🌹🌀 आज का 📖श्रीमद् भगवत गीता श्लोक ⭕गतांक से आगे 📖🌹🍃- श्लोक - ग्यारहवें अध्याय का 26-27 वा श्लोक (11:26-27) 🌹🍃- अमी च त्वां धृतराष्ट्रस्य पुत्राः सर्वे सहैवावनिपालसंघैः। भीष्मो द्रोणः सूतपुत्रस्तथासौ सहास्मदीयैरपि योधमुख्यैः॥ वक्त्राणि ते त्वरमाणा विशन्ति दंष्ट्राकरालानि भयानकानि। केचिद्विलग्ना दशनान्तरेषु सन्दृश्यन्ते चूर्णितैरुत्तमाङ्‍गै॥ 🦚वे सभी धृतराष्ट्र के पुत्र राजाओं के समुदाय सहित आप में प्रवेश कर रहे हैं और भीष्म पितामह, द्रोणाचार्य तथा वह कर्ण और हमारे पक्ष के भी प्रधान योद्धाओं के सहित सबके सब आपके दाढ़ों के कारण विकराल भयानक मुखों में बड़े वेग से दौड़ते हुए प्रवेश कर रहे हैं और कई एक चूर्ण हुए सिरों सहित आपके दाँतों के बीच में लगे हुए दिख रहे हैं॥26-27॥ 🙏🌺💫

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+32 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 38 शेयर
Kailash Prasad Oct 20, 2021

+69 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 102 शेयर

भगवान की प्रतिज्ञा मेरे मार्ग पर पैर रखकर तो देख , तेरे सब मार्ग न खोल दूँ तो कहना॥ मेरे लिए खर्च करके तो देख , कुबेर के भंडार न खोल दूँ तो कहना॥ मेरे लिए कड़ुवे वचन सुनकर तो देख , कृपा न बरसे तो कहना॥ मेरी तरफ आकर तो देख , तेरा ध्यान न रखूँ तो कहना॥ मेरी बातें लोगों से करके तो देख , तुझे मूल्यवान न बना दूँ तो कहना॥ मेरे चरित्र का मनन करके तो देख , ज्ञान के मोती तुझमें न भर दूँतो कहना॥ मुझे अपना मददगार बनाकर तो देख , तुम्हें सब बन्धनों से मुक्त न कर दूँ तो कहना॥ मेरे लिए आँसू बहाकर तो देख , तेरे जीवन में आनन्द के सागर नबहा दूँ तो कहना॥ मेरे लिए कुछ बनकर तो देख , तुझे कीर्तिवान न बना दूँ तो कहना ॥ मेरे मार्ग पर निकलकर तो देख , तुझे शान्तिदूत न बना दूँ तो कहना॥ स्वयं को न्यौछावर करके तो देख , तुझे हीरा न बना दूँ तो कहना॥ मेरा कीर्तन करके तो देख, जगत का विस्मरण न करा दूँ तो कहना॥ तू मेरा बनकर तो देख , हर एक को तेरा न बना दूँ तो कहना॥

+11 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 10 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB