🌷साफ नीयत🌷

🌷साफ नीयत🌷

💐💐- साफ नीयत 💐💐

एक नगर में रहने वाले एक पंडित जी की ख्याति दूर-दूर तक थी। पास ही के गाँव में स्थित मंदिर के पुजारी का आकस्मिक निधन होने की वजह से, उन्हें वहाँ का पुजारी नियुक्त किया गया था। एक बार वे अपने गंतव्य की और जाने के लिए बस में चढ़े,
उन्होंने कंडक्टर को किराए के रुपये दिए और सीट पर जाकर बैठ गए। कंडक्टर ने जब किराया काटकर उन्हें रुपये वापस दिए तो पंडित जी ने पाया कि कंडक्टर ने दस रुपये ज्यादा दे दिए हैं।

⛅-पंडित जी ने सोचा कि थोड़ी देर बाद कंडक्टर को रुपये वापस कर दूंगा। कुछ देर बाद मन में विचार आया कि बेवजह दस रुपये जैसी मामूली रकम को लेकर परेशान हो रहे है, आखिर ये बस कंपनी वाले भी तो लाखों कमाते हैं, बेहतर है इन रूपयों को भगवान की भेंट समझकर अपने पास ही रख लिया जाए। वह इनका सदुपयोग ही करेंगे।

⛅-मन में चल रहे विचारों के बीच उनका गंतव्य स्थल आ गया. बस से उतरते ही उनके कदम अचानक ठिठके, उन्होंने जेब मे हाथ डाला और दस का नोट निकाल कर कंडक्टर को देते हुए कहा, भाई तुमने मुझे किराया काटने के बाद भी दस रुपये ज्यादा दे दिए थे। कंडक्टर मुस्कराते हुए बोला, क्या आप ही गाँव के मंदिर के नए पुजारी है?

⛅-पंडित जी के हामी भरने पर कंडक्टर बोला, मेरे मन में कई दिनों से आपके प्रवचन सुनने की इच्छा थी, आपको बस में देखा तो ख्याल आया कि चलो देखते है कि मैं अगर ज्यादा पैसे दूँ तो आप क्या करते हो..!

⛅-अब मुझे विश्वास हो गया कि आपके प्रवचन जैसा ही आपका आचरण है। जिससे सभी को सीख लेनी चाहिए" बोलते हुए,
कंडक्टर ने गाड़ी आगे बढ़ा दी। पंडितजी बस से उतरकर पसीना-पसीना थे। उन्होंने हाथ जोड़कर भगवान का आभार व्यक्त किया कि हे प्रभु आपका लाख-लाख शुक्र है जो आपने मुझे बचा लिया, मैने तो दस रुपये के लालच में आपकी शिक्षाओं की बोली लगा दी थी। पर आपने सही समय पर मुझे सम्हलने का अवसर दे दिया। कभी कभी हम भी तुच्छ से प्रलोभन में, अपने जीवन भर की चरित्र पूँजी दाँव पर लगा देते हैं।

+177 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 108 शेयर

कामेंट्स

Sajjan Singhal May 14, 2021

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Rani Kasturi May 14, 2021

+16 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 4 शेयर

‼️💖💖💖ऊँ गं गणपतये नमः💖💖💖‼️ ☔☔ जय श्री मंगलमूर्तये नमो नम:☔☔ विघ्नध्वान्तनिवारणैकतरणिर्विघ्नाटवीहव्यवाड् विघ्नव्यालकुलाभिमानगरुडो विघ्नेभपञ्चाननः। विघ्नोत्तुङ्गगिरिप्रभदेनपविर्विघ्नाम्बुधेर्वाडवो विघ्नाघौघघनप्चण्डपवनो विघ्नेशवरःपातु नः॥ ऊं श्री गणेशाय नमः अर्थ:-विघ्नरूप अन्धकार का नाश करने वाले एकमात्र सूर्य,विघ्नरूप बन के जलाने वाले अग्नि,विघ्नरूप सर्पकुल का दर्प नष्ट करने के लिए गरुड,विघ्नरूप हाथी को मारने वाले सिंह ऊँचे पहाड़ के तोड़ने वाले वज्र,विघ्नरूपी मेघ समूह को उड़ा देनेवाले प्रचण्ड वायुसदृश गणेश जी हमलोगों का पालन करें। गणपति बप्पा मोरया मंगलमूर्ति मोरया 💠💠💠💠💠💠💠💠💠💠💠💠💠💠💠 ‼️💖💖💖💖💖💖💖💖💖💖💖💖💖‼️

+451 प्रतिक्रिया 94 कॉमेंट्स • 650 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB