Swami Lokeshanand
Swami Lokeshanand Aug 24, 2017

लोकेशानन्द परमहंस

लोकेशानन्द परमहंस

#सुप्रभात
नाली पर पड़ा बेढंगा पत्थर भी, किसी अच्छे कारीगर के हाथ लग जाए तो भगवान की मूर्ति बन जाता है ।
लहरों में डूबता उतरता लकड़ी का लठ्ठा, कारीगर के पुरुषार्थ से नाव बन कर खुद भी तैरने लगता है, औरों को भी तराने लगता है ।
किसी को मारने में उपयोगी गाँठदार चाँडाल बाँस को भी कारीगर ने भीतर से खोखला कर, छेद कर, कृष्णप्रिया बाँसुरी बना दिया ।
अपनी भी किस्मत चमकी है । हमें भी कारीगर मिले हैं, दुनिया के सर्वश्रेष्ठ कारीगर । अरे कितना कहूँ अपने लिए तो भगवान ही कारीगर बन आए । बस हमें उस पत्थर आदि की तरह उसके, अपने सद्गुरु के, चरणों में डटे रहना है । कितनी ही चोट पड़े, कुछ भी सहन क्यों न करना पड़े, घबराना नहीं, पलटना नहीं, भागना नहीं ।
मूर्ति बनेगी । नाव गढ़ेगी । बाँसुरी बजेगी ॥

+26 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 7 शेयर

कामेंट्स

Geeta Sharma Mar 28, 2020

+226 प्रतिक्रिया 38 कॉमेंट्स • 85 शेयर

+21 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 14 शेयर

+62 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 56 शेयर

+72 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 25 शेयर
Sapna Patel Mar 26, 2020

+155 प्रतिक्रिया 34 कॉमेंट्स • 96 शेयर

+11 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 24 शेयर
simran Mar 26, 2020

+177 प्रतिक्रिया 43 कॉमेंट्स • 51 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB