क्या हैं उषा पान, क्यों हैं आयुर्वेद में अमृत समान?

क्या हैं उषा पान, क्यों हैं आयुर्वेद में अमृत समान।

शरीर के लिए विषतुल्य हानिप्रद गंदगी को शरीर से बाहर निकाल फेंकने के लिए उषा पान जैसा अमोघ अस्त्र भारतीय परम्परा की ही देन हैं, जो भारतीय महाऋषियों के शरीर विषयक सूक्षम एवं विषद अध्ययन की खूबसूरत अभिव्यक्ति हैं। आइये जाने इसके लाभ।

“काकचण्डीश्वर कल्पतन्त्र” नामक आयुर्वेदीय ग्रन्थ में रात के पहले प्रहर में पानी पीना विषतुल्य बताया गया हैं। मध्य रात्रि में पिया गया पानी “दूध” के सामान लाभप्रद बताया गया हैं। प्रात : काल (सूर्योदय से पहले) पिया गया जल माँ के दूध के समान लाभप्रद कहा गया हैं।

बर्तन का महत्व

उल्लेखनीय हैं के लोहे के बर्तन में रखा हुआ दूध और ताम्बे के बर्तन में रखा हुआ पानी पीने वाले को कभी यकृत (लिवर) और रक्त (ब्लड) सम्बन्धी रोग नहीं होते। और उसका रक्त हमेशा शुद्ध बना रहता हैं।

उषा पान के लिए पिया जाने वाला जल ताम्बे के बर्तन में रात भर रखा जाए, तो उस से और भी स्वस्थ्य लाभ प्राप्त हो सकेंगे। जल से भरा ताम्बे का बर्तन सीधे भूमि के संपर्क में नहीं रखना चाहिए, अपितु इसको लकड़ी के टुकड़े पर रखना चाहिए। और पानी हमेशा नीचे उकडू (घुटनो के बल – उत्कर आसान) बैठ कर पीना चाहिए।

ऐसे लोग जिन्हे यूरिक एसिड बढे होने की शिकायत हैं, उनके लिए तो सुबह उषा पान करना किसी रामबाण औषिधि से कम नहीं।

क्या हैं उषा पान

प्रात : काल रात्रि के अंतिम प्रहार में पिया जाने वाल जल दूध इत्यादि को आयुर्वेद एवं भारतीय धर्म शास्त्रो में उषा पान शब्द से संबोधित किया गया हैं। सुप्रसिद्ध आयुर्वेदीय ग्रन्थ ‘योग रत्नाकर’ सूर्य उदय होने के निकट समय में जो मनुष्य आठ प्रसर (प्रसृत) मात्रा में जल पीता हैं, वह रोग और बुढ़ापे से मुक्त होकर सौ वर्ष से भी अधिक जीवित रहता हैं।

उषा पान कब करना चाहिए

प्रात : काल बिस्तर से उठ कर बिना मुख प्रक्षालन (कुल्ला इत्यादि) किये हुए ही पानी पीना चाहिए। कुल्ला करने के बाद पिए जाने वाले पानी से सम्पूर्ण लाभ नहीं मिल पाता। ध्यान रहे पानी मल मूत्र त्याग के भी पहले पीना हैं।

उषा पान के फायदे।

सवेरे ताम्बे के बर्तन में रखा हुआ पानी पीने से अर्श (बवासीर), शोथ(सोजिश), ग्रहणी, ज्वर, उदर(पेट के) रोग, जरा(बुढ़ापा), कोष्ठगत रोग, मेद रोग (मोटापा), मूत्राघात, रक्त पित (शरीर के किसी भी मार्ग में होने वाला रक्त स्त्राव), त्वचा के रोग, कान नाक गले सिर एवं नेत्र रोग, कमर दर्द तथा अन्यान्य वायु, पित्त, रक्त और कफ, मासिक धर्म, कैंसर, आंखों की बीमारी, डायरियां, पेशाब संबन्‍धित बीमारी, किड़नी, टीबी, गठिया, सिरदर्द आदि से सम्बंधित अनेक व्याधियां धीरे धीरे समाप्त हो जाती हैं।

जल की नैसर्गिक शक्ति।

जल में एक नैसर्गिक विद्दुत होती हैं, जो रोगो का विनाश करने में समर्थ होती हैं। इसलिए जल के विविध प्रयोगो से शरीर के सूक्षम अति सूक्षम, ज्ञान तंतुओ के चक्र पर अनूठा प्रभाव पड़ता हैं, जिस से शरीर के मूल भाग मस्तिष्क की शक्ति एवं क्रियाशीलता में चमत्कारिक बढ़ोतरी होती हैं।

एक कहावत हैं।

प्रात : काल खाट से उठकर, पिए तुरतहि पानी।
उस घर वैद्द कबहुँ नहीं आये, बात घाघ ने जानी।।

उषा पान किन्हे नहीं करना चाहिए।

विविध कफ – वातज व्याधियों, हिचकी, आमाशय व्रण(अल्सर), अफारा(आध्मान), न्यूमोनिया इत्यादि से पीड़ित लोगो को उषा पान नहीं करना चाहिए।

Like Pranam Modak +127 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 143 शेयर

कामेंट्स

sushma singh Sep 16, 2017
sahi rai dana ka leya aap ka bahut bahut dhanabad

*सर्दियों में ठंड से बचने और शरीर को गर्म रखने के लिए क्या खाए _
सर्दियों का मौसम आ गया है और इससे आपको ठंड भी लग सकती हैं। सर्दियों के दिनों में सिर्फ स्वेटर पहनने से काम नहीं चलेगा, आपको अपने भोजन में ऐसी चीजों को शामिल करना पड़ेगा जो आपको अंदर ...

(पूरा पढ़ें)
Belpatra Like Pranam +35 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 93 शेयर

थकान लगना या सिर दर्द रहना, ये 13 बातें बताती हैं कि आपकी बॉडी में पानी की कमी हो रही है.
एक इंसान को जीने के लिए जैसे सांस लेना, खाना और पैसा ज़रूरी है, वैसे ही पानी भी बहुत ज़रूरी है. पानी पीने के बहुत फ़ायदे हैं, और पानी न पीने के उससे कहीं ज़्या...

(पूरा पढ़ें)
Like Pranam Flower +7 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 52 शेयर
TR. Madhavan Dec 10, 2018

जय श्री कृष्णा सत्य की राह हमेशा हरी भरी रहती है
तिल के आयुर्वेदिक एवं औषधीय गुण

तिल तीन प्रकार के होते हैं – काले, सफेद और लाल। लाल तिल का प्रयोग कम किया जाता है। ।काले तिलों का प्रयोग भारतीय समाज में पूजा पाठ में होता आया है। और काले तिल ही से...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Like Flower +5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 18 शेयर

आज तक मैंने कभी कोई ग्रन्थ में सांई का प्रमाण नही देखा
इसलिए
सभी साई भक्तों से सवाल ?
1. क्या साई ने भगवान श्री राम की तरह राक्षसों का नाश किया ?
2. क्या साई ने भगवान श्री कृष्ण की तरह इस संसार को गीता का ज्ञान दिया ?
3. क्या साई ने भगवान शिव की ...

(पूरा पढ़ें)
Lotus Dhoop Belpatra +15 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 14 शेयर
Neetu Shukla Dec 10, 2018

*●नाख़ून देखने से रोगों का पता लगायें●*
हाथ और पैर में नाख़ून सिर्फ हाथ पैर की खूबसूरती नहीं बढ़ाते बल्कि शरीर में होने वाले रोग की भी जानकारी देते हैं।
प्राचीन समय में जब बीमारी की जांच के लिए कोई सुविधा नहीं होती थी, तब हकीम और वैद्य सबसे पहले हाथ ...

(पूरा पढ़ें)
Like +1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर
Neetu Shukla Dec 10, 2018

*🍀🍀मासिक धर्म में होने वाले दर्द को दूर करने के लिए घरेलू उपचार |*
◻◻◻◻◻◻◻◻◻◻◻
🌿🍂1. कालीमिर्च: कालीमिर्च एक ग्राम, रीठे का चूर्ण 3 ग्राम दोनों को कूटकर जल के साथ सेवन करने से आर्तव (माहवारी) की पीड़ा (दर्द) नष्ट हो जाती है।
◻◻◻◻◻◻
🍂🍀2. अजवायन...

(पूरा पढ़ें)
Like +1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर
Jyoti Soni Dec 10, 2018

*किडनी* को डर लगता है जब आप रात रात भर जागते हैं।

🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️

लिवर को डर लगता है जब आप 10 बजे रात
तक भी सोते नहीं।
💠💠💠💠💠💠💠💠💠💠💠💠💠💠💠💠💠💠

*पेट* को अति ठंडे भोजन से डर ल...

(पूरा पढ़ें)
Pranam +1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर
pt Sk Mehora Lucknow Dec 10, 2018

यजुर्वेद-<h3><p style="text-align:justify">

देवो वः सविता प्रार्पयतु श्रेष्ठमाय कर्मण।<br>

सबको उत्पन्न करने वाला देव, तुम सबको श्रेष्ठतम कर्म को प्रेरित करे।<br>

यहां यह प्रेरणा मिलती है कि सबको मिलजुल कर श्रेष्ठतम कर्मों को करना चाहिए, तभी उन...

(पूरा पढ़ें)
Like +1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Shivani Rajput Dec 10, 2018

Like Water Pranam +14 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 144 शेयर
Neetu Shukla Dec 10, 2018

Pranam Like Lotus +10 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 69 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB