हरतालिका तीज व्रत कथा।

हरतालिका तीज व्रत कथा।

हरतालिका तीज व्रत कथा

भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाने वाले हरतालिका तीज व्रत की कथा इस प्रकार से है-

हरतालिका तीज व्रत कथा

लिंग पुराण की एक कथा के अनुसार मां पार्वती ने अपने पूर्व जन्म में भगवान शंकर को पति रूप में प्राप्त करने के लिए हिमालय पर गंगा के तट पर अपनी बाल्यावस्था में अधोमुखी होकर घोर तप किया। इस दौरान उन्होंने अन्न का सेवन नहीं किया। काफी समय सूखे पत्ते चबाकर काटी और फिर कई वर्षों तक उन्होंने केवल हवा पीकर ही व्यतीत किया। माता पार्वती की यह स्थिति देखकर उनके पिता अत्यंत दुखी थे।

इसी दौरान एक दिन महर्षि नारद भगवान विष्णु की ओर से पार्वती जी के विवाह का प्रस्ताव लेकर मां पार्वती के पिता के पास पहुंचे, जिसे उन्होंने सहर्ष ही स्वीकार कर लिया। पिता ने जब मां पार्वती को उनके विवाह की बात बतलाई तो वह बहुत दुखी हो गई और जोर-जोर से विलाप करने लगी। फिर एक सखी के पूछने पर माता ने उसे बताया कि वह यह कठोर व्रत भगवान शिव को पति रूप में प्राप्त करने के लिए कर रही हैं जबकि उनके पिता उनका विवाह विष्णु से कराना चाहते हैं। तब सहेली की सलाह पर माता पार्वती घने वन में चली गई और वहां

एक गुफा में जाकर भगवान शिव की आराधना में लीन हो गई। (पार्वती जी के बारें में अधिक जानें: महाशक्ति माता पार्वती )

भाद्रपद तृतीया शुक्ल के दिन हस्त नक्षत्र को माता पार्वती ने रेत से शिवलिंग का निर्माण किया और भोलेनाथ की स्तुति में लीन होकर रात्रि जागरण किया। तब माता के इस कठोर तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने उन्हें दर्शन दिए और इच्छानुसार उनको अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार कर लिया।

मान्यता है कि इस दिन जो महिलाएं विधि-विधानपूर्वक और पूर्ण निष्ठा से इस व्रत को करती हैं, वह अपने मन के अनुरूप पति को प्राप्त करती हैं। साथ ही यह पर्व दांपत्य जीवन में खुशी बरकरार रखने के उद्देश्य से भी मनाया जाता है। उत्तर भारत के कई राज्यों में इस दिन मेहंदी लगाने और झुला-झूलने की प्रथा है

ऊँ नमः शिवाय

Fruits Pranam Modak +181 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 126 शेयर

कामेंट्स

आज के अभिषेक व श्रृंगार दिव्य दर्शन श्री घृष्णेश्वर जोतिर्लिंग जी के औरंगाबाद, महाराष्ट्र से।।

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Badri Prasad Asati Aug 21, 2018

श्रावण माह के चतुर्थ सोमवार को भगवान श्री भोलेनाथ का बिशेष सिंगार किया गया जिसकी मनमोहक झाकी का दर्शन कर पुण्य के भागीदार बने. 💐 ऊँ ह्रों जूँ सःऊँ भूर्भुवःसःऊँ त्र्यम्बकं यजामहे सुगंधिम पुष्टि वर्धनम उर्वारुकमेव बन्धनान् मृत्यु मुक्षिय यमामृतात् ...

(पूरा पढ़ें)
Bell Sindoor Dhoop +33 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 12 शेयर
Purvin kumar Aug 21, 2018

Flower Bell Like +121 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 433 शेयर
Sarita yadav Aug 21, 2018

Jyot Flower Pranam +59 प्रतिक्रिया 21 कॉमेंट्स • 80 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB