Kumari Scientific name : Aloe barbadensis, Assamese : Musabhar, MachambarKumari Bengali : Ghritakalmi English : Indian Aloe Gujrati : Eliyo, Eariyo Hindi : Musabhar, Elva Kannada : Karibola, Lolesara satva, Lovalsara, Lolesara Kashmiri : Musabbar, Siber Malayalam : Chenninayakam Marathi : Korphad Oriya : Musabara Punjabi : Kalasohaga, Mussabar, Alua Tamil : Kattazhi, Satthukkathazhai Telugu : Musambaram Urdu : Musabbar, Ailiva, Siber Gastritis: Consume 20gms of Aloevera gel at night before going to bed for 30 days. It decreases the inflammation and ulcers in the stomach and intestine Burns: External application of aloevera gel along with turmeric several times a day is useful in healing of wound due to burns. Fatty liver: Regular intake of 10gm of fresh aloevera gel twice a day purifies the blood and promotes liver function. Skin Care: External application the aloevera gel with honey followed by massage and leave it for 2 hours regularly. its promotes the softness of skin and dark spots become light. Hair fall: Mix aloevera gel and lemon juice, apply this mixture to the hair, leave this for 30-40 minutes and then rinse with water. Jaundice: 20gm fresh aloevera gel with lukewarm water on empty stomach early morning is very effective for Jaundice. Irregular periods: Consume 20 gm of fresh aloevera gel with 3gms of pepper powder twice daily for 3 months corrects the anaemia and irregular periods. Obesity: Daily intake of aloevera juice (20ml) on empty stomach early morning helps to reduce body weight, treats menstrual irregularities and pain during menstrual periods. Kindly Consult your local Doctor, before using Any Herb 👍🏻

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Shyam Yadav Apr 16, 2021

*इस फल को खाएं, उग आएंगे सिर के उड़े हुए बाल.!* * सीताफल (शरीफा) एक बड़ा ही स्‍वादिष्‍ट फल है लेकिन लोग इसके बारे में थोड़ा कम जानकारी रखते हैं। सीताफल अगस्त से नवम्बर के आस पास अर्थात् आश्विन से माघ मास के बीच आने वाला फल है। अगर आयुर्वेद की बात माने तो सीताफल शरीर को शीतलता पहुंचाता है। यह पित्तशामक, तृषाशामक, उलटी बंद करने वाला, पौष्टिक, तृप्तिकर्ता, कफ एवं वीर्यवर्धक, मांस एवं रक्तवर्धक, बलवर्धक, वातदोषशामक एवं हृदय के लिए बहुत ही लाभदायी होता है। * सीताफल को भगवन राम एवं माता सीता से जोड़ते हैं। ऐसी मान्यता है कि सीता ने वनवास के समय जो वन फल राम को भेंट किया, उसी का नाम सीताफल पड़ा। अगर आप दिन में एक सीताफल का सेवन करते हैं, तो आपको अनेको बीमारियों से निजात मिलेगा। आइये जानते हैं सीताफल खाने से हम किन-किन बीमारियों से निजात पा सकते हैं। * सीताफल सिर्फ फल नहीं, दवा भी है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि जो लोग शरीर से दुबले पतले होते हैं उन्हें सीताफल खाना चाहिए। सीताफल खाने से शरीर की दुर्बलता तो दूर होती ही है साथ ही मैनपावर भी बढता है। * सीताफल एक मीठा फल है। इसमें काफी मात्रा में कैलोरी होती है। यह आसानी से पचने वाला और अल्सर व एसिडिटी में लाभकारी होता है। इसमें आयरन और विटामिन-सी की मात्रा अच्छी होती है। इसके अलावा सीताफल कई रोगों में रामबाण की तरह काम करता है। * सीताफल के बीजों को बकरी के दूध के साथ पीस कर बालों में लगाने से सिर के उड़े हुए बाल फिर से उग आते हैं। * सीताफल के बीजों को बारीक पीस कर रात को सिर में लगा लें और किसी मोटे कपड़े से सिर को अच्छी तरह बांध कर सो जाएं। इससे जुएं मर जाती हैं। इस बात का ध्यान रखें कि यह आंखों तक न पहुंचे, क्योंकि इससे आंखों में जलन व अन्य नुकसान हो सकता है। शरीफा के पत्तों का रस बालों की जड़ो में अच्छी तरह मालिश करने से जुएं मर जाती हैं। सीताफल के बीजों को महीन चूर्ण बनाकर पानी से लेप तैयार कर रात को सिर में लगाएं एवं सबेरे धो लें। दो तीन रात ऐसा करने से जुएं समाप्त हो जाती हैं। चूंकि बीज से निकलने वाला तेल विषला होता है, इसलिए बालों में इसका लेप लगाते समय आंख को बचाकर रखना चाहिये। * सीताफल घबराहट को दूर करता है। हार्ट बीट को सही करता है। इसकी एक बड़ी किस्म और होती है, जिसे रामफल कहते हैं। जिनका हृदय कमजोर हो, हृदय का स्पंदन खूब ज्यादा हो, घबराहट होती हो, उच्च रक्तचाप हो ऐसे रोगियों के लिए भी सीताफल का सेवन लाभप्रद है। * सीताफल खाने से इसके गूदे से बने शरबत को पीने से शरीर की जलन को ठीक करता है। वे लोग जिनका शरीर हर वक्‍त जलता रहता है और गर्म रहता है, उन्‍हें नियमित रूप से सीताफल का सेवन करना चाहिये। * शरीफा में विटामिन ए प्रचुर मात्रा में होता है जो त्वचा को स्वस्थ रखने में मददगार होता है। यह त्वचा पर आने वाले एजिंग के निशानों से भी बचाता है। * पेट के लिये... इसमें घुलनशील रेशे होते हैं, जो कि पाचक्रिया के लिये बेहतरीन होते हैं। * इसमे खूब सारा विटामिन ए होता है, जो कि हमारे बालों, आंखों और त्‍वचा के लिये बहुत ही फायदेमंद होता है। * सीताफल के पत्तों को पीस कर फोड़ों पर लगाने से फोड़े ठीक हो जाते हैं। * सीताफल शरीर की दुर्बलता, थकान, मांस-पेशियां क्षीण होने की दशा में सीताफल का खाना लाभकारी होता है। * सीताफल का कच्चा फल खाना अतिसार और पेचिश में उपयोगी है। यह शरीर के लिए अत्यंत श्रेष्ठ फल है। जब फल कच्‍चा हो तब उसे काट कर सुखा दें और पीस कर रोगी को खिलाएं। इससे डायरिया की समस्‍या सही हो जाएगी।

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर
Shyam Yadav Apr 16, 2021

*सुबह सिर्फ एक दो मुट्ठी चने खाकर हेल्थ जबरदस्त हो सकती है.!* *(1).* एक सस्ता और आसान सा दिखने वाला चना हमारे सेहत के लिए कितना फायदेमंद है जानिये... *(2).* काले चने भुने हुए हों, अंकुरित हों या इसकी सब्जी बनाई हो, यह हर तरीके से सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। *(3).* इसमें भरपूर मात्रा में कार्बोहाइड्रेट्स, प्रोटीन्स, फाइबर, कैल्शियम, आयरन और विटामिन्स पाए जाते हैं। *(4).* शरीर को सबसे ज्यादा फायदा अंकुरित काले चने खाने से होता है, क्योंकि अंकुरित चने क्लोरोफिल, विटामिन ए, बी, सी, डी और के, फॉस्फोरस, पोटैशियम, मैग्नीशियम और मिनरल्स का अच्छा स्रोत होते हैं। साथ ही इसे खाने के लिए किसी प्रकार की कोई खास तैयारी नहीं करती पड़ती। रातभर भिगोकर सुबह एक-दो मुट्ठी खाकर हेल्थ अच्छी हो सकती है। *(5).* चने ज्यादा महंगे भी नहीं होते और इसमें बीमारियों से लड़ने के गुण भी छिपा हुए हैं। कब्ज से राहत मिलती है, चने में मौजूद फाइबर की मात्रा पाचन के लिए बहुत जरूरी होती है। *(6).* रातभर भिगोए हुए चने से पानी अलग कर उसमें नमक, अदरक और जीरा मिक्स कर खाने से कब्ज जैसी समस्या से राहत मिलती है। साथ ही जिस पानी में चने को भिगोया गया था, उस पानी को पीने से भी राहत मिलती है। लेकिन कब्ज दूर करने के लिए चने को छिलके सहित ही खाएं। *(7).* ये एनर्जी बढ़ाता है। कहा तो यहाँ तक जाता है इंस्टेंट एनर्जी चाहिए, तो रात भर भिगोए हुए या अंकुरित चने में हल्का सा नमक, नींबू, अदरक के टुकड़े और काली मिर्च डालकर सुबह नाश्ते में खाएं, बहुत फायदेमंद होता है। चने का सत्तू भी खा सकते हैं। यह बहुत ही फायदेमंद होता है। गर्मियों में चने के सत्तू में नींबू और नमक मिलाकर पीने से शरीर को एनर्जी तो मिलती ही है, साथ ही भूख भी शांत होती है। *(8).* पथरी की प्रॉब्लम दूर करता है। दूषित पानी और खाने से आजकल किडनी और गॉल ब्लैडर में पथरी की समस्या आम हो गई है। हर दूसरे-तीसरे आदमी के साथ स्टोन की समस्या हो रही है। इसके लिए रातभर भिगोए हुए काले चने में थोड़ी सी शहद की मात्रा मिलाकर खाएं। रोजाना इसके सेवन से स्टोन के होने की संभावना काफी कम हो जाती है और अगर स्टोन है तो आसानी से निकल जाता है। इसके अलावा चने के सत्तू और आटे से मिलकर बनी रोटी भी इस समस्या से राहत दिलाती है। *(9).* काला चना शरीर की गंदगी को पूरी तरह से बाहर भी निकालता है। *अन्य फायदे...* ● एनर्जी बढ़ाता है, ● डायबिटीज से छुटकारा मिलता है, ● एनीमिया की समस्या दूर होती है, ● बुखार में पसीना आने की समस्या दूर होती है, ● पुरुषों के लिए फायदेमंद, ● हिचकी में राहत दिलाता है, ● जुकाम में आराम मिलता है, ● मूत्र संबंधित रोग दूर होते हैं, ● त्वचा की रंगत निखारता है। *डायबिटीज से छुटकारा दिलाता है।* चना ताकतवर होने के साथ ही शरीर में एक्स्ट्रा ग्लूकोज की मात्रा को कम करता है जो डायबिटीज के मरीजों के लिए कारगर होता है। लेकिन इसका सेवन सुबह सुबह खाली पेट करना चाहिए। चने का सत्तू डायबिटीज़ से बचाता है। एक से दो मुट्ठी ब्लड चने का सेवन ब्लड शुगर की मात्रा को भी नियंत्रित करने के साथ ही जल्द आराम पहुंचाता है। *एनीमिया की समस्या दूर होती है।* शरीर में आयरन की कमी से होने वाली एनीमिया की समस्या को रोजाना चने खाकर दूर किया जा सकता है। चने में शहद मिलाकर खाना जल्द असरकारक होता है। आयरन से भरपूर चना एनीमिया की समस्या को काफी हद तक कम कर देता है। चने में 27% फॉस्फोरस और 28% आयरन होता है जो न केवल नए बल्ड सेल्स को बनाता है, बल्कि हीमोग्लोबिन को भी बढ़ाता है। *हिचकी में राहत दिलाए* हिचकी की समस्या से ज्यादा परेशान हैं, तो चने के पौधे के सूखे पत्तों का धूम्रपान करने से हिचकी आनी बंद हो जाती है। साथ ही चना आंतों/इंटेस्टाइन की बीमारियों के लिए भी काफी फायदेमंद होता है। *बुखार में पसीना आने पर* बुखार में ज्यादा पसीना आने पर भुने हुए चने को पीसकर, उसमें अजवायन मिलाएं। फिर इससे मालिश करें। ऐसा करने से पसीने की समस्या खत्म हो जाती है। *मूत्र संबंधित रोग में आराम* भुने हुए चने का सेवन करने से बार-बार पेशाब जाने की बीमारी दूर होती है। साथ ही गुड़ व चना खाने से यूरीन से संबंधित किसी भी प्रकार की समस्या में राहत मिलती है। रोजाना भुने हुए चनों के सेवन से बवासीर ठीक हो जाती है। *पुरुषत्व के लिए फायदेमंद* चीनी मिट्टी के बर्तन में रात भर भिगोए हुए चने को चबा चबाकर खाना पुरुषों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। पुरुषों की कई प्रकार की कमजोरी की समस्या खत्म होती है। जल्द असर के लिए भीगे हुए चने के साथ दूध भी पिएं। भीगे हुए चने के पानी में शहद मिलाकर पीने से पुरुषत्व बढ़ता है। *त्वचा की रंगत निखारता है।* चना केवल हेल्थ के लिए ही नहीं, स्किन के लिए भी बहुत फायदेमंद है। चना खाकर चेहरे की रंगत को बढ़ाया जा सकता है। वैसे चने की फॉर्म बेसन को हल्दी के साथ मिलाकर चेहरे पर लगाना सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है। नहाने से पहले बेसन में दूध या दही मिक्स करें और इसे चेहरे पर 15-20 लगा रहने दें। सूखने के बाद ठंडे पानी से धो लें। रंगत के साथ ही कील मुहांसों, दाद-खुजली और त्वचा से जुड़ी कई प्रकार की समस्याएं दूर होती हैं। *युवा महिलाओं को हफ्ते में कम से कम एक बार चना और गुड़ खाना चाहिए।* गुड़ आयरन का समृद्ध स्रोत है और चने में बड़ी मात्रा में प्रोटीन होता है। ये दोनों मिलकर महिलाओं की माहवारी के दौरान होने वाले रक्त के नुकसान को पूरा करते हैं। तथा सभी महिलाओं को आने वाले माघ महीने में हर रोज कम से कम 40-60 मिनट धूप में बैठकर तिल के लड्डू या गजक खाने चाहिए, जिसमें कैल्शियम की मात्रा काफी ज्यादा होती है। इससे उनके शरीर में कैल्शियम और विटामिन डी की कमी पूरी हो जाएगी। *जुकाम में राहत* गर्म चने को किसी साफ कपड़े में बांधकर सूंघने से जुकाम ठीक हो जाता है।

0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Shyam Yadav Apr 16, 2021

*स्वस्थ दिल के लिए घरेलू उपचार* ● भागदौड़ भरी जिंदगी और बेपरवाह जीवनशैली हमारे दिल को तेजी से बीमार बना रही है। ● दिल के मरीजों की इस तादाद में युवाओं की संख्या तेजी से बढ़ रही है। ● बीमार दिल अपने साथ कई बीमारियां लेकर आता है। ● जरा सा काम करने के बाद सांस फूलना, सीढियां चढते वक्त दम भरना और अक्सर छोटे-छोटे काम में पसीना आना बीमार होते दिल की ओर इशारा करते हैं। ● लेकिन, दिल को दुरुस्त रखने के लिए हमें कहीं बाहर जाने की जरूरत नहीं। इसके लिए कई घरेलू उपाय ही अपनाए जा सकते हैं। आइए जानते हैं उन्हीं उपायों के बारे में- ● शहद दिल को मजबूत बनाता है। ● कमजोर दिल वाले एक चम्मच शहद का सेवन रोज करें तो उन्हें फायदा होगा। ● आप लोग भी शहद का एक चम्मच रोज ले सकते हैं, इससे वे दिल की बीमारियों से बचे रहेंगे। ● छोटी इलायची और पीपरामूल का चूर्ण घी के साथ सेवन करने से दिल मजबूत और स्वस्थ रहता है। ● दिल को मजबूत बनाने के लिए गुड को देसी घी में मिलाकर खाने से भी फायदा होता है। ● लौकी उबालकर उसमें धनिया, जीरा व हल्दी का चूर्ण तथा हरा धनिया डालकर कुछ देर पकाकर खाइए। इससे दिल को शक्ति मिलती है। ● अलसी के पत्ते और सूखे धनिए का क्वाथ बनाकर पीने से ह्रदय की दुर्बलता मिट जाती है। ● गाजर के रस को शहद में मिलाकर पीने से निम्न ब्लड प्रेशर की समस्या नहीं होती है और दिल मजबूत होता है। ● हाई ब्लड प्रेशर की समस्या से निजात पाने के लिए सिर्फ गाजर का रस पीना चाहिए। इससे रक्तचाप संतुलित हो जाता है। ● सर्पगंधा को कूटकर रख लीजिए। इस पाउडर को सुबह-शाम 2-2 ग्राम खाने से बढ़ा हुआ रक्तचाप सामान्य हो जाता है। ● प्रतिदिन लहसुन की कच्ची कली छीलकर खाने से कुछ दिनों में ही रक्तचाप सामान्य हो जाता है और दिल मजबूत होता है। ● अनार के रस को मिश्री में मिलाकर हर रोज सुबह-शाम पीने से दिल मजबूत होता है। ● खाने में अलसी का प्रयोग करने से दिल मजबूत होता है। अलसी में ओमेगा-3 फैटी एसिड भरपूर मात्रा में होता है जो दिल को बीमारियों से बचाता है। ● सेब का जूस और आंवले का मुरब्बा खाने से दिल मजबूत होता है और दिल अच्छे से काम करता है। ● बादाम खाने से दिल स्वास्थ रहता है। ● बादाम में विटामिन और फाइबर होता है।

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Shyam Yadav Apr 16, 2021

*🍃आयुर्वेद अमृतमः🍃* 🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅 💁🏻‍♂️ *दुर्गन्ध पसीने की* ❌ 😧😧😧😧😧😧😧😧😧 ✳️ *गर्मी अब परवान चढ़ चुकी है,ऐसे में पसीना आना साधारण बात है,लेकिन जब यह पसीना दुर्गन्धित हो तो स्थिति और भी बिगड़ जाती है।* ✴️ *दुर्गन्ध के कारण:- शरीर से आने वाली पसीने की दुर्गन्ध का कारण उसमे मौजूद बैक्टीरिया होते है।* 👉 *इसके अतिरिक्त भी कुछ कारण है जिनसे से गर्मियों में पसीने की दुर्गन्ध आती है।* 1️⃣ *साफ़-सफाई का ध्यान न रखना,दुर्गन्ध फैलाने वाले बैक्टीरिया के पनपने का मुख्य कारण होता है।* 2️⃣ *तेज मिर्च मसाले वाले खाद्य पदार्थ भी पसीने की दुर्गन्ध का कारण होते है।* 3️⃣ *धूम्रपान,अल्कोहल या नशीले पदार्थों आदि का सेवन करने से शरीर से तरल पदार्थों का विसर्जन अधिक मात्रा में होता है फलस्वरूप आपका पसीना दुर्गन्धित हो जाता है।* 4️⃣ *गहरे रंगों वाले,मोटे या पसीना सोखने में असमर्थ वस्त्र*भी इन बैक्टीरिया के पनपने का कारण होते है।* 5️⃣ *मधुमेह या थायराईड की समस्या,इन रोगों के रोगियों को पसीना अधिक आता है अतः अपना शुगर और थायोरोक्सिन लेवल नियन्त्रित रखें।इसके लिए आप अपने क्षेत्र के योग्य आयुर्वेद चिकित्सक की सेवाएं प्राप्त करें तो समस्या से निजात मिल सकती है।* 6️⃣ *कुछ दवाएं भी पसीने की दुर्गन्ध का कारण होती है,अतः चिकित्सक के परामर्श के बिना किसी दवा का प्रयोग न करें।* 7️⃣ *कैफीन युक्त पदार्थो चाय कॉफी या कोला आदि पदार्थों का अतिसेवन।* 🤥 *कैसे पायें छुटकारा दुर्गन्ध से* 👍👍👍👍👍👍👍👍 1️⃣ *बेकिंग सोडा:- जी हां, बेकिंग सोडा का प्रयोग करके भी आप पसीने की दुर्गन्ध से छुटकारा पा सकते है। यह बॉडी में पसीने को कम करके कई घंटो तक उस बदबू को दूर रखने में मदद करेगा। एक चम्मच बेकिंग सोडा को ताजे नींबू के रस में मिलाकर नहाने के बाद underarms में लगा लें। आप चाहे तो सीधे बेकिंग सोडा का भी इस्तेमाल कर सकते है। यह शरीर से अतिरिक्त पसीने को सोखकर छिद्रों को साफ़ करके बंद कर देता है और दुर्गन्ध फ़ैलाने वाले बैक्टीरिया को समाप्त कर देता है। आप चाहे तो इसे कॉर्न स्टार्च के साथ मिलाकर भी प्रयोग में ला सकते है।* 2️⃣ *सफ़ेद सिरका:-पसीने की दुर्गन्ध के लिए सफ़ेद सिरका, एक बेहतर एंटी बैक्टीरियल एजेंट और astringent एजेंट के रूप में कार्य करता है। इसके लिए अपने नहाने के पानी में 50-60 ml सफ़ेद सिरके को मिलाकर प्रयोग करें।* 👉 *आप चाहे तो रुई की मदद से सीधे सिरके को भी लगा सकते है। यह त्वचा में मौजूद दुर्गन्ध फैलाने वाले बैक्टीरिया को समाप्त करने में मदद करता है और नये बैक्टीरिया के निर्माण को भी रोकता है। आप चाहे तो इसके स्थान पर सेब का सिरका का भी इस्तेमाल कर सकते है।* 3️⃣ *पानी:- अधिक से अधिक *पानी का सेवन*शरीर से toxins को निकालने में मदद करता है। इसीलिए प्रति दिन 8-10 ग्लास पानी का सेवन करें। यह आपको स्वस्थ रखने के अलावा शरीर को detoxify करके दुर्गन्ध फैलाने वाले बैक्टीरिया के निर्माण को कम करता है।* 4️⃣ *साधारण नमक:-नमक में disinfectant गुण पाए जाते हैं।पैरों में पसीने की दुर्गन्ध से निजात पाने के लिए, 8-10 मिनट के लिए नमक युक्त गर्म पानी में अपने पैर डुबोएं रखें। नमक और गर्म पानी दोनों मिलकर पैरों में दुर्गन्ध पैदा करने वाले *बैक्टीरिया को समाप्त करने में मदद करते है। पैरों में पसीने की दुर्गन्ध दिन भर पहने जाने वाले *Socks n Shoes*के कारण आती है। जो बैक्टीरिया के लिए घर का काम करते है।* 5️⃣ *एसेंशियल आयल:- पाइन, लैवेंडरऔर पिपरमेंट ऑयल बहुत जल्द सूखने वाले एंटी बैक्टीरियल एजेंट है। बहुत से लोग बिना किसी कारण के भी इसका इस्तेमाल अपनी त्वचा पर करते है। लेकिन इसके इस्तेमाल से पूर्व एक पैच टेस्ट जरुर कर लें। यदि किसी तरह की एलर्जी नहीं है तो इनका पसीने की दुर्गन्ध को दूर करने के लिए करें। दुर्गन्ध दूर करने के साथ-साथ ये आपको एक बेहतर खुशबु देने में भी मदद करेंगें।* 6️⃣ *टी ट्री आयल:-पसीने की दुर्गन्ध से राहत पाने का यह सबसे अच्छा प्राकृतिक उपाय है। इसमें मौजूद एंटी बैक्टीरियल गुण sweat prone क्षेत्रों में दुर्गन्ध फैलाने वाले बैक्टीरिया के निर्माण को रोकते है। यदि आपके शरीर से भी पसीने की दुर्गन्ध आती है तो टी ट्री आयल का इस्तेमाल करें। फायदेमंद होने के साथ-साथ ये एकसुरक्षित घरेलू उपाय है।* 7️⃣ *मक्का, कॉर्न स्टार्च एक अच्छा मॉइस्चराइज absorber है जो धूप में पसीने को सोखने में मदद करता है। इसके लिए दिन में किसी भी समय इसे अपनी त्वचा पर लगा लें। आप चाहे तो इसके साथ बेकिंग सोडा मिलाकर भी प्रयोग कर सकते हैं।* 8️⃣ *पार्सले:- यह प्राकृतिक हर्ब भी पसीने की दुर्गन्ध को दूर करने में आपकी मदद कर सकती है शरीर से अतिरिक्त पसीना और उसकी बदबू दूर करने के लिए रोजाना पार्सले की कुछ पत्तियां या उसकी चाय का सेवन करें। इस चाय को आप आप ग्रीन टी और पार्सले के साथ मिलाकर भी बना सकते है।यह न केवल आपके शरीर को रिफ्रेश करता है बल्कि detoxify भी करता है।* 9️⃣ *नींबू स्वाद में खट्टा, रेफ्रेशिंग और चटपटे नींबू की मदद से भी आप पसीने की दुर्गन्ध से राहत पा सकते है। दरअसल इसमें प्राकृतिक एंटी बैक्टीरियल और exfoliating गुण पाए जाते है। इसके लिए अपने नहाने के पानी में 2 चम्मच नींबू का रस डालें। यह बैक्टीरिया को समाप्त करने के साथ-साथ sweat prone क्षेत्रों से डेड स्किन सेल्स को निकालने में भी मदद करेगा जो बाद में दुर्गन्धका कारण बनती है।* 👉 *आप चाहे तो सीधे नींबू को भी अपनी त्वचा पर लगा सकते हैं।* 👨‍🦰 *आप सदा प्रसन्न रहें निरोग रहें इन गर्मियों में पसीने की *दुर्गन्ध से मुक्त रहें, इन्हीं मनोभावों और आपकी प्यारी सी मुस्कान😊😊😊😊 की कामना के साथ* 💫💠💫💠💫💠💫💠💫 *स्वस्थ रहे खुश रहे* 🔯🔯🔯🅰️🙏

0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

ज्वर कैसा भी क्यों न हो :-> गर्मियों में:>तुलसी की पत्तियाँ ग्यारह,काली मिर्च सात दोनों को 60 ग्राम जल में रगङकर प्रातः और सायं रोगी को पिलायें । बरसात और सर्दियों में यही 124 ग्राम जल में उबालकर आधा रह जाने पर रोगी को पिलायें । काली मिर्च थोड़ी कूटकर डालनी चाहिए । बारह साल से कम आयु वाले बच्चों को चौथाई मात्रा (तीन तुलसी की पत्तियाँ,दो काली मिर्च) दस ग्राम पानी में पीसकर आयु को ध्यान में रखते हुए दें । मिठास के बिना काम न चले तो दस ग्राम मिश्री का चूर्ण ङाल सकते हैं । आवश्यकतानुसार दो दिन से सात दिन तक पिलाएँ । दूसरी विधि:>सात तुलसी की पत्तियाँ ,सात काली मिर्च और सात बताशे (या दस ग्राम मिश्री) तीन कप पानी में ङालकर उबालें । एक कप रह जाने पर गरम -गरम पीकर बदन ढककर दस मिनट लेट जाएँ । बुखार , फ्लू , मलेरिया , सर्दी का जुकाम , हरारत में रामबाण है । आवश्यकतानुसार दिन में दो बार प्रातः एवं रात्रि सोते समय दो -तीन दिन लें । सहायक उपचार:> वात और कफ ज्वर में उबालकर ठंडा किया हुआ जल पिलाना चाहिए । औटाया हुआ जल वात तथा कफ ज्वर नष्ट करता है । जो जल औटाते-औटाते धीरे-धीरे झाग रहित तथा निर्मल हो जाए तथा आधा शेष रह जाय उसे ही औटा हुआ जल या 'उष्णोदक' समझना चाहिए । आयुर्वेदानुसा एक किलो का पाव भार पका हुआ गरम जल कफ-ज्वर का नाश करता है । एक किलो का तीन पाव गरम जल पित्त-ज्वर का नाश करता है । एक दो बार उबाला हुआ पका जल रात्रि में पीने से कफ,वात और अजीर्ण नष्ट होते हैं । न्यूमोनिया में 250 ग्राम जल में एक लौंग ङालकर दस मिनट तक उबालें । साठ ग्राम की मात्रा से यह पानी दिन में दो - तीन बार रोगी को दें । अत्यंत लाभप्रद है सभी ज्वरों में बेदाना (मीठा अनार) बिना किसी हिचक के दिया जा सकता है । इससे ज्वर के समय की प्यास भी शांत होती है ।ज्वर में साबूदाना,दूध, चीकू ,मौसमी पथ्य है ज्वर उतारने के लिए हथेलियों और पगतलियों को घिया के गोल टुकङों से उँगलीयो की तरफ झाङते हुए मलें अथवा कपड़े से उँगलीयों की तरफ झाङें । कागजी नींबू के पेड़ की पत्तियाँ लेकर हाथ से मलकर महिन कपङे में बांधकर बुख़ार वाले रोगी के नाक के पास ले जाकर सूघाएँ ।कम से कम सुबह-शाम सूंघाएँ । पुराना बुखार उतारने के लिए:> तुलसी की पत्तियाँ सात,काली मिर्च चार,पीपर (पिप्पली) एक तीनों वस्तुओं को 60 ग्राम पानी के साथ बारीक पीसकर 10 ग्राम मिश्री मिलाकर नित्य सवेरे खाली पेट रोगी को पिलाएँ तो महिनों का ठहरा हुआ जीर्ण-ज्वर ठीक हो जाता है आवश्यकतानुसार दो-तीन सप्ताह पिलाएँ । जय जय श्री राधे 🙏🙏

0 कॉमेंट्स • 6 शेयर
sn.vyas Apr 17, 2021

. *सुन्नपन का शरीर में होना* कभी बैठे-बैठे या काम करते हुए आपके शरीर का कोई अंग या त्वचा सुन्नपन हो जाता है कुछ लोग देर तक एक ही मुद्रा में बैठकर काम करते या पढ़ते-लिखते रहते हैं इस कारण रक्त वाहिनीयों तथा मांसपेशियों में शिथिलता आ जाने से शरीर में सुन्नपन हो जाता है। शरीर के किसी अंग के सुन्न होने का प्रमुख कारण वायु का कुपित होना है। इसी से वह अंग भाव शून्य हो जाता है। ये खून के संचरण में रुकावट पैदा होने से सुन्नता आती है। यदि शरीर के किसी विशेष भाग को पूरी मात्रा में शुद्ध वायु नहीं मिलती तो भी शरीर का वह भाग सुन्न पड़ जाता है। जो अगं सुन्न्न हो जाता है उसमें हल्की झनझनाहट होती है और उसके बाद लगता है कि वह अंग सुन्न हो गया है तब सुई चुभने की तरह उस अंग में धीरे-धीरे लपकन-सी पड़ती है लेकिन दर्द नहीं मालूम पड़ता है। *सुन्नपन होने पर करे ये उपाय* सुबह के समय शौच आदि से निपट कर सोंठ तथा लहसुन की दो कलियों को चबाकर ऊपर से पानी पी लें और यह प्रयोग आठ-दस दिनों तक लगातर करने से सुन्नपन स्थान ठीक हो जाता है। पपीते या शरीफे के बीजों को पीसकर सरसों के तेल में मिलाकर सुन्नपन होने वाले अंगों पर धीरे-धीरे मालिश करें। पीपल के पेड़ की चार कोंपलें सरसों के तेल में मिलाकर आंच पर पकाएं और फिर छानकर इस तेल को काम में लाएं। तिली के तेल में एक चम्मच अजवायन तथा लहसुन की दो कलिया कुचलकर डालें और फिर तेल को पकाकर और छानकर शीशी में भर लें इस तेल से सुन्नपन स्थान की मालिश करें। बादाम का तेल मलने से सुन्न स्थान ठीक हो जाता है। बादाम घिसकर लगाने से त्वचा स्वाभाविक हो जाती है। सोंठ, पीपल तथा लहसुन सभी बराबर मात्रा में लेकर सिल पर पानी के साथ पीस लें और फिर इसे लेप की तरह सुन्नपन स्थान पर लगाएं। कालीमिर्च तथा लाल इलायची को पानी में पीसकर त्वचा पर लगाएं। 100 ग्राम नारियल के तेल में 5 ग्राम जायफल का चूर्ण मिलाकर त्वचा या अंग विशेष पर लगाएं। एक गांठ लहसुन और एक गांठ शुंठी पीस लें इसके बाद पानी में घोलकर लेप बना लें तथा इस लेप को त्वचा पर लगाएं। रात को सोते समय तलवों पर देशी घी की मालिश करें इससे पैर का सुन्नपन खत्म हो जाएगा।

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 12 शेयर
Madan Kaushik Apr 17, 2021

***अपना पोस्ट*** **नक्षत्रवाणी** *༺⊰०║|। ॐ ।|║०⊱༻*  गजाननं भूतगनादि सेवितम, कपित्थजम्बू फलचारु भक्षणम। उमासुतं शोकविनाशकारकम, नमामि विघ्नेश्वर पादपंकजम।। श्रीमते रघुवीराय सेतूल्लङ्घितसिन्धवे। जितराक्षसराजाय रणधीराय मङ्गलम्।। भुजगतल्पगतं घनसुन्दरं गरुडवाहनमम्बुजलोचनम् । नलिनचक्रगदाकरमव्ययं भजत रे मनुजाः कमलापतिम् ।।  क्यों भटके मन बावरा, दर-दर ठोकर खाये...! शरण श्याम की ले ले प्यारे, जनम सफल हो जाये...!! 🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩 ~~~~~~~~~~~~~~~~~~ मित्रों...! सबसे पहले तो नित्यप्रति आपकी प्रिय पोस्ट "नक्षत्रवाणी" की पोस्टिंग में होने वाले विलंब के लिए आप सभी से हृदयपूर्वक क्षमा प्रार्थना सहित...🙏🙏 आप सभी परम प्रिय धर्मपारायण, ज्योतिषविद्या प्रेमी विद्वतजनों को आचार्य/पं.मदन तुलसीराम जी कौशिक मुंबई (सिरसा-हरियाणा वाले) की ओर से सादर-सप्रेम 🌸 जय गणेश 🌸 जय अंबे 🌸 *जय श्री कृष्ण*🌷मंगल प्रभात🌷इसी के साथ आप सभी सनातनी, धर्म-उत्सवप्रेमी, राम-कृष्ण-हरि-शिवभक्त, शक्ति उपासक व राष्ट्रप्रेमियों को आज **चैत्र शुक्ल/चानन पक्ष/सुदी पंचमी/पांचम की, वासंतिक/चैत्र नवरात्रि महापर्व के पंचम दिवस (मां स्कदमाता पूजन दिवस) की, श्री/रंग (लक्ष्मी) पंचमी/नाग पंचमी, श्री रामराज्य महोत्सव (मध्यान्ह व्यापिनी पंचमी व कर्क लग्न में), डोलोत्सव हय व्रत, नागव्रत/पर्व की एवं दशलक्षण व्रतारम्भ होने** की भी बहुत-बहुत हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं...!!!** ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※ आइये...! अब चलें आपके प्रिय पोस्ट 'नक्षत्रवाणी' के अंतर्गत आज कुछ विशेष महत्वपूर्ण जानकारी, दृकपंचांग, चन्द्र राशिफल' एवं 'आरोग्य मंत्र' की ज्ञानयात्रा पर...🙏 ```༺⊰🕉⊱༻ ``` *༺⊰०║|। ॐ ।|║०⊱༻* ☘️🌸!! ॐ श्री गणेशाय नमः!! 🌸☘️ ****************************** 𴀽𴀊🕉श्री हरिहरौविजयतेतराम्🕉 🇬🇧 *आंग्ल मतानुसार* :- आज दिनांक *१७ अप्रैल सन २०२१ ईस्वी* मंदवासर/शनिवार/Saturday* *🇮🇳 राष्ट्रीय सौर दि. २८* *चैत्र (मधुमास)* प्रस्तुत है ««« *आज का दृकपंचांग:««« 👉 ध्यान दें **यहाँ दिये गए तिथि, नक्षत्र, योग व करण आदि के समय इनके समाप्ति काल हैं और सूर्योदयास्त व चंद्रोदय का गणना स्थल मुंबई हैं।** कलियुगाब्द......5122 (५१२२) विक्रम संवत्.....२०७७/2077 (आंनद नाम) शक संवत्......१९४३/1943 मास....चैत्र (सं./हिंदी)/चैत (मारवाड़ी/पंजाबी) पक्ष........शुक्ल/चानन पक्ष/सूदी/उतरतो चैत **तिथी...(०५/05) पंचमी/पांचम** रात्रि 08.32 पर्यंत पश्चात षष्ठी* **वार/दिन...मंदवासर/शनिवार/थावर/छनि** **नक्षत्र........मृगशिरा🌠** *रात्रि 02.34 पर्यंत पश्चात आर्द्रा* योग.........शोभन संध्या 07.19 पर्यंत पश्चात अतिगंड रात्रि 08.32 तक करण........बव प्रातः 07.21 पर्यंत पश्चात बालव सूर्योदय.......प्रातः 06.20.00 पर सूर्यास्त........सांय 06.56.00 पर चंद्रोदय........प्रातः 09.48.00 पर। रवि(अयन-दृक)......उत्तरायण रवि(अयन-वैदिक)...उत्तरायण **ऋतु (दृक).....वसंत** **ऋतु वैदिक)...वसंत** **सूर्य राशि.......मीन** **चन्द्र राशि...... वृषभ (दिन 01.09 बजे तक पश्चात मिथुन)** **गुरु राशी.......कुंभ (पूर्व में उदय, मार्गी)** 🚦*दिशाशूल :-* पूर्व दिशा - यदि बहुत ही आवश्यक हो तो काली मिर्च/ अदरक/तिल या उड़द का सेवन करके यात्रा प्रारंभ करें। ☸ शुभ अंक.....८/8 🔯 शुभ रंग........श्याम/काला/गाढ़ा नीला ⚜️ *अभिजीत मुहूर्त :-* मध्याह्न 12.13 से 01.03 तक। 👁‍🗨*राहुकाल :-* पूर्वाह्न/दिन 09.29 से 11.04 तक । 👁‍🗨 *गुलिक काल :-* प्रात: 06.20 से 07.54 तक। ********************* 🌞 *उदय लग्न मुहूर्त -* *मेष* 05:56:49 07:38:34 *वृषभ* 07:38:34 09:37:11 *मिथुन* 09:37:11 11:50:53 *कर्क* 11:50:53 14:07:03 *सिंह* 14:07:03 16:18:52 *कन्या* 16:18:52 18:29:32 *तुला* 18:29:32 20:44:09 *वृश्चिक* 20:44:09 23:00:19 *धनु* 23:00:19 25:05:57 *मकर* 25:05:57 26:53:06 *कुम्भ* 26:53:06 28:26:42 *मीन* 28:26:42 29:56:49 करें । ✡ *चौघडिया :-* प्रात: 07.42 से 09.16 तक शुभ दोप. 12.25 से 02.00 तक चर दोप. 02.00 से 03.34 तक लाभ दोप. 03.34 से 05.09 तक अमृत संध्या 06.43 से 08.08 तक लाभ रात्रि 09.34 से 10.59 तक शुभ । *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। *****""""""******"""*******"""******** आज के विशेष योगायोग/युति संयोग, वेध, ग्रहचार (ग्रहचाल), व्रत/पर्व/प्रकटोत्सव, जयंती/जन्मोत्सव व मोक्ष दिवस/स्मृतिदिवस/पुण्यतिथि आदि 🙏👇:- 👉 **आज चैत्र शुक्ल/चानन पक्ष/सुदी मंदवासर/शनिवार/Saturday को वर्ष का 389 वाँ दिन/तीन सौ नवासीवां दिन, पंचमी/पांचम 20:32 तक पश्चात् षष्ठी शुरु, श्री/रंग(लक्ष्मी) पंचमी/नाग पंचमी, नवरात्रि का पांचवां दिन - मां स्कन्दमाता व्रत - पूजा, श्री रामराज्य महोत्सव (मध्यान्ह व्यापिनी पंचमी कर्क लग्न में), सर्वदोषनाशक रवि योग 26:34 से , कल्पादि 5 , डोलोत्सव हय व्रत, नाग व्रत , दशलक्षण व्रतारम्भ/पुष्पांजलि व्रतारम्भ (जैन), मेवाड़ उत्सव पूर्ण (उदय), श्री गुरु हरगोविन्द सिंह जोति जोत (प्रा.म.), भगवान अजितनाथ जी मोक्ष कल्याणक (जैन, चैत्र शुक्ल पंचमी), श्री बीजू पटनायक स्मृति दिवस, श्री सर्वपल्ली राधाकृष्णन स्मृति दिवस, ब्रिगेडियर श्री भवानी सिंह स्मृतिदिवस (महावीर चक्र से सम्मानित) व विश्व हीमोफीलिया दिवस।** ************************* **🕉 ॐ प्रां प्रीं प्रौं सः शनये नमः।।🎪🚩** **🕉 ॐ शनिश्चराय नमः ॥ 📿*आज का उपासना मंत्र :- ॥ ॐ विष्णुमायायै नमः ॥ *********************** ⚜ 👉🙏☸*महत्वूर्ण तिथि विशेष :*🚩 **चैत्र कृष्णपक्ष/बदी पंचमी/पांचम, पवित्र नवरात्रि का पंचम दिवस (मां स्कदमाता पूजन दिवस), श्री (लक्ष्मी) पंचमी, रंग/नाग पंचमी, श्री रामराज्य महोत्सव (मध्यान्ह व्यापिनी पंचमी कर्कलग्न में), डोलोत्सव हयव्रत व नाग व्रत।** 🙏💥 **विशेष ध्यातव्य 👉 पंचमी/पांचम को विल्वफल/बेल का किसी भी रुप में सेवन कलंककारक होने से पूर्णतः वर्जित है।** साभार: 🌞 *~हिन्दू पंचांग ~* 🌞।** 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 👉 **🏡वास्तु टिप्स🏢🏡 1) वास्तु विज्ञान के अनुसार घर या ऑफिस के तहखाने का उपयोग कोचिंग, दफ्तर व गोदाम के रूप में ही ठीक रहता है। इसे कभी भी शयनकक्ष नहीं बनाना चाहिए। 2) गृहवास्तु के अनुसार यथासंभव शयनकक्ष में दर्पण न लगाएँ। इससे घर के सदस्यों के विचारों में मतभेद और कलह की स्थिति उत्पन्न होती रहती है।** 3) यदि आपके घर से अगर अकारण ही बरकत जा रही है या आपको नेगेटिव एनर्जी दिख रही है या परिवार में निरंतर कलह रहता है, तो कपूर और फिटकरी को पीस के गौझारण (गौमूत्र) जो बहुत ही आसानी से मिल जाता है (अन्यथा पतंजलि आदि का ले लें), इससे घर मे पोछा लगाने वाले क्लीनर या पानी मे मिला लें और रोज़ सुबह-शाम घर मे पोछा लगाये और गंगाजल का पूजा-आरती के बाद छिड़काव भी करें फिर चमत्कारिक परिवर्तन देखें। 4) **घर की मुख्य सीढ़ियाँ सदैव दक्षिण या पश्चिम की ओर होनी चाहिए। ईशान में कभी भी होनी चाहिए। विशेष परस्थिति में वायव्य तथा आग्नेय कोण में बना सकते हैं। *****""""""******"""*******"""******** 📢 *संस्कृत सुभाषितानि -* न देवाय न धर्माय न बन्धुभ्यो न चार्थिने । दुर्जनेनार्जितं द्रव्यं भुज्यते राजतस्करैः ॥ अर्थात :- दुर्जन को मिला हुआ धन देवकार्य में, धर्म में, सगे-संबंधीयों या याचक को देने में काम नहीं आता; उसका उपयोग तो राजा व चोर करते है । *💊💉आज का आरोग्य मंत्र 🌱🌿* *बालों का झड़ना रोकने वाले टिप्स -* *4. ध्यान लगाएं -* कई लोग स्वास्थ्य कारणों से ध्यान का अभ्यास करते हैं। आपको बता दें कि ध्यान और शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है। ध्यान या मेडिटेशन एक ऐसा अभ्यास है जो स्वास्थ्य लाभों की एक विस्तृत श्रृंखला प्रस्तुत करता है। इसके अलावा बालों के गिरने का कारण तनाव और चिंता है। ध्यान लगाने से टेंशन और स्ट्रेस को कम कर सकते हैं जिससे हार्मोन में संतुलन पैदा होता है। *****""""""******"""*******"""******** ⚜*🐑🐂🦔 आज का संभावित चन्द्र राशिफल🦂🐊🐟:- 👉 किंतु पहले सबसे एक करबद्ध निवेदन🙏 मित्रों सर्वप्रथम तो कुछ तकनीकी कारणों से आपको आपकी प्रिय पोस्ट नक्षत्रवानी विलंब से मिल पाती है इसके लिए मैं आप सभी से क्षमा प्रार्थी हूँ। तत्पश्चात मैं निवेदन करना चाहता हूँ कि आपकी इस परमप्रिय ज्ञानवर्धक 'अपना पोस्ट' *नक्षत्रवाणी* को आप जितना हो सकता हो उतना लाइक-शेयर तथा फॉरवर्ड तो करें ही, आलस्य त्याग कर कृपया इसपर अपनी बुद्धि व विवेक के अनुसार अपने सही-सही कमैंट्स भी अवश्य करें। मुझे पूर्ण विश्वास है कि आप मुझे निराश नहीं करेंगे और अपने फीडबैक से व लाइक/सराहना करके भी अवश्य ही मेरा उत्साहवर्धन करेंगे। नक्षत्रवाणी के संदर्भ में आप सभी के बहुमूल्य सुझाव भी सदैव सादर आमंत्रित हैं।धन्यवाद...!!! **ख़ुशख़बर।। सबसे बड़ी ख़ुशख़बर।।**👇 🙏👉 किसी भी जन्मलग्न या जन्मराशि या अपनी प्रसिद्ध राशि के लिए भाग्यशाली रत्न-रुद्राक्ष हमसे जानें फ्री ऑफ Charge यानि पूर्णतः निःशुल्क व निःसंकोच। इसके अलावा लैब टेस्टेड उच्चतम क्वालिटी के रत्न-रुद्राक्ष प्राप्त करने के लिए भी हमसे संपर्क करें :👇 9987815015 या 9991610514 पर। 🙏👉 प्रियवरों शिवकृपा प्राप्ति के सबसे बड़े शुभावसर 'महाशिरात्रि' के पावन पर्व पर (यानि कि 11 मार्च को) भगवान महाकालेश्वर शिव जो कि एकादश रुद्र रूपों में भी तीनों लोकों में प्रस्फुटित होते हैं, उनके साक्षात स्वरूप व कृपाप्रसाद *पंचमुखी 'रुद्राक्ष रत्न*" जिसे रुद्र के अक्ष या भगवान शिव के अक्ष के रूप में भी जाना जाता है, को इसबार फिर से इस परम शुभ अवसर पर विधिवत् *अभिमंत्रित* करके आपको आपके सभी दैहिक-दैविक-भौतिक कष्टों से मुक्ति दिलाने हेतु, विशेषतः इस **कोरोना काल** में बहुत अधिक बढ़ चुके मानसिक संताप (Mental stress/depression) तथा आर्थिक संताप को पूर्ण रूप से दूर करने के लिए, इस समय आपकी आर्थिक तँगीं की स्थिति को समझते हुए **केवल मात्र 111₹** में आप शिवभक्त सुधि पाठकों के लिए उपलब्ध करवाना प्रारंभ किया हैं। जिसे भी यह दिव्य सर्वसिद्ध **रुद्राक्ष रत्न** चाहिए, वे कृपया हमें इसी नम्बर पर व्हाट्सएप्प करें। ध्यान रखें यह योजना सीमित समय के लिए ही है, इसलिए इस सुनहरे अवसर को आप चूकें नहीं। 🙏 👉 **एक विशेष व अति शुभ सूचना:** **मित्रों हमारे 'ऐस्ट्रो वर्ल्ड' के दिव्य कोष में शुद्ध केसर (काश्मीरी व ईरानी A तथा B दोनों ग्रेड की), पारिजात, चम्पा, अनन्त, पुन्नाग, श्वेत/सफ़ेद ऊद, केसर, खस, भीना गुलाब व असली चंदन जैसे दिव्य इत्रों की पूरी रेंज, भीमसेनी कर्पूर, उत्तम क्वालिटी की शुद्ध गुग्गल व शुद्ध लोबान, शुद्ध राशि रत्न-उपरत्न, असली नेपाली रुद्राक्ष रत्न व गण्डकी नदी से प्राप्त असली शालग्राम जी भी उपलब्ध हैं। इसके अलावा हमारे इस संग्रहालय में और भी कई दिव्य व चमत्कारिक वस्तुएं उपलब्ध हैं। ये सभी दिव्य वस्तुएं हम अपने ज्योतिष-वास्तु एवं वैदिक पूजा-अनुष्ठानों के नियमित यजमानों के लिए बहुत ही सही रेट पर और कम मार्जिन पर देते हैं तथा इनके असली होने की मनी बैक गारंटी के साथ भी। तो आप 'नक्षत्रवाणी' के सभी पाठक भी हमारे परम प्रिय होने से इसका लाभ निःसन्देह ले सकते हैं। इसके लिए आप हमें इसी नम्बर पर व्हाट्सएप्प करें। जल्दी रिप्लाई ना मिलने पर आप कॉल भी कर सकते हैं। धन्यवाद...!!!** 🙏ध्यान दें मित्रों 👉 **जिनका भी 'FB यानि फ़ेसबुक' अकाउंट नहीं है और जो पाठकगण हमारे द्वारा भेजे जा रहे 'FB लिंक' के माध्यम से 'नक्षत्रवाणी पोस्ट' नहीं देख या पढ़ पा रहे हों वे इसके बारे में हमें अविलंब बताएं ताकि उन्हें बिना FB लिंक वाली 'पूरी पोस्ट' भेजी जा सके। इसके अलावा जिन पाठक गणों को नक्षत्रवाणी पोस्ट एक से अधिक बार प्राप्त हो रही हो, वे भी हमें तुरंत सूचित करने की कृपा करें ताकि उन्हें हमारी एक से अधिक ब्रॉडकास्ट लिस्ट्स/BCLs से उन्हें रिमूव किया जा सके। आप हमें प्रतिक्रिया नहीं देते हैं तो हमें तो यही लगेगा कि आप को नक्षत्रवाणी केवल एक ही बार प्राप्त हो रही है। इसलिए हमें सूचित अवश्य करें। धन्यवाद...!!! *****""""""******"""*******"""******** देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।। 🐐 *राशि फलादेश मेष :-* *(चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, आ)* स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। विवाद को बढ़ावा न दें। फालतू खर्च होगा। किसी के व्यवहार से क्लेश होगा। जल्दबाजी में कोई निर्णय न लें। व्यापार-व्यवसाय लाभप्रद रहेगा। आय में निश्चितता रहेगी। नौकरी में कार्यभार बढ़ेगा। सहकर्मी साथ नहीं देंगे। चिंता तथा तनाव बने रहेंगे। 🐂 *राशि फलादेश वृष :-* *(ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो)* डूबी हुई रकम प्राप्त हो सकती है। यात्रा मनोरंजक रहेगी। नौकरी में मातहतों का सहयोग प्राप्त होगा। शेयर मार्केट में जल्दबाजी न करें। व्यापार लाभदायक रहेगा। पारिवारिक सहयोग मिलेगा। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। लेन-देन में सावधानी रखें। चोट व रोग से कष्ट संभव है। प्रमाद न करें। 👫🏻 *राशि फलादेश मिथुन :-* *(का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, ह)* कार्यस्थल पर परिवर्तन की योजना बनेगी। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। व्यापार-व्यवसाय मनोनुकूल लाभ देगा। नौकरी में सहकर्मी साथ देंगे। ऐश्वर्य व आरामदायक साधनों पर व्यय होगा। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। जल्दबाजी से बचें। घर-बाहर प्रसन्नता बनी रहेगी। 🦀 *राशि फलादेश कर्क :-* *(ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो)* तीर्थदर्शन की योजना फलीभूत होगी। सत्संग का लाभ मिलेगा। आत्मशांति रहेगी। यात्रा संभव है। व्यापार ठीक चलेगा। नौकरी में चैन रहेगा। दूसरों की जवाबदारी न लें। थकान रह सकती है। 🦁 *राशि फलादेश सिंह :-* *(मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे)* चोट व दुर्घटना से बड़ी हानि हो सकती है। दुष्टजन हानि पहुंचा सकते हैं। किसी अपरिचित व्यक्ति पर अतिविश्वास न करें। किसी भी प्रकार के विवाद में न पड़ें। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। व्यापार ठीक चलेगा। आय में निश्चितता रहेगी। मित्रों के साथ समय अच्‍छा व्यतीत होगा। 🙎🏻‍♀️ *राशि फलादेश कन्या :-* *(ढो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो)* किसी व्यक्ति विशेष का सहयोग प्राप्त होगा। व्यापार लाभदायक रहेगा। पारिवारिक सदस्यों का सहयोग मिलेगा। प्रसन्नता में वृद्धि होगी। नौकरी में मातहतों से अनबन हो सकती है। शारीरिक कष्ट संभव है। जल्दबाजी से हानि होगी। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। धन प्राप्ति सुगम होगी। ⚖ *राशि फलादेश तुला :-* *(रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते)* स्थायी संपत्ति के कार्य मनोनुकूल लाभ देंगे। किसी बड़ी समस्या का हल सहज ही प्राप्त होगा। किसी वरिष्ठ व्यक्ति का सहयोग मिलेगा। भाग्य अनुकूल है। व्यापार-व्यवसाय में वृद्धि होगी। धन प्राप्ति सुगम होगी। शत्रुओं का पराभव होगा। किसी व्यक्ति की बातों में न आएं। प्रसन्नता रहेगी। 🦂 *राशि फलादेश वृश्चिक :-* *(तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू)* रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। किसी आनंदोत्सव में भाग लेने का अवसर प्राप्त होगा। मनपसंद भोजन का आनंद मिलेगा। पार्टी व पिकनिक का आयोजन हो सकता है। नौकरी में कार्य की प्रशंसा होगी। जीवनसाथी से सहयोग प्राप्त होगा। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। जल्दबाजी न करें। 🏹 *राशि फलादेश धनु :-* *(ये, यो, भा, भी, भू, धा, फा, ढा, भे)* विवाद को बढ़ावा न दें। कानूनी अड़चन से सामना हो सकता है। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। बुरी खबर मिल सकती है, धैर्य रखें। दौड़धूप से स्वास्थ्य पर असर पड़ सकता है। आय बनी रहेगी। व्यापार-व्यवसाय लाभदायक रहेगा। नौकरी में कार्यभार रहेगा। जोखिम न लें। 🐊 *राशि फलादेश मकर :-* *(भो, जा, जी, खी, खू, खे, खो, गा, गी)* मित्रों का सहयोग करने का मौका प्राप्त होगा। मेहनत का फल मिलेगा। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। लेन-देन में सावधानी रखें। अपरिचितों पर अंधविश्वास न करें। कारोबार ठीक चलेगा। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। भाग्य अनुकूल है। समय का लाभ लें। 🏺 *राशि फलादेश कुंभ :-* *(गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा)* भूले-बिसरे साथियों से मुलाकात होगी। उत्साहवर्धक सूचना मिलेगी। किसी बड़े काम को करने की योजना बनेगी। आत्मसम्मान बना रहेगा। व्यापार लाभदायक रहेगा। घर-परिवार में कोई मांगलिक कार्य का आयोजन हो सकता है। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। मित्रों के साथ अच्‍छा समय बीतेगा। 🐋 *राशि फलादेश मीन :-* *(दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची)* यात्रा मनोरंजक रहेगी। कोई बड़ा काम होने से प्रसन्नता रहेगी। कारोबार में वृद्धि होगी। विरोधी सक्रिय रहेंगे। धन प्राप्ति सुगम होगी। समय अनुकूल है। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। परिवार के साथ समय प्रसन्नतापूर्वक व्यतीत होगा। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। जल्दबाजी न करें। ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※ *🎊🎉🎁 आज जिनका जन्मदिवस या विवाह की वर्षगांठ हैं, उन सभी प्रिय मित्रो को कोटिशः शुभकामनायें🎁🎊🎉* ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※ और ज़रा इन बातों पर भी ज़रूर ध्यान दें मित्रों...! अगर...??? 1) खूब मेहनत के बाद भी या व्यापार-व्यवसाय में पर्याप्त इन्वेस्टमेंट करने के बाद भी आप अकारण आर्थिक दृष्टी से निरंतर पिछड़ते ही जा रहे हैं....? 2) एक ही नौकरी में लम्बे समय तक कार्य नहीं कर पाते हैं या वहां दिल से काम करते हुए भी आपको कोई पूछता ही नहीं है...? आपकी प्रमोशन ड्यू है कब से लेकिन आप बस दूसरों को आगे बढ़ते देख कर अपने नसीब को कोस रहे हैं...? आपके प्रतिद्वंदी अलग से परेशान करते रहते हैं...? 3) आपस में निरंतर अकारण क्लेश होता रहता है..? 4) शेयर मार्किट से कमाना चाहते हैं पर हर बार नुकसान उठा बैठते हैं...? 5) बीमारी आपको छोड़ ही नहीं रही है...? घर का हर एक व्यक्ति किसी न किसी बीमारी से त्रस्त है...? आमदनी का एक बड़ा हिस्सा हमेशां इसी पर खर्च हो जाता है...? 6) अकारण ही विवाह योग्य बच्चों के विवाह में दिक्कतें आ रही हैं...? 7) शत्रुओं ने आपकी रात की नींद और दिन का चैन हराम किया हुआ है...? 8) पैतृक सम्पति विवाद सुलझ ही नहीं रहा है...? और संपति केवास्तविक हकदार आप हैं तथा आप इसे अपने हक में सुलझना चाहते हैं...? 9) विदेश यात्रा या विदेश में सेटलमेंट को लेकर बहुत समय से परेशान हैं...? 10) आपको डरावने सपने आते हैं..? सपने में सांप या भूत-प्रेत या ऐसे ही नींद उड़ाने वाले दृश्य दीखते हैं...? 11) फिल्म या मीडिया में बहुत समय से संघर्ष के बाद भी सफलता​ नहीं मिल रही...? 12) राजनीति को ही आप अपना कैरियर बनाना चाहते हैं पर आपको कुछ भी समझ नहीं आ रहा...? यदि हाँ...??? तो यह सब अकारण ही नहीं है...! इसके पीछे बहुत ठोस कारण हैं जो कि आपकी जन्म कुंडली या आपके घर-आफिस का वास्तु देखकर या आपकी जन्मकुंडली भी ना होने की स्थिति में हमारे दीर्घ अध्ययन और प्रैक्टिकल ज्योतिषीय अनुभव के आधार पर अन्य विधियों से जाने जा सकते हैं...? तो अब आप और देरी ना करें और तुरंत हमें फोन करें...! आपकी उन्नति निश्चित है और आपकी मंजिल अब दूर नहीं...! ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※ प्रस्तुति: आचार्य मदन टी.कौशिक मुंबई (सिरसा-हरियाणा वाले, मूल निकास: गौड़ बंगाल एवं तत्पश्चात ढाणी भालोट-झुंझनूँ-राज.) (चयनित/Appointed/) ज्योतिष एवं वास्तु शोध वैज्ञानिक एवं पूर्व विभागाध्यक्ष: TARF, Dadar-Mumbai साभार: बाँके बिहारी (धुरंधर वैदिक विद्वानों का अद्वितीय वैश्विकमंच) कार्यकारी अध्यक्ष: एस्ट्रो-वर्ल्ड मुंबई व सिरसा (सभी दैहिक दैविक भौतिक समस्याओं का एक ही जगह सटीक निदान व स्थायी समाधान) अध्यक्ष: सातफेरे डॉट कॉम मुंबई व सिरसा (आपके अपनों के दिव्य एवं सुसंस्कारी वैवाहिक जीवन की झटपट शुरूआत हेतु अनूठा संस्थान) नोट: हमारी या हमारे संस्थान 'एस्ट्रो-वर्ल्ड' तथा आपके अपनों के वैवाहिक जीवन सम्बन्धी सभी समस्याओं का एकमात्र हल एवं विश्व के इस सबसे अनूठे मंच 'सातफेरे डॉट कॉम' मुंबई या सिरसा की किसी भी प्रकार की गरिमापूर्ण सेवा जैसे वैज्ञानिकतापूर्ण ज्योतिष-वास्तु मार्गदर्शन, सभी प्रकार के मुहूर्त शोधन, नामकरण संस्कार, विवाह संस्कार या अन्य कोई भी वैदिक पूजा-अनुष्ठान आयोजित करवाने, रत्न अभिमन्त्रण, सभी राशिरत्न-उपरत्न, मणि-माणिक्य, दक्षिणावर्ती शँख (जो कि घर में विधिवत रखने मात्र से ही बदल दे आपका भाग्य हमेशां-2 के लिए...!), सियारसिंगी, भुजयुग्म (हत्थाजोड़ी, जो तिज़ोरी आपकी कभी ख़ाली ना होने दे), नागकेसर, विविध प्रकार के वास्तु पिरामिडज एवं अन्य कई प्रकार की सौभाग्यवर्धक वस्तुओं की प्राप्ति हेतु हमारे... सम्पर्क सूत्र: 9987815015 / 9991610514 ईमेल आई डी: [email protected] 🌺आपका सप्ताहांत आदि वैद्य (प्रभु धनवंतरि जी) की कृपा से परम मंगलमय हो मित्रो! *🚩जयतु जयतु हिन्दुराष्ट्रम🚩* 🇮🇳🇮🇳 *भारत माता की जय* 🚩🚩 ।। 🐚 *शुभम भवतु* 🐚 ।। ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
prakash patel Apr 17, 2021

☘️ *_मितली (उल्टी) होने पर अपनाए ये उपाय शर्तिया होगा लाभ मिलेगा आराम_* 🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट अपनाये और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/groups/367351564605027/ *उल्टी होने पर अपनाएं ये 8 घरेलू उपाय* 1 नीबू के रस में काला नमक और काली मिर्च डालकर पीने से उल्टी आना बंद हो जाती है। 2 पेट में गर्मी बढ़ने के कारण भी उल्टी की समस्या होती है। ऐसे में छाछ में भुना हुआ जीरा और सेंधा नमक डालकर पीने से बहुत जल्दी फायदा होता है। 3 नीबू को काटकर उस पर चीनी डालकर चूसने से इस समस्या में बहुत लाभ होता है। इससे चूसने से पेट के भीतर अन्न विकार खत्म हो जाता है और उल्टी आना रूक जाता है। 4 गर्भवती स्त्री को सुबह शाम हल्के गुनगुने पानी में नीबू का रस देने पर उल्टी में लाभ होगा। 5 तुलसी के रस को शहद के साथ मिलाकर पीड़ि‍त को देने पर उल्टियां बंद हो जाती है। 6 इसके अलावा नमक और शक्कर के घोल में नीबू डालकर पीने से भी लाभ होता है। 💎 खूबसूरत त्वचा, वजन कम करने के & हर गंभीर बिमारी के एक्यूप्रेशर पॉइंट की जानकारी के लिए हमारा संपर्क करें। ✅और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/એક્યુપ્રેશર-પ્લેનેટ-101139925132263/ 7 चने को भूनकर सत्तू बनाकर खाने से भी उल्टी आना बंद होता है। 8 इसके अलावा गर्भवती स्त्री के पेट पर पानी की गीली पट्टी रखने से भी उल्टियां आना बंद हो जाता है। ☘️सभी जानकारी, घरेलू और आयुर्वेदिक चिकित्सा के इस इलाज केवल शैक्षिक हेतु के लिए है.. उपचार के लिए हमेशा चिकित्सक की सलाह ले। 🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट की जानकारी के लिए 📞👉 +91 9974592157 🌀 MSG 👉 +91 7016609049 हमारा संपर्क करें। और हर गंभीर बिमारी मिटाये।

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Madan Kaushik Apr 16, 2021

***अपना पोस्ट*** **नक्षत्रवाणी** *༺⊰०║|। ॐ ।|║०⊱༻*  गजाननं भूतगनादि सेवितम, कपित्थजम्बू फलचारु भक्षणम। उमासुतं शोकविनाशकारकम, नमामि विघ्नेश्वर पादपंकजम।। श्रीमते रघुवीराय सेतूल्लङ्घितसिन्धवे। जितराक्षसराजाय रणधीराय मङ्गलम्।। भुजगतल्पगतं घनसुन्दरं गरुडवाहनमम्बुजलोचनम् । नलिनचक्रगदाकरमव्ययं भजत रे मनुजाः कमलापतिम् ।।  क्यों भटके मन बावरा, दर-दर ठोकर खाये...! शरण श्याम की ले ले प्यारे, जनम सफल हो जाये...!! 🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩 ~~~~~~~~~~~~~~~~~~ मित्रों...! सबसे पहले तो नित्यप्रति आपकी प्रिय पोस्ट "नक्षत्रवाणी" की पोस्टिंग में होने वाले विलंब के लिए आप सभी से हृदयपूर्वक क्षमा प्रार्थना सहित...🙏🙏 आप सभी परम प्रिय धर्मपारायण, ज्योतिषविद्या प्रेमी विद्वतजनों को आचार्य/पं.मदन तुलसीराम जी कौशिक मुंबई (सिरसा-हरियाणा वाले) की ओर से सादर-सप्रेम 🌸 जय गणेश 🌸 जय अंबे 🌸 *जय श्री कृष्ण*🌷मंगल प्रभात🌷इसी के साथ आप सभी सनातनी, धर्म-उत्सवप्रेमी, राम-कृष्ण-हरि-शिवभक्त, शक्ति उपासक व राष्ट्रप्रेमियों को आज **चैत्र शुक्ल/चानन पक्ष/सुदी चतुर्थी/चौथ की, वासंतिक/चैत्र नवरात्रि महापर्व के चतुर्थ दिवस (मां के कुष्मांडा स्वरूप के उपासना दिवस) की एवं श्रीगणेश दमनक चतुर्थी व्रत/पर्व** की भी बहुत-बहुत हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं...!!!** ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※ आइये...! अब चलें आपके प्रिय पोस्ट 'नक्षत्रवाणी' के अंतर्गत आज कुछ विशेष महत्वपूर्ण जानकारी, दृकपंचांग, चन्द्र राशिफल' एवं 'आरोग्य मंत्र' की ज्ञानयात्रा पर...🙏 ```༺⊰🕉⊱༻ ``` *༺⊰०║|। ॐ ।|║०⊱༻* ☘️🌸!! ॐ श्री गणेशाय नमः!! 🌸☘️ ****************************** 𴀽𴀊🕉श्री हरिहरौविजयतेतराम्🕉 🇬🇧 *आंग्ल मतानुसार* :- आज दिनांक *१६ अप्रैल सन २०२१ ईस्वी* भृगुवासर/शुक्रवार/Friday* *🇮🇳 राष्ट्रीय सौर दि. २७* *चैत्र (मधुमास)* प्रस्तुत है ««« *आज का दृकपंचांग:««« 👉 ध्यान दें **यहाँ दिये गए तिथि, नक्षत्र, योग व करण आदि के समय इनके समाप्ति काल हैं और सूर्योदयास्त व चंद्रोदय का गणना स्थल मुंबई हैं।** कलियुगाब्द......5122 (५१२२) विक्रम संवत्.....२०७७/2077 (आंनद नाम) शक संवत्......१९४३/1943 मास....चैत्र (सं./हिंदी)/चैत (मारवाड़ी/पंजाबी) पक्ष........शुक्ल/चानन पक्ष/सुदी/उतरतो चैत **तिथी...(०४/04) चतुर्थी/चौथ** *संध्या 06.05 पर्यंत पश्चात पंचमी* **वार/दिन...भृगुवासर/शुक्रवार** **नक्षत्र........रोहिणी🌠** *रात्रि 11.40 पर्यंत पश्चात मृगशीर्ष* योग.............सौभाग्य संध्या 06.24 पर्यंत पश्चात शोभन करण............विष्टि संध्या 06.05 पर्यंत पश्चात बव सूर्योदय.......प्रातः 06.20.00 पर सूर्यास्त........सांय 06.56.00 पर चंद्रोदय........प्रातः 09.03.00 पर। रवि(अयन-दृक)......उत्तरायण रवि(अयन-वैदिक)...उत्तरायण **ऋतु (दृक).....वसंत** **ऋतु वैदिक)...वसंत** **सूर्य राशि.......मीन** **चन्द्र राशि......वृषभ** **गुरु राशी.......कुंभ (पूर्व में उदय, मार्गी)** 🚦*दिशाशूल :-* पश्चिम दिशा - यदि बहुत ही आवश्यक हो तो घी/काजु या जौ का सेवन कर यात्रा प्रारंभ करें। ☸ शुभ अंक.....७/7 🔯 शुभ रंग........श्वेत/सफेद/आसमानी नीला ⚜️ *अभिजीत मुहूर्त :-* मध्याह्न 12.13 से 01.04 तक। 👁‍🗨 राहुकाल (अशुभ) :-* पूर्वाह्न/दिन 11.04 से 12.38 तक । 👁‍🗨 *गुलिक काल :-* प्रात: 07.55 से 09.29 तक। ********************* *उदय लग्न मुहूर्त -* *मेष* 06:01:07 07:42:31 *वृषभ* 07:42:31 09:41:08 *मिथुन* 09:41:08 11:54:49 *कर्क* 11:54:49 14:11:00 *सिंह* 14:11:00 16:22:49 *कन्या* 16:22:49 18:33:28 *तुला* 18:33:28 20:48:06 *वृश्चिक* 20:48:06 23:04:16 *धनु* 23:04:16 25:09:54 *मकर* 25:09:54 26:57:02 *कुम्भ* 26:57:02 28:30:39 *मीन* 28:30:39 30:01:07 ✡ *चौघडिया :-* प्रात: 07.42 से 09.17 तक लाभ प्रात: 09.17 से 10.51 तक अमृत दोप. 12.25 से 02.00 तक शुभ सायं 05.08 से 06.43 तक चंचल रात्रि 09.34 से 10.59 तक लाभ । *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। *****""""""******"""*******"""******** आज के विशेष योगायोग/युति संयोग, वेध, ग्रहचार (ग्रहचाल), व्रत/पर्व/प्रकटोत्सव, जयंती/जन्मोत्सव व मोक्ष दिवस/स्मृतिदिवस/पुण्यतिथि आदि 🙏👇:- 👉 **आज चैत्र शुक्ल/चानन पक्ष/सूदी भृगुवासर/शुक्रवार/Friday को वर्ष का 388 वाँ दिन/तीन सौ अठासीवां दिन, चतुर्थी/चौथ संध्या 06.05 पर्यंत पश्चात् पंचमी शुरु, पवित्र नवरात्रि का चतुर्थ दिवस इसके अन्तर्गत मां दुर्गा के कुष्मांड स्वरूप की उपासना, श्रीगणेश दमनक चतुर्थी व्रत व रोहिणी व्रत/महापर्व, विद्या एवं अक्षरारम्भ मुहूर्त ०६:०६ से १०:५१ तक आदि। ************************* **🕉 ॐ द्रां द्रीं द्रॏं सः शुक्राय नमः ll🚩** **🕉 ॐ लक्ष्मी नारायणाभ्यां नमः ॥🚩* 📿 *आज का उपासना मंत्र :- ॥ ॐ शिवप्रियायै नमः ॥ *********************** ⚜ 👉🙏☸*महत्वूर्ण तिथि विशेष :*🚩 **चैत्र कृष्णपक्ष/बदी चतुर्थी/चौथ, चैत्र नवरात्रि महापर्व का चतुर्थ दिवस/चौथा दिन - माँ कुष्मांडा व्रत/पूजा व उपासना दिवस, श्रीगणेश दमनक चतुर्थी व्रत, रोहिणी व्रत,।** 🙏 💥 **विशेष ध्यातव्य👉 चतुर्थी/चौथ को मुली का किसी भी रुप में सेवन आरोग्य व धननाशक होने से पूर्णतः वर्जित है।** साभार: 🌞 *~हिन्दू पंचांग ~* 🌞।** 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज जन्मे शिशुओं का नामकरण:- 〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️ आज २३:४० तक जन्मे शिशुओ का नाम रोहिणी नक्षत्र के द्वितीय, तृतीय एवं चतुर्थ चरण अनुसार क्रमशः (वा, वी, वू) नामाक्षर से तथा इसके बाद जन्मे शिशुओ का नाम मृगशिरा नक्षत्र के प्रथम चरण अनुसार क्रमश (वे) नामाक्षर से रखना शास्त्रसम्मत है।** 👉 **🏡वास्तु टिप्स🏢🏡 1) वास्तु विज्ञान के अनुसार घर या ऑफिस के तहखाने का उपयोग कोचिंग, दफ्तर व गोदाम के रूप में ही ठीक रहता है। इसे कभी भी शयनकक्ष नहीं बनाना चाहिए। 2) गृहवास्तु के अनुसार यथासंभव शयनकक्ष में दर्पण न लगाएँ। इससे घर के सदस्यों के विचारों में मतभेद और कलह की स्थिति उत्पन्न होती रहती है।** 3) यदि आपके घर से अगर अकारण ही बरकत जा रही है या आपको नेगेटिव एनर्जी दिख रही है या परिवार में निरंतर कलह रहता है, तो कपूर और फिटकरी को पीस के गौझारण (गौमूत्र) जो बहुत ही आसानी से मिल जाता है (अन्यथा पतंजलि आदि का ले लें), इससे घर मे पोछा लगाने वाले क्लीनर या पानी मे मिला लें और रोज़ सुबह-शाम घर मे पोछा लगाये और गंगाजल का पूजा-आरती के बाद छिड़काव भी करें फिर चमत्कारिक परिवर्तन देखें। 4) **घर की मुख्य सीढ़ियाँ सदैव दक्षिण या पश्चिम की ओर होनी चाहिए। ईशान में कभी भी होनी चाहिए। विशेष परस्थिति में वायव्य तथा आग्नेय कोण में बना सकते हैं। *****""""""******"""*******"""******** 📢 *संस्कृत सुभाषितानि -* विपुलहदयाभियोग्ये खिध्यति काव्ये जडो न मौख्र्यै स्वे । निन्दति कज्चुकिकारं प्रायः शुष्कस्तनी नारी ॥ अर्थात :- जड मानव, ह्रदय विपुल बनानेवाला काव्य पढकर खेद पाता है, लेकिन उसे अपनी मूर्खता पर खेद नहीं होता । ज़ादा करके शुष्क स्तनवाली नारी, कंचुकी बनानेवाले की निंदा करती है । *💊💉आज का आरोग्य मंत्र 🌱🌿* *बालों का झड़ना रोकने वाले टिप्स -* *3. ऐंटिऑक्सिडैंट्स -* एंटीऑक्सीडेंट में समृद्ध खाद्य पदार्थों का सेवन आपके दिल के स्वास्थ्य के लिए अच्छा हो सकता है। इसके अलावा यह संक्रमण के जोखिम और कैंसर के कुछ रूपों को कम करने में सहायता करता है। यह आपके बालों को झड़ने से भी रोकता है। इसके लिए आप हल्की गर्म ग्रीन टी को एक कप पानी में मिलाकर अपने सिर में लगा लें और इसे करीब एक घंटे तक छोड़ दें। फिर पानी से इसे धो लें। आपको बता दें कि ग्रीन टी में ऐंटिऑक्सिडैंट्स होता हैं जो बालों को गिरने से रोकता है और बालों की ग्रोथ को तेज करता हैं। इसके अलावा आप नट, बीज, फलियां, फल और हरी सब्जियों का सेवन करके अपने एंटीऑक्सीडेंट के सेवन को बढ़ा सकते हैं। *****""""""******"""*******"""******** ⚜*🐑🐂🦔 आज का संभावित चन्द्र राशिफल🦂🐊🐟:- 👉 किंतु पहले सबसे एक करबद्ध निवेदन🙏 मित्रों सर्वप्रथम तो कुछ तकनीकी कारणों से आपको आपकी प्रिय पोस्ट नक्षत्रवानी विलंब से मिल पाती है इसके लिए मैं आप सभी से क्षमा प्रार्थी हूँ। तत्पश्चात मैं निवेदन करना चाहता हूँ कि आपकी इस परमप्रिय ज्ञानवर्धक 'अपना पोस्ट' *नक्षत्रवाणी* को आप जितना हो सकता हो उतना लाइक-शेयर तथा फॉरवर्ड तो करें ही, आलस्य त्याग कर कृपया इसपर अपनी बुद्धि व विवेक के अनुसार अपने सही-सही कमैंट्स भी अवश्य करें। मुझे पूर्ण विश्वास है कि आप मुझे निराश नहीं करेंगे और अपने फीडबैक से व लाइक/सराहना करके भी अवश्य ही मेरा उत्साहवर्धन करेंगे। नक्षत्रवाणी के संदर्भ में आप सभी के बहुमूल्य सुझाव भी सदैव सादर आमंत्रित हैं।धन्यवाद...!!! **ख़ुशख़बर।। सबसे बड़ी ख़ुशख़बर।।**👇 🙏👉 किसी भी जन्मलग्न या जन्मराशि या अपनी प्रसिद्ध राशि के लिए भाग्यशाली रत्न-रुद्राक्ष हमसे जानें फ्री ऑफ Charge यानि पूर्णतः निःशुल्क व निःसंकोच। इसके अलावा लैब टेस्टेड उच्चतम क्वालिटी के रत्न-रुद्राक्ष प्राप्त करने के लिए भी हमसे संपर्क करें :👇 9987815015 या 9991610514 पर। 🙏👉 प्रियवरों शिवकृपा प्राप्ति के सबसे बड़े शुभावसर 'महाशिरात्रि' के पावन पर्व पर (यानि कि 11 मार्च को) भगवान महाकालेश्वर शिव जो कि एकादश रुद्र रूपों में भी तीनों लोकों में प्रस्फुटित होते हैं, उनके साक्षात स्वरूप व कृपाप्रसाद *पंचमुखी 'रुद्राक्ष रत्न*" जिसे रुद्र के अक्ष या भगवान शिव के अक्ष के रूप में भी जाना जाता है, को इसबार फिर से इस परम शुभ अवसर पर विधिवत् *अभिमंत्रित* करके आपको आपके सभी दैहिक-दैविक-भौतिक कष्टों से मुक्ति दिलाने हेतु, विशेषतः इस **कोरोना काल** में बहुत अधिक बढ़ चुके मानसिक संताप (Mental stress/depression) तथा आर्थिक संताप को पूर्ण रूप से दूर करने के लिए, इस समय आपकी आर्थिक तँगीं की स्थिति को समझते हुए **केवल मात्र 111₹** में आप शिवभक्त सुधि पाठकों के लिए उपलब्ध करवाना प्रारंभ किया हैं। जिसे भी यह दिव्य सर्वसिद्ध **रुद्राक्ष रत्न** चाहिए, वे कृपया हमें इसी नम्बर पर व्हाट्सएप्प करें। ध्यान रखें यह योजना सीमित समय के लिए ही है, इसलिए इस सुनहरे अवसर को आप चूकें नहीं। 🙏 👉 **एक विशेष व अति शुभ सूचना:** **मित्रों हमारे 'ऐस्ट्रो वर्ल्ड' के दिव्य कोष में शुद्ध केसर (काश्मीरी व ईरानी A तथा B दोनों ग्रेड की), पारिजात, चम्पा, अनन्त, पुन्नाग, श्वेत/सफ़ेद ऊद, केसर, खस, भीना गुलाब व असली चंदन जैसे दिव्य इत्रों की पूरी रेंज, भीमसेनी कर्पूर, उत्तम क्वालिटी की शुद्ध गुग्गल व शुद्ध लोबान, शुद्ध राशि रत्न-उपरत्न, असली नेपाली रुद्राक्ष रत्न व गण्डकी नदी से प्राप्त असली शालग्राम जी भी उपलब्ध हैं। इसके अलावा हमारे इस संग्रहालय में और भी कई दिव्य व चमत्कारिक वस्तुएं उपलब्ध हैं। ये सभी दिव्य वस्तुएं हम अपने ज्योतिष-वास्तु एवं वैदिक पूजा-अनुष्ठानों के नियमित यजमानों के लिए बहुत ही सही रेट पर और कम मार्जिन पर देते हैं तथा इनके असली होने की मनी बैक गारंटी के साथ भी। तो आप 'नक्षत्रवाणी' के सभी पाठक भी हमारे परम प्रिय होने से इसका लाभ निःसन्देह ले सकते हैं। इसके लिए आप हमें इसी नम्बर पर व्हाट्सएप्प करें। जल्दी रिप्लाई ना मिलने पर आप कॉल भी कर सकते हैं। धन्यवाद...!!!** 🙏ध्यान दें मित्रों 👉 **जिनका भी 'FB यानि फ़ेसबुक' अकाउंट नहीं है और जो पाठकगण हमारे द्वारा भेजे जा रहे 'FB लिंक' के माध्यम से 'नक्षत्रवाणी पोस्ट' नहीं देख या पढ़ पा रहे हों वे इसके बारे में हमें अविलंब बताएं ताकि उन्हें बिना FB लिंक वाली 'पूरी पोस्ट' भेजी जा सके। इसके अलावा जिन पाठक गणों को नक्षत्रवाणी पोस्ट एक से अधिक बार प्राप्त हो रही हो, वे भी हमें तुरंत सूचित करने की कृपा करें ताकि उन्हें हमारी एक से अधिक ब्रॉडकास्ट लिस्ट्स/BCLs से उन्हें रिमूव किया जा सके। आप हमें प्रतिक्रिया नहीं देते हैं तो हमें तो यही लगेगा कि आप को नक्षत्रवाणी केवल एक ही बार प्राप्त हो रही है। इसलिए हमें सूचित अवश्य करें। धन्यवाद...!!! *****""""""******"""*******"""******** देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।। 🐐 *राशि फलादेश मेष :-* *(चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, आ)* पुराना रोग उभर सकता है। अप्रत्याशित खर्च सामने आएंगे। कर्ज लेना पड़ सकता है। किसी व्यक्ति से कहासुनी हो सकती है। स्वाभिमान को ठेस लग सकती है। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। कोई भी महत्वपूर्ण निर्णय सोच-समझकर करें। व्यवसाय ठीक चलेगा। आय बनी रहेगी। 🐂 *राशि फलादेश वृष :-* *(ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो)* कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। शारीरिक कष्ट संभव है। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। व्यावसायिक यात्रा लाभदायक रहेगी। भाग्य का साथ मिलेगा। नौकरी में चैन रहेगा। निवेश शुभ रहेगा। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। पार्टनरों का सहयोग मिलेगा। प्रमाद न करें। 👫🏻 *राशि फलादेश मिथुन :-* *(का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, ह)* सुख के साधन प्राप्त होंगे। नई योजना बनेगी। तत्काल लाभ नहीं मिलेगा। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। सामाजिक काम करने की इच्छा रहेगी। मान-सम्मान मिलेगा। व्यापार-व्यवसाय लाभदायक रहेगा। नौकरी में मातहतों का सहयोग मिलेगा। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। 🦀 *राशि फलादेश कर्क :-* *(ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो)* धार्मिक अनुष्ठान पूजा-पाठ इत्यादि का कार्यक्रम आयोजित हो सकता है। कोर्ट-कचहरी के कार्य मनोनुकूल रहेंगे। मानसिक शांति रहेगी। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। समय अनुकूल है। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। कारोबार में वृद्धि के योग हैं। शारीरिक कष्ट संभव है। 🦁 *राशि फलादेश सिंह :-* *(मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे)* कुसगंति से बचें। वाहन व मशीनरी के प्रयोग में सावधानी रखें। पुराना रोग उभर सकता है। किसी दूसरे व्यक्ति की बातों में न आएं। कोई भी महत्वपूर्ण निर्णय सोच-समझकर करें। व्यापार अच्‍छा चलेगा। नौकरी में मातहतों से कहासुनी हो सकती है। लेन-देन में सावधानी रखें। 🙎🏻‍♀️ *राशि फलादेश कन्या :-* *(ढो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो)* शरीर में कमर व घुटने आदि के दर्द से परेशानी हो सकती है। लेन-देन में सावधानी रखें। चिंता तथा तनाव रहेंगे। शत्रुभय रहेगा। कोर्ट व कचहरी के कार्य अनुकूल रहेंगे। धन प्राप्ति सुगम होगी। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। भाइयों का सहयोग मिलेगा। परिवार में मांगलिक कार्य हो सकता है। ⚖ *राशि फलादेश तुला :-* *(रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते)* शत्रु पस्त होंगे। सुख के साधनों की प्राप्ति पर व्यय होगा। धनलाभ के अवसर हाथ आएंगे। भूमि व भवन संबंधी बाधा दूर होगी। बड़ा लाभ हो सकता है। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। परीक्षा व साक्षात्कार आदि में सफलता मिलेगी। भाग्य का साथ रहेगा। शेयर मार्केट से लाभ होगा। 🦂 *राशि फलादेश वृश्चिक :-* *(तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू)* किसी मांगलिक कार्य में भाग लेने का अवसर प्राप्त होगा। विद्यार्थी वर्ग सफलता प्राप्त करेगा। किसी वरिष्ठ प्रबुद्ध व्यक्ति का मार्गदर्शन व सहयोग प्राप्त होगा। व्यापार से लाभ होगा। नौकरी में प्रभाव बढ़ेगा। प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। कष्ट व भय सताएंगे। भाग्य का साथ मिलेगा। 🏹 *राशि फलादेश धनु :-* *(ये, यो, भा, भी, भू, धा, फा, ढा, भे)* राजभय रहेगा। वाणी पर नियंत्रण रखें। शारीरिक कष्ट संभव है। यात्रा में जल्दबाजी न करें। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। दु:खद समाचार प्राप्त हो सकता है। भागदौड़ अधिक रहेगी। थकान व कमजोरी महसूस होगी। आय में निश्चितता रहेगी। व्यापार ठीक चलेगा। निवेश सोच-समझकर करें। 🐊 *राशि फलादेश मकर :-* *(भो, जा, जी, खी, खू, खे, खो, गा, गी)* प्रयास सफल रहेंगे। सामाजिक कार्यों में रुचि रहेगी। मान-सम्मान मिलेगा। नौकरी में प्रशंसा होगी। कार्यसिद्धि होगी। प्रसन्नता रहेगी। चोट व रोग से बचें। लेन-देन में जल्दबाजी न करें। किसी व्यक्ति के बहकावे में न आएं। व्यापार ठीक चलेगा। निवेश शुभ रहेगा। पारिवारिक सहयोग मिलेगा। 🏺 *राशि फलादेश कुंभ :-* *(गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा)* चिंता तथा तनाव बने रहेंगे। यश बढ़ेगा। दूर से शुभ समाचारों की प्राप्ति होगी। घर में मेहमानों का आगमन होगा। कोई मांगलिक कार्य हो सकता है। आत्मविश्वास बढ़ेगा। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। व्यापार-व्यवसाय ठीक चलेगा। निवेश शुभ रहेगा। प्रसन्नता बनी रहेगी। 🐋 *राशि फलादेश मीन :-* *(दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची)* कुबुद्धि हावी रहेगी। चोट व रोग से बचें। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। निवेश शुभ रहेगा। व्यापार मनोनुकूल लाभ देगा। किसी बड़ी समस्या से मुक्ति मिल सकती है। किसी न्यायपूर्ण बात का भी विरोध हो सकता है। विवाद न करें। ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※ *🎊🎉🎁 आज जिनका जन्मदिवस या विवाह की वर्षगांठ हैं, उन सभी प्रिय मित्रो को कोटिशः शुभकामनायें🎁🎊🎉* ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※ और ज़रा इन बातों पर भी ज़रूर ध्यान दें मित्रों...! अगर...??? 1) खूब मेहनत के बाद भी या व्यापार-व्यवसाय में पर्याप्त इन्वेस्टमेंट करने के बाद भी आप अकारण आर्थिक दृष्टी से निरंतर पिछड़ते ही जा रहे हैं....? 2) एक ही नौकरी में लम्बे समय तक कार्य नहीं कर पाते हैं या वहां दिल से काम करते हुए भी आपको कोई पूछता ही नहीं है...? आपकी प्रमोशन ड्यू है कब से लेकिन आप बस दूसरों को आगे बढ़ते देख कर अपने नसीब को कोस रहे हैं...? आपके प्रतिद्वंदी अलग से परेशान करते रहते हैं...? 3) आपस में निरंतर अकारण क्लेश होता रहता है..? 4) शेयर मार्किट से कमाना चाहते हैं पर हर बार नुकसान उठा बैठते हैं...? 5) बीमारी आपको छोड़ ही नहीं रही है...? घर का हर एक व्यक्ति किसी न किसी बीमारी से त्रस्त है...? आमदनी का एक बड़ा हिस्सा हमेशां इसी पर खर्च हो जाता है...? 6) अकारण ही विवाह योग्य बच्चों के विवाह में दिक्कतें आ रही हैं...? 7) शत्रुओं ने आपकी रात की नींद और दिन का चैन हराम किया हुआ है...? 8) पैतृक सम्पति विवाद सुलझ ही नहीं रहा है...? और संपति केवास्तविक हकदार आप हैं तथा आप इसे अपने हक में सुलझना चाहते हैं...? 9) विदेश यात्रा या विदेश में सेटलमेंट को लेकर बहुत समय से परेशान हैं...? 10) आपको डरावने सपने आते हैं..? सपने में सांप या भूत-प्रेत या ऐसे ही नींद उड़ाने वाले दृश्य दीखते हैं...? 11) फिल्म या मीडिया में बहुत समय से संघर्ष के बाद भी सफलता​ नहीं मिल रही...? 12) राजनीति को ही आप अपना कैरियर बनाना चाहते हैं पर आपको कुछ भी समझ नहीं आ रहा...? यदि हाँ...??? तो यह सब अकारण ही नहीं है...! इसके पीछे बहुत ठोस कारण हैं जो कि आपकी जन्म कुंडली या आपके घर-आफिस का वास्तु देखकर या आपकी जन्मकुंडली भी ना होने की स्थिति में हमारे दीर्घ अध्ययन और प्रैक्टिकल ज्योतिषीय अनुभव के आधार पर अन्य विधियों से जाने जा सकते हैं...? तो अब आप और देरी ना करें और तुरंत हमें फोन करें...! आपकी उन्नति निश्चित है और आपकी मंजिल अब दूर नहीं...! ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※ प्रस्तुति: आचार्य मदन टी.कौशिक मुंबई (सिरसा-हरियाणा वाले, मूल निकास: गौड़ बंगाल एवं तत्पश्चात ढाणी भालोट-झुंझनूँ-राज.) (चयनित/Appointed/) ज्योतिष एवं वास्तु शोध वैज्ञानिक एवं पूर्व विभागाध्यक्ष: TARF, Dadar-Mumbai साभार: बाँके बिहारी (धुरंधर वैदिक विद्वानों का अद्वितीय वैश्विकमंच) कार्यकारी अध्यक्ष: एस्ट्रो-वर्ल्ड मुंबई व सिरसा (सभी दैहिक दैविक भौतिक समस्याओं का एक ही जगह सटीक निदान व स्थायी समाधान) अध्यक्ष: सातफेरे डॉट कॉम मुंबई व सिरसा (आपके अपनों के दिव्य एवं सुसंस्कारी वैवाहिक जीवन की झटपट शुरूआत हेतु अनूठा संस्थान) नोट: हमारी या हमारे संस्थान 'एस्ट्रो-वर्ल्ड' तथा आपके अपनों के वैवाहिक जीवन सम्बन्धी सभी समस्याओं का एकमात्र हल एवं विश्व के इस सबसे अनूठे मंच 'सातफेरे डॉट कॉम' मुंबई या सिरसा की किसी भी प्रकार की गरिमापूर्ण सेवा जैसे वैज्ञानिकतापूर्ण ज्योतिष-वास्तु मार्गदर्शन, सभी प्रकार के मुहूर्त शोधन, नामकरण संस्कार, विवाह संस्कार या अन्य कोई भी वैदिक पूजा-अनुष्ठान आयोजित करवाने, रत्न अभिमन्त्रण, सभी राशिरत्न-उपरत्न, मणि-माणिक्य, दक्षिणावर्ती शँख (जो कि घर में विधिवत रखने मात्र से ही बदल दे आपका भाग्य हमेशां-2 के लिए...!), सियारसिंगी, भुजयुग्म (हत्थाजोड़ी, जो तिज़ोरी आपकी कभी ख़ाली ना होने दे), नागकेसर, विविध प्रकार के वास्तु पिरामिडज एवं अन्य कई प्रकार की सौभाग्यवर्धक वस्तुओं की प्राप्ति हेतु हमारे... सम्पर्क सूत्र: 9987815015 / 9991610514 ईमेल आई डी: [email protected] 🌺आपका दिन आदि वैद्य (भगवान धन्वंतरि जी) की कृपा से परम मंगलमय हो मित्रो! *🚩जयतु जयतु हिन्दुराष्ट्रम🚩* 🇮🇳🇮🇳 *भारत माता की जय* 🚩🚩 ।। 🐚 *शुभम भवतु* 🐚 ।। ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB