Ashish shukla
Ashish shukla Mar 26, 2020

आप सभी को चैत्र नवरात्रि के दूसरे दिन की हार्दिक शुभकामनाएं

आप सभी को चैत्र नवरात्रि के दूसरे दिन की हार्दिक शुभकामनाएं

+420 प्रतिक्रिया 51 कॉमेंट्स • 303 शेयर

कामेंट्स

seema soni Mar 26, 2020
Good morning bhaiya ji jai mata de🙏🙏🙏🙏🙏🌹🌹🕉️🕉️🕉️🕉️

9⃣5⃣7⃣4⃣4⃣2⃣2⃣4⃣2⃣2⃣🔐 Mar 26, 2020
जय माता ब्रम्हचारिणी माँ नमो नमः शुभ प्रभात स्नेह वंदन धन्यवाद अति सुन्दर 🌹🙏🏻🙏🏻👌👌👌👌👌👌👌👌👌👌👌🕉🌞

Vinod Kumar Swami Mar 26, 2020
जय माता दी शुभ बृहस्पतिवार सुप्रभात वंदन जी

Rakesh Kumar Chandel Mar 26, 2020
Radhe Radhe Jai Mata Di Good morning.How are u.God bless u.Take care. Jai mata di

Sudha Singh Mar 26, 2020
🙏🏼🌹जय माता दी 🌹🙏🏼माता रानी का आशीर्वाद आप सभी ओर सदैव बनी रहे शुभप्रभात वंदन भाई जी 🙏🏼🙏🏼🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️

Lalan Singh Mar 26, 2020
जय माता दी 🙏🌷🙏 सुप्रभात 🙏🌹

pramod singh Mar 26, 2020
jài Mata di 🌹 radhe radhe 🌹 good morning ji 🌹

abha sharma Mar 26, 2020
जय माता दी आप को भी आपका दिन भी शुभ मंगलमय हो भाई जी

Venkatesh (ವೆಂಕಟೇಶ್ ) Mar 26, 2020
🙏🙏🙏🌺🌺🌷jai sri radha krishna sri maha vishnu sri mata parvathi ki krupa aap aur aapki parivar sada bani rahe🌺 subha dopar aap ka din subha aur mangal aur hamesa kush rahe vandan brother ji 🌷🌹🌹

Venkatesh (ವೆಂಕಟೇಶ್ ) Mar 26, 2020
🙏🙏🙏🌺🌺🌷jai sri radha krishna sri maha vishnu sri mata parvathi ki krupa aap aur aapki parivar sada bani rahe🌺 subha dopar aap ka din subha aur mangal aur hamesa kush rahe vandan brother ji 🌷🌹🌹

Venkatesh (ವೆಂಕಟೇಶ್ ) Mar 26, 2020
🙏🙏🙏🌺🌺🌷jai sri radha krishna sri maha vishnu sri mata parvathi ki krupa aap aur aapki parivar sada bani rahe🌺 subha dopar aap ka din subha aur mangal aur hamesa kush rahe vandan brother ji 🌷🌹🌹

Babita Sharma Mar 26, 2020
शुभ दोपहर भाई जय श्री राधे🙏 जय माता दी 🚩🙏 आपका दिन शुभ हो मंगलमय हो। 🚩👣👣👣👣👣👣👣🚩

Geeta Sharma Mar 26, 2020
जय माता दी,, माता रानी का आशीर्वाद से आप और आपका परिवार हमेशा खुश रहे भैया जी

Mohanmira.nigam Mar 26, 2020
Jay.shri ganesh ji Radhe krishna.ji nice Jay Bramhcharini mata Rani kali.mata ji Santosi mata Rani Sarasvati mata Rani ji hanuman ji Bholay.baba.ki.jay very nice

Ansouya Ansouya Mar 30, 2020
जय माता दी आप सदा स्वस्थ और खुश रहें जी 🙏🌹

+22 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 68 शेयर
Lokesh Jhanjra May 10, 2020

+23 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 55 शेयर

+56 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 90 शेयर

🌹🌹🌹🙏हैप्पी मदर्स डे 🙏🌹🌹🌹 जैसा कि हम जानते हैं कि मां हमारे लिए देवताओं से सबसे मधुर उपहार हैं और ऐसा कोई तरीका नहीं है कि हम कभी भी हमारी मां के लिए हमारी मां का धन्यवाद कर सकें। यह परिवार और समाज में उनके योगदान के लिए माताओं, दादी और दादी को सम्मानित करने का समय है। मातृ दिवस हम में से कई लोगों के लिए सबसे अधिक प्रतीक्षित दिन है क्योंकि यह हमारी प्यारी मां की ओर प्यार और देखभाल दिखाने का सबसे दिल-वार्मिंग अवसर है। आज के इस पोस्ट में हम आपको आँख खोलू तो चेहरा मेरी माँ का हो आँख बंद हो तो सपना मेरी माँ का हो मैं मर भी जाऊं तो भी कोई गम नहीं लेकिन कफ़न मिले तो दुपट्टा मेरी माँ का हो!! ऐ मेरे मालिक तूने गुल को गुलशन में जगह दी, पानी को दरिया में जगह दी, पंछियो को आसमान मे जगह दी, तू उस शख्स को जन्नत में जगह देना, जिसने मुझे “..नौ..” महीने पेट में जगह दी….!! ये कहकर मंदिर से फल की पोटली चुरा ली माँ ने…. तुम्हे खिलाने वाले तो और बहुत आ जायगे गोपाल… मगर मैने ये चोरी का पाप ना किया तो भूख से मर जायेगा मेरा लाल…!

+583 प्रतिक्रिया 75 कॉमेंट्स • 724 शेयर
R.G.P.Bhardwaj May 10, 2020

+3 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 18 शेयर

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 18 शेयर
Shanti Pathak May 10, 2020

😍हैप्पी मदर्स डे मां बिना जिंदगी वीरान होती है, तन्हा सफर में हर राह सुनसान होती है, जिंदगी में मां का होना जरुरी है।, मां की दुआओं से ही हर मुश्किल आसान होती है। maa I miss you,😭 अन्धी मां एक  गाँव  में  एक  अन्धी  औरत  रहती  था |  उसका  बेटा  था  जिसे  उसने  बड़े ‘ लाड   और  प्यार’  से  पाला-पौसा था | समय  पर  तैयार  करना ,  खाना  बना  कर  खिलना  और  स्कूल  भेजना  उसका  नित्य  का  काम   था | वह  लड़का  जब  स्कूल  जाता  था  तो  बच्चे  उसे  “ अन्धी  का  बेटा “  कह  कर  चिडाते  रहते  थे |  रोजाना  हर  बात   पर उसे  ये  शब्द  सुनने  को  मिलते  थे  ,” अन्धी  का  बेटा |  इस  कारण  वह  अपनी  माँ  से  चिड़ता  था और  माँ  को  कहीं  भी  साथ  लेकर  जाने  में  हिचकिचाता  था | “’ उसे “ अन्धी  का  बेटा ‘“ सुनना  नापसंद  था  | उसकी  माँ  ने  कभी  इसका  बुरा  नहीं  माना  |  अपने  बेटे  को  खूब  पढ़ने  का  मौका  दिया |  अन्धी  होते हुए  भी  घरों  में  काम  करती , बेटे  पर  खूब  मेहनत  करती |  धीरे- धीरे  उसे  इस  लायक  बना  दिया  कि  वह  अपने  पैरों  पर खड़ा  हो  सके | प्रभु  बड़ा  दयालु  है  , उस  लड़के  कि  मेहनत  और  उसकी  माँ  का  आशीर्वाद  उसके  काम  आया  और  वह  किसी  सरकारी  विभाग  में  एक  बड़ा  अधिकारी   बन   गया  |  शादी   भी   हो  गयी  | उसके   बाद   वह  अपनी   पत्नी   को   साथ   लेकर  नौकरी  पर   दूसरे  शहर  में  रहने  चला  गया | बहुत  दिनों  तक  वह  लड़का  अपनी  माँ  से  मिलने  नहीं  गया  और  न  ही  कभी  पत्र  द्वारा हालचाल  पूछा | माँ  को  अच्छी  तरह   पता  था  कि  उसका  बेटा ,  अन्धी  होने  के  कारण  उससे  नफरत  करता  है | माँ  कि  ममता – ममता  होती  है  |  एक  दिन  उसका   मन  बेटे  को  देखने  को  अधीर  हो  गया  और  कुछ  बिना  विचार  करे  अपने  बेटे  से   मिलने  शहर  में  गयी |  घर  के  द्वार  पर  खड़े  चौकीदार  से  कहा  “  ‘बेटा’ ,  ‘तुम्हारे  साहब घर  पर  होंगे , उनसे  जा  कर  कहो , माँ  उससे  मिलने  आई  है “’ | गेटकीपर  घर  में  अंदर  गया और  बताया “ ‘ कोई  माँ  आपसे  मिलने  आई  है ‘| साहब  ने  कहा , ‘ उनसे  कहो  मैं  घर  पर  नहीं  हूँ “’ | गार्ड  ने  बूढ़ी  माँ  से  कहा कि ‘ वो  अभी घर  पर  नहीं  हैं ‘ ,| यह  सुन  कर  माँ  वापस  चल  दी  और  बाहर  किसी  दूसरे  कौने  पर  बैठ  गयी | बेटे  कि   बेरुखी   देख  कर   मन   बहुत   दुखी   हुआ   परंतु   लाचार   हो   कर   वापिस   लौट  पड़ी | थोड़ी  देर  पश्चात  जब  लड़का  अपनी  कार   से  ऑफिस  के  लिए  चला  तो  उसने  थोड़ी  दूर  चलते  ही  देखा  कि  सामने  सड़क  पर  बहुत  भीड़  लगी है | जानने  के  लिए  कि  वहाँ  भीड़  क्यों  लगी  है , देखने  चला  गया |  उसने  देखा  कि  उसकी माँ  वहाँ  मरी  पड़ी  थी  और  उसकी  एक  मुट्ठी  बंद  थी  जिसमें  कुछ  सामान  था |  उसने  मुट्ठी  खोल  कर  देखी , एक  पत्र  था  जिसमें  लिखा  था :- ‘ बेटा , जब   तू   बहुत   छोटा   था   तो   खेलते   वक्त   तेरी   आँख   में   सरिया   धंस   गया   था  और   तू   अंधा   हो    गया   था   तब   मैंने  तुम्हें  अपनी  आँखे  दे  दी  थी ‘ | यह  पढ़  कर  लड़का  ज़ोर-ज़ोर  से  रोने  लगा   परंतु  अब  उसकी  माँ  उसे  देखने  को  दुनियाँ  में  नहीं  थी |  ‘ माँ-बाप  का  कर्ज़  हम  कभी  चुका  नहीं  सकते | ‘                                    बूढ़े  माँ –बाप की  अवलेहना  स्वयं  पर  अविश्वास  का  प्रतीक है, उनके  ज्ञान  और  अनुभव  का  सदुपयोग करो, सेवा  भाव जगाओ, उन्हें उपेक्षित  महसूस  कराना , संवाद  का  सिलसिला जारी न रखना , तुम्हें  किसी  दिन झुलसा देगा , ठगा  सा  महसूस  करोगे  एक दिन | जय  हिन्द  , जय  हमारा  भारत

+264 प्रतिक्रिया 59 कॉमेंट्स • 346 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB