anoop 8655017727
anoop 8655017727 Apr 20, 2021

*Immunity* आप सोचिए संभव कैसे है? 1. बड़े शहर में रहने वाले 2से 3दिन पुराना ब्रेड पर 3से 6 महीने पुराना जैम लगाकर और दो से तीन दिन पुराना थैली वाला दूध पीकर अगर immunity की इच्छा रखतें हैं तो आप सोचिए संभव कैसे है? 2. कई महीने पुराना केमिकल युक्त mineral water जिसमें कोई मिनरल्स नहीं है अगर immunity की इच्छा रखतें हैं तो आप सोचिए संभव कैसे है? 3. पिंजरे… जिनको अंग्रेजी में flat फ्लैट कहते हैं जिनमें ना ताज़ी हवा नसीब होती है ना धूप ,में बिना सूरज की रोशनी में और बिना ताजी हवा के उसमें रहकर अगर आप सोचतें कि बीमारी आपका पीछा छोड़ देगी तो मैं क्या कहूँ । 4. 85% पानी मिला पैकेटबन्द फ्रूट जूस जिसमे तरह तरह के केमिकल और प्रिजर्वेटिव मिला हुआ है अगर immunity की इच्छा रखतें हैं तो आप सोचिए संभव कैसे है? 5. ऐसी अनेक चीजे है जो आपके आस है उनको देखिए समझिए और अपने बच्चो को समझाए की चीज़/ बटर /पीजा/ पास्ता / बेकरी / मयोनेज/ पैकेट में बंद नाइट्रोजन युक्त प्रिजर्वेटिव मिला पाम ऑयल और कई तरह के कोड वर्ड में लिखे हुए इंग्रेडियंट जिनको बिना समझे आप खाकर खुद को शाकाहारी समझ कर अगर immunity की इच्छा रखतें हैं तो आप सोचिए संभव कैसे है? 6. योग और प्राणायाम और बिना खुली हवा के दिनभर में एसी और सिर्फ एसी में रहने वाले आपके फेफड़े करोना का झटका शायद ही झेल पाएं । 7.ज्वार बाजरा रागी और भी कई सारे धान छोड़ कर सिर्फ और सिर्फ केमिकल युक्त गेंहू के भरोसे आप अगर immunity की इच्छा रखतें हैं तो आप सोचिए संभव कैसे है? 8. नन्हे नन्हे बच्चों और दादी और नानी के नुस्खे छोड़ कर आप डब्बा बंद प्रोटीन देकर सोचते है की ये स्ट्रॉन्ग बन रहा है और स्ट्रॉन्ग immunity की इच्छा रखतें हैं तो आप सोचिए संभव कैसे है? 9.नहाने से लेकर संवारने तक खुद को भी और बच्चो को भी आप कितने केमिकल शरीर पर लगा लेते हो ओर सोचते हो की पोने तीन करोड़ रोम छिद्रों का कोई महत्व नहीं है अगर immunity की इच्छा रखतें हैं तो आप सोचिए संभव कैसे है? 11. ताजा फल और उनका रस भारतीय भोजन और तुलसी जी कड़ी पत्ता ताजा नींबू और तरह तरह के घर में बने मुरब्बे और नाश्ते की जगह पैकेट वाला नाश्ता और भोजन खाकर अगर immunity की इच्छा रखतें हैं तो आप सोचिए संभव कैसे है? निवेदन है की सनातन भारत की और लौटें । जो पेड़ अपनी जड़ से कट जातें है वह अधिक समय तक जीवित नहीं रह सकते । स्वदेशी अपनाएँ ताजा फल सब्जी इत्यादि खायें ।immunity बढायें ।

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 26 शेयर

कामेंट्स

+32 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 135 शेयर
JAGDISH BIJARNIA May 6, 2021

+223 प्रतिक्रिया 87 कॉमेंट्स • 134 शेयर

+23 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 192 शेयर

डाक्टर साहब! मैं कोरोना की रोकथाम के लिए निम्नलिखित उपाय कर रहा हूं। योग + वॉक + नीम्बू पानी + हल्दी वाला दूध + च्यवनप्राश +अंकुरित अनाज+ कच्चा लहसुन + कच्चीअदरक + मामेरा बादाम + काबुली अंजीर+अरबी खजूर+ बिलायती खुरमानी + अफगानी खारक+ देशी मुनक्का + हर्बल काढ़ा+ मुँह में लोंग और काली मिर्च+ नाक मे तेल + हल्दी और नमक के गरारे + अजवायना की भाप + दिन भर गर्म पानी पीता रहता हू। +पतंजलि की तुलसी की गोलियां+ गिलोय की गोलियां + नीम की गोलियां + होम्योपैथिक दवा आर्सेनिक एल्बो हर महीने 5 दिन + कैम्फर 1m की गोलियां 5 दिन +अग्रेंजी दवाई एचसीक्यूसी + एज़िथ्रल +आइवरमेक्टिन। नोट: इसके अलावा मुँह पर मास्क बांध रहा हूँ, सूती साफी भी गले मे डाल रहा हूँ, सैनिटाइजर का उप्योगकर रहा हूँ, दिन में 50 बार हाथ धो रहा हूँ,समान होम डिलीवरी से ओर पेमेंट ptm से करता हूँ, बाई हटा दी है, रोज धुले कपड़े पहन रहा हूँ,घर से नही निकल रहा,पार्टी दावते शादी, भण्डारे में खाना बंद कर दिया है । थाली,ताली,घण्टा बजा चुका हूं ,दीपक भी जलाया हैं।कारोना माता का व्रत कर चुका हूं,एक बाबा से ताबीज भी ले लिया है। हैल्थ इंश्योरेंस ओर टर्म इंश्योरेंस करा लिया है। दोनो डोज़ वैक्सीन के लगवा लिए हैं 🤔 कृपया सुझाव दे कि मुझे और क्या लेना चाहिए। 👨🏻‍⚕️डॉक्टर :-अब आपकी नाभी में तीर लगने से ही आपकी मौत हो सकती है... 😂🤣

+17 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 17 शेयर
Mamta Chauhan May 6, 2021

+158 प्रतिक्रिया 39 कॉमेंट्स • 114 शेयर
Amar jeet mishra May 7, 2021

+37 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 111 शेयर
Raj May 6, 2021

1970 के समय तिरुवनंतपुरम में समुद्र के पास एक बुजुर्ग भगवद्गीता पढ़ रहे थे तभी एक नास्तिक और होनहार नौजवान उनके पास आकर बैठा, उसने उन पर कटाक्ष किया कि लोग भी कितने मूर्ख है विज्ञान के युग मे गीता जैसी ओल्ड फैशन्ड बुक पढ़ रहे है। उसने उन सज्जन से कहा कि आप यदि यही समय विज्ञान को दे देते तो अब तक देश ना जाने कहाँ पहुँच चुका होता, उन सज्जन ने उस नौजवान से परिचय पूछा तो उसने बताया कि वो कोलकाता से है और विज्ञान की पढ़ाई की है अब यहाँ भाभा परमाणु अनुसंधान में अपना कैरियर बनाने आया है। आगे उसने कहा कि आप भी थोड़ा ध्यान वैज्ञानिक कार्यो में लगाये भगवद्गीता पढ़ते रहने से आप कुछ हासिल नही कर सकोगे। सज्जन मुस्कुराते हुए जाने के लिये उठे, उनका उठना था की 4 सुरक्षाकर्मी वहाँ उनके आसपास आ गए, आगे ड्राइवर ने कार लगा दी जिस पर लाल बत्ती लगी थी। लड़का घबराया और उसने उनसे पूछा आप कौन है??? उन सज्जन ने अपना नाम बताया 'विक्रम साराभाई' जिस भाभा परमाणु अनुसंधान में लड़का अपना कैरियर बनाने आया था उसके अध्यक्ष वही थे। उस समय विक्रम साराभाई के नाम पर 13 अनुसंधान केंद्र थे, साथ ही साराभाई को तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी जी ने परमाणु योजना का अध्यक्ष भी नियुक्त किया था। अब शर्मसार होने की बारी लड़के की थी वो साराभाई के चरणों मे रोते हुए गिर पड़ा। तब साराभाई ने बहुत अच्छी बात कही, उन्होंने कहा कि "हर निर्माण के पीछे निर्माणकर्ता अवश्य है। इसलिए फर्क नही पड़ता ये महाभारत है या आज का भारत, ईश्वर को कभी मत भूलो।" आज नास्तिक गण विज्ञान का नाम लेकर कितना नाच ले मगर इतिहास गवाह है कि विज्ञान ईश्वर को मानने वाले आस्तिकों ने ही रचा है, फिर चाहे वो किसी भी धर्म को मानने वाले क्यो ना हो। ईश्वर सत्य है...! जय श्रीहरि

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Jai Mata Di May 6, 2021

+65 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 99 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB