M T
M T Jan 17, 2021

🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹 ऐ काश!! ऐ काश!!कुछ ऐसा हो पाता जो कुछ सोचा,सच हो जाता। मिल जाती मनचाही खुशियाँ, सपनों को नव रंग मिल जाता। ऐ काश!!कुछ ऐसा हो पाता।। नन्हीं कलियाँ खुल कर हँसती... ख़्वाहिशों में वो भी अपने, चाहतों के सब रंग भरतीं..... कोई न इनमें बाधक होता, ऐ काश!!कुछ ऐसा हो पाता।। बेटी-बहन को मान जो मिलता... उनका हक़-सम्मान जो मिलता.. कितनी हसीन तब होती दुनिया, कितना सुंदर ये जहां तब होता... ऐ काश!!कुछ ऐसा हो पाता।। नफ़रत की कहीं बात न होती... जात-पात में भेद न होता.... अमन-चैन का आलम होता.... खुशियाँ सबके आँगन होती... कोई किसी से बैर न रखता, ऐ काश!!कुछ ऐसा हो पाता।। युवाओं में संस्कार जो होता शिक्षा में व्यभिचार न होता... विद्यालय मंदिर बन होता.. इंसानियत का पाठ पढ़ाता.. इंसानों की नव-पीढी बनती.. ऐ काश!!कुछ ऐसा हो पाता।। अमीरी-ग़रीबी में भेद न होता.. पैसों से इंसान न तुलता.... चमक-दमक और आडंबर से कहीं कोई वास्ता न होता... इंसानियत की कद्र जो होती... कितना मनोरम ये जगत तब होता.... ऐ काश!!कुछ ऐसा हो पाता।। 🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿

🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹

ऐ काश!!

ऐ काश!!कुछ ऐसा हो पाता
जो कुछ सोचा,सच हो जाता।
मिल जाती मनचाही खुशियाँ,
सपनों को नव रंग मिल जाता।
ऐ काश!!कुछ ऐसा हो पाता।।

नन्हीं कलियाँ खुल कर हँसती...
ख़्वाहिशों में वो भी अपने,
चाहतों के सब रंग भरतीं.....
कोई न इनमें बाधक होता,
ऐ काश!!कुछ ऐसा हो पाता।।

बेटी-बहन को मान जो मिलता...
उनका हक़-सम्मान जो मिलता..
कितनी हसीन तब होती दुनिया,
कितना सुंदर ये जहां तब होता...
ऐ काश!!कुछ ऐसा हो पाता।।

नफ़रत की कहीं बात न होती...
जात-पात में भेद न होता....
अमन-चैन का आलम होता....
खुशियाँ सबके आँगन होती...
कोई किसी से बैर न रखता,
ऐ काश!!कुछ ऐसा हो पाता।।

युवाओं में संस्कार जो होता
शिक्षा में व्यभिचार न होता...
विद्यालय मंदिर बन होता..
इंसानियत का पाठ पढ़ाता..
इंसानों की नव-पीढी बनती..
ऐ काश!!कुछ ऐसा हो पाता।।

अमीरी-ग़रीबी में भेद न होता..
पैसों से इंसान न तुलता....
चमक-दमक और आडंबर से
 कहीं कोई वास्ता न होता...
इंसानियत की कद्र जो होती...
कितना मनोरम ये जगत तब होता....
ऐ काश!!कुछ ऐसा हो पाता।।
🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿

+432 प्रतिक्रिया 94 कॉमेंट्स • 284 शेयर

कामेंट्स

vinod Jan 17, 2021
Hare Krishna... Gd Night ji

Ramesh Kumar Shiwani Jan 17, 2021
SHUBH RATRI VANDAN SHREE JAI SHREE RADHE KRISHNA JI SHUBH RATRI PUNASHCHA JI 🙏🌹🙏 SHREE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE JI 🙏🌹🙏

dinesh rajput Jan 17, 2021
जय श्री राधे श्याम शुभ संध्या जी

Ajit sinh Parmar Jan 17, 2021
आपकी ब।त एकदम सही हे र।धेकृषण प्यारे आत्मीय मिन।क्षी जी र।धेकृषण

Anilkumar Marathe Jan 17, 2021
🌹जय श्रीकृष्ण नमस्कार खुशियो की सदाबहार आदरणीय प्यारी मीनाक्षी जी !! 🙏जमाने की सारी खुशियां आपके चरणोंमें हो, ज़िंदगी की राहो में खुशियोके फूल सदा खिलते रहे, हँसी चमकती रहे आपकी निगाहो में कदम-कदम पे मिले कामयाबी और गम कोसो दूर रहे, आप और आपका परिवार सदा धन, धान्य एवम सुख समृद्धि से हराभरा रहे यही दिल से दुआ मेरी !! 🙏शुभरात्री स्नेह वंदन जी

dinesh rajput Jan 17, 2021
जय श्री राधे श्याम शुभ संध्या जी

M.S.Chauhan Jan 17, 2021
शुभ रात्रि जी जय श्रीकृष्ण गोविंद रिस्तों का विश्वास टूट ना जाए, दोस्ती का साथ कभी छूट ना जाए, हे मेरे प्रभु! गलती करने से पहले सभाल लेना मुझे कहीं मेरी गलती से मेरा अपना कोई रूठ ना जाए! Good Night Sweet Dreams

Ashwinrchauhan Jan 17, 2021
राधे राधे बहना जी राधारानी की कृपा आप पर आप के पुरे परिवार पर सदेव बनी रहे मेरी आदरणीय बहना जी आप का हर पल मंगल एवं शुभ रहे भगवान श्री कृष्णा जी आप की हर मनोकामना पूरी करे आप का आने वाला दिन शुभ रहे गुड नाईट बहना जी

Brajesh Sharma Jan 17, 2021
जय श्री राधे कृष्णा जी... ॐ नमः शिवाय.. हर हर महादेव

Narayan Tiwari Jan 17, 2021
ऊँ ब्रह्मस्वरुपणे सूर्यनारायण नमः ||🙏 हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे।  हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे।। 

pawaR Jalindar Jan 17, 2021
जय श्री राधे कृष्णा राधे राधे जी 🌹💐 शुभ रात्री आदरणीय बहंना जी जय श्री राधे राधे जी 🌹💐 वंदन जी 🌹💐

saumya sharma Jan 17, 2021
Good night my dear sis 🌛🌹🙏 may God bless you with your family 😊🌹🙏

Arvid bhai Jan 17, 2021
jay shri radhe krisna subh ratri vandan

krishika Jan 18, 2021
🙏hara hara 🌿mahadevu 🌿om🕉️ 🔱namo shivaya 🌿shivaya 🌿namah 🌿🌅🌅🌅🌅🌅🌅🌅shubha somavara🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁super post 👌👍🔥u and your family god bless u🌼🌼🙏good morning jii 💐💐

Mamta Chauhan Mar 1, 2021

+237 प्रतिक्रिया 54 कॉमेंट्स • 165 शेयर
Sanjay Awasthi Mar 1, 2021

+193 प्रतिक्रिया 34 कॉमेंट्स • 182 शेयर
💥RAJU RAI.💥 Mar 1, 2021

+23 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 113 शेयर
Archana Singh Mar 1, 2021

+197 प्रतिक्रिया 42 कॉमेंट्स • 114 शेयर

*जय श्री राधे कृष्णा जी* *शुभरात्रि वंदन* *"सोने की गिन्नियों का बंटवारा"* 🙏🏻🚩🌹 👁❗👁 🌹🚩🙏🏻 एक दिन की बात है. दो मित्र सोहन और मोहन अपने गाँव के मंदिर की सीढ़ियों पर बैठकर बातें कर रहे थे. इतने में एक तीसरा व्यक्ति जतिन उनके पास आया और उनकी बातों में शामिल हो गया. तीनों दिन भर दुनिया-जहाँ की बातें करते रहे. कब दिन ढला? कब शाम हुई? बातों-बातों में उन्हें पता ही नहीं चला. शाम को तीनों को भूख लग आई. सोहन और मोहन के पास क्रमशः ३ और ५ रोटियाँ थीं, लेकिन जतिन के पास खाने के लिए कुछ भी नहीं था. सोहन और मोहन ने तय किया कि वे अपने पास की रोटियों को आपस में बांटकर खा लेंगें. जतिन उनकी बात सुनकर प्रसन्न हो गया. लेकिन समस्या यह खड़ी हो गई है कि कुल ८ रोटियों को तीनों में बराबर-बराबर कैसे बांटा जाए? सोहन इस समस्या का समाधान निकालते हुए बोला, “हमारे पर कुल ८ रोटियाँ हैं. हम इन सभी रोटियों के ३-३ टुकड़े करते हैं. इस तरह हमारे पास कुल २४ टुकड़े हो जायेंगे. उनमें से ८-८ टुकड़े हम तीनों खा लेंगें.” मोहन और जतिन को यह बात जंच गई और तीनों ने वैसा ही किया. रोटियाँ खाने के बाद वे तीनों उसी मंदिर की सीढ़ियों पर सो गए, क्योंकि रात काफ़ी हो चुकी थी. रात में तीनों गहरी नींद में सोये और सीधे अगली सुबह ही उठे. सुबह जतिन ने सोहन और मोहन से विदा ली और बोला, “मित्रों! कल तुम दोनों ने अपनी रोटियों में से तोड़कर मुझे जो टुकड़े दिए, उसकी वजह से मेरी भूख मिट पाई. इसके लिए मैं तुम दोनों का बहुत आभारी हूँ. यह आभार तो मैं कभी चुका नहीं पाऊंगा. लेकिन फिर भी उपहार स्वरुप मैं तुम दोनों को सोने की ये ८ गिन्नियाँ देना चाहता हूँ.” यह कहकर उसने सोने की ८ गिन्नियाँ उन्हें दे दी और विदा लेकर चला गया. सोने की गिन्नियाँ पाकर सोहन और मोहन बहुत खुश हुए. उन्हें हाथ में लेकर सोहन मोहन से बोला, “आओ मित्र, ये ८ गिन्नियाँ आधी-आधी बाँट लें. तुम ४ गिन्नी लो और ४ गिन्नी मैं लेता हूँ.” लेकिन मोहन ने ऐसा करने से इंकार कर दिया. वह बोला, “ऐसे कैसे? तुम्हारी ३ रोटियाँ थीं और मेरी ५. मेरी रोटियाँ ज्यादा थीं, इसलिए मुझे ज्यादा गिन्नियाँ मिलनी चाहिए. तुम ३ गिन्नी लो और मैं ५ लेता हूँ.” इस बात पर दोनों में बहस छोड़ गई. बहस इतनी बढ़ी कि मंदिर के पुजारी को बीच-बचाव के लिए आना पड़ा. पूछने पर दोनों ने एक दिन पहले का किस्सा और सोने की गिन्नियों की बात पुजारी जी को बता दी. साथ ही उनसे निवेदन किया कि वे ही कोई निर्णय करें. वे जो भी निर्णय करेंगे, उन्हें स्वीकार होगा. यूँ तो पुजारी जी को मोहन की बात ठीक लगी. लेकिन वे निर्णय में कोई गलती नहीं करना चाहते थे. इसलिए बोले, “अभी तुम दोनों ये गिन्नियाँ मेरे पास छोड़ जाओ. आज मैं अच्छी तरह सोच-विचार कर लेता हूँ. कल सुबह तुम लोग आना. मैं तुम्हें अपना अंतिम निर्णय बता दूंगा. सोहन और मोहन सोने की गिन्नियाँ पुजारी जी के पास छोड़कर चले गए. देर रात तक पुजारी जी गिन्नियों के बंटवारे के बारे में सोचते रहे. लेकिन किसी उचित निष्कर्ष पर नहीं पहुँच सके. सोचते-सोचते उन्हें नींद आ गई और वे सो गए. नींद में उन्हें एक सपना आया. उस सपने में उन्हें भगवान दिखाई पड़े. सपने में उन्होंने भगवान से गिन्नियों के बंटवारे के बारे में पूछा, तो भगवान बोले, “सोहन को १ गिन्नी मिलनी चाहिए और मोहन को ७.” यह सुनकर पुजारी जी हैरान रह गए और पूछ बैठे, “ऐसा क्यों प्रभु?” तब भगवान जी बोले, “देखो, राम के पास ३ रोटियाँ थी, जिसके उसने ९ टुकड़े किये. उन ९ टुकड़ों में से ८ टुकड़े उसने ख़ुद खाए और १ टुकड़ा जतिन को दिया. वहीं मोहन में अपनी ५ रोटियों के १५ टुकड़े किये और उनमें से ७ टुकड़े जतिन को देकर ख़ुद ८ टुकड़े खाए. चूंकि सोहन ने जतिन को १ टुकड़ा दिया था और मोहन ने ७. इसलिए सोहन को १ गिन्नी मिलनी चाहिए और मोहन को ७.” पुजारी जी भगवान के इस निर्णय पर बहुत प्रसन्न और उन्हें कोटि-कोटि धन्यवाद देते हुए बोले, “प्रभु. मैं ऐसे न्याय की बात कभी सोच ही नहीं सकता था.” अगले दिन जब सोहन और मोहन मंदिर आकर पुजारी जी से मिले, तो पुजारी जी ने उन्हें अपने सपने के बारे में बताते हुए अंतिम निर्णय सुना दिया और सोने की गिन्नियाँ बांट दीं. मित्रों" जीवन में हम जब भी कोई त्याग करते हैं या काम करते हैं, तो अपेक्षा करते हैं कि भगवान इसके बदले हमें बहुत बड़ा फल देंगे. लेकिन जब ऐसा नहीं हो पाता, तो हम भगवान से शिकायत करने लग जाते हैं. हमें लगता है कि इतना कुछ त्याग करने के बाद भी हमें जो प्राप्त हुआ, वो बहुत कम है. भगवान ने हमारे साथ अन्याय किया है. लेकिन वास्तव में, भगवान का न्याय हमारी सोच से परे है. वह महज़ हमारे त्याग को नहीं, बल्कि समग्र जीवन का आंकलन कर निर्णय लेता है. इसलिए जो भी हमें मिला है, उसमें संतुष्ट रहना चाहिए और भगवान से शिकायतें नहीं करनी चाहिए. क्योंकि भगवान का निर्णय सदा न्याय-संगत होता है और हमें जीवन में जो भी मिल रहा होता है, वो बिल्कुल सही होता है. 🌹🙏🏻🚩 *जय सियाराम* 🚩🙏🏻🌹 🚩🙏🏻 *जय श्री महाकाल* 🙏🏻🚩

+188 प्रतिक्रिया 29 कॉमेंट्स • 120 शेयर

+106 प्रतिक्रिया 19 कॉमेंट्स • 127 शेयर

+90 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 65 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB