें। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। घर-बाहर स्थिति मनोनुकूल रहेगी। प्रसन्नता का वातावरण रहेगा। वस्तुएं संभालकर रखें। 🐟मीन प्रयास सफल रहेंगे। किसी बड़े कार्य की समस्याएं दूर होंगी। मित्रों का सहयोग कर पाएंगे। कर्ज में कमी होगी। संतुष्टि रहेगी। सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। व्यापार मनोनुकूल चलेगा। अपना प्रभाव बढ़ा पाएंगे। नौकरी में अनुकूलता रहेगी। निवेश शुभ रहेगा। जोखिम व जमानत के कार्य न करें। 🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏 🌺🌺🌺🌺🙏🌺🌺🌺🌺

+133 प्रतिक्रिया 35 कॉमेंट्स • 189 शेयर

🕉श्री हरिहरो विजयतेतराम🕉 🌄सुप्रभातम🌄 🗓आज का पञ्चाङ्ग🗓 🌻मंगलवार, ११ मई २०२१🌻 सूर्योदय: 🌄 ०५:३८ सूर्यास्त: 🌅 ०६:५४ चन्द्रोदय: 🌝 ❌❌❌ चन्द्रास्त: 🌜१८:४२ अयन 🌕 उत्तराणायने (उत्तरगोलीय) ऋतु: 🍁 ग्रीष्म शक सम्वत: 👉 १९४३ (प्लव) विक्रम सम्वत: 👉 २०७८ (राक्षस) मास 👉 वैशाख पक्ष 👉 कृष्ण तिथि 👉 अमावस्या (२४:२९ तक) नक्षत्र 👉 भरणी (२३:३१ तक) योग 👉 सौभाग्य (२२:४३ तक) प्रथम करण 👉 चतुष्पाद (११:११ तक) द्वितीय करण 👉 नाग (२४:२९ तक) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️ ॥ गोचर ग्रहा: ॥ 🌖🌗🌖🌗 सूर्य 🌟 मेष चंद्र 🌟 मेष मंगल 🌟 मिथुन (उदित, पूर्व, मार्गी) बुध 🌟 वृष (उदित, पूर्व, मार्गी) गुरु 🌟 कुम्भ (उदय, पूर्व, मार्गी) शुक्र 🌟 वृष (उदय, पश्चिम, मार्गी) शनि 🌟 मकर (उदय, पूर्व, मार्गी) राहु 🌟 वृष केतु 🌟 वृश्चिक 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभाशुभ मुहूर्त विचार ⏳⏲⏳⏲⏳⏲⏳ 〰〰〰〰〰〰〰 अभिजित मुहूर्त 👉 ११:४६ से १२:४१ अमृत काल 👉 १८:०६ से १९:५५ सर्वार्थसिद्धि योग 👉 २३:३१ से २९:२५ विजय मुहूर्त 👉 १४:२९ से १५:२४ गोधूलि मुहूर्त 👉 १८:४७ से १९:११ निशिता मुहूर्त 👉 २३:५२ से २४:३४ राहुकाल 👉 १५:३७ से १७:१९ राहुवास 👉 पश्चिम यमगण्ड 👉 ०८:५० से १०:३२ होमाहुति 👉 सूर्य (१२:५० तक) होमाहुति 👉 केतु (२३:३१ तक) दिशाशूल 👉 उत्तर अग्निवास 👉 पाताल चन्द्रवास 👉 पूर्व 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ☄चौघड़िया विचार☄ 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ॥ दिन का चौघड़िया ॥ १ - रोग २ - उद्वेग ३ - चर ४ - लाभ ५ - अमृत ६ - काल ७ - शुभ ८ - रोग ॥रात्रि का चौघड़िया॥ १ - काल २ - लाभ ३ - उद्वेग ४ - शुभ ५ - अमृत ६ - चर ७ - रोग ८ - काल नोट-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभ यात्रा दिशा 🚌🚈🚗⛵🛫 उत्तर-पूर्व (धनिया अथवा दलिये का सेवन कर यात्रा करें) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️〰️〰️〰️ तिथि विशेष 🗓📆🗓📆 〰️〰️〰️〰️ देव पितृ कार्ये वैशाखी अमावस्या, श्री शुकदेव जयन्ती आदि। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज जन्मे शिशुओं का नामकरण 〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️ आज २३:३१ तक जन्मे शिशुओ का नाम भरणी नक्षत्र के द्वितीय, तृतीय एवं चतुर्थ चरण अनुसार क्रमशः (लू, ले, लो) नामाक्षर से तथा इसके बाद जन्मे शिशुओ का नाम कृतिका नक्षत्र के प्रथम एवं द्वितीय चरण अनुसार क्रमश (अ, ई) नामाक्षर से रखना शास्त्रसम्मत है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 उदय-लग्न मुहूर्त मेष - २८:०८ से ०५:४२ वृषभ - ०५:४२ से ०७:३६ मिथुन - ०७:३६ से ०९:५१ कर्क - ०९:५१ से १२:१३ सिंह - १२:१३ से १४:३२ कन्या - १४:३२ से १६:५० तुला - १६:५० से १९:१० वृश्चिक - १९:१० से २१:३० धनु - २१:३० से २३:३३ मकर - २३:३३ से २५:१५ कुम्भ - २५:१५ से २६:४० मीन - २६:४० से २८:०४ 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 पञ्चक रहित मुहूर्त शुभ मुहूर्त - ०५:२६ से ०५:४२ मृत्यु पञ्चक - ०५:४२ से ०७:३६ अग्नि पञ्चक - ०७:३६ से ०९:५१ शुभ मुहूर्त - ०९:५१ से १२:१३ रज पञ्चक - १२:१३ से १४:३२ शुभ मुहूर्त - १४:३२ से १६:५० चोर पञ्चक - १६:५० से १९:१० शुभ मुहूर्त - १९:१० से २१:३० रोग पञ्चक - २१:३० से २३:३१ शुभ मुहूर्त - २३:३१ से २३:३३ मृत्यु पञ्चक - २३:३३ से २४:२९ रोग पञ्चक - २४:२९ से २५:१५ शुभ मुहूर्त - २५:१५ से २६:४० मृत्यु पञ्चक - २६:४० से २८:०४ रोग पञ्चक - २८:०४ से २९:२५ 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज का राशिफल 🐐🐂💏💮🐅👩 〰️〰️〰️〰️〰️〰️ मेष🐐 (चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ) आज मानसिक चंचलता के कारण अच्छे बुरे का विवेक कम रहेगा। बिना सोचे बोलना आज भारी पड़ सकता है आपके लिये जो बातें मनोरंजन मात्र रहेंगी उनसे परिजन अथवा अन्य निकटस्थ का मन दुखी होगा। आवश्यकता पड़ने पर ही बोले अन्यथा बैठे बिठाये अच्छा भला वातावरण खराब होगा। कार्य व्यवसाय से लाभ में अवश्य होगा मेहनत भी कम ही करनी पड़ेगी। नौकरी वाले लोग आराम के मूड में रहेंगे लेकिन घरेलू कार्य बोझ के कारण कर नही पाएंगे। परिजन किसी ना किसी बात को लेकर कलह का माहौल बनाएंगे। स्वास्थ्य में गिरावट आने लगेगी सतर्क रहें। वृष🐂 (ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो) आज भी दिन प्रतिकूल बना हुआ है सोच समझ कर ही अथवा किसी के परामर्श के बाद ही कोई काम करें महिलाए आज अपनी अनदेखी होने पर गुस्से से भरी रहेंगी सेहत भी विपरीत रहने के कारण चड़चिड़ा स्वभाव बनेगा गुस्से में बेतुकी बाते बोलना कलह को बढ़ाएगा। काम काज में उतारचढ़ाव लगा रहेगा एक पल में लाभ की संभावना बनेगी अगले पल लाभ हानि में बदलने से हताशा होगी। धन लाभ के लिये किसी की खुशामद करनी पड़ेगी इसके बाद भी अल्प मात्रा में ही होगा। आपकी मानसिकता भाँप घर के बुजुर्ग सहनुभूती रखेंगे विशेष मार्गदर्शन भी मिलेगा। मिथुन👫 (का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, हा) आज आप अपनी अथवा किसी नजदीकी की कार्यशैली से व्यथित रहेंगे। चाहकर भी परिस्थितियां अनुकूल नही बनने के कारण मन में उदासी रहेगी। मध्यान के बाद किसी पुराने मित्र परिचित से भेंट होगी कुछ समय के लिये अतीत की यादो में खोये रहेंगे। आज आप मेहनत की जगह खयाली पुलाव पकाएंगे नौकरो अथवा स्त्री वर्ग पर बेवजह शक करना भारी पड़ सकता है। कार्य क्षेत्र पर आर्थिक मंदी का सामना करना पड़ेगा बिक्री तो होगी लेकिन धन की आमद तरसायेगी। संध्या का समय दिन भर की थकान के कारण सुस्त रहेगा फिर भी मनोरंजन के अवसर जाने नही देंगे। स्वास्थ्य मानसिक तनाव को छोड़ ठीक ही रहेगा। कर्क🦀 (ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो) आज सेहत में सुधार रहने से मानसिक राहत मिलेगी लेकिन दिनचार्य आज भी अस्त व्यस्त ही रहेगी सोचे कार्य पूर्ण करने में सहयोग की कमी खलेगी। कार्य व्यवसाय में भी आज अधूरे काम पूरे करने पर ध्यान रहेगा मेहनत के बाद भी आज पूरी तरह से सफलता नही मिल पाएगी । मन मे नकारत्मक ख्याल आएंगे धन के कारण अतिरिक्त उलझन रहेगी धन लाभ खर्च के अनुपात में कम ही होगा। स्वयं का स्वास्थ्य ठीक ना होने पर भी किसी अन्य की जिम्मेदारी लेनी पड़ेगी। पारिवारिक जीवन मध्यम सुखदायी रहेगा परिजन सहयोग करेंगे लेकिन व्यवहार पूर्ति के लिये। सिंह🦁 (मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे) आज का दिन आपको पैतृक सुख के साथ मनोरंजन के अवसर भी सुलभ कराएगा। दिन के प्रारंभ में आलस्य रहेगा छोटे मोटे दैनिक कार्य भी विलंब से होंगे। लेकिन दोपहर से कार्यो के प्रति गंभीरता आएगी। व्यवसायी वर्ग आज काम की जगह मनोरंजन के मूड में रहेंगे फिर भी थोड़े समय मे ही दिन भर की पूर्ति कर लेंगे। पारिवारिक दायित्वों की पूर्ति के लिये समय और धन खर्च होगा। घर मे पैतृक मामलो को लेकर महत्त्वपूर्ण चर्चा होगी। आपकी बातों का विरोध करने वाले भी आज आपका समर्थन करेंगे। संध्या का समय मनोकामना पूर्ति वाला रहेगा। सेहत आज उत्तम रहेगी। कन्या👩 (टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो) आज भी शुभ प्रसंग बनने से मन शांत रहेगा धर्म के प्रति आस्था तो रहेगी लेकिन एकाग्रता की कमी के कारण दैनिक पूजा पाठ भी व्यवहारिकता मात्र रहेंगे। आज केवल लाभ वाले कार्यो में ही रुची दिखायेंगे इसके विपरीत सामाजिक अथवा परोपकार के कार्यो से बचेंगे। कार्य क्षेत्र पर आज लाभ के अवसर कम ही मिलेंगे फिर भी दैनिक खर्च लायक धन की आमद हो जाएगी। परिजन आपके व्यवहार की देखादेखी करेंगे। बुजुर्गो का व्यवहार आपके प्रति अनअपेक्षित रहेगा लेकिन स्त्री संतान से सामान्य संबंध रहेंगे। स्वास्थ्य को लेकर आशांकित रहेंगे गर्म सर्द के कारण परेशानी हो सकती है। तुला⚖️ (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते) आज के दिन आपमे लापरवाही अधिक रहेगी। सेहत अथवा अन्य आवश्यक कार्यो की अनदेखी बाद में पछताने का कारण बनेगी संयम की कमी के चलते विपरीत फल मिलेंगे। घर के सदस्य भी आपके व्यवहार शून्यता से परेशान रहेंगे। कार्य व्यवसाय में ज्यादा झंझट नही करेंगे लाभ हानि की परवाह भी नही रहेगी मध्यान के बाद ध्यान व्यर्थ के कार्यो में भटकेगा। खर्च पर नियंत्रण करने का प्रयास असफल रहेगा घर मे अकस्मात खर्च अथवा जिद पूरी करने पर बजट से बाहर जाएंगे। संध्या का समय मानसिक शान्ति प्रदान करेगा सब चीजों को भूल अपने मे मस्त रहेंगे। खून एवं हाथ पैरों में भड़कन की समस्या बनेगी। वृश्चिक🦂 (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू) आज का दिन विजय दिलाने वाला रहेगा आज आप जिस भी चीज की कामना करेंगे उसे लड़कर अथवा जिद से पूरा कर लेंगे भले ही इससे किसी का मन खराब ही क्यों ना हो। कार्य क्षेत्र पर विचार तो बहुत बनेंगे लेकिन क्रियान्वित एक आध ही होंगे विस्तार की योजना आज सहकर्मियों को कमी के कारण निरस्त करनी पड़ेगी। घर अथवा कार्य क्षेत्र पर साज सजावट के ऊपर खर्च करेंगे तोड़ फोड़ द्वारा नया रूप देने के विचार भी बनेंगे। नौकरी वाले लोग आज बैठकर लोगो के क्रिया कलापो का आनंद लेंगे मध्यान बाद मौज शौक पूरे करने पर खर्च होगा। स्वास्थ्य ठीक रहेगा। धनु🏹 (ये, यो, भा, भी, भू, ध, फा, ढा, भे) आज आप धन लाभ की कामना से अधिकांश कार्य करेंगे लाभ होगा भी लेकिन खर्च लगे रहने से हाथ मे रुकेगा नही। कार्य व्यवसाय में तेजी मंदी लगी रहने के कारण बनी बनाई योजना लटकी रह जायेगी। आज आप असमर्थ होते हुए भी अन्य लोगो की सहायता के लिये तत्पर रहेंगे लेकिन परिजनों को आपका परोपकार कम ही जमेगा। आवश्यकता की वस्तुओं की जगह आज व्यर्थ के कार्यो पर खर्च होगा। घर मे किसी न किसी से इच्छा पूर्ति ना होने पर नाराजगी रहेगी। संध्या का समय अपेक्षा से अधिक आनंद दायक रहेगा। मित्र परिजनों के साथ मनोरंजन के अवसर मिलेंगे लेकिन एक दूसरे के प्रति आदर का अभाव रहेगा। मकर🐊 (भो, जा, जी, खी, खू, खा, खो, गा, गी) आज आप घर एवं बाहर सभी लोगो के दिल को अपनी कुशलता से जीतेंगे। व्यक्तिगत स्वार्थ की भावना आज कम रहेगी परमार्थ के लिये समय और धन खर्च करेंगे बदले में सम्मान की प्राप्ति होगी। लेकिन बुजुर्ग वर्ग को आपका व्यवहार नाटकीय लगेगा आपसी तालमेल की कमी भी रहेगी। कार्य व्यवसाय में लाभ होते होते आगे के लिये निरस्त होने पर निराशा होगी फिर भी जुगाड़ कर खर्च लायक आमद हो ही जाएगी। आज प्रलोभन के चक्कर मे सरकारी उलझन हो सकती है ध्यान दें। मित्र रिश्तेदारों से संबंधों ने घनिष्ठा बढ़ेगी। आरोग्य नरम गरम रहेगा। कुंभ🍯 (गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा) आज का दिन भी आपके लिये लाभदायक रहेगा लेकिन आकस्मिक खर्च अनियंत्रित रहने पर थोड़ी परेशानी भी होगी। दिन के आरंभ में परिजनो से व्यर्थ की बातों पर नोकझोंक होगी अन्य लोगो की तुलना घर के सदस्यों से करने पर वातावरण अशान्त बनेगा। काम-धंधा भाग्य का साथ मिलने से बेहतर चलेगा लेकिन धन की कामना आज असंतुष्ट ही रखेगी। नौकरी करने वाले लोग लापरवाही करेंगे जल्दबाजी में रहने पर फटकार सुननी पड़ेगी। विपरीत लिंगीय के चक्कर मे मान अपमान का विवेक भूलेंगे आवश्यक कार्य दिन रहते पूर्ण कर लें कल आज जैसी सुविधा नही मिल पाएगी। मीन🐳 (दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची) आज मानसिक उलझने दिन भर परेशान रखेंगी। कोई नापसंद कार्य मजबूरी में करना पड़ेगा आस पास का वातावरण अशान्त रहेगा आपके स्वभाव में भी रूखापन रहने के कारण स्नेहीजन दूरी बनाकर रहेंगे। पूर्व में कई गई किसी गलती के खुलासे के कारण घर में कलह की स्थिति बनेगी जिसमे देर रात तक सुधार की संभावना नही है। व्यवसायी वर्ग कार्य व्यस्तता के बाद भी व्यवहारिकता में कमी के कारण आशानुकूल लाभ से वंचित रहेंगे बढ़े हुए उधारी के व्यवहार खर्च करने से रोकेंगे। सेहत भी पल पल में बनती बिगड़ती रहेगी। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️

+46 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 83 शेयर
Ajay Awasthi May 10, 2021

🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *********|| जय श्री राधे ||********* 🌺🙏 *महर्षि पाराशर पंचांग* 🙏🌺 🙏🌺🙏 *अथ पंचांगम्* 🙏🌺🙏 *********ll जय श्री राधे ll********* 🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *दिनाँक-:10/05/2021,सोमवार* चतुर्दशी, कृष्ण पक्ष वैशाख """""""""""""""""""""""""""""""(समाप्ति काल) तिथि----------- चतुर्दशी 21:54:47 तक पक्ष--------------------------- कृष्ण नक्षत्र---------- अश्विनी 20:24:15 योग---------- आयुष्मान 21:37:23 करण--------- विष्टि भद्र 08:40:51 करण------------ शकुनी 21:54:47 वार------------------------ सोमवार माह-----------------------------चैत्र माह--------------------------वैशाख चन्द्र राशि-------------------- मेष सूर्य राशि--------------------- मेष रितु--------------------------- वसंत आयन-------------------- उत्तरायण संवत्सर----------------------- प्लव संवत्सर (उत्तर) ---------आनंद विक्रम संवत---------------- 2078 विक्रम संवत (कर्तक) -----2077 शाका संवत----------------- 1943 वृन्दावन सूर्योदय--------------- 05:34:40 सूर्यास्त----------------- 18:56:52 दिन काल--------------- 13:22:11 रात्री काल-------------- 10:37:10 चंद्रास्त---------------- 17:47:25 चंद्रोदय------------------ 29:16:27 लग्न---- मेष 25°25' , 25°25' सूर्य नक्षत्र------------------- भरणी चन्द्र नक्षत्र------------------ अश्विनी नक्षत्र पाया---------------------स्वर्ण *🚩💮🚩 पद, चरण 🚩💮🚩* चे---- अश्विनी 06:54:23 चो---- अश्विनी 13:38:59 ला---- अश्विनी 20:24:15 ली---- भरणी 27:10:05 *💮🚩💮 ग्रह गोचर 💮🚩💮* ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद ========================== सूर्य= मेष 25°52 ' भरणी , 4 लो चन्द्र = मेष 06°23 ' अश्विनी , 2 चे बुध = वृषभ 15°57' रोहिणी' 2 वा शुक्र= वृषभ 06°55, कृतिका ' 4 ए मंगल=मिथुन 15°30 ' आर्द्रा ' 3 ङ गुरु=कुम्भ 04°22 ' धनिष्ठा , 4 गे शनि=मकर 19°43 ' श्रवण ' 3 खे राहू=(व)वृषभ 17°48 'मृगशिरा , 3 वि केतु=(व)वृश्चिक 17°48 ज्येष्ठा , 1 नो *🚩💮🚩शुभा$शुभ मुहूर्त🚩💮🚩* राहू काल 07:15 - 08:55 अशुभ यम घंटा 10:36 - 12:16 अशुभ गुली काल 13:56 - 15:36 अशुभ अभिजित 11:49 -12:43 शुभ दूर मुहूर्त 12:43 - 13:36 अशुभ दूर मुहूर्त 15:23 - 16:16 अशुभ 🚩गंड मूल 05:35 - 20:24 अशुभ 💮चोघडिया, दिन अमृत 05:35 - 07:15 शुभ काल 07:15 - 08:55 अशुभ शुभ 08:55 - 10:36 शुभ रोग 10:36 - 12:16 अशुभ उद्वेग 12:16 - 13:56 अशुभ चर 13:56 - 15:36 शुभ लाभ 15:36 - 17:17 शुभ अमृत 17:17 - 18:57 शुभ 🚩चोघडिया, रात चर 18:57 - 20:17 शुभ रोग 20:17 - 21:36 अशुभ काल 21:36 - 22:56 अशुभ लाभ 22:56 - 24:15* शुभ उद्वेग 24:15* - 25:35* अशुभ शुभ 25:35* - 26:55* शुभ अमृत 26:55* - 28:14* शुभ चर 28:14* - 29:34* शुभ 💮होरा, दिन चन्द्र 05:35 - 06:42 शनि 06:42 - 07:48 बृहस्पति 07:48 - 08:55 मंगल 08:55 - 10:02 सूर्य 10:02 - 11:09 शुक्र 11:09 - 12:16 बुध 12:16 - 13:23 चन्द्र 13:23 - 14:29 शनि 14:29 - 15:36 बृहस्पति 15:36 - 16:43 मंगल 16:43 - 17:50 सूर्य 17:50 - 18:57 🚩होरा, रात शुक्र 18:57 - 19:50 बुध 19:50 - 20:43 चन्द्र 20:43 - 21:36 शनि 21:36 - 22:29 बृहस्पति 22:29 - 23:22 मंगल 23:22 - 24:15 सूर्य 24:15* - 25:09 शुक्र 25:09* - 26:02 बुध 26:02* - 26:55 चन्द्र 26:55* - 27:48 शनि 27:48* - 28:41 बृहस्पति 28:41* - 29:34 *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार । अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । लाभ में व्यापार करें । रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । अमृत में सभी शुभ कार्य करें । *💮दिशा शूल ज्ञान---------------------पूर्व* परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा काजू खाके यात्रा कर सकते है l इस मंत्र का उच्चारण करें-: *शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l* *भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll* *🚩 अग्नि वास ज्ञान -:* *यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,* *चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।* *दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,* *नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।।* *महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्* *नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।* 15 + 14+ 2 + 1 = 32 ÷ 4 = 0 शेष मृत्यु लोक पर अग्नि वास हवन के लिए शुभ कारक है l *💮 शिव वास एवं फल -:* 29 + 29 + 5 = 63 ÷ 7 = 0 शेष शमशान वास = मृत्यु कारक *🚩भद्रा वास एवं फल -:* *स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।* *मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।* प्रातः 08:32 तक समाप्त स्वर्ग लोक = शुभ कारक *💮🚩💮 शुभ विचार 💮🚩💮* एकोऽपि गुणवान् पुत्रो निर्गुणैश्च शतैर्वरः । एकश्चन्द्रस्तमो हन्ति न च ताराः सहस्त्रशः ।। ।।चा o नी o।। सैकड़ों गुणरहित पुत्रों से अच्छा एक गुणी पुत्र है क्योंकि एक चन्द्रमा ही रात्रि के अन्धकार को भगाता है, असंख्य तारे यह काम नहीं करते. *🚩💮🚩 सुभाषितानि 🚩💮🚩* गीता -: ज्ञानकर्म सन्यासयोग अo-4 द्रव्ययज्ञास्तपोयज्ञा योगयज्ञास्तथापरे ।, स्वाध्यायज्ञानयज्ञाश्च यतयः संशितव्रताः ॥, कई पुरुष द्रव्य संबंधी यज्ञ करने वाले हैं, कितने ही तपस्या रूप यज्ञ करने वाले हैं तथा दूसरे कितने ही योगरूप यज्ञ करने वाले हैं, कितने ही अहिंसादि तीक्ष्णव्रतों से युक्त यत्नशील पुरुष स्वाध्यायरूप ज्ञानयज्ञ करने वाले हैं॥,28॥, *💮🚩 दैनिक राशिफल 🚩💮* देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।। 🐏मेष धनार्जन सुगम होगा। विद्यार्थी वर्ग सफलता अर्जित करेगा। पठन-पाठन में मन लगेगा। दूर यात्रा की योजना बन सकती है। मनपसंद भोजन का आनंद प्राप्त होगा। वरिष्ठजनों का मार्गदर्शन प्राप्त होगा। जीवनसाथी के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। स्वास्थ्य कमजोर रहेगा। बेचैनी रहेगी। 🐂वृष वाणी पर नियंत्रण रखें। किसी के व्यवहार से क्लेश हो सकता है। पुराना रोग उभर सकता है। दु:खद समाचार मिल सकता है, धैर्य रखें। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। प्रतिद्वंद्विता बढ़ेगी। पारिवारिक चिंता में वृद्धि होगी। आवश्यक वस्तु समय पर नहीं मिलेगी। तनाव रहेगा। 👫मिथुन शत्रु नतमस्तक होंगे। विवाद को बढ़ावा न दें। प्रयास सफल रहेंगे। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। आय के स्रोतों में वृद्धि हो सकती है। व्यवसाय ठीक चलेगा। चोट व रोग से बाधा संभव है। फालतू खर्च होगा। मातहतों का सहयोग प्राप्त होगा। प्रसन्नता रहेगी। जल्दबाजी न करें। 🦀कर्क लेन-देन में सावधानी रखें। शारीरिक कष्ट संभव है। परिवार में तनाव रह सकता है। शुभ समाचार मिलेंगे। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। भाइयों का सहयोग प्राप्त होगा। परिवार के साथ मनोरंजन का कार्यक्रम बन सकता है। व्यवसाय ठीक चलेगा। प्रमाद न करें। 🐅सिंह रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। अप्रत्याशित लाभ हो सकता है। सट्टे व लॉटरी से दूर रहें। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। कोई बड़ी समस्या से छुटकारा मिल सकता है। आय में वृद्धि होगी। प्रसन्नता में वृद्धि होगी। पारिवारिक चिंता बनी रहेगी। 🙍‍♀️कन्या अप्रत्याशित खर्च सामने आएंगे। कर्ज लेना पड़ सकता है। स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। किसी विवाद में उलझ सकते हैं। चिंता तथा तनाव रहेंगे। जोखिम न उठाएं। घर-बाहर असहयोग मिलेगा। अपेक्षाकृत कार्यों में विलंब होगा। आय में कमी हो सकती है। ⚖️तुला बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। आय के नए स्रोत प्राप्त हो सकते हैं। व्यापार-व्यवसाय में लाभ होगा। प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। बेचैनी रहेगी। थकान महसूस होगी। वरिष्ठजन सहयोग करेंगे। 🦂वृश्चिक नई आर्थिक नीति बनेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। पार्टनरों का सहयोग मिलेगा। कारोबारी अनुबंधों में वृद्धि हो सकती है। समय का लाभ लें। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। नेत्र पीड़ा हो सकती है। कानूनी बाधा आ सकती है। विवाद न करें। 🏹धनु बेचैनी रहेगी। चोट व रोग से बचें। काम का विरोध होगा। तनाव रहेगा। कोर्ट व कचहरी के काम अनुकूल होंगे। पूजा-पाठ में मन लगेगा। तीर्थयात्रा की योजना बनेगी। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। व्यवसाय ठीक चलेगा। सुख के साधनों पर व्यय हो सकता है। पारिवारिक सहयोग मिलेगा। प्रमाद न करें। 🐊मकर स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। विवाद से क्लेश संभव है। वाहन व मशीनरी के प्रयोग में लापरवाही न करें। अपेक्षित कार्यों में अप्रत्याशित बाधा आ सकती है। तनाव रहेगा। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। दूसरों के झगड़ों में न पड़ें। राज्य के प्रतिनिधि सहयोग करेंगे। 🍯कुंभ कष्ट, भय, चिता व बेचैनी का वातावरण बन सकता है। कोर्ट व कचहरी के काम मनोनुकूल रहेंगे। जीवनसाथी से सहयोग मिलेगा। प्रसन्नता रहेगी। मातहतों से संबंध सुधरेंगे। व्यवसाय ठीक चलेगा। जल्दबाजी न करें। कुबुद्धि हावी रहेगी। स्वास्थ्य कमजोर रहेगा। 🐟मीन धन प्राप्ति सुगम होगी। ऐश्वर्य के साधनों पर बड़ा खर्च हो सकता है। भूमि, भवन, दुकान व फैक्टरी आदि के खरीदने की योजना बनेगी। रोजगार में वृद्धि होगी। उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। अपरिचितों पर अतिविश्वास न करें। प्रमाद न करें। 🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏 🌺🌺🌺🌺🙏🌺🌺🌺🌺

+58 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 52 शेयर

🕉श्री हरिहरो विजयतेतराम🕉 🌄सुप्रभातम🌄 🗓आज का पञ्चाङ्ग🗓 🌻सोमवार, १० मई २०२१🌻 सूर्योदय: 🌄 ०५:३९ सूर्यास्त: 🌅 ०६:५३ चन्द्रोदय: 🌝 २९:११ चन्द्रास्त: 🌜१७:४८ अयन 🌕 उत्तराणायने (उत्तरगोलीय) ऋतु: 🍁 ग्रीष्म शक सम्वत: 👉 १९४३ (प्लव) विक्रम सम्वत: 👉 २०७८ (राक्षस) मास 👉 वैशाख पक्ष 👉 कृष्ण तिथि 👉 चतुर्दशी (२१:५५ तक) नक्षत्र 👉 अश्विनी (२०:२६ तक) योग 👉 आयुष्मान् (२१:४० तक) प्रथम करण 👉 विष्टि (०८:४१ तक) द्वितीय करण 👉 शकुनि (२१:५५ तक) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️ ॥ गोचर ग्रहा: ॥ 🌖🌗🌖🌗 सूर्य 🌟 मेष चंद्र 🌟 मेष मंगल 🌟 मिथुन (उदित, पूर्व, मार्गी) बुध 🌟 वृष (उदित, पूर्व, मार्गी) गुरु 🌟 कुम्भ (उदय, पूर्व, मार्गी) शुक्र 🌟 वृष (उदय, पश्चिम, मार्गी) शनि 🌟 मकर (उदय, पूर्व, मार्गी) राहु 🌟 वृष केतु 🌟 वृश्चिक 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभाशुभ मुहूर्त विचार ⏳⏲⏳⏲⏳⏲⏳ 〰〰〰〰〰〰〰 अभिजित मुहूर्त 👉 ११:४६ से १२:४१ अमृत काल 👉 १२:२१ से १४:०८ विजय मुहूर्त 👉 १४:२९ से १५:२३ गोधूलि मुहूर्त 👉 १८:४७ से १९:११ निशिता मुहूर्त 👉 २३:५२ से २४:३४ राहुकाल 👉 ०७:०८ से ०८:५० राहुवास 👉 उत्तर-पश्चिम यमगण्ड 👉 १०:३२ से १२:१३ होमाहुति 👉 केतु (२०:२६ तक) दिशाशूल 👉 पूर्व अग्निवास 👉 पृथ्वी (२१:५५ तक) भद्रावास 👉 स्वर्गलोक (०८:४१ तक) चन्द्रवास 👉 पूर्व 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ☄चौघड़िया विचार☄ 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ॥ दिन का चौघड़िया ॥ १ - अमृत २ - काल ३ - शुभ ४ - रोग ५ - उद्वेग ६ - चर ७ - लाभ ८ - अमृत ॥रात्रि का चौघड़िया॥ १ - चर २ - रोग ३ - काल ४ - लाभ ५ - उद्वेग ६ - शुभ ७ - अमृत ८ - चर नोट-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभ यात्रा दिशा 🚌🚈🚗⛵🛫 उत्तर-पूर्व (दर्पण देखकर अथवा खीर का सेवन कर यात्रा करें) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️〰️〰️〰️ तिथि विशेष 🗓📆🗓📆 〰️〰️〰️〰️ देव प्रतिष्ठा मुहूर्त प्रातः ०९:०३ से १०:४३ तक आदि। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज जन्मे शिशुओं का नामकरण 〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️ आज २०:२६ तक जन्मे शिशुओ का नाम अश्विनी नक्षत्र के द्वितीय, तृतीय एवं चतुर्थ चरण अनुसार क्रमशः (चे, चो, ला) नामाक्षर से तथा इसके बाद जन्मे शिशुओ का नाम भरणी नक्षत्र के प्रथम एवं द्वितीय चरण अनुसार क्रमश (ली, लू) नामाक्षर से रखना शास्त्रसम्मत है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 उदय-लग्न मुहूर्त मेष - २८:१२ से ०५:४५ वृषभ - ०५:४५ से ०७:४० मिथुन - ०७:४० से ०९:५५ कर्क - ०९:५५ से १२:१७ सिंह - १२:१७ से १४:३६ कन्या - १४:३६ से १६:५३ तुला - १६:५३ से १९:१४ वृश्चिक - १९:१४ से २१:३४ धनु - २१:३४ से २३:३७ मकर - २३:३७ से २५:१८ कुम्भ - २५:१८ से २६:४४ मीन - २६:४४ से २८:०८ 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 पञ्चक रहित मुहूर्त चोर पञ्चक - ०५:२७ से ०५:४५ शुभ मुहूर्त - ०५:४५ से ०७:४० रोग पञ्चक - ०७:४० से ०९:५५ शुभ मुहूर्त - ०९:५५ से १२:१७ मृत्यु पञ्चक - १२:१७ से १४:३६ अग्नि पञ्चक - १४:३६ से १६:५३ शुभ मुहूर्त - १६:५३ से १९:१४ रज पञ्चक - १९:१४ से २०:२६ शुभ मुहूर्त - २०:२६ से २१:३४ चोर पञ्चक - २१:३४ से २१:५५ शुभ मुहूर्त - २१:५५ से २३:३७ रोग पञ्चक - २३:३७ से २५:१८ शुभ मुहूर्त - २५:१८ से २६:४४ मृत्यु पञ्चक - २६:४४ से २८:०८ रोग पञ्चक - २८:०८ से २९:२६ 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज का राशिफल 🐐🐂💏💮🐅👩 〰️〰️〰️〰️〰️〰️ मेष🐐 (चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ) आज का दिन आपके लिए आशा से अधिक फायदेमंद रहेगा। घर एवं बाहर आश्चर्यजनक घटनाएं घटित होंगी। आज जहाँ आप हानि की संभावना रखेंगे वहां से भी लाभ मिलेगा। कार्य क्षेत्र पर आरंभ में थोड़ी परेशानी हो सकती है लेकिन बाद में स्थिति अनुकूल बनने लगेगी कई साधनो से एक साथ धन लाभ होगा। विरोधी भी आपकी कार्यकुशलता की प्रशंशा करेंगे सामाजिक क्षेत्र पर मान बढ़ेगा परन्तु गृहस्थ में इसके विपरीत वातावरण रहने से होत्साहित हो सकते है। परिजन आज आपकी बात का जल्दी से विश्वास नहीं करेंगे। सेहत की अनदेखी भारी पड़ सकती है। वृष🐂 (ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो) आपका आज का दिन प्रतिकूल रहेगा। जिस भी कार्य को करने का प्रयास करेंगे उसमे ही विलंब के साथ कुछ ना कुछ कमी रहेगी। सहकर्मी भी आपके ऊपर छींटाकशी करेंगे जिससे माहौल गरम रहेगा। आज आपकी विचारधारा किसी से भी मेल नही खायेगी जी कारण अन्य लोगो से तालमेल बैठाने में असुविधा रहेगी। घर मे भी भाई बंधुओ से वैचारिक मतभेद के चलते कलह होगी। घर के बुजुर्गो का व्यवहार भी निराश करने वाला रहेगा। आज किसी भी महत्त्वपूर्ण कार्य मे निवेश ना करें हानि की संभावना अधिक है। विपरितलिंगीय के प्रति सम्मानजनक दृष्टिकोण रखें। मिथुन👫 (का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, हा) आज का दिन आपको राज समाज से लाभ के साथ-सातः मान-सम्मान भी दिलाएगा। कारोबारी लोग रुके हुए कार्य सहायता मिलने से पूर्ण कर सकेंगे। प्रतिस्पर्धा भी कम रहने से लाभ के आसार बढ़ेंगे। लेन-देन के व्यवहारों से भी निश्चित समय पर धन लाभ हो सकेगा। दाम्पत्य जीवन मे खुशियां बढ़ेंगी। सुख के साधनों की वृद्धि पर खर्च करेंगे। सामाजिक जीवन मे आज आप धनी व्यक्तियों जैसी पहचान बनाएंगे। किसी मांगलिक अथवा धार्मिक कार्यक्रम में उपस्थिति देंगे। महिला वर्ग भी आज महात्त्वकांक्षाओ की पूर्ति होने पर उत्साहित रहेंगी। जननेंद्रित संबंधित समस्या रह सकती है पानी अधिक पियें। कर्क🦀 (ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो) आज आपके द्वारा बनाई योजनाएं शीघ्र फलीभूत होंगी। सभी महत्त्वपूर्ण कार्य आज सरलता से पूर्ण होने की संभावना अधिक रहेगी। कार्य व्यस्तता के कारण घरेलु कार्यो की अनदेखी पारिवारिक क्लेश का कारण बन सकती है फिर भी धन लाभ होने से संतुष्टि रहेगी। स्वास्थ्य उत्तम बना रहेगा। धर्म कर्म में विश्वास रहने पर भी समय नहीं दे सकेंगे तंत्र मंत्र में अधिक रूचि लेंगे। आज आप सभी को साथ लेकर चलेंगे जिससे अधिक स्नेह एवं सम्मान मिलेगा। परंतु घर के बुजुर्ग एवं अधिकारी वर्ग से सावधान रहें मतभेद के चलते गर्मा-गर्मी हो सकती है। धन लाभ आवश्यकतानुसार हो जाएगा। सिंह🦁 (मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे) आपका आज का दिन भागदौड़ वाला रहेगा। शारीरिक शिथिलता के बाद भी कार्यो की व्यस्तता सेहत ज्यादा खराब करेगी। धन संबंधित कार्य जोड़ तोड़ की नीति से पूर्ण करलेंगे फिर भी आज के दिन से जो आशा रहेगी उसके पूर्ण होने में अंत तक संदेह रहेगा अधूरे रहने की संभावना ज्यादा है। विद्यार्थ वर्ग मध्यान तक पढ़ाई को लेकर गंभीर रहेंगे इसके बाद चंचलता आने लगेगी। घर अथवा कार्य क्षेत्र पर किसी की मामूली गलती से बड़ा नुकसान होने की सम्भवना है सतर्क रहें। महिलाये आज स्वयं को अन्य से अत्यंत बुद्धिमान आंकेंगी। घरेलू सुख मिलने से पहले कुछ कटु अनुभव भी होंगे। कन्या👩 (टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो) आज का दिन आपको प्रतिकूल फलदेगा। प्रातःकाल से ही कार्य करने के लिए शारीरिक एवं मानसिक रूप से असमर्थता रहेगी। मन एक साथ दो विषयो में भटकने से असमंजस में फंसे रहेंगे। बार-बार प्रयास करने पर भी निराशा मिलने से मन ऊबने लगेगा। घर एवं बाहर बड़बोलेपन के कारण स्वयं मुसीबत सर लेंगे। धर्म कर्म में आस्था होने पर भी पूजा के समय ध्यान इधर उधर की बातों में ज्यादा भटकेगा। लोग मीठा बोलकर आपकी परोपकार की वृत्ति का नाजायज फायदा उठाएंगे। कार्य व्यवसाय से आर्थिक लाभ होगा परन्तु ज्यादा देर रोक नही सकेंगे। तुला⚖️ (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते) आज के दिन आस-पास का वातावरण अनुकूल मिलने से दिनचर्या सुव्यवस्थित रहेगी कार्यो के प्रति गंभीर रहेंगे जिससे समय से पहले पूर्ण कर लेंगे परन्तु फिर भी आज धन अथवा अन्य लाभ के लिए प्रतीक्षा करनी पड़ेगी। कार्य क्षेत्र पर आपकी व्यवहार कुशलता की प्रशंसा होगी। मध्यान के आस-पास किसी अन्य व्यक्ति के व्यवहार अथवा कार्य की थकान के कारण स्वभाव में झुंझलाहट आएगी। लोगो से कार्य निकालने के लिए खुशामद भी करनी पड़ेगी। गृहस्थ जीवन सामान्य रूप से चलता रहेगा। महिलाये पुरुषों का बराबर सहयोग करेंगी। वृश्चिक🦂 (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू) आज के दिन आपको अधूरे कार्य पूर्ण करने की जल्दी रहेगी जल्दबाजी में कुछ कार्य बिगड़ भी सकते है इसका ध्यान रखें। कार्य क्षेत्र पर अपनी गलती का गुस्सा अन्य व्यक्ति के ऊपर निकालने से गर्मा गर्मी बढ़ेगी फिर भी अधिकांश कार्य समय से थोड़ा आगे पीछे पूर्ण हो ही जायेंगे। धन लाभ की कामना संध्या के समय पूर्ण हो जायेगी लेकिन आशा से कुछ कम ही। नौकरी पेशा जातक आवश्यक कार्य से लंबे अवकाश का मन बना सकते है। धार्मिक कार्यो में भी विशेष रूचि लेंगे टोने टोटको पर प्रयोग कर सकते है। पारिवारिक वातावरण मध्यम रहेगा। अविवाहितो के लिए रिश्ते आएंगे। धनु🏹 (ये, यो, भा, भी, भू, ध, फा, ढा, भे) आज दिन का अधिकांश समय शांति से व्यतीत करेंगे परन्तु बीच-बीच में पारिवारिक उलझने परेशान करेंगी। व्यवसाय में परिश्रम का फल विलम्ब से मिलेगा धन लाभ के लिए अधिक इन्तजार करना पड़ेगा सहकर्मीयो से नम्रता से व्यवहार करें अन्यथा सारा कार्य खुद ही करना पड़ सकता है। आपके व्यवहार में परिवर्तन आने से लोग आश्चर्य करेंगे। सामाजिक क्षेत्र से आय के नवीन साधन बनेंगे उच्चवर्ग के लोगो से लाभदायक जान-पहचान होगी। पारिवारिक जीवन में विषमताओं का अहसास होगा खर्च करने पर भी आर्थिक स्थिति बिगड़ेगी स्वयजनो से वैर विरोध रहेगा फिरभी गंभीर परिणाम नही होंगे। मकर🐊 (भो, जा, जी, खी, खू, खा, खो, गा, गी) आज के दिन गृहक्लेश के कारण वातावरण कलुषित होने की संभावना अधिक है। भाई-बंधू वैरभाव रखेंगे परिवार के अन्य सदस्य भी आपका पक्ष लेने से बचेंगे। जमीन जायदाद सम्बंधित कार्य जल्दबाजी अथवा भावुकता में ना करें अन्यथा बाद में पश्चाताप होगा। कार्य क्षेत्र पर व्यवसाय में सुधार आने से थोड़ी राहत मिलेगी। नौकरी पेशा वर्ग आज पर्यटन के मूड में रहेंगे। स्वास्थ्य सम्बंधित शिकायते भी रहने से शिथिलता आयेगी। अधिकारी वर्ग से किसी कारण बहस हो सकती है। आस-पड़ोसियों से सम्बन्ध बिगड़ेंगे। यथा सम्भव लंबी यात्रा टालें। चोरी की घटनाएं घट सकती है। कुंभ🍯 (गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा) आज का दिन आपको पुराने परिश्रम का फल देगा। व्यवहारिकता से बनाये सम्बन्धों से लाभ की संभावनाएं बनेगी। व्यवसाय से भी मध्यान तक प्रचुर मात्रा में लाभ अर्जित कर पाएंगे। परन्तु आज नए कार्यो में निवेश ना करें अन्यथा रुकावट आ सकती है। घरेलु कार्यो में व्यस्तता रहेगी सुखोपभोग की वस्तुओ पर खर्च करना पड़ेगा। रिश्तेदारी में जाना पड़ सकता है। सामाजिक क्षेत्र पर पारिवारिक स्थिति और ज्यादा बेहतर बनेगी। वाणी एवं व्यवहार की मधुरता किसी को भी आसानी से प्रभावित करेगी। धार्मिक क्षेत्र की यात्रा होगी दान पुण्य के अवसर मिलेंगे। सेहत सामान्य रहेगी। मीन🐳 (दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची) आज के दिन का पूर्वार्ध कुछ ख़ास नहीं रहेगा दैनिक कार्य सामान्य गति से चलते रहेंगे। कार्य क्षेत्र पर विलम्ब के कारण व्यवसाय की गति धीमी रहेगी। अधूरे कार्य आज भी लटके रहने की संभावना है। मध्यान के बाद का समय कार्यो से मन भटकायेंगा। आज आप स्वयं को छोड़ इधर-उधर की बातों में ज्यादा रूचि लेंगे लेकिन किसी को बिना मांगे सलाह ना दे अन्यथा सम्मान में कमी आ सकती है दो पक्षो में सुलह कराने में भी आपकी महत्त्वपूर्ण भागीदारी रह सकती है। विरोधी शांत रहेंगे। धन लाभ आज चाह कर भी आशा के अनुकूल नहीं रहेगा। मन बहलाने के लिये अनैतिक कर्म भी कर सकते है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️

+49 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 95 शेयर

🌞 ~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ 🌞 ⛅ *दिनांक 12 मई 2021* ⛅ *दिन - बुधवार* ⛅ *विक्रम संवत - 2078 (गुजरात - 2077)* ⛅ *शक संवत - 1943* ⛅ *अयन - उत्तरायण* ⛅ *ऋतु - ग्रीष्म* ⛅ *मास - वैशाख* ⛅ *पक्ष - शुक्ल* ⛅ *तिथि - प्रतिपदा 13 मई रात्रि 03:05 तक तत्पश्चात द्वितीया* ⛅ *नक्षत्र - कृत्तिका 13 मई रात्रि 02:40 तक तत्पश्चात रोहिणी* ⛅ *योग - शोभन रात्रि 11:48 तक तत्पश्चात अतिगण्ड* ⛅ *राहुकाल - दोपहर 12:35 से दोपहर 02:13 तक* ⛅ *सूर्योदय - 06:03* ⛅ *सूर्यास्त - 19:07* ⛅ *दिशाशूल - उत्तर दिशा में* ⛅ *व्रत पर्व विवरण -* 💥 *विशेष - प्रतिपदा को कूष्माण्ड(कुम्हड़ा, पेठा) न खाये, क्योंकि यह धन का नाश करने वाला है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🌷 *अक्षय फलदायी “अक्षय तृतीया”* 🌷 ➡ *14 मई 2021 शुक्रवार को अक्षय तृतीया है ।* 🙏🏻 *वैशाख शुक्ल तृतीया की महिमा मत्स्य, स्कंद, भविष्य, नारद पुराणों व महाभारत आदि ग्रंथो में है । इस दिन किये गये पुण्यकर्म अक्षय (जिसका क्षय न हो) व अनंत फलदायी होते हैं, अत: इसे 'अक्षय तृतीया' कहते है । यह सर्व सौभाग्यप्रद है ।* 🙏🏻 *यह युगादि तिथि यानी सतयुग व त्रेतायुग की प्रारम्भ तिथि है । श्रीविष्णु का नर-नारायण, हयग्रीव और परशुरामजी के रूप में अवतरण व महाभारत युद्ध का अंत इसी तिथि को हुआ था ।* 👉🏻 *इस दिन बिना कोई शुभ मुहूर्त देखे कोई भी शुभ कार्य प्रारम्भ या सम्पन्न किया जा सकता है । जैसे - विवाह, गृह - प्रवेश या वस्त्र -आभूषण, घर, वाहन, भूखंड आदि की खरीददारी, कृषिकार्य का प्रारम्भ आदि सुख-समृद्धि प्रदायक है ।* 🌷 *प्रात:स्नान, पूजन, हवन का महत्त्व* 🌷 🙏🏻 *इस दिन गंगा-स्नान करने से सारे तीर्थ करने का फल मिलता है । गंगाजी का सुमिरन एवं जल में आवाहन करके ब्राम्हमुहूर्त में पुण्यस्नान तो सभी कर सकते है । स्नान के पश्चात् प्रार्थना करें :* 🌷 *माधवे मेषगे भानौं मुरारे मधुसुदन ।* *प्रात: स्नानेन में नाथ फलद: पापहा भव ॥* 🙏🏻 *'हे मुरारे ! हे मधुसुदन ! वैशाख मास में मेष के सूर्य में हे नाथ ! इस प्रात: स्नान से मुझे फल देनेवाले हो जाओ और पापों का नाश करों ।'* 👉🏻 *सप्तधान्य उबटन व गोझरण मिश्रित जल से स्नान पुण्यदायी है । पुष्प, धूप-दीप, चंदनम अक्षत (साबुत चावल) आदि से लक्ष्मी-नारायण का पूजन व अक्षत से हवन अक्षय फलदायी है ।* 🌷 *जप, उपवास व दान का महत्त्व* 🌷 🙏🏻 *इस दिन किया गया उपवास, जप, ध्यान, स्वाध्याय भी अक्षय फलदायी होता है । एक बार हल्का भोजन करके भी उपवास कर सकते है । 'भविष्य पुराण' में आता है कि इस दिन दिया गया दान अक्षय हो जाता है । इस दिन पानी के घड़े, पंखे, (खांड के लड्डू), पादत्राण (जूते-चप्पल), छाता, जौ, गेहूँ, चावल, गौ, वस्त्र आदि का दान पुण्यदायी है । परंतु दान सुपात्र को ही देना चाहिए ।* 🌷 *पितृ-तर्पण का महत्त्व व विधि* 🌷 🙏🏻 *इस दिन पितृ-तर्पण करना अक्षय फलदायी है । पितरों के तृप्त होने पर घर में सुख-शांति-समृद्धि व दिव्य संताने आती है ।* 💥 *विधि : इस दिन तिल एवं अक्षत लेकर र्विष्णु एवं ब्रम्हाजी को तत्त्वरूप से पधारने की प्रार्थना करें । फिर पूर्वजों का मानसिक आवाहन कर उनके चरणों में तिल, अक्षत व जल अर्पित करने की भावना करते हुए धीरे से सामग्री किसी पात्र में छोड़ दें तथा भगवान दत्तात्रेय, ब्रम्हाजी व विष्णुजी से पूर्वजों की सदगति हेतु प्रार्थना करें ।* 🌷 *आशीर्वाद पाने का दिन* 🌷 🙏🏻 *इस दिन माता-पिता, गुरुजनों की सेवा कर उनकी विशेष प्रसन्नता, संतुष्टि व आशीर्वाद प्राप्त करें । इसका फल भी अक्षय होता है ।* 🌷 *अक्षय तृतीया का तात्त्विक संदेश* 🌷 🙏🏻 *'अक्षय' यानी जिसका कभी नाश न हो । शरीर एवं संसार की समस्त वस्तुएँ नाशवान है, अविनाशी तो केवल परमात्मा ही है । यह दिन हमें आत्म विवेचन की प्रेरणा देता है । अक्षय आत्मतत्त्व पर दृष्टी रखने का दृष्टिकोण देता है । महापुरुषों व धर्म के प्रति हमारी श्रद्धा और परमात्म प्राप्ति का हमारा संकल्प अटूट व अक्षय हो - यही अक्षय तृतीया का संदेश मान सकते हो ।* 🙏🏻 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🌷 *अक्षय तृतीया* 🌷 🙏🏻 *'अक्षय' शब्द का मतलब है- जिसका क्षय या नाश न हो। इस दिन किया हुआ जप, तप, ज्ञान तथा दान अक्षय फल देने वाला होता है अतः इसे 'अक्षय तृतीया' कहते हैं। भविष्यपुराण, मत्स्यपुराण, पद्मपुराण, विष्णुधर्मोत्तर पुराण, स्कन्दपुराण में इस तिथि का विशेष उल्लेख है। इस दिन जो भी शुभ कार्य किए जाते हैं, उनका बड़ा ही श्रेष्ठ फल मिलता है। इस दिन सभी देवताओं व पित्तरों का पूजन किया जाता है। पित्तरों का श्राद्ध कर धर्मघट दान किए जाने का उल्लेख शास्त्रों में है। वैशाख मास भगवान विष्णु को अतिप्रिय है अतः विशेषतः विष्णु जी की पूजा करें।* 🙏🏻 *स्कन्दपुराण के अनुसार, जो मनुष्य अक्षय तृतीया को सूर्योदय काल में प्रातः स्नान करते हैं और भगवान विष्णु की पूजा करके कथा सुनते हैं, वे मोक्ष के भागी होते हैं। जो उस दिन मधुसूदन की प्रसन्नता के लिए दान करते हैं, उनका वह पुण्यकर्म भगवान की आज्ञा से अक्षय फल देता है।* 🙏🏻 *भविष्यपुराण के मध्यमपर्व में कहा गया है वैशाख शुक्ल पक्ष की तृतीया में गंगाजी में स्नान करनेवाला सब पापों से मुक्त हो जाता है | वैशाख मास की तृतीया स्वाती नक्षत्र और माघ की तृतीया रोहिणीयुक्त हो तथा आश्विन तृतीया वृषराशि से युक्त हो तो उसमें जो भी दान दिया जाता है, वह अक्षय होता है | विशेषरूप से इनमें हविष्यान्न एवं मोदक देनेसे अधिक लाभ होता है तथा गुड़ और कर्पूर से युक्त जलदान करनेवाले की विद्वान् पुरुष अधिक प्रंशसा करते हैं, वह मनुष्य ब्रह्मलोक में पूजित होता है | यदि बुधवार और श्रवण से युक्त तृतीया हो तो उसमें स्नान और उपवास करनेसे अनंत फल प्राप्त होता हैं |* 🌷 *अस्यां तिथौ क्षयमुर्पति हुतं न दत्तं ।* *तेनाक्षयेति कथिता मुनिभिस्तृतीया ।* *उद्दिश्य दैवतपितृन्क्रियते मनुष्यै: ।* *तत् च अक्षयं भवति भारत सर्वमेव ।। – मदनरत्न* 🙏🏻 *अर्थ : भगवान श्रीकृष्ण युधिष्ठरसे कहते हैं, हे राजन इस तिथि पर किए गए दान व हवन का क्षय नहीं होता है; इसलिए हमारे ऋषि-मुनियोंने इसे ‘अक्षय तृतीया’ कहा है । इस तिथि पर भगवानकी कृपादृष्टि पाने एवं पितरोंकी गतिके लिए की गई विधियां अक्षय-अविनाशी होती हैं ।* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🌷 *भविष्यपुराण, ब्राह्मपर्व, अध्याय 21* 🌷 🙏🏻 *वैशाखे मासि राजेन्द्र तृतीया चन्दनस्य च ।वारिणा तुष्यते वेधा मोदकैर्भीम एव हि । ।दानात्तु चन्दनस्येह कञ्जजो नात्र संशयः । । यात्वेषा कुरुशार्दूल वैशाखे मासि वै तिथिः ।तृतीया साऽक्षया लोके गीर्वाणैरभिनन्दिता । । आगतेयं महाबाहो भूरि चन्द्रं वसुव्रता ।कलधौतं तथान्नं च घृतं चापि विशेषतः । ।यद्यद्दत्तं त्वक्षयं स्यात्तेनेयमक्षया स्मृता । । यत्किञ्चिद्दीयते दानं स्वल्पं वा यदि वा बहु ।तत्सर्वमक्षयं स्याद्वै तेनेयमक्षया स्मृता । ।योऽस्यां ददाति करकन्वारिबीजसमन्वितान् ।स याति पुरुषो वीर लोकं वै हेममालिनः । ।इत्येषा कथिता वीर तृतीया तिथिरुत्तमा ।यामुपोष्य नरो राजन्नृद्धिं वृद्धिं श्रियं भजेत् । ।* 🙏🏻 *अर्थ : वैशाख मास की तृतीया को चन्दनमिश्रित जल तथा मोदक के दान से ब्रह्मा तथा सभी देवता प्रसन्न होते हैं | देवताओं ने वैशाख मास की तृतीया को अक्षय तृतीया कहा है | इस दिन अन्न-वस्त्र-भोजन-सुवर्ण और जल आदि का दान करने से अक्षय फल की प्राप्ति होती है | इसी तृतीया के दिन जो कुछ भी दान किया जाता है वह अक्षय हो जाता है और दान देनेवाला सूर्यलोक को प्राप्त करता है | इस तिथि को जो उपवास करता है वह ऋद्धि-वृद्धि और श्री से सम्पन्न हो जाता है |* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 जय श्री राधे राधे 🙏🙏🚩🚩🚩

+78 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 251 शेयर
Pt Vinod Pandey 🚩 May 11, 2021

🌞 ~ आज का हिन्दू #पंचांग ~ 🌞 ⛅ दिनांक 12 मई 2021 ⛅ दिन - #बुधवार ⛅ विक्रम संवत - 2078 (गुजरात - 2077) ⛅ शक संवत - 1943 ⛅ अयन - उत्तरायण ⛅ ऋतु - ग्रीष्म  ⛅ मास - वैशाख ⛅ पक्ष - शुक्ल  ⛅ तिथि - प्रतिपदा 13 मई रात्रि 03:05 तक तत्पश्चात द्वितीया ⛅ नक्षत्र - कृत्तिका 13 मई रात्रि 02:40 तक तत्पश्चात रोहिणी ⛅ योग - शोभन रात्रि 11:48 तक तत्पश्चात अतिगण्ड ⛅ राहुकाल - दोपहर 12:35 से दोपहर 02:13 तक  ⛅ सूर्योदय - 06:03  ⛅ सूर्यास्त - 19:07  ⛅ दिशाशूल - उत्तर दिशा में 💥 विशेष - प्रतिपदा को कूष्माण्ड(कुम्हड़ा, पेठा) न खाये, क्योंकि यह धन का नाश करने वाला है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34) 🌷 अक्षय फलदायी “अक्षय तृतीया” 🌷 ➡ 14 मई 2021 शुक्रवार को अक्षय तृतीया है। 🙏🏻 वैशाख शुक्ल तृतीया की महिमा मत्स्य, स्कंद, भविष्य, नारद पुराणों व महाभारत आदि ग्रंथो में है। इस दिन किये गये पुण्यकर्म अक्षय (जिसका क्षय न हो) व अनंत फलदायी होते हैं, अत: इसे 'अक्षय तृतीया' कहते है। यह सर्व सौभाग्यप्रद है। 🙏🏻 यह युगादि तिथि यानी सतयुग व त्रेतायुग की प्रारम्भ तिथि है। श्रीविष्णु का नर-नारायण, हयग्रीव और परशुरामजी के रूप में अवतरण व महाभारत युद्ध का अंत इसी तिथि को हुआ था। 👉🏻 इस दिन बिना कोई शुभ मुहूर्त देखे कोई भी शुभ कार्य प्रारम्भ या सम्पन्न किया जा सकता है। जैसे - विवाह, गृह - प्रवेश या वस्त्र -आभूषण, घर, वाहन, भूखंड आदि की खरीददारी, कृषिकार्य का प्रारम्भ आदि सुख-समृद्धि प्रदायक है। 🌷 प्रात:स्नान, पूजन, हवन का महत्त्व 🌷 🙏🏻 इस दिन गंगा-स्नान करने से सारे तीर्थ करने का फल मिलता है। गंगाजी का सुमिरन एवं जल में आवाहन करके ब्राम्हमुहूर्त में पुण्यस्नान तो सभी कर सकते है। स्नान के पश्चात् प्रार्थना करें : 🌷 माधवे मेषगे भानौं मुरारे मधुसुदन। प्रात: स्नानेन में नाथ फलद: पापहा भव ॥ 🙏🏻 'हे मुरारे ! हे मधुसुदन ! वैशाख मास में मेष के सूर्य में हे नाथ ! इस प्रात: स्नान से मुझे फल देनेवाले हो जाओ और पापों का नाश करों।' 👉🏻 सप्तधान्य उबटन व गोझरण मिश्रित जल से स्नान पुण्यदायी है। पुष्प, धूप-दीप, चंदनम अक्षत (साबुत चावल) आदि से लक्ष्मी-नारायण का पूजन व अक्षत से हवन अक्षय फलदायी है। 🌷 जप, उपवास व दान का महत्त्व 🌷 🙏🏻 इस दिन किया गया उपवास, जप, ध्यान, स्वाध्याय भी अक्षय फलदायी होता है। एक बार हल्का भोजन करके भी उपवास कर सकते है। 'भविष्य पुराण' में आता है कि इस दिन दिया गया दान अक्षय हो जाता है। इस दिन पानी के घड़े, पंखे, (खांड के लड्डू), पादत्राण (जूते-चप्पल), छाता, जौ, गेहूँ, चावल, गौ, वस्त्र आदि का दान पुण्यदायी है। परंतु दान सुपात्र को ही देना चाहिए। 🌷 पितृ-तर्पण का महत्त्व व विधि 🌷 🙏🏻 इस दिन पितृ-तर्पण करना अक्षय फलदायी है। पितरों के तृप्त होने पर घर में सुख-शांति-समृद्धि व दिव्य संताने आती है। 💥 विधि : इस दिन तिल एवं अक्षत लेकर र्विष्णु एवं ब्रम्हाजी को तत्त्वरूप से पधारने की प्रार्थना करें। फिर पूर्वजों का मानसिक आवाहन कर उनके चरणों में तिल, अक्षत व जल अर्पित करने की भावना करते हुए धीरे से सामग्री किसी पात्र में छोड़ दें तथा भगवान दत्तात्रेय, ब्रम्हाजी व विष्णुजी से पूर्वजों की सदगति हेतु प्रार्थना करें। 🌷 आशीर्वाद पाने का दिन 🌷 🙏🏻 इस दिन माता-पिता, गुरुजनों की सेवा कर उनकी विशेष प्रसन्नता, संतुष्टि व आशीर्वाद प्राप्त करें। इसका फल भी अक्षय होता है। 🌷 अक्षय तृतीया का तात्त्विक संदेश 🌷 🙏🏻 'अक्षय' यानी जिसका कभी नाश न हो। शरीर एवं संसार की समस्त वस्तुएँ नाशवान है, अविनाशी तो केवल परमात्मा ही है। यह दिन हमें आत्म विवेचन की प्रेरणा देता है। अक्षय आत्मतत्त्व पर दृष्टी रखने का दृष्टिकोण देता है। महापुरुषों व धर्म के प्रति हमारी श्रद्धा और परमात्म प्राप्ति का हमारा संकल्प अटूट व अक्षय हो - यही अक्षय तृतीया का संदेश मान सकते हो। 🌷 अक्षय तृतीया 🌷 🙏🏻 'अक्षय' शब्द का मतलब है- जिसका क्षय या नाश न हो। इस दिन किया हुआ जप, तप, ज्ञान तथा दान अक्षय फल देने वाला होता है अतः इसे 'अक्षय तृतीया' कहते हैं। भविष्यपुराण, मत्स्यपुराण, पद्मपुराण, विष्णुधर्मोत्तर पुराण, स्कन्दपुराण में इस तिथि का विशेष उल्लेख है। इस दिन जो भी शुभ कार्य किए जाते हैं, उनका बड़ा ही श्रेष्ठ फल मिलता है। इस दिन सभी देवताओं व पित्तरों का पूजन किया जाता है। पित्तरों का श्राद्ध कर धर्मघट दान किए जाने का उल्लेख शास्त्रों में है। वैशाख मास भगवान विष्णु को अतिप्रिय है अतः विशेषतः विष्णु जी की पूजा करें। 🙏🏻 स्कन्दपुराण के अनुसार, जो मनुष्य अक्षय तृतीया को सूर्योदय काल में प्रातः स्नान करते हैं और भगवान विष्णु की पूजा करके कथा सुनते हैं, वे मोक्ष के भागी होते हैं। जो उस दिन मधुसूदन की प्रसन्नता के लिए दान करते हैं, उनका वह पुण्यकर्म भगवान की आज्ञा से अक्षय फल देता है। 🙏🏻 भविष्यपुराण के मध्यमपर्व में कहा गया है वैशाख शुक्ल पक्ष की तृतीया में गंगाजी में स्नान करनेवाला सब पापों से मुक्त हो जाता है। वैशाख मास की तृतीया स्वाती नक्षत्र और माघ की तृतीया रोहिणीयुक्त हो तथा आश्विन तृतीया वृषराशि से युक्त हो तो उसमें जो भी दान दिया जाता है, वह अक्षय होता है। विशेषरूप से इनमें हविष्यान्न एवं मोदक देनेसे अधिक लाभ होता है तथा गुड़ और कर्पूर से युक्त जलदान करनेवाले की विद्वान् पुरुष अधिक प्रंशसा करते हैं, वह मनुष्य ब्रह्मलोक में पूजित होता है। यदि बुधवार और श्रवण से युक्त तृतीया हो तो उसमें स्नान और उपवास करनेसे अनंत फल प्राप्त होता हैं। 🌷 अस्यां तिथौ क्षयमुर्पति हुतं न दत्तं।  तेनाक्षयेति कथिता मुनिभिस्तृतीया। उद्दिश्य दैवतपितृन्क्रियते मनुष्यै:।  तत् च अक्षयं भवति भारत सर्वमेव।। – मदनरत्न 🙏🏻 अर्थ : भगवान श्रीकृष्ण युधिष्ठरसे कहते हैं, हे राजन इस तिथि पर किए गए दान व हवन का क्षय नहीं होता है; इसलिए हमारे ऋषि-मुनियोंने इसे ‘अक्षय तृतीया’ कहा है। इस तिथि पर भगवानकी कृपादृष्टि पाने एवं पितरोंकी गतिके लिए की गई विधियां अक्षय-अविनाशी होती हैं। 🌷 भविष्यपुराण, ब्राह्मपर्व, अध्याय 21 🌷 🙏🏻 वैशाखे मासि राजेन्द्र तृतीया चन्दनस्य च।वारिणा तुष्यते वेधा मोदकैर्भीम एव हि।।दानात्तु चन्दनस्येह कञ्जजो नात्र संशयः।। यात्वेषा कुरुशार्दूल वैशाखे मासि वै तिथिः।तृतीया साऽक्षया लोके गीर्वाणैरभिनन्दिता।। आगतेयं महाबाहो भूरि चन्द्रं वसुव्रता।कलधौतं तथान्नं च घृतं चापि विशेषतः।।यद्यद्दत्तं त्वक्षयं स्यात्तेनेयमक्षया स्मृता।। यत्किञ्चिद्दीयते दानं स्वल्पं वा यदि वा बहु।तत्सर्वमक्षयं स्याद्वै तेनेयमक्षया स्मृता।।योऽस्यां ददाति करकन्वारिबीजसमन्वितान्।स याति पुरुषो वीर लोकं वै हेममालिनः।।इत्येषा कथिता वीर तृतीया तिथिरुत्तमा।यामुपोष्य नरो राजन्नृद्धिं वृद्धिं श्रियं भजेत्।। 🙏🏻 अर्थ : वैशाख मास की तृतीया को चन्दनमिश्रित जल तथा मोदक के दान से ब्रह्मा तथा सभी देवता प्रसन्न होते हैं। देवताओं ने वैशाख मास की तृतीया को अक्षय तृतीया कहा है। इस दिन अन्न-वस्त्र-भोजन-सुवर्ण और जल आदि का दान करने से अक्षय फल की प्राप्ति होती है। इसी तृतीया के दिन जो कुछ भी दान किया जाता है वह अक्षय हो जाता है और दान देनेवाला सूर्यलोक को प्राप्त करता है। इस तिथि को जो उपवास करता है वह ऋद्धि-वृद्धि और श्री से सम्पन्न हो जाता है। 🌐http://www.vkjpandey.in 🙏🏻🌷💐🌸🌼🌹🍀🌺💐🙏🏻 https://t.me/OnlineMandir 🚩 दैनिक पंचांग, राशिफल, व्रत त्योहार तथा हिन्दू धार्मिक जानकारी जैसे पोस्ट पाने के लिए हमारे व्हाट्सएप समूह ऑनलाइन मंदिर से जुड़े। 🤳 लिंक- 👇🏻 https://chat.whatsapp.com/I0lnC06D3bfGIhcWkRZPBb

+42 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 122 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB