Rajesh Kumar Kasyap
Rajesh Kumar Kasyap Dec 22, 2016

Bbab balak nath mander

Bbab balak nath mander
Bbab balak nath mander
Bbab balak nath mander
Bbab balak nath mander

Bbab balak nath mander

+10 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Veena Gupta Sep 27, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Satyendra Kumar Sep 27, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Annu🥀🥀🌹🌹 Sep 27, 2020

💐💐 बेटियां न तो पराई है, और ना पराया धन है। क्योंकि धन तो खर्च हो जाता है, बेटियां तो अनमोल मोती है। जो दो परिवारों को एक माला में, जोड़ कर रखती है।💐💐 🌺🌺क्या लिखूं कि वो परियों का रूप होती है, या कड़कती सर्दियों में सुहानी धूप होती है। 💐💐 बेटियां 💐💐 कि क्या लिखूं वह परियों का रूप होती है, या कड़कती सर्दियों में सुहानी धूप होती है। वह होती है चिड़ियों की चहचहाट तरह, या कोई निश्चिल खिलखिलाहट की तरह। उदासी के हर मर्ज की दवा होती है, या उमस में शीतल हवा की तरह होती है, वो आंगन में फैला उजाला है । या गुस्से में लगा ताला है, वह पहाड़ की चोटी पर सूरज की किरण है। वह जिंदगी सही जीने का आचरण है, ही वह ताकत जो छोटे से घर को मोहल कर दे।।🌺🌺🌺 💐💐आप सभी को बेटी दिवस की हार्दिक शुभकामना💐💐

+128 प्रतिक्रिया 53 कॉमेंट्स • 198 शेयर
sudhir Singh gaur Sep 27, 2020

+12 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 2 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Bhakti path ras Sep 27, 2020

🌼🌹🌺ॐ🌺🌹🌼 *कुंडली मे कुछ महत्वपूर्ण योग इस प्रकार से* ================== 1) मंगल पांचवे घर मे-चैन से ना सोये तथा अपनों से धोखा खाये |स्वग्रही ना हो। 2) गुरु राहु की युति-मुंह पर आलोचना करे | बडो का अपमान करे | 3) मंगल का संबंध लग्न या लग्नेश से-पुरुषार्थी बनाए | 4) शनि का लग्न या लग्नेश से संबंध –स्वयं क्रोध मे अहंकार से सब कुछ गवाए | 5) गुरु का लग्न या लग्नेश से संबंध- स्वयं ज्ञान की पराकाष्ठा होवे| 6) गुरु अस्त/वक्री –पाचन तंत्र कमजोर एवं मोटापा | 7) सम राशि का लग्न,गुरु बलवान-पत्नी शास्त्र मे निपुण वेदो का अर्थ जानने वाली | 8) छठे भाव मे गुरु- कर्जा चढ़े | 9) विवाह लग्न मे गुरु- धनवान,3रे सन्तानवान ,5वे-कई पुत्र,10वे-धार्मिक,7,8 मे अशुभ | 10) मंगल पर गुरु की दृस्टी –समझौता वादी प्रवर्ति | 11) मंगल संग राहू-कुछ भी कर ले,मारक गुण | 12) मंगल संग बुध- छल छद्म एवं शरीर मे तेजाब बने | 13) दशमेश का अस्ट्मेश या द्वादशेश से संबंध- जन्म स्थान से दूर सफलता | 14) मंगल का दूसरे घर व द्वितीयेश पर प्रभाव –पत्नी की मृत्यु बाद दूसरा विवाह | 15) सप्तम भाव से नवां भाव मे केतू-पति धार्मिक,शारीरिक सुख कम | 16) बुध लग्नेश हो तो- प्रबंधन कार्य,लेखाकार्य एवं बुध कार्य करे | 17) सप्तम भाव मे वक्री ग्रह –दाम्पत्य जीवन मे अडचने 18) बुध पूर्णस्त –स्मरण शक्ति मे कमी | 19) शुक्र संग चन्द्र-भावुकता ज़्यादा | 20) केंद्र स्थान खाली- गौड़ फादर नहीं | 21) चन्द्र 12वे घर मे –नींद कम रात को जागे | 22) सूर्य/बुध दूसरे भाव मे –पत्नी सुख मे कमी | 23) चन्द्र पर शनि दृस्टी-मानसिक अस्थिरता |डबल माईंड | 24) सप्तमेश नीच राशि का –विवाह मे धोखा | 25) लग्नेश छठे घर मे –सभी के प्रति आशंका एवं डर की भावना | 26) अस्ट्मेश नवमेश की युति-प्रेत बाधा 27) छठे व दूसरे घर के स्वामी का परिवर्तन-प्रतियोगिता द्वारा धननाश | 28) सूर्य संग शनि लग्न मे –विवाह देर से | ================== इसे अवश्य 👇 सुनें https://youtu.be/yKCC4XXMSGQ ================== पंडित विष्णु शास्त्री ज्योतिष परामर्श और कुंडली बनवाने हेतु संपर्क सूत्र 90058 27568 कॉल और व्हाट्सएप परामर्श शुल्क151एक कुंडली मुफ्त।।

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB