*🔯🙏‼️🕉️🚩🕉️‼️🚩ॐ श्री गणेशाय नमो नमः🚩‼️🕉️🚩🕉️‼️🙏🔯🙏‼️🕉️🔱🕉️‼️🚩ॐ श्री जमवाय देव्यै नमो नमःॐ🚩‼️🕉️‼️🔱🕉️‼️🙏‼️🕉️🔱🕉️‼️🔥ॐ श्री कुलदेव्यै नमो नमःॐ🔥‼️🕉️🔱🕉️‼️🙏🔯🙏‼️🕉️🔱🕉️‼️🚩ॐ श्री नवदुर्गा देव्यै नमो नमःॐ🚩‼️🕉️🔱🕉️‼️🙏🔯🙏‼️ओ🕉️🔱🕉️‼️🔥ॐ श्री आदिशक्ति देव्यै नमो नमःॐ🔥‼️🕉️🔱🕉️‼️🙏🔯🙏ॐ श्री नवरात्रि पर्व की एवँ नये वर्ष विक्रमी सम्वत 2078 की हार्दिक बधाई व शुभ-कामनायें ॐ‼️ॐ श्री आदिशक्तिजी श्री जगतजननीजी भवानीजी के श्री चरणों में मेरा सपरिवार कोटि-कोटि सादर-प्रणाम व चरण-स्पर्श ॐ‼️ॐजय श्री माताजी कीॐ‼️ॐ श्री धामाणा धाम वाली श्री मात भवानीजी की जय ॐ‼️👏‼️🕉️🔱ॐ श्री जमवाय माताजी की जय हो ॐ *तुम्हारा स्वागत है माँ तुम आओ* *सिंह की सवार बनकर* *रंगों की फुहार बनकर* *पुष्पों की बहार बनकर* *सुहागन का श्रृंगार बनकर* *तुम्हारा स्वागत है माँ तुम आओ* *खुशियाँ अपार बनकर* *रिश्तों में प्यार बनकर* *बच्चों का दुलार बनकर* *समाज में संस्कार बनकर* *तुम्हारा स्वागत है माँ तुम आओ* *रसोई में प्रसाद बनकर* *व्यापार में लाभ बनकर* *घर में आशीर्वाद बनकर* *मुँह मांगी मुराद बनकर* *तुम्हारा स्वागत है माँ तुम आओ* *संसार में उजाला बनकर* *अमृत रस का प्याला बनकर* *पारिजात की माला बनकर* *भूखों का निवाला बनकर* *तुम्हारा स्वागत है माँ तुम आओ* *शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी बनकर* *चंद्रघंटा, कूष्माण्डा बनकर* *स्कंदमाता, कात्यायनी बनकर* *कालरात्रि, महागौरी बनकर* *माता सिद्धिदात्री बनकर* *तुम्हारा स्वागत है माँ तुम आओ* *तुम्हारे आने से नव-निधियां* *स्वयं ही चली आएंगी* *तुम्हारी दास बनकर* *तुम्हारा स्वागत है माँ तुम आओ* 🚩🐅🚩🐅🚩🐅🚩 *सभी पर माँ की कृपा रहे* *👏‼️🕉️🚩🔱जय श्री माताजी की🔱🚩🕉️‼️👏*

+17 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 5 शेयर

कामेंट्स

🚩🔱JAY SHREE DADIJI KI🔱🚩 Apr 15, 2021
*🔯🙏‼️🕉️🚩🕉️‼️🚩ॐ श्री गणेशाय नमो नमः🚩‼️🕉️🚩🕉️‼️🙏🔯🙏‼️🕉️🔱🕉️‼️🚩ॐ श्री जमवाय देव्यै नमो नमःॐ🚩‼️🕉️‼️🔱🕉️‼️🙏‼️🕉️🔱🕉️‼️🔥ॐ श्री कुलदेव्यै नमो नमःॐ🔥‼️🕉️🔱🕉️‼️🙏🔯🙏‼️🕉️🔱🕉️‼️🚩ॐ श्री नवदुर्गा देव्यै नमो नमःॐ🚩‼️🕉️🔱🕉️‼️🙏🔯🙏‼️ओ🕉️🔱🕉️‼️🔥ॐ श्री आदिशक्ति देव्यै नमो नमःॐ🔥‼️🕉️🔱🕉️‼️🙏🔯🙏ॐ श्री नवरात्रि पर्व की एवँ नये वर्ष विक्रमी सम्वत 2078 की हार्दिक बधाई व शुभ-कामनायें ॐ‼️ॐ श्री आदिशक्तिजी श्री जगतजननीजी भवानीजी के श्री चरणों में मेरा सपरिवार कोटि-कोटि सादर-प्रणाम व चरण-स्पर्श ॐ‼️ॐजय श्री माताजी कीॐ‼️ॐ श्री धामाणा धाम वाली श्री मात भवानीजी की जय ॐ‼️👏‼️🕉️🔱ॐ श्री जमवाय माताजी की जय हो ॐ *तुम्हारा स्वागत है माँ तुम आओ* *सिंह की सवार बनकर* *रंगों की फुहार बनकर* *पुष्पों की बहार बनकर* *सुहागन का श्रृंगार बनकर* *तुम्हारा स्वागत है माँ तुम आओ* *खुशियाँ अपार बनकर* *रिश्तों में प्यार बनकर* *बच्चों का दुलार बनकर* *समाज में संस्कार बनकर* *तुम्हारा स्वागत है माँ तुम आओ* *रसोई में प्रसाद बनकर* *व्यापार में लाभ बनकर* *घर में आशीर्वाद बनकर* *मुँह मांगी मुराद बनकर* *तुम्हारा स्वागत है माँ तुम आओ* *संसार में उजाला बनकर* *अमृत रस का प्याला बनकर* *पारिजात की माला बनकर* *भूखों का निवाला बनकर* *तुम्हारा स्वागत है माँ तुम आओ* *शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी बनकर* *चंद्रघंटा, कूष्माण्डा बनकर* *स्कंदमाता, कात्यायनी बनकर* *कालरात्रि, महागौरी बनकर* *माता सिद्धिदात्री बनकर* *तुम्हारा स्वागत है माँ तुम आओ* *तुम्हारे आने से नव-निधियां* *स्वयं ही चली आएंगी* *तुम्हारी दास बनकर* *तुम्हारा स्वागत है माँ तुम आओ* 🚩🐅🚩🐅🚩🐅🚩 *सभी पर माँ की कृपा रहे* *👏‼️🕉️🚩🔱जय श्री माताजी की🔱🚩🕉️‼️👏*

GOVIND CHOUHAN May 7, 2021

+28 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 10 शेयर
Renu May 7, 2021

+6 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Shivsanker Shukla May 7, 2021

शुभ शुक्रवार की शुभ संध्या में मंदिर परिवार के सभी आदरणीय भगवत प्रेमी भाई बहन आप सभी को संध्या की राम राम हमारी भारती बहनों के द्वारा परिवार के कल्याण के लिए पग पग पर उनके पूजन व्रत और साधनाएं अनवरत चलती रहती है शायद ऐसी सीख भगवती मां सीता के द्वारा हमारी सभी बहनों को प्राप्त हुई है भगवती मां सीता जब बंद के लिए प्रस्थान कर रही थी तो रास्ते में मां गंगा के दर्शन प्राप्त हुए देखिए भाव के साथ भगवती मां सीता मां गंगा का पूजन करते हुए पति और देवर के साथ कुशल आने पर मां गंगा के दोबारा दर्शन की मनौती मान रही है आज भी मेरी बहनों के द्वारा ऐसा ही पूजन और कामना की परंपरा है मेरे भाई बहन भगवती मां गंगा के दर्शन के साथ-साथ आप सभी तीर्थराज प्रयाग मैं त्रिवेणी का दर्शन कर स्वयं को कृतार्थ करें अत्यंत सौभाग्य का प्रतीक त्रिवेणी का दर्शन लाभ समस्त पापों के हरण करने वाला तथा समस्त कामनाओं की पूर्ति करने वाला है जय सीता मैया की जय जय मां त्रिवेणी

+16 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Jai Mata Di May 7, 2021

+25 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 11 शेयर
GOVIND CHOUHAN May 7, 2021

+26 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 20 शेयर
shri niwash pandey May 7, 2021

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर
GOVIND CHOUHAN May 7, 2021

+12 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर

दिल चाहता है सभी के दिलों पर मुस्कुराहट लाने को दिल चाहता है , हसरतों के पिटारा खोलने को दिल चाहता है , अलमारी में रखी साड़ियों को पहनने का दिल चाहता है , प्यारी प्यारी बहनों से मिलने को दिल चाहता है , वह हंसी, वह मुस्कुराहट लौट आए, दिल चाहता है , अपनों से मिलने का दिल चाहता है, नन्हे से नाती को खिलाने को दिल चाहता है, बच्चों को स्कूल आते देखने का दिल चाहता है , घंटी बजा कर एक दूसरे को खेलते हुए देखने का दिल चाहता है, बच्चों के लड़ाई झगड़े और फिर गले मिलकर मुस्कुराने का दिल चाहता है , बगीचों में बैठे आबाद लोगों को देखने का दिल चाहता है, इंसान, इंसान से भयभीत ना हो, प्यार करें ,दिल चाहता है, इस जानलेवा वायरस को दुनिया से भगाने का दिल चाहता है, सब कुछ अच्छा होगा ,यह आस बंधी है ,जल्दी अच्छा हो, यह दिल चाहता है, हम सब साथ-साथ थे ,साथ साथ हैं ,साथ साथ रहेंगे, दिल चाहता है , सभी के चेहरे मुस्कुराए, सब मिल खिलखिलाए, दिल चाहता है। सुधा जैन☺️😊🙄😨😜🤭 राजस्थान में 11 जणा ब्याह में allowed हैं ! गणना इस प्रकार है👇🏻 बीन अर बीनणी 2 जना माँ बापू दोन्यूं का 4 जना पंडत दोंयाँ का 2 जना जूता लूखाण वास्ते साली 1 जन आरते वास्ते भुवा/बहन 1 जन कुल 10 जना 1 जन extra दियो है काल नेै जे फुंफो जिद्दी ठूंठ होवे तो बीने राजी राखण वास्ते ! 🤔🙄😅😂🤣😜😷👌👍🌹જય મેલડી માઁ 🌹 🌹वित्त,समृद्धि, वैभव एवं दर्शन हेतु🌹 🌹વિત,સમુધ્ધિ,વૈભવ તથા દશઁન મંત્ર 🌹 🌹“यदि चापि वरो देयस्त्वयास्माकं महेश्वरि।।🌹 🌹संस्मृता संस्मृता त्वं नो हिंसेथाः परमापदः।🌹 🌹यश्च मर्त्यः स्तवैरेभिस्त्वां स्तोष्यत्यमलानने।।🌹 🌹तस्य वित्तर्द्धिविभवैर्धनदारादिसम्पदाम्।🌹 🌹वृद्धयेऽस्मत्प्रसन्ना त्वं भवेथाः सर्वदाम्बिके।।🌹🙏 मैं तुम्हें याद नहीं करता मैया जी , क्योंकि,तुम मेरी याद बन गई हो मैं तुम्हें सोचता भी नहीं मां क्योंकि,तुम मेरी सोच बन गई हो मैं तो जी ही इसलिए रहा हूं मैया जी,क्योंकि तुम मेरी जिंदगी बन गई हो 🙏सेवक भरत व्यास बांगा हिसार हरिद्वार

+11 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 37 शेयर
saroj Singh May 7, 2021

*"क्या यही सतयुग आने का संकेत है"?* 1- ना Sunday बीतने की चिंता 2- ना Monday आने का डर 3- ना पैसे कमाने का मोह 4-ना खर्च करने की ख्वाइश् 5-ना होटल मे खाने की इच्छा 6-ना घुमने जाने की खुशी 7-ना सोना-चांदी का मोह 8-ना पैसे का मोह 9-ना नए कपड़े पहनने की एक्साइटमेन्ट 10-ना अच्छे से तैयार होने की चिंता *क्या हम मोक्ष के द्वार पर पहुंच गए है??????* *🤔लगता है कलयुग समाप्त हो गया और सतयुग आ गया है।* 11- पूजा-पाठ,परिवार का साथ,उपवास,रामायण, महाभारत। 12-प्रदूषण रहित वातावरण। 13-भाग दौड़ भरी जिंदगी समाप्त। 14-सादगी भरा सबका जीवन 15-सब दाल-रोटी खा रहे हैं। 16-समानता आ गयी है, 17-कोई नौकर नहीं,घर में सब मिल जुलकर काम कर लेते हैं। 18- ना कोई महँगे कपड़े पहन रहा है । 19- ना कोई आभूषण धारण कर रहा है। 20-सब 24 घण्टे ईश्वर को ही याद कर रहे हैं। 21-लोग अपार दान धर्म भी कर रहे हैं। 22-अहंकार भी शान्त हो गया है। 23-लोग परस्पर सहयोग कर रहे हैं। 24-सभी बच्चे बाहर से अपने घर आकर माँ बाप के पास रहने लगे हैं। 25- घर घर भजन कीर्तन हो रहे हैं। *ये सतयुग नहीं तो और क्या है ?* 🌹🌹🌿🌿🎊🎊जय माँ शेरावाली🎊🎊🌿🌿🌹🌹 🍀🍀🍀🍀🌺💙💜💚एक सुन्दर गाना💜💙💚🌺🍀🍀🍀🍀

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Rahul Choudhary May 7, 2021

+67 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 52 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB