Govind Singh Chauhan
Govind Singh Chauhan Feb 24, 2021

+59 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 29 शेयर

कामेंट्स

🙋🅰NJALI 😊ⓂISHRA 🙏 Feb 24, 2021
🌺।।ॐ गं गणपतये नमः।। शुभ रात्रि नमस्कार भाई जी💐🙏भगवान श्री गणेश आपके जीवन में सुख ,शांति समृद्धि , सदैव बनाए रखें...माँ गौरी पुत्र गणेश आप की मंगल मनोकामना 👌पूरी करें आपका हर दिन शुभ हो मंगलमय हो...मेरे आदरणीय भाई जी 👏🌺जय श्री राधे राधे जी 🌺🙏🌾🌴🌾🌴🌾🌴🎋 🌾🙏🔱*शिव हर हर महादेव*🙏

RAJ RATHOD Feb 24, 2021
🙏Jai shri Ganesh 🙏 Good Night... Sweet dreams 🌷🌷

Deepa Binu Feb 24, 2021
HARE KRISHNA 🙏 Good Night JI 🌹 Sweet Dreams 🌹

Renu Singh Feb 24, 2021
Shubh Ratri 🙏 Radhe Radhe Bhai ji 🙏🌹 Aàpka Aane Wala Kal Shubh, Sundar,Sukhad Avam Mangalmay ho 🌸🙏

Vanita kale Feb 24, 2021
*┈┉━❀꧁राधे❤ राधे꧂❀━┅┈*🙏🏻 *┈┉━❀꧁हरे कृष्ण꧂❀━┅┈* 🙏🏻!!शुभ रात्रि!!🙏 वंदन मेरे आदरणीय भाईजी ठाकुरजी आपकी और आपके परिवार की हर मनोकामना पूरी करें ...🙏आप का आने वाला पल ढेर सारी खुशियाे लेकर आए.. नमस्कार 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

dhruv wadhwani Feb 24, 2021
जय श्री राधे कृष्णा शुभ रात्रि जी

saumya sharma Feb 24, 2021
Good night bhai g🌙🌹😊May lord Ganesha bless you with all the happiness and make your dreams true 🙏always be happy😊

Mamta Chauhan Feb 24, 2021
Radhe radhe ji🌷🙏Shubh ratri vandan bhai ji aapka har pal khushion bhra ho aapki sbhi manokamna puri ho 🌷🌷🙏🙏

🌹bk preeti 🌹 Apr 12, 2021

🏵️ *ताँबा - कोरोना के लिए घातक* 🏵️ ताँबा धातु और कोरोना वायरस को लेकर एक हैरान कर देने वाली बात सामने आ रही है। कहा जा रहा है ताँबा धारण करने वाले पर कोरोना का असर नहीं हो रहा. अगर किसी ने शुद्ध ताँबे की अंगूठी, कड़ा या पैंडेंट पहना हुआ है तो कोरोना वायरस उस पर बेअसर है। ब्रिटेन के माइक्रोबायोलॉजी रिसर्चर कीविल का दावा है ताँबा वायरसों का काल है. कीविल काफी समय से ताँबे का विभिन्न वायरसों पर प्रयोग कर रहे हैं. उनका कहना है कोविड 19 ही नहीं कोरोना परिवार के अन्य वायरस भी ताँबे के संपर्क में आते ही तुरंत नष्ट हो जाते हैं। मेडिकल यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ कैरोलिना में माइक्रोबायोलॉजी और इम्यूनोलॉजी के प्रोफेसर माइकल जी श्मिट कहते हैं कीविल का काम हमारे पूर्वजों द्वारा ताँबे के अधिक से अधिक प्रयोग के कारण को सत्यापित करता है। खासकर भारत में तो ताँबे का बहुत ही व्यापक प्रयोग मिलता है। नदियों को साफ़ रखने के लिए उनमें ताँबे के सिक्के डालने से लेकर रसोई में ताँबे के बर्तनों के इस्तेमाल तक ताँबे के चमत्कारिक गुणों का उपयोग हुआ है। कीविल का कहना है ताँबा मनुष्य को प्रकृति का वरदान है। प्राचीनकाल से ही मनुष्य ने इसकी जर्म्स और बैक्टीरिया नष्ट करने की प्रकृति को जान लिया था। उनका मानना है यदि अस्पतालों, सार्वजानिक स्थानों और घरों के हैंडल और रेलिंग्स ताँबे के बनाये जाएं तो संक्रमणजनित रोगों पर बड़ी आसानी से विजय पाई जा सकती है। सनातन में सूर्य को सबसे बड़ा इम्युनिटी बूस्टर माना गया है और ताँबा सूर्य की धातु है. ताँबे को सबसे पवित्र और शुद्ध धातु भी माना गया है। 1918 में भारत में फ्लू महामारी से लगभग दो करोड़ लोग मारे गए थे, कहते हैं तब भी जिन लोगों ने ताँबा पहना हुआ था उन पर इस महामारी का कोई असर नहीं हुआ...! 🌹 *ज्ञानस्य मूलम धर्मम्* 🌹

+274 प्रतिक्रिया 90 कॉमेंट्स • 333 शेयर
VIDIA TOMAR Apr 12, 2021

+100 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 157 शेयर

+193 प्रतिक्रिया 50 कॉमेंट्स • 140 शेयर
Shanti Pathak Apr 12, 2021

*जय माता दी* *शुभरात्रि वंदन* *आप सभी को आज के लिए शुभरात्रि एवं कल के लिए चैत्र नवरात्रि पर्व की हार्दिक शुभकामनाए* मां दुर्गा को शक्ति का स्वरूप माना जाता है। नवरात्रि में मां दुर्गा के नौ अलग-अलग रूपों की पूजा अर्चना के साथ ही व्रत भी किए जाते हैं। नवरात्रि का पहला दिन घटस्थापना से शुरू होता है। प्रथम नवरात्रि में मां शैलपुत्री, द्वितीय में मां ब्रहाचारिणी, तृतीया में मां चन्द्रघण्टा, चतुर्थ में कूष्माण्डा, पंचम में मां स्कन्दमाता, षष्ठ में मां कात्यायनी, सप्तम में मां कालरात्री, अष्टम में मां महागौरी, नवम् में मां सिद्विदात्री का पूजन किया जाता है। ज्योतिष के अनुसार इस नवरात्रि मां दुर्गा का आगमन घोड़े पर हो रहा है। जबकि प्रस्थान नर वाहन (मानव कंधे) पर होगा। चैत्र नवरात्रि शुभ मुहूर्त। चैत्र नवरात्रि की प्रतिपदा तिथि 12 अप्रैल को प्रातः 8 बजे से शुरू होकर 13 अप्रैल को प्रातः 10: 16 पर समाप्त हो रही है। कलश स्थापना मुहूर्त । कलश स्थापना 13 अप्रैल को प्रातः 5:45 बजे से प्रातः 9:59 तक और अभिजीत मुहूर्त पूर्वाह्न 11: 41 से 12:32 तक है। 🚩जय माता दी 🚩 ॥ माँ शैलपुत्री ॥ मां दुर्गा को सर्वप्रथम शैलपुत्री के रूप में पूजा जाता है। हिमालय के वहां पुत्री के रूप में जन्म लेने के कारण उनका नामकरण हुआ शैलपुत्री। इनका वाहन वृषभ है, इसलिए यह देवी वृषारूढ़ा के नाम से भी जानी जाती हैं। मां शैलपुत्री सती के नाम से भी जानी जाती हैं। इनकी कहानी इस प्रकार है - एक बार प्रजापति दक्ष ने यज्ञ करवाने का फैसला किया। इसके लिए उन्होंने सभी देवी-देवताओं को निमंत्रण भेज दिया, लेकिन भगवान शिव को नहीं। देवी सती भलीभांति जानती थी कि उनके पास निमंत्रण आएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। वो उस यज्ञ में जाने के लिए बेचैन थीं, लेकिन भगवान शिव ने मना कर दिया। उन्होंने कहा कि यज्ञ में जाने के लिए उनके पास कोई भी निमंत्रण नहीं आया है और इसलिए वहां जाना उचित नहीं है। सती नहीं मानीं और बार बार यज्ञ में जाने का आग्रह करती रहीं। सती के ना मानने की वजह से शिव को उनकी बात माननी पड़ी और अनुमति दे दी। सती जब अपने पिता प्रजापित दक्ष के यहां पहुंची तो देखा कि कोई भी उनसे आदर और प्रेम के साथ बातचीत नहीं कर रहा है। सारे लोग मुँह फेरे हुए हैं और सिर्फ उनकी माता ने स्नेह से उन्हें गले लगाया। उनकी बाकी बहनें उनका उपहास उड़ा रहीं थीं और सति के पति भगवान शिव को भी तिरस्कृत कर रहीं थीं। स्वयं दक्ष ने भी अपमान करने का मौका ना छोड़ा। ऐसा व्यवहार देख सती दुखी हो गईं। अपना और अपने पति का अपमान उनसे सहन न हुआऔर फिर अगले ही पल उन्होंने वो कदम उठाया जिसकी कल्पना स्वयं दक्ष ने भी नहीं की होगी। सती ने उसी यज्ञ की अग्नि में खुद को स्वाहा कर अपने प्राण त्याग दिए। भगवान शिव को जैसे ही इसके बारे में पता चला तो वो दुखी हो गए। दुख और गुस्से की ज्वाला में जलते हुए शिव ने उस यज्ञ को ध्वस्त कर दिया। इसी सती ने फिर हिमालय के यहां जन्म लिया और वहां जन्म लेने की वजह से इनका नाम शैलपुत्री पड़ा। वन्दे वांच्छितलाभाय चंद्रार्धकृतशेखराम्‌ । वृषारूढ़ां शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम्‌

+101 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 98 शेयर

+39 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 76 शेयर
ANITA Apr 12, 2021

+223 प्रतिक्रिया 30 कॉमेंट्स • 116 शेयर
Surekha Sonar Apr 12, 2021

+34 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 41 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB