वरलक्ष्मी व्रत -  शुक्रवार 4 अगस्त  2017 ** VaraLakshmi Vrath - Friday 4 August 2017

वरलक्ष्मी व्रत -  शुक्रवार 4 अगस्त  2017 ** VaraLakshmi Vrath - Friday 4 August 2017

#ज्ञानवर्षा #श्रावण #माँ
वरलक्ष्मी व्रत की #कथा एवम इतिहास

वेदों, पुराणों एवम शास्त्रों के अनुसार श्रावण माह के शुक्ल पक्ष की दशमी को वरलक्ष्मी जयंती मनाई जाती है। तदनुसार इस वर्ष  शुक्रवार 4 अगस्त  2017 को वरलक्ष्मी व्रत मनाई जाएगी।

धार्मिक मान्यताओ के अनुसार यह व्रत शादीशुदा जोड़ों को संतान प्राप्ति का सुख प्रदान करता है। वरलक्ष्मी व्रत को रखने से अष्टलक्ष्मी पूजन के बराबर फल की प्राप्ति होती है। यह व्रत कर्नाटक तथा तमिलनाडु राज्य में बड़े ही उत्साह से मनाया जाता है।

वरलक्ष्मी व्रत कथा

पौराणिक कथा अनुसार एक बार मगध राज्य में कुण्डी नामक एक नगर था। कथानुसार कुण्डी नगर का निर्माण स्वर्ग से हुआ था। इस नगर में एक ब्राह्मणी नारी चारुमति अपने परिवार के साथ रहती थी। चारुमति कर्त्यव्यनिष्ठ नारी थी जो अपने सास, ससुर एवम पति की सेवा करके माँ लक्ष्मी जी की पूजा-अर्चना कर एक आदर्श नारी का जीवन व्यतीत करती थी।

एक रात्रि में चारुमति को माँ लक्ष्मी स्वप्न में आकर बोली, चारुमति हर शुक्रवार को मेरे निमित्त मात्र वरलक्ष्मी व्रत को किया करो। इस व्रत के प्रभाव से तुम्हे मनोवांछित फल प्राप्त होगा।

अगले सुबह चारुमति ने माँ लक्ष्मी द्वारा बताये गए वर लक्ष्मी व्रत को समाज के अन्य नारियों के साथ विधिवत किया। पूजन के सम्पन्न होने पर सभी नारियां कलश की परिक्रमा करने लगी, परिक्रमा करते समय समस्त नारियों के शरीर विभिन्न स्वर्ण आभूषणों से सज गए।

मासिक दुर्गाष्टमी की कथा एवम इतिहास

उनके घर भी स्वर्ण के बन गए तथा उनके यहाँ घोड़े, हाथी, गाय आदि पशु भी आ गए। सभी नारियों ने चारुमति की प्रशंसा करने लगे। क्योंकि चारुमति ने ही उन सबको इस व्रत विधि के बारे में बताई थी। कालांतर में यह कथा भगवान शिव जी ने माता पार्वती को कहा था। इस व्रत को सुनने मात्र से लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती है।

वरलक्ष्मी व्रत महत्व

ये व्रत श्रावण माह की पूर्णिमा से एक सप्ताह पूर्व शुक्रवार को मनाई जाती है। वरलक्ष्मी माँ को माँ लक्ष्मी का दूसरा अवतार माना गया है। जिसे धन की देवी कहा जाता है। नारीत्व का व्रत होने के कारण यह व्रत सुहागन औरतें अति उत्साह से मनाती है। इस व्रत के करने से व्रती को सुख, सम्पति, वैभव की प्राप्ति होती है।

वरलक्ष्मी व्रत : पूजा की विधि

व्रती को इस दिन प्रातः काल जगना चाहिए, घर की साफ-सफाई कर स्नान-ध्यान से निवृत होकर पूजा स्थल को गंगाजल से पवित्र कर लेना चाहिए। तत्पश्चात व्रत का संकल्प करना चाहिए। देवी माँ लक्ष्मी की प्रतिमूर्ति को पूर्व दिशा में अवस्थित कर रखें। पूजा स्थल पर थोड़ा सा तन्दुल फैलाए। एक कलश में जल भरकर उस तंदुल पर रखें। तत्पश्चात कलश के चारों तरफ चन्दन लगाएं।

कलश के नादर पान, सुपारी, सिक्का, आम के पत्ते आदि डालें। तदोपरांत एक नारियल पर चन्दन, हल्दी, कुमकुम लगाकर उस कलश पर रखें। एक थाली में लाल वस्त्र, अक्षत, फल, फूल, दूर्वा, दीप, धुप आदि से माँ लक्ष्मी की पूजा करना चाहिए। इस दिन निराहार रहें तथा रात्रि काल में आरती-अर्चना के पश्चात फलाहार कर सकती है। इस प्रकार वर लक्ष्मी व्रत कथा सम्पन्न हुई।

प्रेम से बोलिए माँ लक्ष्मी की जय।

Varalakshmi Vratham is a popular ritual observed by married women in states of Karnataka, Tamil Nadu, and Andhra Pradesh.Varalakshmi Vratam is a festival to appease the goddess Lakshmi, the consort of Lord Vishnu. Varalakshmi literally means the boon granting goddess. Worshipping Goddess Lakshmi on this day is equivalent to worshipping Ashta Lakshmi the eight goddesses of Wealth, Earth, Learning, Love, Fame, Peace, Pleasure, and Strength.

This Vratham comes in the holy month of Shravan on the first friday before the Pournami or Poornima (the full moon day), corresponding to the months of July - August . This Vratham is undertaken by the married women for good progeny, good health, and wishing long life for their husbands.

According to Hindu mythology, once Goddess Parvati asked Lord Shiva about a vratha that will be beneficial to women. Lord Shiva then mentioned the importance of Varalakshmi Vratham. He narrates the story and explains the process of performing the vrat to Goddess Parvathi. This conversation on Varalakshmi Vratham between Parvati and Shiva takes place in the Skanda Purana.

Story Related to Varalakshmi Vratham

The story happens in a beautiful town called Kunda Nagar located in the Kingdom of Vidarbha (Vidarbha Rajya). In that Kundagram town, Charumathi was a true pativrata (devoted to husband in all sincerity). Goddess Adilakshmi, being pleased by her devotion tells Charumathi in a dream and directed her to perform the vrata to enable her to fulfil her desires. Charumathi wakes up and tells her husband about the dream. Charumathi along with some neighbourhood women takes bath in the wee hours and prepare a mandapam and invites Varalakshmi Devi. Then she wore nine threads Thoranam to right hand and offers naivedyam to Goddess Lakshmi Devi. When Charumati and her friends performed the Vrata, they were showered with riches following the completion of each pradakshina.Following this event, Varalakshmi vratam became an annual event in many households and since then, Hindu women perform this vrata with utmost faith and trust till today.

On the Puja day married women should wake up early morning, clean the puja room or place and make kolam (rangoli) with rice flour. Now place a mandapam or a small wooden platform and spread a blouse piece over it. On the blouse piece spread a cup of rice. Place a kalash partially filled with holy water from any river on it. Decorate the kalash with betel leaves, usually five in number.The Kalash tray can be filled with turmeric, kumkum, sandalwood and other Puja items. Now place a coconut on top of the kalash smeared all over with turmeric powder and a kumkum tilak. The kalasham, now symbolically representing Goddess Lakshmi is further decorated with gold ornaments old and new, silk cloth or saree and fresh flowers. From now on Kalasham is called and worshipped as a Devi. Lord Ganesh is worshipped first and then begins the Varalakshmi puja. The puja usually comprises of Kalash puja, archana, ashtottara puja and Kanakana puja. Ladies wear the kankanam (yellow thread) in their right hand wrist. After worship, Thamboolam consisting of a betel leaf (Paan ka patta), areca nut (supari), turmeric, gold coin or currency, blouse piece and flowers are given to married women who in turn bless the household.

Jai Jai Mahalakshmi Maa.

Agarbatti Milk Like +313 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 66 शेयर

कामेंट्स

Nitin kesharwani Aug 4, 2017
hay. my maa.. Jay. maaaaa.mahalaxmi Mata G.ki... Jay Shree Ram G. Jay Shree Balaji mahraj G ki. .. ...

डॉ संतोष कुमार (नवादा,बिहार) Aug 5, 2017
🌷🌷जय माता दी 🌹🌹 🌷🇯🇦🇮🌻🇸🇭🇷🇪🇪🌻 🇷🇦🇲🌷 RaDhE kRiShNa !!!! जय श्री कृष्णा!!!!! जय माता दी!!! जय जय माँ!!! 💚💚💚💚💚💚💚💚💚💚💚💚💚 !!! Good!!!! Morning!!!! 🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷 🌻🇦🇩🇩🌹🇲🇪🌻जय श्री कृष्णा राधे राधे 💚💚💚💚💜💜💜🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷शुभ , शनि बार,🌱🌱🌿🌿🍭🍭🌱🌱🌿🌿🍭🍭💛💗💜💙💚

TR. Madhavan Aug 8, 2017
@ashwani.kumar......pandit.ji जय श्री गणेश । अन्नदान कार्यक्रम - प्रार्थना मैं हेप्पी होम्स गेटड् खंयुनिटी का निवासी हुँ, पिछले 17 साल से श्री गणेश चतुर्थी नवरात्रि उत्सव सभी समुदाय के रहने वाले मिल कर मनाते हैं। हर साल उत्सव के दिनों में दो बार करीब 1500 से 2000 भक्तों केलिए अन्नदान का कारिक्रम करते हैं, अपनी सोसाइटी और सोशियल मीडिया के बंधु कि सहायता से। मैं और हैप्पी होम्स श्री गणेश उत्सव समिति के सभी सदस्य आप से निवेदन करते है । “उत्सव समिति कि अलग बैंक काथा नहीं है” आप से निवेदन है कि, नीचे दिये गए बैंक खाते में जामा करने कि कृपा कर सकते हैं । आप से जो भी दान राशि कि सहयोग हो सके कीजियेगा। वाट्सएप न: 8712341974 मे हमें मैसेज कीजिए। Bank account details - TR. Madhavan Ac No. 52642043000057 Oriental Bank of Commerce, Banjara Hills, Hyderabad.IFSC - ORBC0105264. Please Note: Donation receipt will be prepared and sent. धन्यवाद । हेप्पी होम्स श्री गणेश उत्सव समिति, हेप्पी होम्स, हैदराबाद-500048.फोन: 8712341974 / 9246113116

TR. Madhavan Aug 8, 2017
@nitin.kesarwani जय श्री गणेश । अन्नदान कार्यक्रम - प्रार्थना मैं हेप्पी होम्स गेटड् खंयुनिटी का निवासी हुँ, पिछले 17 साल से श्री गणेश चतुर्थी नवरात्रि उत्सव सभी समुदाय के रहने वाले मिल कर मनाते हैं। हर साल उत्सव के दिनों में दो बार करीब 1500 से 2000 भक्तों केलिए अन्नदान का कारिक्रम करते हैं, अपनी सोसाइटी और सोशियल मीडिया के बंधु कि सहायता से। मैं और हैप्पी होम्स श्री गणेश उत्सव समिति के सभी सदस्य आप से निवेदन करते है । “उत्सव समिति कि अलग बैंक काथा नहीं है” आप से निवेदन है कि, नीचे दिये गए बैंक खाते में जामा करने कि कृपा कर सकते हैं । आप से जो भी दान राशि कि सहयोग हो सके कीजियेगा। वाट्सएप न: 8712341974 मे हमें मैसेज कीजिए। Bank account details - TR. Madhavan Ac No. 52642043000057 Oriental Bank of Commerce, Banjara Hills, Hyderabad.IFSC - ORBC0105264. Please Note: Donation receipt will be prepared and sent. धन्यवाद । हेप्पी होम्स श्री गणेश उत्सव समिति, हेप्पी होम्स, हैदराबाद-500048.फोन: 8712341974 / 9246113116

TR. Madhavan Aug 8, 2017
@shivmohan.prasad जय श्री गणेश । अन्नदान कार्यक्रम - प्रार्थना मैं हेप्पी होम्स गेटड् खंयुनिटी का निवासी हुँ, पिछले 17 साल से श्री गणेश चतुर्थी नवरात्रि उत्सव सभी समुदाय के रहने वाले मिल कर मनाते हैं। हर साल उत्सव के दिनों में दो बार करीब 1500 से 2000 भक्तों केलिए अन्नदान का कारिक्रम करते हैं, अपनी सोसाइटी और सोशियल मीडिया के बंधु कि सहायता से। मैं और हैप्पी होम्स श्री गणेश उत्सव समिति के सभी सदस्य आप से निवेदन करते है । “उत्सव समिति कि अलग बैंक काथा नहीं है” आप से निवेदन है कि, नीचे दिये गए बैंक खाते में जामा करने कि कृपा कर सकते हैं । आप से जो भी दान राशि कि सहयोग हो सके कीजियेगा। वाट्सएप न: 8712341974 मे हमें मैसेज कीजिए। Bank account details - TR. Madhavan Ac No. 52642043000057 Oriental Bank of Commerce, Banjara Hills, Hyderabad.IFSC - ORBC0105264. Please Note: Donation receipt will be prepared and sent. धन्यवाद । हेप्पी होम्स श्री गणेश उत्सव समिति, हेप्पी होम्स, हैदराबाद-500048.फोन: 8712341974 / 9246113116

TR. Madhavan Aug 8, 2017
@shakuntala.kumari जय श्री गणेश । अन्नदान कार्यक्रम - प्रार्थना मैं हेप्पी होम्स गेटड् खंयुनिटी का निवासी हुँ, पिछले 17 साल से श्री गणेश चतुर्थी नवरात्रि उत्सव सभी समुदाय के रहने वाले मिल कर मनाते हैं। हर साल उत्सव के दिनों में दो बार करीब 1500 से 2000 भक्तों केलिए अन्नदान का कारिक्रम करते हैं, अपनी सोसाइटी और सोशियल मीडिया के बंधु कि सहायता से। मैं और हैप्पी होम्स श्री गणेश उत्सव समिति के सभी सदस्य आप से निवेदन करते है । “उत्सव समिति कि अलग बैंक काथा नहीं है” आप से निवेदन है कि, नीचे दिये गए बैंक खाते में जामा करने कि कृपा कर सकते हैं । आप से जो भी दान राशि कि सहयोग हो सके कीजियेगा। वाट्सएप न: 8712341974 मे हमें मैसेज कीजिए। Bank account details - TR. Madhavan Ac No. 52642043000057 Oriental Bank of Commerce, Banjara Hills, Hyderabad.IFSC - ORBC0105264. Please Note: Donation receipt will be prepared and sent. धन्यवाद । हेप्पी होम्स श्री गणेश उत्सव समिति, हेप्पी होम्स, हैदराबाद-500048.फोन: 8712341974 / 9246113116

TR. Madhavan Aug 8, 2017
@uma.aggarwal जय श्री गणेश । अन्नदान कार्यक्रम - प्रार्थना मैं हेप्पी होम्स गेटड् खंयुनिटी का निवासी हुँ, पिछले 17 साल से श्री गणेश चतुर्थी नवरात्रि उत्सव सभी समुदाय के रहने वाले मिल कर मनाते हैं। हर साल उत्सव के दिनों में दो बार करीब 1500 से 2000 भक्तों केलिए अन्नदान का कारिक्रम करते हैं, अपनी सोसाइटी और सोशियल मीडिया के बंधु कि सहायता से। मैं और हैप्पी होम्स श्री गणेश उत्सव समिति के सभी सदस्य आप से निवेदन करते है । “उत्सव समिति कि अलग बैंक काथा नहीं है” आप से निवेदन है कि, नीचे दिये गए बैंक खाते में जामा करने कि कृपा कर सकते हैं । आप से जो भी दान राशि कि सहयोग हो सके कीजियेगा। वाट्सएप न: 8712341974 मे हमें मैसेज कीजिए। Bank account details - TR. Madhavan Ac No. 52642043000057 Oriental Bank of Commerce, Banjara Hills, Hyderabad.IFSC - ORBC0105264. Please Note: Donation receipt will be prepared and sent. धन्यवाद । हेप्पी होम्स श्री गणेश उत्सव समिति, हेप्पी होम्स, हैदराबाद-500048.फोन: 8712341974 / 9246113116

कृपया सभी #हिन्दू भाइयो को भूले बिना शेयर अवश्य करे।

Pranam Flower Like +12 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 14 शेयर
Narayan Tiwari Aug 19, 2018

🌿🌻🌹🌿🌻🌹🌿🌻🌹🌿🌻🌹🌿🌻🌹🌿
एक व्यक्ति था। उसके तीन मित्र थे। एक मित्र ऐसा था जो सदैव साथ देता था। एक पल, एक क्षण भी बिछुड़ता नहीं था। दूसरा मित्र ऐसा था जो सुबह शाम मिलता। और तीसरा मित्र ऐसा था जो बहुत दिनों में जब तब मिलता !
और कुछ ऐसा हुआ ए...

(पूरा पढ़ें)
Belpatra Bell Jyot +178 प्रतिक्रिया 26 कॉमेंट्स • 72 शेयर
Gopal Krishan Aug 19, 2018

कथा_बहुत_पुरानी_है।

एक बार शीतला माता ने सोचा कि चलो आज देखु कि धरती पर मेरी पूजा कौन करता है, कौन मुझे मानता है। यही सोचकर शीतला माता धरती पर राजस्थान के डुंगरी गाँव में आई और देखा कि इस गाँव में मेरा मंदिर भी नही है, ना मेरी पुजा है।

माता शीत...

(पूरा पढ़ें)
Jyot Belpatra Water +38 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 40 शेयर
Sagar Aug 19, 2018

Like Pranam +3 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 7 शेयर
Anuradha Tiwari Aug 18, 2018

कंचन वन में शेर सिंह का राज समाप्त हो चुका था पर वहां बिना राजा के स्थिति ऐसी हो गई थी जैसे जंगल राज हो जिसकी जो मर्जी वह कर रहा था। वन में अशांति, मारकाट, गंदगी, इतनी फैल गई थी कि वहां जानवरों का रहना मुश्किल हो गया। कुछ जानवर शेरसिंह को याद कर र...

(पूरा पढ़ें)
Flower Like Jyot +7 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 29 शेयर
Anuradha Tiwari Aug 18, 2018

समुद्रतट पर एक व्यक्ति चिंतातुर बैठा था, इतने में उधर से विभीषण निकले। उन्होंने उस चिंतातुर व्यक्ति से पूछाः क्यों भाई! तुम किस बात की चिंता में पड़े हो? मुझे समुद्र के उस पार जाना हैं परंतु मेरें पास समुद्र पार करने का कोई साधन नहीं हैं। अब क्या ...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Jyot Flower +23 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 26 शेयर
Anuradha Tiwari Aug 18, 2018

देवो की तपोभूमि हिमाचल के कागंडा मे वैजनाथ से 5 km की दूरी पर कुसंल नामक जगह पर स्थापित है शिवशंकर भगवान के तप प्रकाश से स्वंयभू उत्पन्न शिवलिगं | जिसे महाकाल मन्दिर के नाम से जाना जाता है | सम्पूर्ण विश्व मे उज्जैन व वैजनाथ मे महाकाल के दो ही मन्...

(पूरा पढ़ें)
Jyot Belpatra Flower +27 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 7 शेयर
Gopal Krishan Aug 19, 2018

महाभारत काल की बात है। एक बार कृष्ण और बलराम किसी जंगल से गुजर रहे थे। चलते-चलते काफी समय बीत गया और अब सूरज भी लगभग डूबने वाला था। अँधेरे में आगे बढना संभव नहीं था, इसलिए कृष्ण बोले, “ बलराम, हम ऐसा करते हैं कि अब सुबह होने तक यहीं ठहर जाते हैं, ...

(पूरा पढ़ें)
Flower Pranam Like +5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 9 शेयर
Komal Chand jain Aug 19, 2018

✍✍✍✍✍✍✍✍✍✍✍✍

बहुत ही अच्छी स्टोरी है कृपया जरूर पढ़ें 👏
.
एक जौहरी के निधन के बाद उसका
परिवार संकट में पड़ गया।😂😂
,
खाने के भी लाले पड़ गए।😇
,
एक दिन उसकी पत्नी ने अपने 💃बेटे
को नीलम का एक हार
देकर कहा- "बेटा, इसे अपने चाचा की
दुकान पर ल...

(पूरा पढ़ें)
Like Pranam Flower +15 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 58 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB